Submit your post

Follow Us

सच जान लीजिए, सिर्फ अफ़ग़ानिस्तान ही नहीं, ये बड़े देश भी बिना महिलाओं के चल रहे

अफगानिस्तान में 7 सितंबर को नई सरकार बनी. इस सरकार में तालिबान ने एक भी महिला को शामिल नहीं किया. तालिबान ने प्रतिनिधित्व का महिलाओं का अधिकार छीन लिया. लेकिन इस वक़्त अफगानिस्तान अकेला ऐसा देश नहीं है जहां की सरकार में कोई महिला नहीं है. कुछ और देश ऐसे हैं. इसके बारे में जानकारी दी IPU ने यानी इंटर पार्लियामेंट यूनियन ने. ये नेशनल पार्लियामेंट्स का एक इंटरनेशनल ऑर्गेनाइज़ेशन है. जनवरी 2021 के इसके आंकड़ों के मुताबिक, अफगानिस्तान में तालिबान के कब्ज़े के पहले तक देश के कुल मंत्री पदों के केवल 6.5% पदों पर महिलाओं का कब्ज़ा था. लेकिन तालिबान के आने के बाद अब अफगानिस्तान भी उन एक दर्जन देशों में शामिल हो गया है, जहां सरकार के ऊंचे पदों पर एक भी महिला काबिज़ नहीं है. IPU के सबसे ताज़ा डाटा के मुताबिक, वो 12 देश ये रहे-

– अज़रबैजान (Azerbaijan)

इस देश का कुछ हिस्सा यूरोप में आता है तो कुछ एशिया में. यहां सरकार में कुल 20 मंत्री पद हैं, लेकिन एक भी पद पर महिला काबिज़ नहीं है. हालांकि अगर पार्लियामेंट की बात करें तो निचले सदन में कुल सांसदों की संख्या 121 है, जिनमें से 22 महिलाएं हैं. पार्लियामेंट की स्पीकर एक महिला है.

– आर्मेनिया (Armenia)

आर्मेनिया का भी कुछ हिस्सा यूरोप में आता है तो कुछ एशिया में. सरकार में कुल 14 मंत्री हैं, एक भी महिला नहीं है. हालांकि पार्लियामेंट के कुल 132 सांसदों में 30 महिलाएं हैं.

– ब्रुनेई (Brunei)

ये देश एशिया महाद्वीप में आता है. सरकार में कुल 16 मंत्री हैं, एक भी महिला मंत्री नहीं. हालांकि पार्लियामेंट के 33 सांसदों में 3 महिलाएं हैं.

– नॉर्थ कोरिया (North Korea)

ये भी एशिया में आता है. सरकार के कुल 35 मंत्रियों में एक भी महिला नहीं है. हालांकि लोवर हाउस की 687 सीटों में से 121 पर महिलाओं का कब्ज़ा है.

– पापुआ न्यू गिनी (Papua New Guinea)

ये देश प्रशांत महासागर के ओशिएनिया (oceania) रीजन में आता है. यहां सरकार में 34 मंत्री हैं, महिला मंत्री नदारद हैं. और अगर पार्लियामेंट में महिलाओं की बात करें, तो लोवर हाउस की 111 सीटों में से एक भी सीट पर कोई महिला नहीं है.

– सेंट विन्सेंट एंड द ग्रेनाडाइन्स (Saint Vincent and the Grenadines)

उत्तरी अमेरिका महाद्वीप का हिस्सा है. सरकार में कुल 10 मंत्री हैं, महिला मंत्री ज़ीरो हैं. लोवर हाउस की 22 सीटों में से 4 पर महिलाएं काबिज़ हैं. और हाउस की स्पीकर भी एक महिला ही हैं.

– सऊदी अरेबिया (Saudi Arabia)

मिडिल ईस्ट में आने वाला एक अहम देश है. औरतों को धीरे-धीरे अधिकार मिल रहे हैं. सरकार में कुल 23 मंत्री हैं, महिला एक भी नहीं. वहीं लोवर हाउस में कुल 151 सदस्य हैं, जिनमें 30 महिलाएं हैं.

– थाईलैंड (Thailand)

एक फेमस एशियन कंट्री है. सरकार में कुल 24 मंत्री हैं, महिला मंत्री एक भी नहीं हैं. पार्लियामेंट के लोवर हाउस की 489 सीटों में से 77 सीटों पर महिलाएं काबिज़ हैं. वहीं अपर हाउस की 250 सीटों में से 26 औरतों के पास है.

– टुवालू ( Tuvalu)

टुवालू छोटे-छोटे द्वीपों का देश है. ओशिएनिया के पोलिनेशिया (Polynesian) सबरीजन का पार्ट है. सरकार में कुल आठ मंत्री हैं, एक भी महिला नहीं है. पार्लियामेंट में लोवर हाउस है. जिसमें कुल 16 सदस्य हैं, इनमें एक महिला है.

– वेनुआटू ( Vanuatu)

ओशिएनिया रीजन में आता है ये देश. सरकार में 12 मंत्री हैं, एक भी महिला नहीं है. पार्लियामेंट में लोवर हाउस है. कुल 52 सदस्य हैं, यहां भी एक भी महिला नहीं है.

– वियतनाम (Vietnam)

एशियन कंट्री है. 23 मंत्री हैं सरकार में, महिला मंत्री एक भी नहीं है. पार्लियामेंट के लोवर हाउस में 494 सदस्य हैं, जिनमें से 132 औरतें हैं. पार्लियामेंट की स्पीकर एक महिला है.

– यमन (Yemen)

मिडिल ईस्ट रीजन का देश है. सरकार में 24 मंत्री हैं, महिलाओं की गैरमौजूदगी है. पार्लियामेंट में दोनों हाउस हैं. लोवर हाउस के कुल 301 सदस्यों में से एक महिला है, वहीं अपर हाउस के 111 सदस्यों में तीन महिलाएं हैं.

IPU और UN विमन के मुताबिक, आज के समय में ज्यादातर देशों की सरकारों में टॉप के पदों पर औरतें भी हैं. इतिहास को अगर देखें, तो मौजूदा वक्त में उन देशों की संख्या भी अभी सबसे ज्यादा है जहां सरकार की हेड या देश की हेड कोई महिला है. कुल 22 देशों में अभी कोई महिला हेड है. यूरोप में सबसे ज्यादा ऐसे देश हैं. इसके डेनमार्क, एस्टोनिया, फिनलैंड, ग्रीस, जर्मनी, आइसलैंड और नॉर्वे इस लिस्ट में शामिल हैं.

अफगानिस्तान की औरतें 1996 से लेकर 2001 तक तालिबान की हुकुमत झेल चुकी हैं. इन पांच बरसों ने अफगानिस्तान की औरतों को सदियों पीछे पहुंचा दिया था. लेकिन जब यहां प्रॉपर संवैधानिक सरकार आई, तब औरतों ने किसी तरह आगे बढ़ना शुरू किया. 2004 के संविधान के तहत जब पहली पार्लियामेंट बनी, तब लोवर हाउस की 250 सीटों में से 68 सीटें औरतों के लिए रिज़र्व रखी गई थीं. लेकिन अब इन औरतों के सामने हर चीज़ को लेकर नई मुसीबत आकर खड़ी हो गई है.


वीडियो देखें: तालिबान ने महिलाओं के विरोध प्रदर्शन की रिपोर्टिंग कर रहे पत्रकारों को बेरहमी से पीटा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

सलमान खान को धमकी देने वाले गैंग की 'लेडी डॉन' गिरफ्तार, पूरी कहानी जानिए

एक सीधे-सादे परिवार की लड़की कैसे बन गई डॉन?

मिलने के लिए 300 किलोमीटर दूर से फ्रेंड को बुलाया, दोस्तों के साथ मिलकर किया गैंगरेप!

आरोपी और पीड़िता सोशल मीडिया के जरिए फ्रेंड बने थे.

मुंबई रेप पीड़िता की इलाज के दौरान मौत, आरोपी ने रॉड से प्राइवेट पार्ट पर हमला किया था

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा-फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा केस.

NCP कार्यकर्ता ने महिला सरपंच को पीटा, वीडियो वायरल

मामला महाराष्ट्र के पुणे का है. पीड़िता ने कहा – नहीं मिला न्याय.

सिविल डिफेंस वालंटियर मर्डर केस: परिवार ने की SIT जांच की मांग, हैशटैग चला लोग मांग रहे इंसाफ

पीड़ित परिवार का आरोप- गैंगरेप के बाद हुआ कत्ल.

उत्तर प्रदेश: रेप नहीं कर पाया तो महिला का कान चबा डाला, पत्थर से कुचला!

एक साल से महिला को परेशान कर रहा था आरोपी.

मुझे जेल में रखकर, उदास देखने में पुलिस को खुशी मिलती है: इशरत जहां

दिल्ली दंगा मामले में इशरत जहां की जमानत में अब पुलिस ने कौन सा पेच फंसा दिया है?

किशोर लड़कियों से उनकी अश्लील तस्वीरें मंगवाने के लिए किस हद चला गया ये आदमी!

खुद को जीनियस समझ तरीका तो निकाल लिया लेकिन एक गलती कर बैठा.

कॉन्डम के सहारे खुद को बेगुनाह बता रहा था रेप का आरोपी, कोर्ट ने तगड़ी बात कह दी

कोर्ट की ये बात हर किसी को सोचने पर मजबूर करती है.

रेखा शर्मा को 'गोबर खाकर पैदा हुई' कहा था, अब इतनी FIR हुईं कि अक्ल ठिकाने आ जाएगी

यति नरसिंहानंद को आपत्तिजनक टिप्पणियां करना महंगा पड़ा.