Submit your post

Follow Us

हाथ-पैर काम नहीं करते, 'रेंगते' हुए कोरोना को रोकने में लगीं ये बहादुर महिला

ओडिशा का सुंदरगढ़ ज़िला. यहां लेपरीपारा नाम का एक ब्लॉक है. इस ब्लॉक के भवरखोल मिनी आंगनबाड़ी सेंटर की इनचार्ज महिला का नाम है जयंती टीगा. माने जयंती एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हैं. वो फिज़िकली डिसेबल्ड हैं. जन्म के साथ ही उनका शरीर पैरेलाइज़्ड था. वो दोनों पैरों पर खड़ी नहीं हो सकतीं, ठीक से चल नहीं सकतीं. फिर भी जयंती अपना काम बखूबी कर रही हैं.

जयंती लेपरीपारा ब्लॉक में ही रहती हैं. रोज़ाना सुबह अपने घर से आंगनबाड़ी सेंटर के लिए निकलती हैं. जहां तक रास्ता सही है, वहां तक जयंती को उनके पिता बाइक से छोड़ते हैं, लेकिन जहां रास्ता ठीक से बना नहीं है वहां जयंती हाथ और पैर के सहारे खुद रेंगते हुए जाती हैं. रेंगते हुए क्या कहें, घसीटते हुए जाती हैं. पहले आंगनबाड़ी सेंटर जाकर बच्चों का हेल्थ चेकअप करती हैं, उन्हें दवा देती हैं. फिर कोविड-19 महामारी से जुड़ी जागरूकता स्प्रेड करने के लिए वो स्कूल जाती हैं, और लोगों के घरों तक जाती हैं. प्रेगनेंट महिलाओं को घरों में जाकर दवा देती हैं. करीब 150 परिवार जयंती के भरोसे हैं. जिस इलाके का ज़िम्मा जयंती के हाथ में है, वो पहाड़ी इलाका है, वहां घसीटते हुए जाना बड़ा टास्क है. जयंती कहती हैं-

“अगर दिमाग में आप कड़ा निश्चय कर लो, तो कुछ भी किया जा सकता है. भगवान से प्रार्थना करके मैं सबकुछ कर रही हूं, हालांकि मुझे काफी दिक्कत भी आती है, क्योंकि मेरा घर पहाड़ी पर है. जितना हो सकता है मैं हाथ और पैर के सहारे रेंगती हूं. अभी जो हालात चल रहे हैं, उसमें मैं अपने गांव में कोविड-19 को लेकर जागरूकता फैलाने का काम कर रही हूं. इससे फर्क नहीं पड़ता कि आपको कितनी दिक्कत होती, आप कितने स्ट्रॉन्ग हो, कुछ भी नामुमकिन नहीं है.”

हम जयंती के जज़्बे को सलाम करते हैं, लेकिन हम ये भी अपील करते हैं कि इस महिला के काम की केवल तारीफ करके खत्म न किया जाए. कुछ ऐसा किया जाए जिससे जयंती की दिक्कतें कम हों. रास्ते ठीक किए जाएं, उन्हें कुछ ऐसा साधन मुहैया कराया जाए कि उन्हें इस तरह से घसीटकर न जाना पड़े.


वीडियो देखें: परिवार का आरोप- अस्पताल ने भर्ती नहीं किया और सीढ़ी पर ही हो गई महिला की डिलीवरी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

मां ने नाबालिग बेटे के साथ ऐसे वीडियो डाले कि FIR की नौबत आ गई

बच्चे के साथ आपत्तिजनक वीडियो बनाने का आरोप है.

कानपुर देहात पुलिस की इस वायरल तस्वीर का सच क्या है?

पुलिस ने वीडियो जारी कर अपनी सफाई पेश की है.

प्रेमी के पास गई महिला तो उसे नग्न करके पीटा, पति को कंधे पर बिठाकर परेड निकाली

पुलिस ने इस मामले में 18 लोगों को गिरफ्तार किया है.

सुल्ली डील्स के बाद 'हिंदू' महिलाओं के खिलाफ दिखाई गई नफरत बहुत परेशान करने वाली है

इधर मुस्लिम महिलाओं को 'सुल्ली' कहा गया, तो उधर हिंदू महिलाओं के लिए हो रहा 'Hslut' का प्रयोग. एक अपराध के नाम पर दूसरे को जायज ठहरा रहे घटिया लोग.

रोमैंस के नाम पर लड़कियों के साथ ये अपराध होता है, आप जानते थे?

स्टॉकिंग को प्रेम का रूप समझना सबसे बड़ी बेवकूफी है.

हिंदू- मुस्लिम शादी के लिए परिवार थे राज़ी, धर्म के ठेकेदारों ने हंगामा मचा दिया

घर वालों को प्रेम दिख रहा था, दुनिया वालों को लव-जिहाद.

इस एक्ट्रेस को एक शख्स सालभर से भेज रहा अश्लील तस्वीरें, अब रेप की धमकी दी

बंगाली एक्ट्रेस प्रत्युषा ने बताया- "30 बार ब्लॉक कर चुकी हूं, 31वां अकाउंट बनाकर धमका रहा"

केरल के इस फेमस एक्टर पर लगा दहेज उत्पीड़न का आरोप, हाई कोर्ट ने कहा- 'सरेंडर करो'

पत्नी का आरोप- पैसे गबन कर लिए, शारीरिक और मानसिक तौर पर टॉर्चर भी किया.

कोच पी नागराजन पर सात और महिला एथलीट्स ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

कोच नागराजन करीब तीन दशक से कई राष्ट्रीय पदक विजेताओं को ट्रेनिंग दे रहे हैं.

UP: मॉडल की मां ने फेसबुक लाइव कर सुसाइड कर लिया, पुलिस पर लगाए ये आरोप

बेटे के लापता होने की शिकायत दर्ज कराने थाने गईं थीं.