Submit your post

Follow Us

दिल्ली यूनिवर्सिटी की महिला प्रोफेसरों ने बताया- ऑनलाइन क्लासों में लोग भद्दे मैसेज लिख रहे

कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन के चलते बहुत सारा काम ऑनलाइन शिफ्ट हो गया है. ऑफिस की बजाए कई लोग घर से काम कर रहे हैं. कई प्रोफेसर भी ऑनलाइन क्लास ले रहे हैं. इन कामों में एक नई समस्या खड़ी हो गई है. ऑनलाइन हैरेसमेंट और शोषण की.

‘हिन्दुस्तान टाइम्स’ में छपी रिपोर्ट के मुताबिक़, इन ऑनलाइन क्लासों में स्टूडेंट्स के अलावा भी लोग साइन इन करके भद्दे-भद्दे मैसेज लिख रहे हैं. दिल्ली यूनिवर्सिटी के एक ऑल विमेंस कॉलेज में पढ़ाने वाली एक असिस्टेंट प्रोफ़ेसर ने बताया,

कॉलेज के वॉट्सऐप ग्रुप में हम अपने स्टूडेंट्स को लिंक भेजते हैं. ऑनलाइन क्लासेज के प्लेटफ़ॉर्म का. उन्हीं का इस्तेमाल करके कुछ बाहरी लोग हमारी क्लासेज में लॉगइन कर रहे हैं.

Hacking 2903156 1280
पहली नज़र में दिक्कत यही लग रही है कि स्टूडेंट्स ही ऑनलाइन क्लास का लिंक बाहर शेयर कर रहे हैं. (सांकेतिक तस्वीर: Pixabay)

क्लास के दौरान लिखे भद्दे मैसेज

डीयू के ही साउथ कैम्पस के एक कॉलेज में पढ़ाने वाले असिस्टेंट प्रोफ़ेसर ने बताया कि जब वो ज़ूम पर ऑनलाइन क्लास ले रहे थे, तभी अचानक किसी ने चैट पर गंदे मैसेज लिखने शुरू कर दिए.

हमें थोड़ा समय लगा समझने में कि हो क्या रहा है. ये हम सबके लिए बेहद शर्मिंदा करने वाली बात थी. हमें आनन-फानन क्लास को सस्पेंड करना पड़ा. बाद में जब हमने लेक्चर का रिकॉर्डेड वीडियो खंगाला, तब हमें पता चला कि उस नाम का कोई स्टूडेंट तो हमारी क्लास में था ही नहीं.

ज़ूम और स्काइप जैसे प्लेटफ़ॉर्म ये सुविधा देते हैं कि आप घर बैठे मीटिंग्स और क्लासेज अटेंड कर सकें. जब से लॉकडाउन हुआ है, कई देशों में ऑफिस/कॉलेज/स्कूल में ऐसे ऐप्स का इस्तेमाल हो रहा है. इसमें टीचर्स अपने छात्रों को लाइव लेक्चर देते हैं. डीयू की एग्जीक्यूटिव काउंसिल के मेंबर राजेश झा ने HT को बताया,

कुछ महिला टीचर्स ने हमें जानकारी दी है कि इन लाइव क्लास में उन्हें गालियां दी गईं और उन्हें हैरस किया गया. टीचर्स ज़ूम या गूगल मीट पर रोज़ इनवाइट भेजते हैं. स्टूडेंट्स अपना नाम और ईमेल आईडी डालकर लॉगइन कर सकते हैं. इन घटनाओं से ये साफ़ पता चल रहा है कि स्टूडेंट्स बाहर के लोगों के साथ ये इनवाइट शेयर कर रहे हैं.

Person In White Long Sleeve Shirt Holding Black Smartphone 3803221
साइबर एक्सपर्ट्स आम तौर पर सलाह देते हैं कि ज्यादा कॉमन प्लेटफ़ॉर्म्स का इस्तेमाल ना करें जहां किसी की भी एंट्री आसान हो. (सांकेतिक तस्वीर: Pexels)

ये ऑनलाइन हैरेसमेंट की दिक्कत सिर्फ भारत में ही नहीं आई है.  कुछ वीडियो एप्लीकेशंस को तो बैन भी किया गया है, इसी दिक्कत की वजह से. बाहरी लोग भद्दे मैसेज पोस्ट करके निकल जाते हैं.  डीयू के अधिकारियों ने बताया कि वो इस शिकायत पर काम कर रहे हैं. जल्द ही इसका कोई उपाय निकाला जाएगा.


वीडियो: क्या है कोरोना वायरस का प्लाज्मा ट्रीटमेंट और भारत में कब शुरू होगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

छह महीने के बच्चे ने कोरोना को हराया, मां ने बताया कैसे जीती जंग

'तनाव से भरे उस वार्ड में बच्चे की हंसी राहत देती थी.'

22 दिन के बच्चे को लेकर ड्यूटी पर पहुंच गईं IAS अफसर, कोरोना के चलते मैटरनिटी लीव छोड़ दी

विशाखपटनम नगर निगम की कमिश्नर हैं सृजना गुम्मला.

97 साल की महिला कोरोना पॉज़िटिव निकलीं, फिर वो हुआ जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी

1 अप्रैल को अस्पताल में एडमिट हुई थीं.

पत्नी की कीमोथेरेपी के लिए 130 किलोमीटर साइकिल चलाकर अस्पताल पहुंचे 65 साल के बुजुर्ग

कहानी जानने के बाद डॉक्टरों ने कमाल का काम किया.

लॉकडाउन: 1400 km स्कूटी चलाकर फंसे हुए बेटे को घर लाने वाली मां से मिलिए

रजिया बेगम ने कर्फ्यू पास बनवाया, सभी नियम फॉलो किए.

कोरोना ठीक हो गया, अस्पताल से घर जाने के पहले महिला की इस वजह से मौत हो गई

भारत के शुरुआती कोरोना पॉजिटिव मामलों में से एक था इनका केस.

लॉकडाउन के बीच मौलाना ने नजफ़ और फ़रिया का ऐसा निकाह पढ़ा कि दुनिया याद रखेगी

बिना कोई नियम तोड़े!

लॉकडाउन: पॉर्न फिल्में बनाने वाली कंपनी ने एक्टर्स से कहा, 'वर्क फ्रॉम होम' कर लो

हां, ये सच है.

'लगभग मर गई थी': कोरोना से जीतने वाली लड़की की डरावनी कहानी

ऑपरेशन कराने गई थीं, कोरोना वायरस पॉजिटिव निकलीं.

'कॉम्प्रोमाइज से तीन गुना पैसे मिलेंगे': मानवी गगरू का 'कास्टिंग काउच' एक्सपीरियंस

इंडस्ट्री में 10 साल बिता चुकी एक्ट्रेस के शरीर की बोली लगाने से बाज़ नहीं आते लोग.