Submit your post

Follow Us

बच्चे करना चाहते हैं मगर 'इनफर्टिलिटी' से जूझ रहे हैं, तो इस कानून के बारे में जरूर जान लीजिए

यूनियन कैबिनेट ने बुधवार 19 फरवरी को असिस्टेड रीप्रोडक्टिव टेक्नोलॉजी (रेगुलेशन) बिल (ART बिल) मंजूर कर दिया. अब ये लोकसभा में पेश होगा, उसके बाद राज्य सभा में जाएगा. राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद ये कानून में तब्दील होगा.

क्या है ये बिल?

ये बिल गर्भाधान के आर्टिफिशियल तरीकों को लेकर नियम कानून सख्त रखने के लिए बनाया गया है. 2008 में इसे प्रपोज किया गया था. तब से लेकर अभी तक इसमें बदलाव किये जा रहे हैं. अब इसके आखिरी वर्जन को कैबिनेट ने मंजूरी दी है.

इस बिल का मतलब है गर्भ धारण करने में सहायता देने वाली तकनीक को रेगुलेट करने वाला बिल. यानी अगर आप बच्चा पैदा करना चाहते हैं, और प्राकृतिक तरीकों से नहीं कर पा रहे हैं. तो आप डॉक्टर से सलाह लेंगे. जांच करवाएंगे. फिर आपकी ज़रूरत के हिसाब से वो आपको कृत्रिम तरीके बताएंगे जिनसे आपको गर्भ धारण करने में मदद मिले.

इन्हीं तरीकों और तकनीकों का गलत इस्तेमाल न हो, और इस्तेमाल करने वालों के पास कानून का फ्रेमवर्क उपलब्ध रहे, इसलिए ये बिल लाया गया. ऐसा सरकार का कहना है. स्मृति ईरानी ने कैबिनेट की मंजूरी के बाद ये ट्वीट किए:

कैसे मिलती है गर्भाधान में सहायता?

# इन विट्रो फ़र्टिलाइजेशन (IVF) (यूटेरस से बाहर स्पर्म और एग्स को मिलाकर भ्रूण बनान और फिर यूट्रस में रखना)

# इंट्रा यूटेराइन इनसेमिनेशन (सीधे यूटेरस में स्पर्म पहुंचाना. इसमें पार्टनर का और डोनर का सप्रम, दोनों शामिल हैं)

# क्रायो प्रिजर्वेशन (स्पर्म्स और एग्स को फ्रीज करके रखना ताकि बाद में उनका इस्तेमाल हो सके)

इसमें सरोगेसी भी आती है.

Baby Collage 750
कई फर्टिलिटी क्लिनिक बिना रजिस्ट्रेशन के भी चल रहे हैं. उनके रेगुलेशन के लिए ये बिल लाया गया है. (सांकेतिक तस्वीर: रायटर्स)

इस बिल में क्या है ?

2008 में प्रपोज किए गए इस बिल में ये प्रावधान थे:

1. केंद्र सरकार National Advisory Board for Assisted Reproductive Technology नाम से एक बोर्ड बनाएगी. इसमें अधिकतम 21 सदस्य होंगे.

2. ये बोर्ड इस बात का ध्यान रखेगा कि ART दिलाने वाले क्लिनिक नियमों का पालन कर रहे हैं या नहीं. उनके स्टाफ का सिलेक्शन किस आधार पर हो रहा है. कौन कौन सी तकनीकें अपनाई जा रही हैं. ट्रेनिंग और रीसर्च को बढ़ावा मिल रहा है या नहीं. अगर नहीं, तो ये सुनिश्चित करना कि इस फील्ड में अधिक से अधिक काम हो.

3. भ्रूणों की रीसर्च में किस तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है, और ये तकनीक कानूनी रूप से कितनी सही है. इसमें कोई उल्लंघन तो नहीं हो रहा. इस बात का ध्यान भी ये बोर्ड रखेगा.

4. हर राज्य भी अपना एक ऐसा स्टेट बोर्ड बनाएगा.

5. जितने भी क्लिनिक्स ART के फील्ड में काम कर रहे हैं, उन्हें अपने आप को रजिस्टर कराना होगा.

6. वीर्य बैंक और मानव भ्रूण पर रीसर्च कर रहे क्लिनिक्स को भी खुद को रजिस्टर कराना ज़रूरी होगा.

7. जो भी रजिस्टर्ड क्लिनिक होंगे, ये उनकी ज़िम्मेदारी होगी कि किसी भी प्रोसीजर के बारे में पूरी जानकारी दें. जो लोग भी उनके पास प्रोसीजर के लिए आते हैं, उनको पूरी प्रक्रिया से जुड़े फायदे-नुकसान क्लिनिक बताएंगे. ये भी सुनिश्चित करेंगे कि डोनर स्पर्म्स या एग्स पूरी तरह से चेक कर लिए गए हैं या नहीं.

8. किसी भी ART क्लिनिक को कोई भी प्रोसीजर शुरू करने से पहले लिखित में अनुमति लेना आवश्यक होगा.

9. स्पर्म देने के लिए पुरुष की आयु 21 साल से 45 साल होगी, और एग्स देने के लिए महिला की उम्र 21 से 35 साल के बीच होगी. सभी डोनर्स की जांच की जायेगी कि उन्हें कोई बीमारी तो नहीं है.

10. एक डोनर का स्पर्म 75 बार से ज्यादा बार डोनेट नहीं किया जा सकता.

11. कोई भी महिला अपनी पूरी ज़िन्दगी में 6 बार से ज्यादा एग्स डोनेट नहीं कर सकती. दो डोनेशन्स के बीच कम से कम तीन महीनों का गैप होना ज़रूरी है.

12. सीमेन का एक सैम्पल एक बार में एक ही रेसिपिएंट को दिया जाएगा.

13. पूरे प्रोसीजर में डोनर का नाम और उसकी पहचान, प्रोसीजर कराने वाले पेशेंट्स का नाम और उनकी पहचान गुप्त रखी जाएगी.

14. जो भी इन नियमों का उल्लंघन करने का दोषी पाया जाता है, उसे पहली बार में तीन साल कि सज़ा और जुर्माना, और उसके बाद पांच साल की सज़ा और जुर्माना तक हो सकते हैं.

इसमें  ये बात जोड़ी गई है कि एक नेशनल रजिस्ट्री एंड रजिस्ट्रेशन अथॉरिटी नेशनल बोर्ड के साथ मिलकर काम करेगी. डेटाबेस बनेगा सभी क्लिनिक्स का, और उन पर नज़र रखी जाएगी.


वीडियो: स्वामी नारायण मंदिर भुज के स्वामी कृष्णस्वरूप दास की बकवास- पीरियड्स में खाना पकाया तो ‘कुतिया’ बनोगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

कोरोना वायरस: लॉकडाउन का फायदा उठाकर 9 लड़कों ने नाबालिग का गैंगरेप किया

ऐसे माहौल में भी इन लड़कों को डर नहीं लगा.

'कोरोना' चिल्लाकर लड़की पर थूकने वाले को पुलिस ने धर लिया है

दिल्ली का ही है आरोपी, सफ़ेद स्कूटी और CCTV फुटेज ने मदद की

महिला क्रिकेटर्स ने हेड कोच पर यौन शोषण के आरोप लगाए, कोच को सस्पेंड किया गया

कोरोना के कारण हेड कोच की मुश्किल और भी बढ़ गई.

निर्भया के दोषियों से पहले रेप के अपराध में आखिरी बार फांसी इस शख्स को हुई थी

जिसके बारे में बाद में कहा गया कि वो बेगुनाह था.

ईवेंट के लिए असम से कानपुर पहुंची मॉडल, बिजनेसमैन ने दोस्तों के सामने रेप किया

पार्टी के बाद दोस्त के बंगले लेकर गया था.

वेटनरी डॉक्टर गैंगरेप जैसा मामला फिर, पुलिया के नीचे नग्न हालत में महिला की लाश मिली

सिर कुचला हुआ, शरीर पर सोने के गहने सही-सलामत.

बॉक्सिंग टूर्नामेंट के लिए कोलकाता जा रही स्टूडेंट का उसी के कोच ने ट्रेन में रेप किया

ट्रेनर को पुलिस ने सोनीपत से गिरफ्तार कर लिया है.

सौम्या हत्याकांड: जब एक पत्रकार लड़की के मर्डर का राज़ दूसरी लड़की से मर्डर से खुला

दिल्ली के पॉश इलाके में क्रूर हत्या को अंजाम देने वाला एक बार फिर पकड़ा गया है.

इंटरनेट के ज़रिए डेटिंग पार्टनर या दूल्हा खोज रही हैं तो इन लड़कियों की कहानी पढ़िए

आपका वो हाल न हो, जो इनका हुआ.

ब्रेकअप झेल नहीं पाया तो एक्स गर्लफ्रेंड के घर में घुसकर 'सज़ा' दी, मां को भी नहीं छोड़ा

अगले दिन दरवाज़ा खुला तो पड़ोसी सकते में आ गए.