Submit your post

Follow Us

अब भारत को ओलंपिक मेडल दिलाएगी, साइकल पर पिता को बिठाकर गुरुग्राम से दरभंगा आने वाली ज्योति?

जान पर बन आए तो इंसान से शक्तिशाली इस दुनिया में कुछ नहीं है. सिर्फ इच्छाशक्ति के दम पर इंसान बड़ी से बड़ी चुनौतियों से पार पा लेता है. कोरोना ने ऐसी तमाम कहानियों में बहुत सी नई कहानियां जोड़ी हैं. इन्हीं कहानियों में एक कहानी है सिर्फ 15 साल की ज्योति कुमारी की. लॉकडाउन के चलते अपने असहाय पिता के साथ गुरुग्राम में फंसी ज्योति ने उन्हें साइकल पर बिठाकर सिर्फ सात दिन में 1200 किलोमीटर की दूरी नाप दी.

अब ख़बर है कि ज्योति का कमाल देख साइकलिंग फेडरेशन उन्हें ट्रायल्स पर बुलाएगा. ज्योति को ट्रायल्स के लिए अगले महीने बुलाया जाएगा. इस बारे में साइकलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के चेयरमैन ओंकार सिंह ने PTI से कहा कि, अगर कक्षा आठ में पढ़ने वाली ज्योति ट्रायल्स में पास हो गई, तो उसे इंदिरा गांधी स्टेडियम कॉम्प्लेक्स स्थित स्टेट ऑफ द आर्ट नेशनल साइकलिंग अकैडमी में दाखिला मिल जाएगा.

# ज्योति को मिलेगा मौका

स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) के अंडर आने वाली यह अकैडमी एशिया की सबसे अडवांस फैसिलिटीज में से एक है. इसे साइकलिंग को चलाने वाली वैश्विक संस्था UCI की मान्यता भी हासिल है. सिंह ने कहा,

‘हमने इस सुबह लड़की से बात की और हमने उसे कहा कि उसे अगले महीने, लॉकडाउन हटते ही दिल्ली बुलाया जाएगा. उसके आने, रहने समेत सभी खर्चे हम उठाएंगे. अगर उसे घर से किसी के साथ आना होगा तो हम ये भी अलाऊ करेंगे. हम अपनी बिहार यूनिट से बात कर सलाह करेंगे कि ट्रायल के लिए उसे दिल्ली तक कैसे लाया जाय.’

जब सिंह से पूछा गया कि ज्योति को ट्रायल ऑफर करने का ख्याल क्यों आया? तब उन्होंने कहा,

‘उसके अंदर कुछ तो है. मैं सोचता हूं कि 1200 किलोमीटर से ज्यादा साइकल चलाना आसान नहीं है. उसके अंदर जरूर मज़बूती और शारीरिक सहनशक्ति है. हम इसे टेस्ट करना चाहते हैं. हम उसे अकैडमी में स्थित कम्प्यूटराइज्ड साइकल पर बिठाएंगे, और देखेंगे कि क्या वह सेलेक्ट होने के सात या आठ पैमानों पर खरी उतरती है.

इसके बाद वह हमारे ट्रेनीज में शामिल हो सकती है. उसे कुछ भी खर्च नहीं करना होगा. हमारे पास अकैडमी में 14-15 साल की उम्र के लगभग 10 साइकलिस्ट हैं. हम युवा टैलेंट को बढ़ावा देना चाहते हैं.’

बता दें कि ज्योति के पिता मोहन पासवान गुरुग्राम में ऑटोरिक्शा चलाते थे. उन्हें चोट लग गई थी और इसी बीच लॉकडाउन होने के चलते उनकी कमाई का जरिया भी खत्म हो गया. ऑटोरिक्शा मालिक को लौटाने के बाद पिता-पुत्री ने 10 मई को साइकल खरीदी और अपना सफर शुरू किया. ये 16 मई को अपने घर, दरभंगा पहुंचे.

साइकलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया की यह पहल निश्चित तौर पर सराहनीय है. ज्योति अपना पोटेंशियल पहले ही दिखा चुकी हैं. जरूरी ट्रेनिंग और सुविधाएं मिलने पर क्या पता अगले ओलंपिक (2024 ऑफकोर्स) में कुछ कमाल ही हो जाए.


इंडिया के लिए इतिहास रचने वाली दीप्ति शर्मा ने बताया, 188 रन बनाते वक्त मन में क्या था?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

दो लड़कियां रिलेशनशिप में थीं, घरवाले खिलाफ थे, तो मजबूर होकर भयानक फैसला कर लिया!

कुछ महीने पहले करीबी दोस्ती की वजह से काम से निकाल दिया गया था.

लड़के को किस करते हुए दो बहनों का वीडियो वायरल हुआ, परिवारवालों ने दोनों को मार डाला

पिता-चाचा पर सबूत छिपाने का आरोप.

एम्बुलेंस ड्राइवर ने पहले 'हेलो सिस्टर्स' कहकर रोका, फिर भद्दी बातें बोलने लगा

तमिलनाडु के कोयम्बटूर में मणिपुरी लड़कियों ने नस्लभेद की शिकायत की.

क्वारंटीन सेंटर में पहले महिला का वीडियो बनाया, फिर ब्लैकमेल करने की कोशिश की

गांव के ही दो आदमियों पर आरोप लगा है.

मंदिर के पुजारियों ने दो औरतों को बंधक बनाया, कई दिन तक लगातार रेप करते रहे

घटना अमृतसर के मंदिर के एक आश्रम की है.

घरवालों के खिलाफ जाकर शादी की, अब कपल कह रहा- हमारी जान बचा लो

लड़की ने वीडियो जारी कर कहा- हम जैसे हैं, वैसे ठीक हैं. हमें छोड़ दो.

अश्लील फोटो फैलाने वालों पर कोई एक्शन नहीं हुआ, तो BJP की महिला नेता ने ट्विटर पर इंसाफ मांगा

ट्विटर पर जब महिला नेता का नाम ट्रेंड हुआ, तब पुलिस ने झटपट काम किया.

मां को बहाने से निर्वस्त्र करवा न्यूड तस्वीरें वायरल कर दीं

बुजुर्ग महिला को रिश्तेदारों से पता चला कि उसकी तस्वीरें वायरल हुई हैं.

यौन उत्पीड़न और जान से मारने की धमकी मिलने से परेशान नाबालिग ने खुद को आग लगाई

पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू की. पांच आरोपी गिरफ्तार.

राशन देने का झांसा देकर महिला मजदूर से रेप के आरोप में पुलिसवाला गिरफ्तार

मामला हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर का है.