Submit your post

Follow Us

कोरोना संक्रमित महिला को अस्पताल ने भर्ती नहीं किया, गेट पर ही उसने बच्चे को जन्म दिया!

जम्मू कश्मीर. यहां के उत्तरी कश्मीर से एक खबर आई है. बांदीपोरा जिले में एक तीस वर्षीय कोरोना संक्रमित गर्भवती महिला को डॉक्टरों ने अस्पताल में भर्ती करने से मना कर दिया. महिला को 25 किलोमीटर दूर एक कोविड केयर सेंटर में भेजा गया. उससे पहले महिला ने अस्पताल के परिसर में बच्चे को जन्म दे दिया. परिजनों द्वारा अस्पताल में हंगामा करने के बाद अब मामले की जांच के लिए कमेटी गठित की गई है.

क्या है मामला

महिला के परिजनों का आरोप है कि शनिवार, 14 नवंबर को महिला का प्रसव होना था. लेकिन डॉक्टरों ने उसे भर्ती करने से मना कर दिया. कहा कि महिला कोविड पॉजिटिव है. इसके बाद महिला को बांडीपोरा के कोविड केयर सेंटर ले जाने के लिए बोल दिया. परिजनों का कहना है कि महिला दर्द से कराह रही थी. उसे एडमिट नहीं किया गया और उसने अस्पताल के गेट के बाहर ही बच्चे को जन्म दे दिया. उस समय बारिश भी हो रही थी. महिला के पति अब्दुल अजीज भट का कहना है कि वह उसे अस्पताल की पहली मंजिल पर सुबह दस बजे के करीब ले कर गया. लेकिन उसकी गंभीर हालत को देखने के बावजूद डॉक्टरों ने उसे भर्ती करने से मना कर दिया. एक अन्य परिजन रूबीना ने कहा,

सभी लोगों के सामने ही उसने बच्चे को जन्म दे दिया. किसी डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ ने मदद नहीं की. सभी लोग महिला को बच्चे को जन्म देते हुए देख रहे थे. घर वालों ने कैसे भी उसका प्रसव कराया.

न्यूज 18 की खबर के मुताबिक, अस्पताल अधिकारियों ने घटना की जांच शुरू कर दी है. आरोपी डॉक्टरों के वेतन को रोक दिया है. कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है. अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा,

यह निश्चित रूप से एक अमानवीय और असंवेदनशील कार्य है और इसकी जांच की जाएगी. हमने संज्ञान लिया है और एक जांच टीम गठित की गई है.अगर वास्तव में ऐसा पाया जाता है कि डॉक्टरों ने मरीज की स्थिति को देखते हुए भी उसे कोविड अस्पताल में रेफर कर दिया था, तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

वहीं दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि महिला कोविड से संक्रमित थी. इसलिए उसे कम्यूनिटी हेल्थ सेंटर हाजिन में रेफर किया गया जहां पर कोविड 19 संक्रमित गर्भवती महिलाओं का प्रसव किया जा रहा है. लेकिन उसे एम्बुलेंस नहीं मिल पाई जिस कारण उसने गेट पर ही बच्चे को जन्म दे दिया. डॉक्टरों ने इन आरोपों से इंकार किया है कि महिला का इलाज करने से मना किया गया. वहां मौजूद डॉक्टर्स का कहना है कि महिला के साथ एक फीमेल मल्टीपर्पस वर्कर को लगाया गया था.


वीडियो देखिए: कोविड के पहले टेस्ट में +ve निकली गर्भवती, दूसरे टेस्ट की रिपोर्ट देखकर दिमाग खराब हो गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

प्रेगनेंट और स्तनपान करा रही औरतें कोरोना का टीका लगवाएं या नहीं?

प्रेगनेंट और स्तनपान करा रही औरतें कोरोना का टीका लगवाएं या नहीं?

सरकार का गोलमोल जवाब बड़ा डाउट पैदा करता है.

एक बार टली शादी, दूसरी बार दूल्हे को कोरोना हुआ तो PPE किट में शादी करने पहुंची दुल्हन

एक बार टली शादी, दूसरी बार दूल्हे को कोरोना हुआ तो PPE किट में शादी करने पहुंची दुल्हन

अस्पताल के कोविड वॉर्ड में हुई शादी.

थाने में ही क्यों करनी पड़ी हल्दी की रस्म, महिला कॉन्स्टेबल ने बताया

थाने में ही क्यों करनी पड़ी हल्दी की रस्म, महिला कॉन्स्टेबल ने बताया

30 अप्रैल को आशा की शादी होने वाली है.

नदी पार कर उस गांव में कोरोना का टीका लगा आईं जहां सड़क भी नहीं जाती

नदी पार कर उस गांव में कोरोना का टीका लगा आईं जहां सड़क भी नहीं जाती

नक्सलियों के खतरे के बीच अपना फ़र्ज़ निभाने वाली डॉक्टर से मिलिए.

क्या औरतों को पीरियड के दौरान कोरोना वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए?

क्या औरतों को पीरियड के दौरान कोरोना वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए?

कहा जा रहा है कि पीरियड के दौरान और उसके पांच दिन पहले, पांच दिन बाद वैक्सीन न लगवाएं.

शादी की जल्दी मची है तो ये गलती बिलकुल न करें, इस लड़की जैसा हाल न हो!

शादी की जल्दी मची है तो ये गलती बिलकुल न करें, इस लड़की जैसा हाल न हो!

दिल तो टूटेगा ही, बैंक अकाउंट भी खाली हो जाएगा.

35 साल बाद घर में बेटी पैदा हुई तो उसे हेलिकॉप्टर से घर लाए, रास्ते में फूल बिछाए

35 साल बाद घर में बेटी पैदा हुई तो उसे हेलिकॉप्टर से घर लाए, रास्ते में फूल बिछाए

पूरे सीन का वीडियो गजब है.

PPE किट पहनकर कोविड ड्यूटी करने वाली डॉक्टर्स डायपर पहनने पर मजबूर हैं

PPE किट पहनकर कोविड ड्यूटी करने वाली डॉक्टर्स डायपर पहनने पर मजबूर हैं

पीरियड्स के दौरान किसी ने डबल पैड इस्तेमाल किया, किसी ने डायपर के ऊपर सैनिटरी नैपकिन लगाई.

चार महीने प्रेग्नेंट हैं फिर भी रोज़े रखते हुए कोविड ड्यूटी कर रही हैं ये नर्स

चार महीने प्रेग्नेंट हैं फिर भी रोज़े रखते हुए कोविड ड्यूटी कर रही हैं ये नर्स

वो मानती हैं कि रमज़ान के महीने में सेवा सबसे पावन काम है.

अमेरिकी डॉक्टर्स ने बताया, कोरोना हुआ तो बिना अस्पताल गए इस तरह बचाएं खुद को

अमेरिकी डॉक्टर्स ने बताया, कोरोना हुआ तो बिना अस्पताल गए इस तरह बचाएं खुद को

घर पर देखभाल के साथ ही रेमडेसिविर पर वो बात बताई कि चिंता कम होगी.