Submit your post

Follow Us

क्या रस्सी कूदने से लड़कियों के ब्रेस्ट में ढीलापन आ जाता है?

पिछले साल कोरोना आया, तो ऑफिस वालों ने कहा घर से काम करो. 10 महीने तक बैठे-बैठे काम करते रहने और अटर-चटर खाने की वजह से ढेर सारा वज़न बढ़ गया था. ऑफिस वालों ने जब ऑफिस बुलाना शुरू किया तो लगा कि अब बढ़ता वज़न रुक जाएगा, लेकिन कुछ ही महीनों बाद फिर से वर्क फ्रॉम होम शुरू कर दिया. इस बार मैंने सोचा कि कुछ भी हो जाए, वज़न बढ़ने नहीं देना है. थोड़ा वर्कआउट शुरू किया. रस्सी कूदना बड़ा पसंद है, तो सोचा कि यही किया जाए.

पर मेरे कुछ दोस्तों ने मुझे टोक दिया. कहा कि लड़कियों को रस्सी नहीं कूदना चाहिए. इससे ब्रेस्ट सैगी यानी ढीले हो जाते हैं. यूट्यूब पर भी इसी तरह की बात करते कुछ वीडियोज़ हमें दिखे. तब हमने सोचा कि इसका तो भई सही जवाब जानना ही होगा. फिटनेस एक्सपर्ट से बात करने की ठानी. साथ ही कुछ दोस्तों से भी बात की. छह ऐसी धारणाओं की यानी मिथ्स की लिस्ट तैयार हो गई, जो वर्कआउट करने वाली लड़कियों को अक्सर सुननी पड़ती हैं.

इस स्टोरी में हम इन्हीं छह धारणाओं के बारे में बताएंगे, और ये जानेंगे कि इसमें कितनी सच्चाई है. इसके लिए हमने बात की फिटनेस कोच साजिद अहमद कुरैशी से. यूपी के बॉडी-बिल्डिंग एंड फिटनेस असोसिएशन के प्रेसिडेंट हैं. खुद का जिम भी है. 20 साल से फिटनेस कोच के तौर पर काम कर रहे हैं. आगे आप मिथक और उनकी सच्चाई के जवाब एक-एक कर जानेंगे-

पहला मिथ- रस्सी कूदने या भारी वर्कआउट करने से ब्रेस्ट सैगी हो जाते हैं.

इसके जवाब में साजिद ने कहा कि ऐसा नहीं होता. स्किपिंग रोप एक सिंपल कार्डियो वैस्कुलर ट्रेनिंग है. जिससे शरीर का हार्ट और फैट पर्सेंटेज बहुत अच्छा इम्प्रूव करता है. फैट पर्सेंटेज काफी कम करता है. ये एक अच्छी फैट और वेट लॉस ट्रेनिंग है. इसे करना चाहिए. जो भी फैट लूज़ होता है, उसे टाइट करने के लिए टोन-अप करने के लिए लोगों को वेट ट्रेनिंग सजेक्ट की जाती है. फीमेल्स को वेट ट्रेनिंग करनी चाहिए. अगर वेट ट्रेनिंग नहीं करते तो बॉडी में जो भी फैट लूज़ होगा, वो लटकेगा. ये बड़ी दिक्कत है. रस्सी कूदनी चाहिए, एक अच्छे स्पोर्ट्स ब्रा और अच्छे शू के साथ. इसके साथ अच्छी वेट ट्रेनिंग भी करते रहें.

Sajid Ahmed Qureshi
फिटनेस कोच साजिद अहमद कुरैशी.

दूसरा मिथ- साइकिल चलाने से, घुड़सवारी करने से, या हैवी वर्कआउट करने से वर्जिनिटी चली जाएगी.

इसका जवाब है नहीं. चाहे साइकिल हो, घुड़सवारी हो, वेट ट्रेनिंग हो, कोई भी साइंस या एक्सपर्ट इस बात को साबित नहीं कर पाया है कि इन चीज़ों से वर्जिनिटी जाए. ये केवल मिथ है, पुराने लोगों द्वारा आए हैं. आज भी कई लोग इसे मानते हैं. ये सभी कार्डिक ट्रेनिंग के फॉर्म हैं. घुड़सवारी एक बहुत अच्छा स्पोर्ट है महिलाओं के लिए साइकिल चलाना भी अच्छा वर्कआउट है पूरे शरीर के लिए.

तीसरा मिथ- पीरियड्स में वर्कआउट ही नहीं करना चाहिए.

हम महिलाओं को उनके पीरियड्स के पहले और दूसरे दिन रेस्ट करने कहते हैं. अगर आप करना ही चाहते हैं वर्कआउट, तो साइकलिंग या कोई लाइट ट्रेनिंग करे. वेट ट्रेनिंग पहले दो दिन सजेस्ट नहीं करते. तीसरे और चौथे दिन आप काफी सारी ट्रेनिंग्स कर सकते हैं. केवल पहले और दूसरे दिन सेफर साइड हम हैवी ट्रेनिंग्स के लिए मना करते हैं. खासतौर पर रनिंग तो पहले और दूसरे दिन मना ही करते हैं. बाकी दिन आप सब कर सकते हैं आसानी से.

चौथा मिथ-प्रेगनेंसी में वर्कआउट नहीं करना चाहिए.

प्रेग्नेंसी के पहले 12 या आठ हफ्तों में हम महिलाओं को योगा के अलावा किसी तरह की ट्रेनिंग का सजेस्ट नहीं करते हैं. या फिर ईज़ी वॉक सजेक्ट करते हैं. क्योंकि पहले 12 हफ्ते बहुत ज़रूरी होते हैं बच्चे के लिए. बाकी ट्रेनिंग्स को अवॉयड करते हैं. लेकिन 13-14 हफ्ते के बाद साइकलिंग की जा सकती है. साथ ही साथ हम योग पर बहुत ध्यान देते हैं. योगा के पॉश्चर्स प्रेग्नेंसी के लिए बहुत ज़रूरी हैं, ताकि डिलीवरी टाइम पर हो बिना किसी दिक्कत के. ये सारी चीज़ें एक अच्छी ट्रेनिंग और अच्छे एक्सपर्ट के साथ कर सकते हैं. हमारे पास बहुत से ऐसे लोग आते हैं जो प्रेग्नेंसी के आठवें महीने तक वर्कआउट करते हैं.

पांचवां मिथ-लड़कियों वो वेट्स (वेट लिफ्टिंग) नहीं, कार्डियो करना चाहिए.

लड़कियों के लिए वेट ट्रेनिंग और कार्डियो दोनों ही ज़रूरी है. ये बहुत बड़ा मिथ है कि फीमेल्स को केवल कार्डियो ही करना चाहिए. बहुत सी एक्ट्रेस या मॉडल्स वेट लिफ्टिंग करती हैं. इससे शरीर टोन्ड होता है. कार्डियो पर निर्भर होने वाले लोगों के शरीर टोन्ड नहीं मिलेंगे. बॉडी में एक लूज़नेस होगी. एक ढीलापन पाया जाता है. भले ही हफ्ते में दो या तीन दिन वेट ट्रेनिंग करें, लेकिन करें ज़रूर. क्योंकि इससे मसल टोन-अप होगी और शरीर भी टोन्ड होगा. कार्डियो ट्रेनिंग भी ज़रूरी है. बॉडी फैट डाउन करता है, पूरे शरीर के लिए बहुत ज़रूरी है. तो दोनों का कॉम्बिनेशन बहुत ज़रूरी है.

छठा मिथ-जिम छोड़ देने से शरीर फूल जाएगा.

साजिद ने इस मिथ पर कहा कि जो लोग भी वर्कआउट करते हैं, जितने भी दिन करते हैं, वो अपनी ट्रेनिंग और डाइट दोनों का बहुत अच्छे से ध्यान रखते हैं. लेकिन जब आप अचानक से एक दिन सब छोड़ देते हैं, अपनी डाइट को भी भूल जाते हैं और कुछ भी खाने लगते हैं, तो ज़ाहिर सी बात है कि वज़न बढ़ेगा ही. माने डाइट और ट्रेनिंग दोनों छोड़ दी हैं, तो मोटापा तो आना ही आना है, लेकिन अगर आप डाइट को मेंटेंन रखते हैं, वर्कआउट या वेट ट्रेनिंग नहीं भी करते हैं, तो भी आप मेंटेंन रह सकते हैं. आपने जो भी अचीव किया है, आपकी डाइट उसे मेंटेंन रख सकती है. माने जो कहा जाता है कि जिम छोड़ने से मोटापा बढ़ जाता है, इसमें कुछ सच नहीं है. डाइट जारी रखिए.

ये कुछ मिथ थे, जिनकी सच्चाई हमने आपको हमारे एक्सपर्ट के ज़रिए बताई. इसलिए अब आप आराम से फैसला कर सकते हैं कि आपको क्या करना है क्या नहीं. लेकिन महिलाएं ये ज़रूर ध्यान रखिए कि अच्छी स्पोर्ट्स ब्रा ज़रूर पहनें. ये आपके ब्रेस्ट के मूवमेंट को कंट्रोल करके रखेगा.


वीडियो देखें: सेहत: ये कौन सी सर्जरी है जिससे कैंसर के बाद स्तन पहले जैसे हो जाते हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

पत्नी का आरोप- जबरन सेक्स के चलते पैरालाइज़ हुई, कोर्ट बोला- सहानुभूति, पर पति की गलती नहीं

पत्नी का आरोप- जबरन सेक्स के चलते पैरालाइज़ हुई, कोर्ट बोला- सहानुभूति, पर पति की गलती नहीं

महिला ने दहेज प्रताड़ना का केस किया, कोर्ट ने ससुराल वालों को एंटीसिपेटरी बेल दे दी.

पसंद के लड़के के साथ जाकर शादी की तो पूरे परिवार ने मिलकर मार डाला

पसंद के लड़के के साथ जाकर शादी की तो पूरे परिवार ने मिलकर मार डाला

एक महीने पहले लड़की ने पुलिस को बताया था कि उसे डर है कि परिवार वाले उसे मार डालेंगे.

बाप ने बेटी की बलि चढ़ा दी, वजह घृणा से मन भर देगी

बाप ने बेटी की बलि चढ़ा दी, वजह घृणा से मन भर देगी

आरोपी असम के चाय बागान में काम करता था, हत्या के बाद शव नदी में बहाया.

चिट पर शायरी लिखकर लड़कियों पर फेंकते हो, तो बेट्टा! अब तुम्हारी खैर नहीं

चिट पर शायरी लिखकर लड़कियों पर फेंकते हो, तो बेट्टा! अब तुम्हारी खैर नहीं

बॉम्बे हाईकोर्ट ने साफ-साफ बोल दिया है.

दो बड़े नेताओं के सेक्स टेप, एक निर्मम हत्या: भंवरी देवी केस में आरोपियों को कैसे मिली बेल

दो बड़े नेताओं के सेक्स टेप, एक निर्मम हत्या: भंवरी देवी केस में आरोपियों को कैसे मिली बेल

10 साल पहले इस केस ने राजस्थान में भूचाल ला दिया था.

'मुस्लिम लड़के हिंदू औरतों को मेहंदी लगाएंगे तो लव जिहाद हो जाएगा!'

'मुस्लिम लड़के हिंदू औरतों को मेहंदी लगाएंगे तो लव जिहाद हो जाएगा!'

क्रांति सेना के लोग मुस्लिम कारीगर के मेहंदी लगाते दिखने पर 'अपने स्टाइल' में सबक सिखाने की बात कर रहे हैं.

"रेप केवल 11 मिनट तक चला", ये कहकर महिला जज ने रेपिस्ट की सज़ा ही कम कर दी

जज के इस फैसले के खिलाफ इस देश के लोगों का अनोखा प्रदर्शन.

मुंगेर में जिस बच्ची के शरीर के साथ बर्बरता हुई, उसे लेकर पुलिस के हाथ क्या लगा?

मुंगेर में जिस बच्ची के शरीर के साथ बर्बरता हुई, उसे लेकर पुलिस के हाथ क्या लगा?

बच्ची के शव से एक आंख निकाल ली गई थी. उसकी उंगलियों को कुचला गया था.

पहले मैटरनिटी लीव नहीं दी फिर नौकरी से निकाला, अब हाई कोर्ट ने अफसरों की क्लास लगा दी

पहले मैटरनिटी लीव नहीं दी फिर नौकरी से निकाला, अब हाई कोर्ट ने अफसरों की क्लास लगा दी

आयरनी ये कि मामला महिला एवं बाल विकास विभाग से जुड़ा है.

16 साल की लड़की का पति उससे संबंध बनाए तो ये IPC में रेप क्यों नहीं कहलाता?

16 साल की लड़की का पति उससे संबंध बनाए तो ये IPC में रेप क्यों नहीं कहलाता?

डियर कानून, यू आर ड्रंक, गो होम.