Submit your post

Follow Us

भोपालः कोरोना से मां को खो चुकी थी 10 दिन की बच्ची, दूध पिलाने के लिए 26 औरतें पहुंचीं

कोरोना वायरस (coronavirus) से मचे हाहाकार के बीच लगातार ऐसी खबरें आ रही हैं कि लोग एक-दूसरे से कतरा रहे हैं. लोगों की मदद नहीं कर रहे हैं, लाशों के घंटों तक सड़क में पड़े रहने की खबरें भी लगातार आ रही है. इस तरह की खबरें देख-देखकर जैसे ही आप सोचने लगते हैं कि क्या मानवता गायब हो गई है? ठीक उसी वक्त, मदद की कोई ऐसी खबर सामने आती है जो आपकी आंखें नम कर देती है. ये खबर भोपाल से है. यहां एक Covid 19 पॉज़िटिव महिला की मौत के बाद, उसकी 10 दिन की बेटी को दूध पिलाने के लिए करीब 26 महिलाएं सामने आई हैं.

पूरा मामला विस्तार से जानते हैं

दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक, सुमन (परिवर्तित नाम) साढ़े सात महीने की प्रेग्नेंट थीं. वो 5 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव हो गईं. परिजनों ने 9 अप्रैल को सुमन को चिरायु हॉस्पिटल में भर्ती कराया. 11 अप्रैल को सुमन की सिजेरियन डिलीवरी हुई. बेटी हुई. उसकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई. लेकिन कोरोना से सुमन की हालत बिगड़ने लगी. 15 अप्रैल को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

सांकेतिक फोटो
10 दिन की बच्ची को मां का दूध उपलब्ध कराने के लिए परिवार के एक सदस्य ने सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखी. इसे पढ़ने के बाद लोगों के फोन आने शुरू हो गए. (प्रतीकात्मक फोटो)

बच्ची प्री-मैच्योर थी. इस वजह से अस्पताल ने उसे ऑब्ज़र्वेशन में रखा. करीब एक हफ्ते तक उसे पाउडर वाला दूध पिलाया गया. पर डॉक्टरों ने बताया कि बच्ची को मां के दूध की ज़रूरत है. काफी खोजने के बाद, परिवार के एक शख्स ने पूरी बात बताते हुए सोशल मीडिया पर पोस्ट डाला. पोस्ट वायरल हो गया, कई लोगों ने मां का दूध पहुंचाने की पोस्ट की. करीब 26 औरतों ने बच्ची को ब्रेस्ट फीड कराने की पेशकश की. कुछ महिलाओं ने ये पेशकश भी की जब तक बच्ची को दूध की ज़रूरत है तब तक वो उसे अपने पास भी रख सकती हैं. बाद में परिवार ने बताया कि बच्ची के लिए पर्याप्त दूध की व्यवस्था हो गई है.

बता दें कि मध्य प्रदेश में भी कोरोना के हालातों को देखते हुए 30 अप्रैल तक के लिए कोरोना कर्फ्यू लगा दिया गया है. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल उन कुछ शहरों में से है जो कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं.


वीडियो – भोपाल: कोरोना प्रोटोकॉल के तहत जलाई जा रही लाशों की संख्या सरकार के आंकड़ों से अधिक?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

कपड़ा फैक्ट्री में 19 महिलाओं से जबरन काम कराया जा रहा था, पुलिस ने बचा लिया

कपड़ा फैक्ट्री में 19 महिलाओं से जबरन काम कराया जा रहा था, पुलिस ने बचा लिया

तीन महीने की ट्रेनिंग के लिए बुलाया, फिर बंधक बना लिया.

ग्वालियर: COVID सेंटर में वॉर्ड बॉय पर मरीज से रेप की कोशिश का आरोप, गिरफ्तार

ग्वालियर: COVID सेंटर में वॉर्ड बॉय पर मरीज से रेप की कोशिश का आरोप, गिरफ्तार

आरोपी को नौकरी से निकाला.

बाप पर आरोपः दो साल तक बेटी का रेप किया, दांतों से चबाकर उसकी नाक काट ली

बाप पर आरोपः दो साल तक बेटी का रेप किया, दांतों से चबाकर उसकी नाक काट ली

पैसे देकर दूसरे लड़के से रेप करवाने का भी आरोप है.

सुसाइड कर रहे पति को रोकने की जगह पत्नी उसका वीडियो क्यों बना रही थी?

सुसाइड कर रहे पति को रोकने की जगह पत्नी उसका वीडियो क्यों बना रही थी?

पति की मौत हो गई है.

लड़कियों को बेरहमी से घसीट रही पुलिस के वायरल वीडियो का पूरा सच क्या है

लड़कियों को बेरहमी से घसीट रही पुलिस के वायरल वीडियो का पूरा सच क्या है

क्या कार्रवाई के लिए पुलिस फसल पकने का इंतज़ार कर रही थी?

रेप के आरोपी NCP नेता को बचाने की कोशिश कर रहा था ACP, कोर्ट ने दिन में तारे दिखा दिए

रेप के आरोपी NCP नेता को बचाने की कोशिश कर रहा था ACP, कोर्ट ने दिन में तारे दिखा दिए

ये सुनकर कोई भी पुलिस वाला शर्मिंदा हो जाए.

POCSO कोर्ट ने आंख मारने और फ्लाइंग किस को यौन उत्पीड़न माना, एक साल की सजा सुनाई

POCSO कोर्ट ने आंख मारने और फ्लाइंग किस को यौन उत्पीड़न माना, एक साल की सजा सुनाई

कोर्ट ने 15 हजार का जुर्माना भी लगाया.

'वर्जिनिटी टेस्ट' में फेल हुई तो जात पंचायत ने तलाक कराने का आदेश दे दिया

'वर्जिनिटी टेस्ट' में फेल हुई तो जात पंचायत ने तलाक कराने का आदेश दे दिया

मामला कोल्हापुर का है. दो बहनों की एक ही परिवार में शादी हुई थी.

CRPF जवानों पर ऐसा क्या लिखा कि महिला को रेप की धमकी मिलने लगी

CRPF जवानों पर ऐसा क्या लिखा कि महिला को रेप की धमकी मिलने लगी

असमिया लेखिका शिखा शर्मा पर राजद्रोह का आरोप लगा है.

औरत का सिर मूंडने वाली, उस पर कालिख पोतने वाली भीड़ ने उसके बराबर जिम्मेदार पुरुष को छुआ तक नहीं

औरत का सिर मूंडने वाली, उस पर कालिख पोतने वाली भीड़ ने उसके बराबर जिम्मेदार पुरुष को छुआ तक नहीं

औरतों पर ऐसा अत्याचार करने वाली भीड़ को सज़ा कितनी मिलती है?