Submit your post

Follow Us

'बॉयज़ लॉकर रूम' में लड़कियों का रेप प्लान करने वाले लड़कों का भांडा कैसे फूटा?

बॉयज़ लॉकर रूम. मिलेनियल लहज़े में bois locker room. इंस्टाग्राम ग्रुप. इससे जुड़े ज़्यादातर नाबालिग लड़के. इनका एक्कै मकसद…लड़कियों के बारे में भद्दी बातें करना, उनकी मॉर्फ्ड तस्वीरें शेयर करना, यौन शोषण से जुड़े कमेंट करना.

अब इस ग्रुप के एडमिन को दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम सेल ने गिरफ्तार किया है. इससे पहले एक नाबालिग लड़के को पुलिस ने पकड़ा था और पांच से पूछताछ की थी. ग्रुप के 21 सदस्यों से पुलिस ने पूछताछ में भाग लेने को कहा है. दिल्ली महिला आयोग ने भी दिल्ली पुलिस और इंस्टाग्राम को नोटिस भेजा था. पुलिस ने इंस्टाग्राम से ग्रुप की जानकारी मांगी है और कई लड़कों के फोन जब्त कर लिए हैं.

सवाल है कि इस ग्रुप की जानकारी किसने दी?

जवाब है कि एक लड़के ने इसके बारे में उन लड़कियों को बताया, जिन्हें लेकर उल्टी-सीधी बात की जा रही थी. ये लड़का बालिग है और वो व्हिसल ब्लोअर की तरह मीडिया के सामने आया है. लड़के ने बताया कि उसने लड़कियों का एक ग्रुप बनाकर इसकी जानकारी उन तक पहुंचाई. लड़कियां शुरू में घबरा रही थीं लेकिन बाद में उन्होंने मिलकर पुलिस और अथॉरिटी को इसकी ख़बर दी.

जानकारी देने वाले लड़के ने न्यूज़ चैनल ‘आज तक’ से बातचीत में कहा,

अथॉरिटी को इन्फॉर्म करने में मेरा कोई हाथ नहीं था. लड़कियों ने ये सब किया. मुझे बस जब ये स्क्रीनशॉट मिले तो मैंने ज़रूरी समझा उन लड़कियों को बताना, जिनके बारे में गलत बातें हुई थीं. पुलिस और अथॉरिटी को लड़कियों ने ही रिपोर्ट किया.

ऐसा करने वाले ज़्यादातर नाबालिग लड़के थे. 10वीं से 12वीं क्लास के. 15 साल से 17 साल तक के. अलग-अलग स्कूल्स के थे. कम लोग एक दूसरे को जानते थे. ज़्यादातर लड़के रैंडमली इस ग्रुप से जुड़े थे.

कुछ लड़कियों ने इंस्टाग्राम पर लड़कों के इस ग्रुप को एक्सपोज़ किया. लड़कियों के स्टेटस के स्क्रीनशॉट.
कुछ लड़कियों ने इंस्टाग्राम पर लड़कों के इस ग्रुप को एक्सपोज़ किया. लड़कियों के स्टेटस के स्क्रीनशॉट.

इस ग्रुप के बारे में कैसे पता चला?

इस पर लड़के ने कहा, 

एक लड़का ग्रुप में रैंडमली ऐड हुआ था. उन लड़कियों में से एक को जानता था. चैट का स्क्रीनशॉट लेकर उस लड़की को दिया और वो लड़की मेरी क्लोज फ्रेंड है. उसने मुझे वो स्क्रीनशॉट भेजे. लड़कियों को पता नहीं था कि इससे कैसे डील करना है. उन्होंने सोचा कि हम एक कन्फेशन पेज बनाएंगे और इनसे अपॉलजी लेंगे. 

‘मैंने लड़कियों को ट्रैक कर उन्हें सूचना दी’

उसने बताया,

मुझे लगा कि ये बड़ी चीज है. इसे एक मूवमेंट बनना चाहिए. इसको एक उदाहरण बनना चाहिए, हर उस लड़के के लिए, जिसको लगता है वो कुछ भी करके बच सकता है. जिन लड़कियों की आईडी उसमें थीं, उनमें से जिनको मैं ट्रैक कर पाया, किया. उनका मैंने ग्रुप बनाया और इस बारे में उन्हें सूचना दी. बाद में मैं इस ग्रुप से निकल गया. मुझे लगा कि आगे की चीज़ लड़कियां ही करेंगी क्योंकि वो काफी स्ट्रॉन्ग हैं.

ग्रुप को एक्सपोज़ करने वाली लड़कियों के न्यूड्स वायरल करने की भी तैयारी ये लड़के कर रहे थे. फोटो: इंस्टाग्राम
ग्रुप को एक्सपोज़ करने वाली लड़कियों के न्यूड्स वायरल करने की भी तैयारी ये लड़के कर रहे थे. फोटो: इंस्टाग्राम

ये ग्रुप कब से चल रहा था?

इस सवाल के जवाब में लड़के ने कहा,

हमें तो तभी पता चला था, जब वो लड़का ऐड हुआ था. ग्रुप कितना पुराना है, कब से चल रहा है, इस बारे में किसी को आइडिया नहीं. इस ग्रुप में 20 से ज़्यादा लड़के थे. अभी इसकी जानकारी किसी के पास नहीं है कि किसने इसे बनाया. पुलिस जो भी जानना चाहेगी, मैं सूचना दूंगा.

मामले में दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने FIR में IPC की धारा 465 (जालसाजी), 471 (किसी कूटरचित दस्तावेज या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड का इस्तेमाल करना) , 469 (किसी की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के मकसद से जालसाजी करना) , 509 (किसी महिला का अपमान करने के लिए कोई शब्द का इस्तेमाल करना या हरकत करना) और IT एक्ट के सेक्शन 67 (इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में कोई अश्लील सामग्री को पब्लिश करना या फैलाना) और 67A (यौन रूप से स्पष्ट सामग्री को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में प्रकाशित या प्रसारित करना) लगाई है.


इंस्टाग्राम चैट ग्रुप ‘बॉयज लॉकर रूम’ का ज़िम्मेदार कौन है?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

कुछ बातें रामगोपाल वर्मा के लिए, लड़कियों को शराब खरीदते देख जिनकी अक्ल पथरा गई

क्या शराब खरीदने की लाइन में लगी लड़कियों को पीटा जाना चाहिए?

COVID-19 से लड़ने के लिए भारतीय महिला हॉकी टीम ने किया खूबसूरत 'सौदा'

कोरोना से जंग के लिए टीम इंडिया ने बटोरे 20 लाख रुपये.

तिहाड़ में बंद प्रेगनेंट जामिया स्टूडेंट सफ़ूरा के जिस बच्चे को 'नाजायज़' कह रहे हैं, उसका सच

सफ़ूरा ज़रगर दिल्ली में दंगे भड़काने के आरोप में जेल में बंद हैं.

तार में फोन बांधकर वीडियो बनाती हैं, लाखों में हैं इनके फॉलोवर्स

ममता वर्मा की कहानी, जिन्होंने अपनी बेटी के लिए टिकटॉक डाउनलोड किया था.

इंटरनेट पर चल रहे हर तरह के चैलेंज के बीच ये एक बेहद सुंदर वीडियो सामने आया है

और एक ऐसे मुद्दे के साथ, जिस पर बात करना बेहद ज़रूरी है.

इन विदेशी लड़कियों को हिंदी बोलते सुन लेंगे तो अपनी भूल जाएंगे

करोड़ों लोग देखते हैं इन्हें.

टिकटॉक पर वायरल चैलेंज करने के चक्कर में ये टीवी स्टार बुरे फंस गए

लोग कह रहे हैं कि घरेलू हिंसा को बढ़ावा दे रहा है उनका वीडियो.

कृति सैनन ने औरतों का ये जरूरी मसला उठाया, जिसके बारे में वो बोल ही नहीं पातीं

लॉकडाउन के चलते जाने कितनी औरतें घुट रही हैं.

'ऑनलाइन क्लास' सुनने में अच्छा आइडिया लगता है, मगर इन लड़कियों का दम घोंट रहा है

लॉकडाउन के दौरान कैसे पढ़ रही हैं लड़कियां, सुनकर रूह कांपती है.

'रामायण' की 'सीता' दीपिका चिखलिया ने कहा, 'सीता दुनिया की पहली सिंगल मदर थीं'

जिन्होंने लव-कुश को अकेले पाला-पोसा और बड़ा किया.