Submit your post

Follow Us

प्रेग्नेंट महिलाएं कोरोना वैक्सीन लेते वक्त किन बातों का ध्यान रखें, नई गाइडलाइंस आ गई हैं

कोरोना वायरस से बचने का सबसे कारगर तरीका फिलहाल कोरोना वैक्सीन (corona vaccine) ही है. हालांकि इसे लेकर कई बार लोगों के मन में कुछ शंकाएं बनी रहती हैं. प्रेग्नेंट महिलाओं के वैक्सीनेशन को लेकर भी कंफ्यूजन रहा है. सरकार की तरफ से इस पर स्थिति साफ करने की कोशिश होती रही है. केंद्र सरकार और ICMR पहले ही साफ कर चुके हैं कि गर्भवती महिलाएं कोविड-19 से बचाव का टीका लगवा सकती हैं. अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस बारे में गाइडलाइंस और जरूरी जानकारियां जारी की हैं ताकि किसी तरह का कंफ्यूजन न रहे. आइए जानते हैं मिनिस्ट्री ने क्या कहा है.

प्रेग्नेंट महिलाएं जरूर लगवाएं टीका

28 जून सोमवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइंस में गर्भवती महिलाओं को टीका लगवाने की सलाह दी गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी गाइडलाइंस में कहा गया है,

“ज्यादातर प्रेग्नेंट महिलाएं (कोरोनो) एसिम्टॉमेटिक होंगी या उन्हें बीमारी के हल्के लक्षण होंगे, लेकिन उनका स्वास्थ्य तेजी से बिगड़ सकता है. इससे भ्रूण भी प्रभावित हो सकता है. यह महत्वपूर्ण है कि वे खुद को कोविड-19 से बचाने के लिए सभी सावधानी बरतें. इसमें कोविड के खिलाफ टीकाकरण भी शामिल है. इसलिए सलाह दी जाती है कि प्रेग्नेंट महिला को कोविड-19 के टीके लगवाने चाहिए.”

प्रेग्नेंट महिला को बीमार होने से बचाता है टीका

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश में उपलब्ध कोविड-19 के टीके सेफ हैं. वैक्सीनेशन प्रेग्नेंट महिलाओं को बीमार होने से बचाता है. हालांकि मंत्रालय का ये भी कहना है कि किसी भी दवा की तरह इस टीके के भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो आमतौर पर हल्के होते हैं. वैक्सीन लगवाने के बाद हल्का बुखार हो सकता है, इंजेक्शन वाली जगह पर दर्द हो सकता है, या 1-3 दिनों तक बीमार महसूस कर सकते हैं. वैक्सीन लेने की वजह से भ्रूण और बच्चे पर लंबे वक्त के कोई प्रभाव की बात सामने नहीं आई है. 5 लाख मामलों में से एक में ऐसा देखा गया है कि वैक्सीन के साइड इफेक्ट गर्भवती महिला में 20 दिनों बाद भी दिखाई दे सकते हैं. अगर ऐसा होता है तो तुरंत ध्यान देने की जरूरत होगी.

कोरोना पॉजिटिव मांओं के ज्यादातर बच्चे सेहतमंद

गाइडलाइंस में कोरोना पॉजिटिव महिलाओं के नवजात बच्चों के बारे में भी बताया गया है. मंत्रालय ने कहा कि कोरोना पॉजिटिव मांओं के 95 प्रतिशत से अधिक मामलों में जन्म के समय नवजात बच्चों की स्थिति अच्छी रही है. हालांकि कोरोना वायरस के कारण प्री-मैच्योर डिलीवरी के कुछ मामले देखे गए हैं. ऐसे बच्चे का वजन 2.5 किलोग्राम से कम हो सकता है. ऐसे बहुत ही कम केस हैं, जिनमें पैदा होने से पहले बच्चों की जान जा सकती है.

कोरोना पॉजिटिव मांओं के ठीक होने की दर

मंत्रालय का कहना है कि अगर कोई प्रेग्नेंट महिला वायरस से संक्रमित हो जाती है, तो उनमें से 90 फीसदी बिना अस्पताल में भर्ती हुए ठीक हो जाती हैं. हालांकि कुछ की सेहत में तेजी से गिरावट आ सकती है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि,

“(कोरोना) लक्षण वाली गर्भवती महिलाओं में गंभीर बीमारी और मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है. गंभीर बीमारी के मामले में अन्य सभी मरीजों की तरह, प्रेग्नेंट महिलाओं को भी अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत होगी. हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, शरीर में खून का थक्का जमने का इतिहास रहा हो, 35 साल से अधिक उम्र वाली गर्भवती महिलाओं को कोरोना के कारण गंभीर बीमारी का खतरा अपेक्षाकृत अधिक होता है. अगर कोई महिला प्रेग्नेंसी के दौरान कोरोना पॉजिटिव हो जाती है तो उसे डिलीवरी के बाद फौरन वैक्सीन लेनी चाहिए.”

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी प्रेग्नेंट महिलाओं को कोविन पोर्टल पर खुद का रजिस्ट्रेशन कराने या कोविड -19 टीकाकरण केंद्र में पंजीकृत कराने की सलाह दी है.

बता दें कि लंबे इंतजार के बाद भारत भी उन देशों में शामिल हो गया है, जहां प्रेग्नेंट महिलाओं को भी कोरोना वैक्सीन देने की इज़ाजत मिल गई है. कई महीने तक प्रेग्नेंट महिलाओं को वैक्सीन देने से मना किया गया था. 25 जून को सरकार इस नतीजे पर पहुंची कि प्रेग्नेंट महिलाओं को कोरोना वैक्सीन देनी चाहिए. ICMR के चीफ डॉक्टर बलराम भार्गव ने कहा कि वैक्सीन प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए लाभदायक है. भारत समेत 18 देशों में प्रेग्नेंट महिलाओं को वैक्सीनेशन की सलाह दी गई है. दुनिया में 28 देश ऐसे हैं जो प्रेग्नेंट महिलाओं को वैक्सीन देने की इज़ाजत तो देते हैं लेकिन इसे बढ़ावा नहीं देते. 46 देश ऐसे हैं जो या तो किसी शर्त के साथ प्रेग्नेंट महिलाओं को टीका देने की बात करते हैं या पूरी तरह से मना करते हैं.


वीडियो – अगस्त से लेकर दिसंबर के बीच देश में कितनी कोविड-19 वैक्सीन उपलब्ध हो सकेंगी, जानिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

असम से नाबालिग को किडनैप कर राजस्थान में बेचा, जबरन शादी और फिर रोज रेप की कहानी

असम से नाबालिग को किडनैप कर राजस्थान में बेचा, जबरन शादी और फिर रोज रेप की कहानी

नाबालिग 15 साल की है और एक बच्चे की मां बन चुकी है.

डोंबिवली रेप केसः 15 साल की लड़की का नौ महीने तक 29 लोग बलात्कार करते रहे

डोंबिवली रेप केसः 15 साल की लड़की का नौ महीने तक 29 लोग बलात्कार करते रहे

नौ महीने के अंतराल में एक वीडियो के सहारे बच्ची का रेप करते रहे आरोपी.

यौन शोषण की शिकायत पर पार्टी से निकाला, अब मुस्लिम समाज में सुधार के लिए लड़ेंगी फातिमा तहीलिया

यौन शोषण की शिकायत पर पार्टी से निकाला, अब मुस्लिम समाज में सुधार के लिए लड़ेंगी फातिमा तहीलिया

रूढ़िवादी परिवार से ताल्लुक रखने वाली फातिमा पेशे से वकील हैं.

रेप की कोशिश का आरोपी ज़मानत लेने पहुंचा, कोर्ट ने कहा- 2000 औरतों के कपड़े धोने पड़ेंगे

रेप की कोशिश का आरोपी ज़मानत लेने पहुंचा, कोर्ट ने कहा- 2000 औरतों के कपड़े धोने पड़ेंगे

कपड़े धोने के बाद प्रेस भी करनी होगी. डिटर्जेंट का इंतजाम आरोपी को खुद करना होगा.

स्टैंड अप कॉमेडियन संजय राजौरा पर यौन शोषण के गंभीर आरोप, उनका जवाब भी आया

स्टैंड अप कॉमेडियन संजय राजौरा पर यौन शोषण के गंभीर आरोप, उनका जवाब भी आया

इस मामले पर विक्टिम और संजय राजौरा की पूरी बात यहां पढ़ें.

मध्य प्रदेश: लड़की को किडनैप किया, रेप नहीं कर पाए तो आंखों में डाल दिया एसिड

मध्य प्रदेश: लड़की को किडनैप किया, रेप नहीं कर पाए तो आंखों में डाल दिया एसिड

पीड़िता की आंखों की रोशनी चली गई. मामले में दो आरोपी गिरफ्तार.

दिल्ली कैंट रेप केस: आरोपी 9 साल की बच्ची को जबरन पॉर्न दिखाता था, उससे मसाज करवाता था

दिल्ली कैंट रेप केस: आरोपी 9 साल की बच्ची को जबरन पॉर्न दिखाता था, उससे मसाज करवाता था

पुलिस का मानना है कि मौत करंट लगने से हुई ही नहीं.

बेटी को आत्मा से बचाने के नाम पर मां ने रेप के लिए तांत्रिक के हवाले कर दिया!

बेटी को आत्मा से बचाने के नाम पर मां ने रेप के लिए तांत्रिक के हवाले कर दिया!

घटना महाराष्ट्र के ठाणे की है, विक्टिम नाबालिग है.

इंदौरः पब में हो रहा था फैशन शो, संस्कृति बचाने के नाम पर उत्पातियों ने तोड़-फोड़ कर दी

इंदौरः पब में हो रहा था फैशन शो, संस्कृति बचाने के नाम पर उत्पातियों ने तोड़-फोड़ कर दी

पुलिस ने आयोजकों को ही गिरफ्तार कर लिया. उत्पाती बोले- फैशन शो में हिंदू लड़कियों को कम कपड़े पहनाकर अश्लीलता फैलाई जा रही थी.

फिरोजाबाद का कपल, दिल्ली से अगवा किया, एक शव MP में तो दूसरा राजस्थान में मिला

फिरोजाबाद का कपल, दिल्ली से अगवा किया, एक शव MP में तो दूसरा राजस्थान में मिला

लड़की के पिता और चाचा अब जेल की सलाखों के पीछे हैं.