Submit your post

Follow Us

62 साल की महिला ने ABVP के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर उत्पीड़न का आरोप लगाया

तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई. यहां 62 साल की एक बुजुर्ग महिला ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. सुब्बैया षणमुगम पर उनको परेशान करने का आरोप लगाया है. इसके अलावा महिला का आरोप है कि षणमुगम ने उनके घर के दरवाज़े पर पेशाब की और सर्जिकल मास्क फेंके. मामले में ABVP के राष्ट्रीय अध्यक्ष के ख़िलाफ़ FIR दर्ज की गई है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, चेन्नई की एक हाउसिंग सोसायटी में रहने वाली महिला का सोसायटी में पार्किंग स्लॉट को लेकर विवाद हो गया. कथित तौर पर महिला अपने पार्किंग स्लॉट के इस्तेमाल का पेमेंट षणमुगम से मांग रही थी. 11 जुलाई को महिला ने अदंबक्कम पुलिस स्टेशन में शिकायत की. शिकायत में उसने सीसीटीवी फुटेज अटैच किए, जिसमें कथित तौर पर ABVP के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं, जो महिला के दरवाज़े पर पेशाब कर रहे हैं. हालांकि षणमुगम और ABVP ने वीडियो को फेक बताया है.

महिला के क्या आरोप हैं? 

मामला तब सामने आया, जब महिला के भतीजे बालाजी विजयराघवन, जो कि एक स्टैंडअप कमीडियन हैं, ने इस मामले को सोशल मीडिया पर शेयर किया और कहा कि पुलिस उनके परिवार की मदद नहीं कर रही है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, महिला ने अपनी शिकायत में कहा कि षणमुगम उनके पास दो पार्किंग स्लॉट में एक का इस्तेमाल करने की इजाज़त लेने गए थे. इस पर महिला ने किराया मांग तो षणमुगम गुस्से में आ गए. महिला का आरोप है कि उन्होंने पहले पार्किंग स्लॉट का साइनबोर्ड तोड़ा. आरोप ये भी है कि उन्होंने महिला से पूछा कि वो चिकन खाएंगी, जबकि वो वेजेटेरियन हैं. आरोप है कि षणमुगम ने महिला के दरवाज़े पर कूड़ा फेंका और पेशाब की.

ABVP का क्या कहना है? 

ABVP अध्यक्ष षणमुगम किलपॉक मेडिकल कॉलेज और रॉयपेट्टा सरकारी अस्पताल में प्रोफेसर हैं. उन्होंने कहा कि शिकायत झूठी है और सीसीटीवी फुटेज से छेड़छाड़ की गई है. ABVP ने मामले में एक बयान जारी किया है और इसके पीछे कांग्रेस की छात्र इकाई NSUI पर आरोप लगाए हैं. ABVP की राष्ट्रीय महासचिव निधि त्रिपाठी ने कहा कि पार्किंग स्लॉट का मामला था लेकिन दोनों परिवारों ने इस पर बात की और हाउसिंग सोसायटी ने पहले ही कहा कि उत्पीड़न के आरोप मिसअंडरस्टैंडिंग की वजह से लगे और ये ग़लत हैं.

ABVP ने NSUI पर लगाए आरोप

ABVP के बयान में कहा गया है,

NSUI डॉक्टर षणमुगम के खिलाफ दुर्भावना से भरा एक प्रोपैगैंडा चला रही है. एक फेक वीडियो के जरिए उत्पीड़न की बात कही जा रही है. ABVP जांच की मांग करती है.

यह सच है कि रेजिडेंशियल सोसायटी में पार्किंग स्लॉट को लेकर कम्युनिकेशन गैप के चलते दो परिवारों में कुछ मतभेद थे. इनमें से एक डॉक्टर षणमुगम का परिवार है. अब दोनों परिवारों ने इस पर बात की है और बगैर मनमुटाव के एक निर्णय पर पहुंच रहे हैं. NSUI की तरफ से उत्पीड़न के आरोप के साथ शेयर किए गए वीडियो से छेड़छाड़ की गई है और इसका इस्तेमाल बदनीयती से किया जा रहा है.

NSUI ने क्या कहा

इस पर NSUI की तरफ से जवाब में कहा गया, हमें खुशी है कि ABVP ने स्वीकार किया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के खिलाफ उत्पीड़न के आरोप लगे. जहां तक आरोप ‘मिसअंडरस्टैंडिंग’ की वजह से लगे, साफ जाहिर है कि ABVP और बीजेपी शिकायतकर्ता और मीडिया पर दबाव बना रहे हैं.

ABVP के मीडिया इन-चार्ज राहुल चौधरी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि सीसीटीवी फुटेज डॉक्टर्ड है और ABVP के विरोधी षणमुगम की छवि खराब कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की तरफ से तमाम प्रयासों के बावजूद, स्थानीय मीडिया ने महिला की शिकायत पर ध्यान नहीं दिया. तो उन्होंने वीडियो से छेड़छाड़ की. हमारे पास ओरिजिनल क्लिप है और उसे हम पुलिस को सौंपेंगे.


महिला आयोग ने जिसे उत्पीड़न से बचाया, उसकी कोरोना रिपोर्ट ने चौंक दिया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

आज की खबरें इन महिलाओं के बारे में बात क्यों कर रही हैं?

कौन हैं रमीलाबेन बारा और इंदु गोस्वामी?

इन महिलाओं ने ऐसा क्या किया, जो हेडलाइंस में आ गईं?

विमेन इन न्यूज टुडे- कौन हैं ये महिलाएं.

13 साल की उम्र से ही व्हीलचेयर यूजर हैं, आज दुनिया की नामी यूनिवर्सिटी में पढ़ने जा रही हैं

प्रतिष्ठा देवेश्वर के संघर्ष और कामयाबी की कहानी.

आज की टॉप ख़बरों में इन महिलाओं की बात क्यों हो रही है?

एक ने तो आतंकवादियों को मार गिराया है.

'अरेंज मैरिज' कल्चर दिखाने के बहाने इस नेटफ्लिक्स सीरीज ने कई दिक्कत भरी बातें दिखा डाली

महिलाविरोधी बातों के अलावा भी कई खामियां हैं शो में.

'शादी के लिए मैं जिस लड़के को देख रही थी, उसी ने किया यौन शोषण'

क्या क्या झेलना पड़ता है लड़कियों को अरेंज मैरिज के नाम पर

आज की ख़बरों में ये महिलाएं टॉप पर क्यों बनी रहीं, वजह जान लीजिए

किरण बेदी से लेकर नलिनी श्रीहरन तक.

लॉकडाउन खुलने के बाद सरकारी स्कूल के टीचर्स किन मुश्किलों से जूझ रहे हैं?

किसी के पास आने-जाने का साधन नहीं, तो किसी को सैनिटाइजेशन की फ़िक्र.

आज की ख़बरों में ये महिलाएं छाई रहीं, वजह भी जान लीजिए

बड़े आविष्कारों से लेकर 12वीं की परीक्षा तक.

स्कॉच ब्राइट वालों ने ढंग का काम करना चाहा, ट्विटर पर लोगों ने उल्टी गंगा बहा दी

बात थी जेंडर से जुड़ी, बिंदी लेकर उड़ चले