Submit your post

Follow Us

लड़की ने बुर्का नहीं, जींस पहनी तो दुकानदार अपनी बुद्धि खो बैठा

असम के बिस्वनाथ जिले में एक दुकानदार ने एक लड़की को सामान देने से मना कर दिया. उसे अपनी दुकान से बाहर निकाल दिया. क्यों? रुकिए मैं ज़रा अपनी हंसी रोक लूं. फिर बताता हूं. दरअसल वो लड़की मुस्लिम थी. और दुकानदार को इस बात से आपत्ति थी कि उस लड़की ने बुर्का क्यों नहीं पहना और जींस क्यों पहनी. घटना 25 अक्टूबर की है, लड़की ने 31 अक्टूबर को दुकानदार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई है.

क्या है मामला?

इंडिया टुडे से जुड़े हेमंत कुमार नाथ की रिपोर्ट के मुताबिक़, घटना गुवाहाटी से 230 किलोमीटर दूर बिस्वनाथ चरियाली की है. पीड़ित लड़की इयरफोन खरीदने एक मोबाइल एक्सेसरी की दुकान में गई. दुकान के मालिक नूरूल अमीन को लड़की का जीन्स पहनना बर्दाश्त नहीं हुआ. उसने न केवल लड़की को इयरफोन देने से इनकार किया, बल्कि लकड़ी को बुर्का न पहनने को लेकर बातें भी सुनाई.  इसके बाद उसे दुकान से बाहर निकाल दिया.

लड़की ने बताया,

“जब मैं दुकान पहुंची, तो दुकान के मालिक ने मेरे साथ दुर्व्यवहार किया. उन्होंने मुझे दुकान से बाहर निकाल दिया और कभी उनकी दुकान न आने को कहा. वो एक बुज़ुर्ग व्यक्ति हैं और अपने घर में दुकान चलाते हैं. उनके परिवार के किसी और सदस्य ने उनके व्यवहार पर आपत्ति नहीं जताई. उन्होंने मुझसे कहा कि मैं कभी उनकी दुकान पर ना आऊं, क्योंकि ये उनके घर का माहौल ख़राब कर सकता है. मेरे जीन्स पहन कर उनके घर जाने से उनकी बहू पर बुरा असर पड़ेगा, क्योंकि वो बुर्का और हिजाब पहनती हैं.”

इसके बाद लड़की वापस अपने घर आ गई और अपने मां बाप को ये पूरी घटना बताई. लड़की के मुताबिक़, जब उसके पिता दुकानदार के दुर्व्यवहार का विरोध करने दुकान गए तो दुकान मालिक के दोनों लड़कों ने लड़की के पिता पर हमला कर दिया.

लकड़ी के पिता ने कहा,

“हम असम में पैदा हुए हैं और असमिया संस्कृति का पालन करते हैं. मेरी बेटी BCA कर रही है. उसने अपनी पढ़ाई एक सरकारी स्कूल से की है. वो असमिया संस्कृति में पली-बढ़ी है, लेकिन अब ऐसे लोग उसे तालिबानी कल्चर के जैसे बुर्का और हिजाब पहनने पर मजबूर कर रहे हैं.”

मिसॉजिनी. ये इस दुनिया का सबसे धर्म निरपेक्ष टॉपिक है. और बात अगर औरत के कपड़ों की हो तो सबके पास एक्सपर्ट ओपिनियन होता है. बहरहाल, पुलिस ने दुकान के मालिक नूरूल आमीन और उसके बेटे रफीकुल इस्लाम को गिरफ़्तार कर लिया गया है. मामले की जांच जारी है.


म्याऊं: यंग मम्मियों को क्यों होता है इतना गिल्ट, आसपास के लोग इसे कैसे बढ़ावा देते हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

फ़ूड डिलीवरी बॉय ने सरेआम लड़की को क्यों पीटा?

फ़ूड डिलीवरी बॉय ने सरेआम लड़की को क्यों पीटा?

कपल की लड़ाई में घुसा डिलीवरी बॉय और वीडियो वायरल हो गया.

पति या पत्नी से शारीरिक संबंध नहीं रखे तो होगी बड़ी दिक्कत, जानिये क्या है 'क्रूरता'

पति या पत्नी से शारीरिक संबंध नहीं रखे तो होगी बड़ी दिक्कत, जानिये क्या है 'क्रूरता'

तलाक लेने के लिए जिस क्रूरता को आधार बनाया जाता है, उसके बारे में जान लीजिए.

धार्मिक विभाजन को लेकर किरण मजूमदार शॉ ने कर्नाटक सरकार को बड़ी चेतावनी दे दी

धार्मिक विभाजन को लेकर किरण मजूमदार शॉ ने कर्नाटक सरकार को बड़ी चेतावनी दे दी

अब नहीं संभले तो बड़ा नुकसान होगा!

ये PPH क्या है जिस पर डॉक्टर अर्चना शर्मा की मौत के बाद बात हो रही है

ये PPH क्या है जिस पर डॉक्टर अर्चना शर्मा की मौत के बाद बात हो रही है

भारत में बच्चे के जन्म के वक्त सबसे ज्यादा मौत PPH से ही होती है.

Creative Ads के नाम पर महिलाओं के साथ चल रहा घिनौना काम

Creative Ads के नाम पर महिलाओं के साथ चल रहा घिनौना काम

'टेस्ट में बेस्ट, मम्मी और एवेरेस्ट' से लेकर 'जो बीवी से करे प्यार, वो प्रेस्टीज से कैसे करे इनकार' तक हर जगह आपको यही हाल दिखेगा.

जिन जेडा पिंकेट की वजह से ऑस्कर्स में थप्पड़ चला, उन्होंने अपनी चुप्पी तोड़ दी है

जिन जेडा पिंकेट की वजह से ऑस्कर्स में थप्पड़ चला, उन्होंने अपनी चुप्पी तोड़ दी है

जेडा ने एक इंस्टाग्राम पोस्ट के माध्यम से मामले पर रिएक्शन दिया है.

रेप केस को रिपोर्ट करने का कोई 'सही समय' होता है?

रेप केस को रिपोर्ट करने का कोई 'सही समय' होता है?

कई रेप केसेस में विक्टिम से पूछा जाता है- अब तक कहां थी?

Oscars 2022 में ये इतिहास बन गया और आपको पता भी नहीं चला

Oscars 2022 में ये इतिहास बन गया और आपको पता भी नहीं चला

नहीं, इसका विल स्मिथ के थप्पड़ से कोई कनेक्शन नहीं है.

कंघी की वजह से तो नहीं टूटते हैं आपके बाल?

कंघी की वजह से तो नहीं टूटते हैं आपके बाल?

आपको पता है, हर तरह के बाल के लिए आती है अलग कंघी!

BHU ने क्या इस अहम फैसले से लड़कियों को बाहर रखा है?

BHU ने क्या इस अहम फैसले से लड़कियों को बाहर रखा है?

लाइब्रेरी के रात भर खुलने की सुविधा नहीं उठा पेंगी लड़कियां