Submit your post

Follow Us

क्या शादी करते ही औरत का सेक्स के लिए न कहने का अधिकार छिन जाता है?

आज बात होगी दिल्ली हाईकोर्ट में चल रहे एक मामले पर, जिस पर सोशल मीडिया में बहस छिड़ गई है. बहस पुरानी है लेकिन चर्चा में अभी आई है. ये बहस है शारीरिक संबंधों के मामले में कंसेंट क्या है ये कैसे तय होगा? क्या साथ रहने का मतलब सेक्स के लिए सहमति है? या फिर क्या शादी का मतलब सेक्स के लिए डिफॉल्ट सहमति है? ये मामला एक ज़रूरी सवाल खड़ा करता है कि क्या मैरिटल रेप को अपराध की श्रेणी में रखा जाना चाहिए?

मैरिटल रेप यानी पत्नी के मना करने के बावजूद पति द्वारा जबरन बनाया गया शारीरिक संबंध. फिलहाल ये अपराध नहीं है. IPC का सेक्शन 375 पत्नी के साथ जबरन बनाए गए यौन संबंध को रेप नहीं मानता है. दिल्ली हाई कोर्ट में कई याचिकाएं डालकर इस सेक्शन को बदलकर मैरिटल रेप को अपराध बनाने की मांग की गई है.

मैरिटल रेप को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट ने 11 जनवरी को कहा था कि शादी के आधार पर ये कैसे तय किया जा सकता है कि एक महिला के साथ हुआ रेप अपराध है या नहीं. जस्टिस राजीव शकधर और जस्टिस सी हरिशंकर की बेंच ने सवाल किया था,

“ये एक अविवाहित महिला के केस से इतना अलग क्यों है? ये एक अविवाहित महिला की मर्यादा को नुकसान पहुंचाता है, लेकिन विवाहित महिला की मर्यादा को इससे कोई हानि नहीं होती? ऐसा कैसे है? इसका जवाब क्या है? क्या वो ‘न’ कहने का अपना अधिकार खो देती है? क्या रेप को अपराध बनाने वाले 50 देशों ने इसे गलत समझा है?”

बेंच ने कहा था कि सेक्शन 375 रेप करने वाले पतियों को बचाने के लिए एक फायरवॉल का काम करता है और कोर्ट को यह देखना होगा कि यह फायरवॉल संविधान के आर्टिकल 14 और आर्टिकल 21 का उल्लंघन तो नहीं करता है? (आर्टिकल 14 बराबरी का और आर्टिकल 21 जीवन और व्यक्तिगत आज़ादी का अधिकार देता है.)

Marital Rape को लेकर क्या है सरकार का स्टैंड?

दिल्ली हाईकोर्ट ने इसे लेकर केंद्र सरकार से जवाब मांगा था. 13 जनवरी को केंद्र सरकार ने जवाब दिल्ली हाईकोर्ट में पेश किया. सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि जब तक सभी स्टॉकहोल्डर्स से राय नहीं ली जाती तब तक मैरिटल रेप को अपराध की श्रेणी में नहीं लाया जा सकता है. सरकार ने पार्लियामेंटरी स्टैंडिंग कमिटी की 2008 और 2010 की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि मैरिटल रेप को अपराध बनाने के लिए देश के क्रिमिनल लॉ में बड़े बदलाव करने होंगे, किसी खास लेजिस्लेशन में छोटे बदलाव करने से कुछ नहीं होगा.

साल 2017 में केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि मैरिटल रेप को अपराध के दायरे में नहीं लाया जा सकता है, क्योंकि ये शादी नाम की संस्था को तहस-नहस कर देगा. सरकार ने ये भी कहा था कि मैरिटल रेप को अपराध बना देने से पत्नियां कानून का गलत इस्तेमाल करके, पतियों को परेशान करेंगी. सरकार ने सबूत जुटाने में मुश्किल, निरक्षरता और संस्कृति का हवाला भी इसके लिए दिया था.

सरकार के अभी के और साल 2017 के स्टैंड से ये तो तय है कि सरकार अब मैरिटल रेप को अपराध बनाने के एकदम खिलाफ नहीं दिखना चाह रही है. हालांकि, वो इसके साथ भी खड़ी नहीं दिख रही है. 17 जनवरी को कोर्ट में सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा कि वो हां या न में सरकार का रुख कोर्ट को बताएं, हालांकि SG इसे लेकर कहा कि केंद्र को अपना रुख साफ करने के लिए वक्त की ज़रूरत है.

पक्ष-विपक्ष में क्या कह रहे हैं लोग?

कोर्ट में सुनवाई चल रही है, तो ज़ाहिर है सोशल मीडिया पर इसे लेकर काफी कुछ लिखा जा रहा है. कई लोग मैरिटल रेप को अपराध की श्रेणी में रखने की मांग कर रहे हैं, वहीं कई लोग इसका विरोध कर रहे हैं. 16 जनवरी को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मैरिटल रेप को लेकर ट्वीट किया. उन्होंने लिखा,

“हमारे समाज में जिन चीज़ों को सबसे कम महत्व दिया जाता है, कंसेंट उनमें से एक है. महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए इसे आगे रखना ज़रूरी है.”

सीनियर जर्नलिस्ट आंद्रे बोर्जेस ने लिखा,

जिन पुरुषों को लगता है कि महिलाओं को न कहने की बजाए, एक अपराध को स्वीकार कर लेना चाहिए वो अपराधी हैं.

भास्कर नाम के यूज़र ने लिखा,

“हमने बहुत बहाने सुन लिए, अब मैरिटल रेप को अपराध बनाने की ज़रूरत है.”

अनिता टैगोर नाम की यूज़र ने लिखा,

“रेप में कोई कंसेंट नहीं हो सकता. कोई महिला रेप की सहमति नहीं दे सकती. चाहे शादी में हो या उसके बाहर.”

हालांकि, कई ऐसे लोग हैं जो मैरिटल रेप को अपराध बनाने के खिलाफ खड़े हैं. उनका क्या कहना ये भी देख लेते हैं.

रिटायर्ड IPS अधिकारी एम नागेश्वर राव ने लिखा,

‘शादी का मतलब क्या है अगर पत्नी की मर्ज़ी के खिलाफ सेक्स करने पर पति को जेल जाना पड़े. क्या ये परिवार को बर्बाद नहीं करता? बच्चों को बिगाड़ता नहीं है और शादी नहीं तोड़ता है’

एक यूज़र ने लिखा,

पुरुषों को अपने घर में सहमति पत्रों का बंडल लेकर रखना पड़ेगा.

एक यूज़र ने एक फोटो डाली, फोटो में दुल्हन बेड पर बैठी है वहीं दूल्हा कम्प्यूटर खोलकर बैठा है. इसमें लिखा है कि मैरिटल रेप क्रिमिनलाइज़ हो जाने के बाद का सीन- पति बैठकर सर्वर पर इंतज़ार करेगा.

Scenes after criminalisation of #MaritalRape

Groom: Wait a minute abhi portal khul jayega Consent form ka server down hai filaal. pic.twitter.com/XqeB3uCcCM — Mohit Tandel 🏴‍☠️ (@MohitTandel35) January 14, 2022

मैरिटल रेप होने पर महिला के पास अभी क्या रास्ते हैं?

लोग बंटे हुए हैं. लेकिन क्या मैरिटल रेप को लेकर हमारे देश में कोई कानून नहीं है, पति की जबरदस्ती की शिकार महिला की क्या कहीं सुनवाई नहीं होती? सुनवाई तो होती है, लेकिन बस सुनवाई होती है. इंसाफ नहीं मिलता. पति के रेप करने पर महिला उसके खिलाफ डोमेस्टिक वायलेंस एक्ट के तहत केस दर्ज कर सकती है. लेकिन ये ऐक्ट केवल केस दर्ज कर सकता है इसमें मैरिटल रेप के लिए सज़ा का कोई प्रावधान नहीं है. औरत को बस एक सहूलियत मिलती है कि इसके आधार पर वो अपने पति से तलाक ले सकती है.

मेरी एक दोस्त हैं. वो बताती हैं कि एक बार सड़क चलते एक शख्स ने उनकी जांघों के बीच अपना हाथ डाल दिया था. उस घटना के बाद कई दिनों तक वो बाहर नहीं निकली थीं, उन्हें खुद से घिन आती थी. रेप यौन शोषण की उस घटना से कई गुना ज्यादा हिंसक होता है, कई गुना ज्यादा चोट वो महिला के मन और शरीर पर देता है. कई महिलाएं सिर्फ इसलिए अपने रेपिस्ट के खिलाफ केस दर्ज नहीं करा पाती हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि उससे कुछ होगा नहीं. और कानून नहीं होने की वजह से कई पुरुष पत्नी को अपनी प्रॉपर्टी समझते हैं और उसके साथ जबरदस्ती करते हैं. एक शादी में दो लोगों के बीच क्या होता है, ये उन दोनों की ही निजता के दायरे में आता है. लेकिन उस निजता की आड़ में अगर पत्नी प्रताड़ित हो रही है, रेप का शिकार हो रही है तो उसे प्रोटेक्ट करने के लिए एक कानून बनाए जाने की ज़रूरत है. ऐसा कानून जो उसे किसी पुरुष की संपत्ति बनाकर छोड़ नहीं दे, बल्कि उसे ताकत दे.


पोस्टर गर्ल: फायर फाइटर बनने के लिए हर्षिनी कान्हेकर ने जो किया, जानकर यकीन करना मुश्किल हो जाएगा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

मां-बाप ने अपने ही बच्चे को 22 कुत्तों के साथ 2 साल तक बंधक बनाया, बच्चा कुत्ते जैसा बर्ताव करने लगा

मां-बाप ने अपने ही बच्चे को 22 कुत्तों के साथ 2 साल तक बंधक बनाया, बच्चा कुत्ते जैसा बर्ताव करने लगा

महाराष्ट्र के पुणे का ये मामला जानकर एक पल को यकीन नहीं होता, लेकिन सच है.

जिस ऑटो वाले ने कोरोना काल में सबकी मदद की, उस पर रेप का आरोप लगा है

जिस ऑटो वाले ने कोरोना काल में सबकी मदद की, उस पर रेप का आरोप लगा है

आरोपी जावेद को कई संस्थाओं ने सम्मानित किया था.

शादी का कार्ड बांटने निकली लड़की कई दिन बाद मिली; किडनैपिंग, गैंगरेप और बेचे जाने का आरोप

शादी का कार्ड बांटने निकली लड़की कई दिन बाद मिली; किडनैपिंग, गैंगरेप और बेचे जाने का आरोप

लड़की का आरोप- एक नेता ने कुछ दिन अपने साथ झांसी में रखा था.

महिला पर एसिड फेंका, सज़ा काटी, 17 साल बाद उसी महिला को खोजकर रेप करने का आरोप

महिला पर एसिड फेंका, सज़ा काटी, 17 साल बाद उसी महिला को खोजकर रेप करने का आरोप

आरोप है कि शख्स ने महिला के पति और बच्चों को एसिड से जलाने की धमकी दी थी.

अब अलीगढ़ में पुलिस कॉन्स्टेबल पर नाबालिग के रेप का आरोप लगा है

अब अलीगढ़ में पुलिस कॉन्स्टेबल पर नाबालिग के रेप का आरोप लगा है

दूर की रिश्तेदार को लिफ्ट देने के बहाने कॉन्स्टेबल ने रेप किया.

राजस्थान मंत्री महेश जोशी के बेटे रोहित पर रेप और जबरन अबॉर्शन करवाने का आरोप

राजस्थान मंत्री महेश जोशी के बेटे रोहित पर रेप और जबरन अबॉर्शन करवाने का आरोप

विक्टिम का आरोप- ड्रिंक्स में नशीली दवा मिलाकर रेप किया, तस्वीरें खींची.

लेखक नीलोत्पल मृणाल पर 10 साल तक महिला के यौन शोषण का आरोप

लेखक नीलोत्पल मृणाल पर 10 साल तक महिला के यौन शोषण का आरोप

इस मामले में तीस हज़ारी कोर्ट ने 31 मई तक गिरफ्तारी पर रोक लगाई है

ओडिशा: वैवाहिक विवाद सुलझाने तांत्रिक के पास ले गए, 79 दिनों तक रेप करने का आरोप

ओडिशा: वैवाहिक विवाद सुलझाने तांत्रिक के पास ले गए, 79 दिनों तक रेप करने का आरोप

विरोध के बावजूद सास ने महिला को तांत्रिक के पास छोड़ दिया.

'हर रात पुल के नीचे करते थे बलात्कार', ललितपुर रेप पीड़िता ने बताई चार दिनों की कहानी

'हर रात पुल के नीचे करते थे बलात्कार', ललितपुर रेप पीड़िता ने बताई चार दिनों की कहानी

जो बातें पीड़िता ने काउंसलर्स को बताई हैं, वो सुनकर स्तब्ध रह जाएंगे.

मध्य प्रदेश : पति के वकील ने कोर्ट परिसर में महिला को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, देखती रही भीड़

मध्य प्रदेश : पति के वकील ने कोर्ट परिसर में महिला को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, देखती रही भीड़

पुलिस ने वकील के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया.