Submit your post

Follow Us

रेप की कोशिश का आरोपी ज़मानत लेने पहुंचा, कोर्ट ने कहा- 2000 औरतों के कपड़े धोने पड़ेंगे

बिहार का मधुबनी (Madhubani) जिला. यहां की एक अदालत ने रेप का प्रयास करने के एक आरोपी के ज़मानत के लिए एक यूनीक शर्त रखी है. कोर्ट ने कहा है कि जमानत के एवज में आरोपी को दो हजार महिलाओं के कपड़े न केवल धोने पड़ेंगे बल्कि उनको प्रेस भी करना होगा. एडिशनल सेशन जज अविनाश कुमार ने यह आदेश सुनाया है.

न्यूज एजेंसी IANS की रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले के आरोपी का नाम ललन कुमार है. ललन लौकाहा पुलिस थाने के तहत आने वाले एक गांव का निवासी है. बचाव पक्ष के वकील परशुराम मिश्रा ने बताया कि ललन ने 17 अप्रैल की रात को अपने गांव की एक महिला का बलात्कार करने की कोशिश की. एक दिन बाद पीड़िता ने उसके खिलाफ FIR दर्ज करा दी. जिसके बाद 19 अप्रैल को ललन को गिरफ्तार कर लिया गया. तब से वो जेल में है.

वकील परशुराम मिश्रा ने आगे बताया कि इस मामले में उन्होंने जमानत याचिका दाखिल की. जज ने जेल में ललन के अच्छे व्यवहार और कोर्ट में दाखिल किए गए माफीनामे को ध्यान में रखते हुए ललन को जमानत दे दी. हालांकि, इस दौरान एक शर्त भी रखी. शर्त के तहत ललन को दो हजार महिलाओं के कपड़े धोने होंगे, उन्हें प्रेस करना होगा.

गांव की मुखिया नजर रखेंगी

कोर्ट ने बेल ऑर्डर की एक प्रति ललन के गांव की मुखिया नसीमा खातून को भेजी है. बेल ऑर्डर में लिखा है कि कपड़े धोने के लिए साबुन और डिटरजेंट का इंतजाम ललन को ही करना होगा. साथ ही प्रेस भी खुद ही खरीदनी होगी. गांव की मुखिया नसीमा खातून को नजर रखनी होगी कि ललन अपना काम ढंग से करे.

IANS की रिपोर्ट के अनुसार, नसीमा खातून ने कोर्ट के इस फैसले को अच्छा बताया है. उन्होंने कहा कि यह फैसला औरतों का सम्मान करने का संदेश देगा और महिला विरोधी मानसिकता रखने वाले पुरुषों के मन में ग्लानि पैदा करेगा. उन्होंने कहा कि वो नियमित तौर पर आरोपी के ऊपर नजर रखेंगी. खातून ने आगे बताया कि उनके गांव में 425 महिलाएं रहती हैं और हर महिला तब तक अपने कपड़े देगी, जब तक दो हजार कपड़ों की संख्या पूरी नहीं हो जाती.

ललन को यह काम अगले छह महीने में पूरा करना है. जिसके बाद नसीमा खातून इस संबंध में एक रिपोर्ट जमा करेंगी. ललन को नसीमा खातून और स्थानीय पुलिस थाने से सर्टिफिकेट हासिल करना होगा. जिसे बाद में उसे अदालत में जमा करना होगा.


 

वीडियो-  राजस्थान विधानसभा में शादी के रजिस्ट्रेशन को लेकर पारित विधेयक पर क्यों उठे सवाल?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

सेना में करियर बनाने का सपना देख रही लड़कियों को सुप्रीम कोर्ट की ये बात ज़रूर जाननी चाहिए!

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि NDA में औरतों की भर्ती को एक साल तक के लिए टाला नहीं जा सकता.

क्लास में लड़कियों को गंदी गालियां बकने वाला प्रोफेसर अब तक बर्खास्त क्यों नहीं हुआ है?

धूप से लेकर तेज बारिश तक, हाथों में तख्ती लिए प्रदर्शन कर रहीं लड़कियां.

सच में साड़ी वाली महिलाओं को एंट्री नहीं देता दिल्ली का ये रेस्त्रां?

ट्विटर पर वायरल है 16 सेकंड का वीडियो.

नौकरी के लिए मछुआरों के साथ सेक्स करने को मजबूर औरतों को टमाटरों ने बचाया

यहां सिर्फ पैसे देकर सामान नहीं मिलता था, महिलाओं को छोटी छोटी बातों के लिए अपना शरीर देना पड़ता था.

लड़कियों का मज़बूत शरीर देख 'हिजड़ा' या 'मर्दाना' कहने वाले जरूर सुनें इन लड़कियों की बात

तापसी पन्नू की तस्वीर पर लोग लिख रहे- 'मर्दों वाला शरीर'.

अंकिता कोंवर का ये पोस्ट एक साथ दुख और उम्मीद दोनों देता है!

इंस्टाग्राम पर बताया कि बचपन में यौन शोषण हुआ, उन लोगों ने धोखा दिया जिन पर भरोसा था.

जिन्होंने आलिया भट्ट के इस ऐड में हिंदू-मुस्लिम देख लिया, उन्हें जीवन में कुछ अच्छा नहीं लग सकता!

क्या सच में हिंदू धर्म के खिलाफ है मान्यवर मोहे का नया ऐड?

केरल से भी छोटा देश, कारनामा इतना बड़ा कि पूरी दुनिया उसे देख रही!

वो देश जिससे भारत बहुत ज्यादा पीछे है.

पंजाब के नए CM चरणजीत सिंह चन्नी पर लगे यौन शोषण के आरोप की जांच कहां पहुंची?

2018 में एक महिला अधिकारी ने चरणजीत सिंह चन्नी पर आपत्तिजनक मैसेज भेजने का आरोप लगाया था.

राजस्थान के इस विधेयक में बाल विवाह को लेकर कौन सी बात है, जिस पर हंगामा हो गया?

BJP ने कहा- ये विधेयक बाल विवाह को मान्यता देने जैसा.