Submit your post

Follow Us

अक्षय कुमार के वायरल ऐड में एक और दिक्कत है, लेकिन वो ट्विटर पर ट्रेंड नहीं कर रही

5
शेयर्स

ट्विटर पर #बायकॉटनिरमा (BoycottNirma) हैशटैग ट्रेंड कर रहा है. ये वॉशिंग पाउडर निरमा के एक ऐड की वजह से है जो अभी हाल में ही रिलीज हुआ है. इस ऐड में अक्षय कुमार एक मराठा योद्धा की पोशाक में नज़र आ रहे हैं. अपने साथी लड़ाकों के साथ.

ऐड में क्या है?

इस ऐड की शुरुआत में मराठा योद्धा युद्ध जीतकर वापस आते हैं. महल की महारानियां उनका स्वागत करती हैं. लेकिन तभी उन्हें योद्धाओं के गंदे कपड़े दिखते हैं और वो कहती हैं कि ये उन्हें ही धोने पड़ेंगे. अक्षय मराठा किंग हैं. वो कहते हैं- ‘महाराज की सेना दुश्मनों को धोना जानती है और अपने कपड़े भी’. इसके बाद अक्षय और बाकी कलाकार नाचते हुए कपड़े धोते नज़र आते हैं. निरमा से. आखिर में कपड़े एकदम चकाचक सफेद हो जाते हैं.

आप ऐड देख लीजिए:

इस पर विवाद क्यों हो रहा है?

सोशल मीडिया पर कुछ लोग इस ऐड को मराठा पहचान और संस्कृति के प्रति ऑफेन्सिव बता रहे हैं. यूजर्स लिख रहे हैं कि मराठा योद्धाओं ने जान देकर स्वराज्य बचाया है. वो इस तरह नाचा नहीं करते थे. कुछ लोगों का कहना है कि कैची ऐड बनाने के चक्कर में ‘निरमा’ ने संस्कृति के साथ खिलवाड़ किया है. लोग यहां तक लिख रहे हैं कि घर-घर में इस्तेमाल होने वाले ‘निरमा’ को इस गलती के लिए सबक सिखाया जाएगा. इसे बायकॉट करके.

लेकिन इस ऐड की जो दो बड़ी दिक्कतें है उस पर न किसी ने सवाल नहीं उठाया.

सबसे पहला. हमारी ये समझ कि कपड़े धोना मुख्यतः महिलाओं का काम है. गंदे कपड़े देखकर मुंह बिचकाती हैं, कि धोना तो हमें ही पड़ेगा. इस पर योद्धाओं की मर्दानगी जाग जाती है. तब वो कहते हैं कि हम दुश्मनों को धो सकते हैं तो कपड़े क्यों नहीं. इसे एक चैलेन्ज की तरह लिया जाता है. ज़िम्मेदारी की तरह नहीं. जो हर एक इंसान की होनी चाहिए. आपने पहने, आप धोएं.

लेकिन इस ऐड में जो दिखा, वो ईगो जैसा लगा.

बिना मर्दानगी को घुसाए सेंसिबल ऐड कैसे बनाते हैं, उसका उदाहरण इन ऐड्स में देखा जा सकता है:

# ये एरियल का ऐड जो पूरी दुनिया में वायरल हुआ. इसमें पति-पत्नी के बीच जिम्मेदारी बांटने की बात कही गई थी.

# इस ऐड में एक सिंगल पिता की ज़िम्मेदारी पर फ़ोकस किया गया है. जोकि अपने-आप में बेहद रिफ्रेशिंग है.

दूसरी दिक्कत. युद्ध को लेकर हमारे दिमाग में जो इमेजरी भरी गई है, उसमें कुछ शब्द हमेशा सुनाई देते हैं. शौर्य. पराक्रम. हिम्मत. बुलंदी. दुश्मनों को धो देना, रौंद देना. इस तरह की भाषा अक्सर इस्तेमाल की जाती है. आप क्रोनोलॉजी समझिये.

सालों तक युद्ध को एक ग्लोरियस चीज बताया जाएगा.

उसमें मरने वालों को अपनी-अपनी साइड के हिसाब से हीरो और विलेन बनाया जाएगा.

इससे जुड़ी बातों को रोजमर्रा की बातचीत में इस्तेमाल किया जाएगा.

धीरे धीरे लोगों की संवेदनशीलता और सोच सकने की क्षमता को परे किया जाएगा.

उसके बाद स्टेट ऑफ वॉर,  द न्यू नॉर्मल बन जाएगा. 

उस पर ऐड बनेंगे. इसी तरह के. 

और हमें उसमें कोई दिक्कत नज़र नहीं आएगी.

ख़ास बात ये है, कि हम इस क्रोनोलॉजी के आखिरी दौर में पहुंच चुके हैं. और हमें इस बात का एहसास भी शायद अब तक हुआ नहीं है. युद्ध की परिकल्पना हमारे लिए वीडियो गेम सरीखी हो चुकी है. जाओ और मारो. असल में युद्ध कैसा हो सकता है, इसके बारे में हम सोचते भी नहीं.


वीडियो: रोहित शेट्टी की अवॉर्ड फंक्शन पर कही बात एक्टर्स डायरेक्टर्स को बुरी लग सकती है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

चार बेटियों से यौन शोषण के आरोप में पिता गिरफ्तार

बेटी ने टीचर को बताया फिर मामले का पता चला.

तीसरी बार भी बेटी न हो जाए, इस डर से प्रेगनेंट बीवी को मारकर टुकड़े कर डाले

पुलिस से कहता रहा कि पत्नी लापता है, बड़ी बेटी ने सच्चाई बताई.

भारत में खेलों का ये हाल है कि 29 कोचों पर यौन शोषण के आरोप लगे हैं

जबकि कई लड़कियां डर के मारे शिकायत वापस भी ले लेती हैं

सुपरमॉडल को अश्लील तस्वीरों में टैग कर झूठी न्यूज़ फैलाता था, अब भुगत रहा है

नताशा सूरी ने ऐसा सबक सिखाया कि खुद को गायब कर लिया.

बीवी पर शक था कि उसके अपने पिता के साथ सम्बन्ध हैं, तेज़ाब फेंक कर भाग निकला!

गुजरात के नडियाद की खबर.

19 साल की लड़की गायब हुई, गुजरात पुलिस बोली 'सुरक्षित है', आखिर में पेड़ से लटकी लाश मिली

दलित सुमदाय से आने वाला ये परिवार बेटी के लिए भटकता रहा और पुलिस सोती रही.

नशे में धुत्त पुलिसवाले ने मोहल्ले की बच्ची से रेप करने की कोशिश की

पुलिसवाले की पहले गिरफ्तारी हुई थी. अब बर्खास्त भी हो गया.

तेलंगाना: सरकारी कॉलेज में तीन लड़कियां प्रेगनेंट हो गईं, जांच हुई तो डराने वाला राज़ खुला

अंडरग्रेजुएशन की लड़कियां हैं.

8 साल पहले अपहरण हुआ, बार-बार बिकी, प्रेगनेंट हुई: मौत से बचती लड़की की कहानी

कभी 20 हजार में, तो कभी 1.5 लाख रुपये में बेची गई.

रांची की 'निर्भया' के दोषी को तीन साल के अंदर सुनायी फांसी की सजा

आरोपी की मां का DNA मैच हुआ, तब गिरफ्तारी हुई.