Submit your post

Follow Us

कुरआन सिखाने के नाम पर इन स्कूलों में जो हो रहा है, वो देखकर आप आंखें झुका लेंगे

उत्तर-पूर्वी अफ्रीका का सूडान नाम का देश. यहां पर शेखों द्वारा ‘खालवा’ नाम के इस्लामिक स्कूल चलाये जाते हैं. इन स्कूलों में कुरआन की शिक्षा दी जाती है. यहीं पर 18 महीनों तक रहकर बीबीसी के रिपोर्टर फ़तेह अल-रहमान अल हमदानी ने रिसर्च की. अब इनकी रिपोर्ट छपी है. बीबीसी न्यूज अरेबिक की इस रिपोर्ट के मुताबिक़, इन खालवाओं में छोटे-छोटे बच्चों के साथ भयावह अत्याचार हो रहा है.

Bbc Report Jess Kelly
सूडान के एक खालवा में पैरों में जंजीरें बांधे हुए घुमते बच्चे. (तस्वीर साभार: बीबीसी / जेस केली)

रिपोर्ट के मुताबिक़, पूरे सूडान में ऐसे 30 हजार खालवा हैं. यहां पर शेख मुफ्त में बच्चों को कुरआन पढ़ाते हैं. बच्चों को मुफ्त में रहने की जगह और खाने की सुविधा मिलती है. इस वजह से कई गरीब परिवार अपने बच्चों को इन खालवाओं में भेजते हैं. क्योंकि अपने बच्चों को स्कूलों में पढ़ा सकने लायक उनकी आर्थिक स्थिति नहीं होती.

रिपोर्टर फ़तेह अल-रहमान अल हमदानी ने बताया कि वो खुद भी एक खालवा में पढ़े थे, जहां हर रोज़ उनकी यही कोशिश होती थी कि किसी तरह पिटाई से बच जाएं. उन्होंने सूडान के लगभग 23 खालवाओं में जाकर वहां का हाल देखा. पांच साल तक के छोटे बच्चों के पैरों में बेड़ियां डालकर रखी गई थीं. इन्हीं बच्चों में से एक ने फ़तेह को बताया-

“हम छह या सात बच्चों के ग्रुप को एकसाथ जंजीरों में जकड़ दिया जाता है, और शेख फिर हमें चक्करों में दौड़ाते हैं. हममें से कोई भी गिर जाए, तो फौरन उठना पड़ता है, क्योंकि वो हम पर कोड़े चलाते रहते हैं. वो कहते हैं कि ये हमारे लिए अच्छा है.”

बच्चों ने रिपोर्टर को बताया कि उन्हें छोटी-छोटी गलतियों के लिए भी कोड़े मारे जाते हैं, कड़ी सजाएं दी जाती हैं. एक बच्चे ने ये भी बताया कि खालवा में रेप भी होते हैं. लेकिन जब एक शेख से इस बाबत सवाल किया गया, तो उसने क्रोधित होकर इन सभी आरोपों से इनकार कर दिया.

सूडान में अब जो नई सरकार आई है, वो इन सभी खालवाओं के ऊपर सर्वे कर रही है. रिपोर्ट के मुताबिक, धार्मिक मामलों के मंत्री नसरेद्दीन मुफ्रेह ने कहा कि इन सभी में सुधार किए जाएंगे. कोई पिटाई या अत्याचार नहीं होगा, मानवाधिकारों या बाल अधिकारों का हनन नहीं होगा. लेकिन पुराने राज में इन खालवाओं को नियंत्रित करने के लिए कोई कानून नहीं थे, तो इस समस्या को सुधारने में समय लगेगा.


वीडियो : बिहार चुनाव: इस क्रिकेट प्लेयर ने बताया रणजी ट्रॉफी की तैयारी में क्या-क्या पापड़ बेलने पड़ते हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

साड़ी पहनती थी, इसलिए मेरे बिना ही क्लाइंट मीटिंग्स में चले जाते थे कलीग्सः इंदिरा नूई

साड़ी पहनती थी, इसलिए मेरे बिना ही क्लाइंट मीटिंग्स में चले जाते थे कलीग्सः इंदिरा नूई

इंदिरा नूई की ऑटोबायोग्राफी 'माय लाइफ ऐट फुल' रिलीज़ हुई है.

कच्चे पपीते से लेकर यूट्यूब के नुस्खे: बच्चा गिराने के लिए न करें ये भयानक गलतियां

कच्चे पपीते से लेकर यूट्यूब के नुस्खे: बच्चा गिराने के लिए न करें ये भयानक गलतियां

यूट्यूब पर ट्यूटोरियल देख एक महिला खुद का अबॉर्शन कर रही थी, ऐसा हाल हो गया

ज़िंदगीभर जेल में रहेगा औरतों का रेप और बच्चों की तस्करी करने वाला सिंगर R Kelly

ज़िंदगीभर जेल में रहेगा औरतों का रेप और बच्चों की तस्करी करने वाला सिंगर R Kelly

कोर्ट ने माना- केली ने अपनी स्टारडम का इस्तेमाल कर महिलाओं और बच्चों का यौन शोषण किया.

वो टेस्ट जिसमें महिला खिलाड़ियों को साबित करना पड़ता है कि वो महिला हैं

वो टेस्ट जिसमें महिला खिलाड़ियों को साबित करना पड़ता है कि वो महिला हैं

तापसी पन्नू की आने वाली फिल्म 'रश्मि रॉकेट' स्पोर्ट्स में होने वाले जेंडर वेरिफिकेशन टेस्ट पर बात करती है.

REET का एग्ज़ाम देने गई लड़कियों के कपड़ों की अस्तीन क्यों काट दी गई?

REET का एग्ज़ाम देने गई लड़कियों के कपड़ों की अस्तीन क्यों काट दी गई?

क्या चीटिंग रोकने के लिए ऐसा किया या कारण कुछ और है?

जिस इवेंट में CJI ने औरतों के अधिकारों पर बात की, उसकी बार काउंसिल ने आलोचना क्यों कर दी?

जिस इवेंट में CJI ने औरतों के अधिकारों पर बात की, उसकी बार काउंसिल ने आलोचना क्यों कर दी?

CJI ने जुडीशरी में औरतों की 50 प्रतिशत भागीदारी पर जोर दिया, साथ ही इंफ्रास्ट्रक्चरल बदलावों की बात की.

आइसलैंड से आई एक गलत खबर और दुनिया में जेंडर इक्वालिटी पर बहस छिड़ गई

आइसलैंड से आई एक गलत खबर और दुनिया में जेंडर इक्वालिटी पर बहस छिड़ गई

आइसलैंड की कौन सी बात उसे भारत से कई गुना बेहतर देश बनाती है?

कोविड से जूझते हुए UPSC में तीसरी रैंक लाने वाली अंकिता जैन ने ऐसे की तैयारी

कोविड से जूझते हुए UPSC में तीसरी रैंक लाने वाली अंकिता जैन ने ऐसे की तैयारी

अंकिता के पति IPS हैं, बहन ने भी 21वीं रैंक हासिल की है.

महिला अधिकार कार्यकर्ता कमला भसीन का 75 वर्ष की उम्र में निधन

महिला अधिकार कार्यकर्ता कमला भसीन का 75 वर्ष की उम्र में निधन

नारीवाद और पितृसत्ता पर कई किताबें लिखी हैं, जिनमें से कई का 30 से अधिक भाषाओं में अनुवाद हुआ.

UPSC की महिला टॉपर जागृति अवस्थी, BHEL में इंजीनियर थी, नौकरी छोड़ दूसरे प्रयास में पाई सफलता

UPSC की महिला टॉपर जागृति अवस्थी, BHEL में इंजीनियर थी, नौकरी छोड़ दूसरे प्रयास में पाई सफलता

ग्रामीण, महिला और बाल विकास के क्षेत्र में काम करना चाहती हैं.