Submit your post

Follow Us

दिल्ली कैंट: शव के नाम पर बचीं सिर्फ बच्ची की टांगें, रेप का पता कैसे चलेगा?

दिल्ली कैंट (Delhi Cantt ) में 9 साल की नाबालिग दलित बच्ची के कथित रेप और हत्या के मामले में दिल्ली पुलिस अब पूरी तरह से साइंटिफिक एविडेंस पर निर्भर है. पुलिस न केवल बच्ची की मौत का कारण जानना चाहती है, बल्कि यह भी पता लगाना चाहती है कि रेप हुआ या नहीं. हालांकि, पुलिस के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि पोस्टमार्टम और दूसरे साइंटिफ सबूतों के लिए बस बच्ची के दो पैर बचे हुए हैं.

पुलिस के पहुंचने तक जल चुका था अधिकांश हिस्सा

दरअसल, जब बीते एक अगस्त की शाम को बच्ची का अंतिम संस्कार हो रहा था तब पुलिस को फोन किया गया था. जब तक पुलिस आई, तब तक बच्ची का आधे से अधिक शरीर जल चुका था. ऐसे में पुलिस को चिता से केवल बच्ची के पैरों का हिस्सा मिला. जिसके बाद पुलिस ने पीड़िता के पैरों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. पोस्टमार्टम के बाद बच्ची के पैरों को डीएनए और दूसरी फॉरेंसिक जांच के लिए प्रिजर्व कर लिया गया.

दूसरी तरफ शव का पोस्टमार्टम करने वाले पैनल की तीन सदस्यीय टीम मौत के कारणों का पता नहीं लगा सकी है. ऐसे में यह सवाल उठ रहा है कि अब रेप की पुष्टि किस तरह से हो सकती है. ‘आज तक’ के सीनियर क्राइम रिपोर्टर तन्सीम हैदर की रिपोर्ट के मुताबिक, फॉरेंसिक एक्सपर्ट आदर्श मिश्रा की मानें तो अमूमन करंट लगने के मामले में करंट का एक एंट्री और एक एग्जिट पॉइंट होता है. इस मामले में अगर एंट्री पॉइंट हाथ है और एग्जिट पॉइंट पैर होता है, तो पैरों से यह जानकारी मिल सकती है कि मौत का कारण करंट लगना है या नहीं. आमतौर पर जांच के दौरान ब्रेन और खून का सूख जाना ही करंट लगने से मौत की पहचान बनता है.

पुलिस जब तक श्मसान घाट पहुंची तो बच्ची का अधिकांश शव जल चुका था.
पुलिस जब तक श्मसान घाट पहुंची तो बच्ची का अधिकांश शव जल चुका था.

अगर मौत करंट लगने से हुई है तो विद्युत धारा का प्रवाह ज्यादा मात्रा में होगा और ज्यादा देर तक प्रवाहित हो तो विद्युत का ऊष्मीय प्रभाव (H = I² Rt) पैदा हो जाता है, और पैदा होने वाली ऊष्मा की मात्रा इतनी ज्यादा होती है कि शरीर जल जाता है, शरीर मे पाए जाने वाले द्रव सूख जाते है, काफी जगह पर घाव भी पड़ जाते हैं और आमतौर पर इंसान की मौत हो जाती है. बच्ची के पैरों में मिले ब्लड पार्टिकल्स और शरीर में मौजूद रहे पदार्थ सूख जाते है.

आरोपियों के बिस्तर सीज़ किए गए

दूसरी तरफ इस पूरे मामले में चार आरोपियो की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने मौका-ए-वारदात की दोबारा जांच के लिए CBI CFSL टीम की मदद ली है. CFSL की टीम ने सबसे पहले आरोपी पुजारी के कमरे की जांच गहराई से की. उसके बिस्तर पर बिछी हुई चादर, तकिए और उसके द्वारा पहने गए कपड़ों को जांच के लिए सीज़ कर लिया गया है. CFSL की टीम DNA प्रोफाइलिंग और माइक्रो साइंटिफिक इन्वेस्टिगेशन के जरिए आरोपी के कमरे की चादर, तकिया पर किसी भी तरह से खून के निशान, वीर्य के निशान, शरीर के रोएं और बालों की मौजूदगी का पता लगाएगी.

यह पूरा मामला एक अगस्त का है. मृतका के माता-पिता की शिकायत के मुताबिक, एक अगस्त को शाम साढ़े पांच बजे के करीब बच्ची ने अपनी मां से कहा था कि वो श्मसान घाट से ठंडा पानी लेने जा रही है. आधे घंटे के बाद श्मसान घाट के पुजारी ने बच्ची की मां को बुलाया. मां जब श्मसान घाट पहुंची तो एक बेंच पर बच्ची की डेड बॉडी रखी थी. उसके बाएं हाथ, कोहनी और मुंह के पास चोट और जले के निशान थे.

इस मामले को लेकर दलित और महिला अधिकार कार्यकर्ता लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.
इस मामले को लेकर दलित और महिला अधिकार कार्यकर्ता लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

शिकायत के मुताबिक, पुजारी ने कथित तौर पर बच्ची की मां से कहा कि इस मामले में पुलिस को सूचना ना दी जाए क्योंकि ऐसा करने पर शव का पोस्टमार्टम होगा और बच्ची के अंग चुरा लिए जाएंगे. इस बीच पुजारी ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर बच्ची के शव का ज़बरन अंतिम संस्कार भी कर दिया. रात के 10 बजे के करीब पुलिस को मौत की सूचना मिली.

पुलिस के मुताबिक, बच्ची की मां को पुलिस स्टेशन ले जाया गया. जहां मां ने रेप की बात नहीं की. हालांकि, बाद में SC/ST आयोग बच्ची की मां से मिला. जिसके बाद मां ने रेप की बात कही. दूसरी तरफ पुलिस पर भी आरोप लग रहे हैं कि उसने बच्ची के माता-पिता के साथ मारपीट की और उनके ऊपर रेप का मामला न दर्ज कराने का दबाव बनाया.


वीडियो- केरल के कोट्टियूर रेप केस में सुप्रीम कोर्ट ने पीड़िता की शादी वाली याचिका पर क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

महिला सांसदों के साथ सेल्फी विद कैप्शन ट्वीट कर नप गए शशि थरूर!

महिला सांसदों के साथ सेल्फी विद कैप्शन ट्वीट कर नप गए शशि थरूर!

इंटरनेट की जनता ने तस्वीर और थरूर के कैप्शन को सेक्सिस्ट कहा है.

संविधान के बनाने में इन 15 महिलाओं के योगदान के बारे में कितना जानते हैं आप?

संविधान के बनाने में इन 15 महिलाओं के योगदान के बारे में कितना जानते हैं आप?

संविधान दिवस पर राष्ट्रपति कोविंद ने अपने भाषण में इन महिलाओं को याद किया.

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे में वो मिला जो 70 साल में नहीं हुआ

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे में वो मिला जो 70 साल में नहीं हुआ

देश में पहली बार 1000 पुरुषों पर 1020 महिलाएं

फिल्म स्टार्स कुत्ता-घुमाना लुक, जिम लुक, एयरपोर्ट लुक में अपनी फोटो खिंचवाने के लिए पैसे देते हैं?

फिल्म स्टार्स कुत्ता-घुमाना लुक, जिम लुक, एयरपोर्ट लुक में अपनी फोटो खिंचवाने के लिए पैसे देते हैं?

कहां से शुरू हुआ फिल्म स्टार्स की घड़ी-घड़ी फोटो खींचने का चलन?

कौन थीं वो दो लड़कियां जिनकी बदौलत आज लड़कियां भी वकील बनती हैं?

कौन थीं वो दो लड़कियां जिनकी बदौलत आज लड़कियां भी वकील बनती हैं?

भारत मे 1923 से पहले कोई भी महिला वक़ील नहीं बन सकती थी.

पंजाब में हर महिला को 1000 रुपये देने का पूरा प्लान आतिशी ने बताया

पंजाब में हर महिला को 1000 रुपये देने का पूरा प्लान आतिशी ने बताया

क्या केजरीवाल पंजाब की महिलाओं को घूस दे रहे हैं?

नो शेव नवंबर कैम्पेन में लड़कियां क्यों पार्ट नहीं लेतीं?

नो शेव नवंबर कैम्पेन में लड़कियां क्यों पार्ट नहीं लेतीं?

क्यों लड़कियां अपने बॉडी हेयर को सेलिब्रेट नहीं करतीं?

टेनिस स्टार पेंग शुआई 10 दिन से गायब, पूर्व उप-राष्ट्रपति पर गंभीर आरोप

टेनिस स्टार पेंग शुआई 10 दिन से गायब, पूर्व उप-राष्ट्रपति पर गंभीर आरोप

पेंग ने पोस्ट में लिखा था, "आज मैं सच बोलकर रहूंगी."

केरल की अनुपमा की कहानी, जो बताती है कि लोग किस हद तक निर्दयी हो सकते हैं

केरल की अनुपमा की कहानी, जो बताती है कि लोग किस हद तक निर्दयी हो सकते हैं

एक साल से अपने बच्चे को खोज रही है अनुपमा.

अबॉर्शन के नियमों में क्या बदलाव हुए, डिटेल में समझिए MTP Act

अबॉर्शन के नियमों में क्या बदलाव हुए, डिटेल में समझिए MTP Act

MTP ऐक्ट को डीटेल में समझकर अपने अबॉर्शन राइट्स जानिए