Submit your post

Follow Us

औरतों के ख़िलाफ़ हिंसा के ये आंकड़े देखेंगे तो कभी केरल को 'प्रोग्रेसिव' राज्य नहीं कहेंगे

देश में केरल की छवि एक प्रगतिशील राज्य की है. ऐसे राज्य की जहां की व्यवस्था देश के बाकी हिस्सों से बेहतर है. फिर चाहें बात शिक्षा और स्वास्थ्य की हो या फिर लोगों के आम जीवन स्तर की. लेकिन हाल की कुछ घटनाओं की वजह से केरल की छवि पर सवाल उठ रहे हैं. बीते दिनों जिस तरह से केरल में दहेज हत्या के मामले सामने आए हैं, घरेलू हिंसा पर राज्य की पूर्व महिला आयोग प्रमुख ने जिस तरह की बातें की हैं और उनके ऊपर एक रेप आरोपी को बचाने के जो आरोप लगे हैं, इन सबने हमें यह सोचने पर मजबूर कर दिया है कि भले ही केरल देश का सबसे शिक्षित और सबसे बेहतर लिंग अनुपात वाला राज्य क्यों ना हो, लेकिन इतना प्रोग्रेसिव कहलाने वाला राज्य भी महिलाओं के प्रति हिंसक सोच से बचा हुआ नहीं है.

जब CM एक महिला को किनारे कर सकता है…

इस बार जब 2 मई को राज्य में विधानसभा के चुनाव परिणाम आए थे, तो एक इतिहास बना. लेफ्ट फ्रंट की सरकार ने सत्ता बरकरार रखी. दशकों बाद ऐसा हुआ. लेफ्ट फ्रंट ने पहले से भी बेहतर प्रदर्शन किया. फिर आई शपथ ग्रहण की बारी. राज्य के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने पिछले कार्यकाल में स्वास्थ्य मंत्री रहीं केके शैलजा को कैबिनेट से हटा दिया. जबकि शैलजा ने रिकॉर्ड अंतर से अपनी विधानसभा सीट जीती. जो यह बताता है कि जनता कोरोना वायरस आपदा के दौरान उनके कामकाज से कितनी संतुष्ट रही. शैलजा को निपाह वायरस और कोविड 29 महामारी के दौरान किए गए काम के लिए केरल ही नहीं, बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी सराहना मिली. लेकिन उन्हें यह कहकर कैबिनेट से हटा दिया गया कि यही पार्टी का नियम है. किसी भी मंत्री को दोबारा मंत्रीमंडल में जगह नहीं मिलेगी. जबकि विजयन खुद मुख्यमंत्री पद पर बने रहे.

चुनाव के बाद हुए इस पूरे घटनाक्रम के जिक्र का मकसद केवल यह है कि लैंगिक समानता के प्रति राज्य के मुखिया की सोच की तस्वीर दिखाई जा सके. और यह इसी सोच का परिणाम है कि राज्य में महिलाओं के खिलाफ अपराध के एक के बाद एक संगीन मामले सामने आ रहे हैं. क्योंकि संदेश साफ है कि जब सीएम अपनी महत्वकांक्षाओं के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बना चुकी महिला को किनारे कर सकता है, तो आम महिलाओं की कौन सुनेगा!

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन. (फोटो: PTI)
केरल (Kerala) के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन. (फोटो: PTI)

केरल में स्त्रियों के खिलाफ अपराध का ताजा मामला एक 19 साल की लड़की सुचित्रा से जुड़ा है. आज से एक सप्ताह पहले यानी 22 जून को सुचित्रा की मौत हो गई. इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक तीन महीने पहले ही उसकी शादी हुई थी. सुचित्रा का पति एक आर्मी ऑफिसर है, उत्तराखंड में तैनात था. सुचित्रा के परिवार का कहना है कि उसकी दहेज हत्या की गई. परिवार ने बताया कि शादी के दौरान उन्होंने सुचित्रा के ससुराल वालों को ढेर सारा सोना और कार दी थी. इसके बाद भी ससुराल वाले दस लाख रुपये और मांग रहे थे. यही नहीं, ससुराल वालों ने सुचित्रा के परिवार वालों से अपनी पूरी प्रॉपर्टी भी उनके नाम करने के लिए कहा.

दूसरी तरफ, सुचित्रा के ससुराल वालों का कहना है कि उसने आत्महत्या की है. वहीं सुचित्रा के परिवार वाले इस बात को मानने के लिए राजी नहीं हैं. उनका कहना है कि सुचित्रा ऐसा कदम उठा ही नहीं सकती क्योंकि हल्की-फुल्की चोट लग जाने पर भी वो पूरा घर सिर पर उठा लेती थी. सुचित्रा की मौत को फिलहाल पुलिस ने अप्राकृतिक मौत के तौर पर दर्ज किया है. पुलिस का कहना है कि जांच में जो सबूत सामने आएंगे, उसके आधार पर मामले में नई धाराएं दर्ज की जाएंगी.

इसी तरह 21 जून को 24 साल की विस्मया नायर की लाश उसके ससुराल से मिली. विस्मया की एक साल पहले ही शादी हुई थी. उसका पति भी सरकारी नौकरी करता है. पुलिस ने इस केस में भी अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज किया. मौत से पहले विस्मया ने अपनी कुछ फोटो घरवालों से शेयर की थीं. विस्यमा के शरीर पर जगह-जगह चोट के निशान थे. जैसे उसे किसी ने बुरी तरह से पीटा हो. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक विस्मया के पति का एक कथित व्हाट्सएप चैट स्क्रीनशॉट भी लीक हुआ था, जिसमें वो कथित तौर पर दहेज में मिली कार से खुश नहीं था.

बाद में विस्मया के पिता ने मीडिया को बताया कि शादी के समय विस्मया के ससुराल वालों को ढेर सारा सोना, लगभग सवा एकड़ जमीन और एक नई गाड़ी दी गई थी. हालांकि, इसके बाद भी विस्मया पर और पैसे देने का दबाव बनाया जा रहा था. उन्होंने यह भी बताया कि जो गाड़ी दी गई थी, उसकी कीमत 11 लाख रुपये है और इसे लोन पर लिया गया था. उन्होंने आगे बताया कि विस्मया को उसके ससुराल में प्रताड़ित किया जाता था, जिसके कारण वो अक्सर अपने घर आकर रहने लगती थी. लेकिन उसका पति उसे जबरन वापस ले जाता था.

पूर्व महिला आयोग अध्यक्ष पर रेप आरोपी को बचाने का आरोप

इसी बीच एक टीवी प्रोग्राम में केरल महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष एमसी जोसेफीन को एक महिला ने अपने साथ हो रही कथित घरेलू हिंसा के बारे में बताया. महिला ने कहा कि उसकी शादी 2014 में हुई थी और वो तब से ही घरेलू हिंसा का शिकार हो रही है. इसके बाद जोसेफीन ने उस महिला से पूछा कि क्या उसने पुलिस में इस बारे में शिकायत की है? महिला ने कहा कि उसने शिकायत नहीं की. इसके बाद जोसेफीन ने कहा कि तो फिर वो हिंसा सहती रहे. इस बयान को लेकर जोसेफीन की खूब आलोचना हुई. बाद में अपने बयान पर खेद जताते हुए उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया.

अब इन्हीं एससी जोसेफीन पर एक और संगीन आरोप लगा है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक ओलंपियन मयूखा जॉनी ने जोसेफीन पर रेप के आरोपी एक बिजनेसमैन को बचाने का आरोप लगाया है. उनके आरपों के बाद त्रिशूर पुलिस ने मामले की जांच के लिए महिला पुलिस ऑफिसरों का पैनल बनाने की बात कही है.

रिपोर्ट के मुताबिक, जॉनी ने मीडिया को बताया कि पीड़िता को अभी भी आरोपी की तरफ से धमकियां मिल रही हैं. जॉनी ने बताया कि पीड़िता ने इस साल मार्च में आरोपी के खिलाफ पुलिस में शिकायत की थी. यही नहीं मैजिस्ट्रेट ने उसका बयान भी दर्ज किया था. जॉनी ने आगे बताया कि पुलिस शुरुआत में पीड़िता के प्रति सपोर्टिव थी लेकिन फिर अचानक से उसका रवैया बदल गया. पुलिस पीड़िता को हतोत्साहित करने लगी.

केरल महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष एमसी जोसेफीन.
केरल महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष एमसी जोसेफीन.

जॉनी ने आरोप लगाया कि ऐसा इसलिए हुए क्योंकि एक स्थानीय बिशप और लेफ्ट फ्रंट के पिछले कार्यकाल के एक मंत्री ने आरोपी का पक्ष लिया. यही नहीं, वर्तमान सरकार ने भी पुलिस की जांच को आरोपी के पक्ष में प्रभावित करने की कोशिश की. उन्होंने आगे बताया कि पुलिस को रवैये को देखते हुए पीड़िता ने उनके साथ मिलकर महिला आयोग की तत्कालीन अध्यक्ष एमसी जोसेफीन के पास शिकायत करने की कोशिश की, लेकिन बाद में ऐसा इसलिए नहीं किया क्योंकि जोसेफीन ने ही कथित तौर पर पुलिस को जांच प्रभावित करने के लिए कहा था.

जॉनी ने आगे बताया कि पीड़िता और आरोपी दोनों एक ही जिले त्रिशूर के हैं. साल 2016 में आरोपी पीड़िता के घर में घुस गया था. जहां उसने पीड़िता का यौन शोषण किया. बाद में आपत्तिजनक तस्वीरों के सहारे भी आरोपी पीड़िता को परेशान करता रहा. यहां तक कि उसकी शादी के बाद भी, जो 2018 में हुई. पीड़िता ने पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री से भी शिकायत की. लेकिन पुलिस ने कथित तौर पर उससे कहा कि सबूतों के ना होने पर इस मामले में जांच नहीं हो पाएगी.

जॉनी ने कहा कि वो यह सब इसलिए बता रही हैं क्योंकि पीड़िता को अभी भी आरोपी से धमकी मिल रही है और दूसरा वे पीड़िता के लिए न्याय चाहती हैं.

चलते-चलते एक नज़र आंकड़ों पर भी डाल लीजिए

पहले देख लीजिए टेबल. केरल की सरकारी वेबसाइट का है. इसमें दिख रहा है साल 2016, 2017, 2018, 2019 में महिलाओं के खिलाफ हुे अपराध का डेटा. साथ में है 2020 का प्रोविज़नल डेटा. प्रोविज़नल यानी ये फाइनल डेटा नहीं है. इसमें कुछ घट-बढ़ सकता है. साथ में इस साल यानी 2021 में अप्रैल तक रिपोर्ट हुए क्राइम की जानकारी दी गई है.

Kerala Crime Against Women
ये टेबल हमने केरल सरकार की वेबसाइट से निकाला है. वेबसाइट के मुताबिक, ये टेबल आखिरी बार 16 जून, 2021 को अपडेट किया गया है.

टेबल के मुताबिक, साल 2019 में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के 14, 293 मामले दर्ज हुए. इनमें से छह दहेज हत्या के थे. और 2991 मामले पति या ससुराल वालों से मिली प्रताड़ना के थे. 2020 के प्रोविजनल डेटा में भी दहेज हत्या के छह मामले और ससुराल और पति द्वारा हिंसा के 2715 मामले हैं. 2021 की बात करें तो. साल के शुरुआती चार महीनों में ही पति और ससुराल की तरफ से प्रताड़ना के 1080 मामले दर्ज हो चुके हैं. ये आंकड़े डराने वाले हैं.


वीडियो- एरीज़ ग्रुप के मालिक सोहन रॉय ने दहेज पर जो नीति लागू की, उसकी तारीफ हो रही है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

असली चुनौती के लिए तैयार हैं गोल्ड की हैटट्रिक मारने वाली दीपिका

असली चुनौती के लिए तैयार हैं गोल्ड की हैटट्रिक मारने वाली दीपिका

फिर से नंबर वन हुईं दीपिका कुमारी.

जिस फेमिनिस्ट लड़की के शादी के ऐड पर बवाल हुआ, उसने इस पर क्या कहा है?

जिस फेमिनिस्ट लड़की के शादी के ऐड पर बवाल हुआ, उसने इस पर क्या कहा है?

ऐड में लिखा थाः 30 साल की सोशलिस्ट लड़की 25-28 साल का बिजनेसमैन खोज रही है.

टेनिस स्टार सेरेना विलियम्स ने टोक्यो ओलंपिक को दिया बड़ा झटका

टेनिस स्टार सेरेना विलियम्स ने टोक्यो ओलंपिक को दिया बड़ा झटका

नडाल की राह पर निकलीं सेरेना.

पहले वनडे में इंग्लैंड से बुरी तरह हारी भारतीय महिला क्रिकेट टीम

पहले वनडे में इंग्लैंड से बुरी तरह हारी भारतीय महिला क्रिकेट टीम

किसी काम नहीं आया मिताली का पचासा.

महिला के एक साथ दस बच्चों को जन्म देने की खबर में झोल सुनकर सिर चकरा जाएगा

महिला के एक साथ दस बच्चों को जन्म देने की खबर में झोल सुनकर सिर चकरा जाएगा

यह भी जानिए किसके नाम है एक समय में सर्वाधिक बच्चे जन्म देने का रिकॉर्ड और एक से अधिक बच्चों को जन्म देने पर स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ता है.

16 देशों में कंपनी चलाने वाले सोहन रॉय ने दहेज पर क्या कर दिया कि तारीफ हो रही है?

16 देशों में कंपनी चलाने वाले सोहन रॉय ने दहेज पर क्या कर दिया कि तारीफ हो रही है?

Aries Group of Companies के मालिक हैं.

पंजाब: कीर्ति चक्र अवॉर्डी की विधवा को दूसरी शादी के बाद भत्ता नहीं मिलने का पूरा मामला है क्या?

पंजाब: कीर्ति चक्र अवॉर्डी की विधवा को दूसरी शादी के बाद भत्ता नहीं मिलने का पूरा मामला है क्या?

अब CM कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दख़ल दिया है.

नीतीश कुमार की पार्टी ने औरतों के लिए वो कर दिया जो किसी ने सोचा नहीं था

नीतीश कुमार की पार्टी ने औरतों के लिए वो कर दिया जो किसी ने सोचा नहीं था

ऐसा करने वाली पहली पार्टी बनी JDU

शबाना आज़मी ने ऑनलाइन शराब खरीदी, गज़ब बवाल मच गया

शबाना आज़मी ने ऑनलाइन शराब खरीदी, गज़ब बवाल मच गया

एक ने कहा- "औरतों के लिए क्या उदाहरण सेट करना चाहती हैं शबाना"

केरल CM विजयन ने शादी के सिस्टम पर खरी-खरी सुनाई, सभी नेताओं को सीख लेनी चाहिए

केरल CM विजयन ने शादी के सिस्टम पर खरी-खरी सुनाई, सभी नेताओं को सीख लेनी चाहिए

लोगों ने तारीफों की झड़ी ही लगा दी.