Submit your post

Follow Us

तेलंगाना में डॉक्टर की रेप के बाद हत्या, संसद के बाहर विरोध कर रही लड़की के साथ पुलिस ने बुरा बर्ताव किया

तेलंगाना का रंगा रेड्डी ज़िला. यहां शमशाबाद नाम का एक गांव है. यहां पर 26 साल की वेटनरी डॉक्टर को गैंगरेप के बाद जला दिया गया था. उनकी लाश नेशनल हाइवे-44 के एक ब्रिज के नीचे मिली थी. अब इस घटना के बाद लोग इंसाफ मांगल रहे हैं. सोशल मीडिया पर लोग कई तरह के पोस्ट कर रहे हैं. इस बीच एक लड़की ने सोशल मीडिया और मीडिया ध्यान खींचा है. नाम है अनु दुबे.

30 नवंबर की सुबह 7 बजे अनु दुबे संसद के बाहर सड़क पर एक तख्ती लेकर धरना दे रही थीं. उसमें लिखा था- मैं अपने भारत में सुरक्षित महसूस क्यों नहीं कर सकती? इसी दौरान वहां पुलिस आ गई. और वहां धरना न देने की सलाह दी. पर अनु नहीं मानी. इसके बाद पुलिस ने अनु से कहा कि वो धरना करना चाहती हैं, तो वो जंतर-मंतर पर चली जाएं. उन्हें कोई परेशान नहीं करेगा. पर इस प्रस्ताव से भी अनु ने मना कर दिया. इसके बाद अनु को पुलिस जबरन थाने ले गई. जहां उनसे पूछताछ की.

अनु ने मीडिया को बताया कि उनका धरने का उद्देश्य बस ये है कि वो जलकर मरना नहीं चाहती हैं. उनके साथ ऐसी घटना न हो, इसलिए वो ये धरना दे रही हैं. वो पूरी रात सो नहीं पाईं, क्योंकि अब वो रेप के केस सुन-सुनकर थक चुकी हैं, परेशान हो चुकी हैं. अनु सरकार से मिलकर कुछ सवाल पूछना चाहती हैं. अनु का कहना है कि आज वो लड़की जल कर मरी है, कल को उनके साथ भी ऐसा होगा, इसलिए वो सरकार से अपनी सेफ्टी को लेकर सवाल करना चाहती हैं.  अनु ने धरने के पहले एक वीडियो रिकॉर्ड किया था. इसमें उन्होंने कहा था-

पहली बार किसी और के लिए आगे जा रही हूं. पता नहीं क्या करने जा रही हूं. मेरी फैमिली को कुछ नहीं होना चाहिए, किसी न किसी को आगे बढ़ना पड़ेगा. शायद मैं पहली हूं. प्लीज मेरी फैमिली को कुछ नहीं होना चाहिए. और मैं लड़ूंगी. मैं आज संसद भवन पर बैठने जा रही हूं. इंसाफ मांगने. अब बहुत हुआ. मेरा नाम अनु दुबे है.

अनु दुबे ने जब न्यूज चैनल ABP से बात की, तो उसका वीडियो ऑल इंडिया महिला कांग्रेस ने भी ट्वीट किया. और अनु को सपोर्ट किया.

साथ ही अनु से मिलने खुद दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल पहुंची. वहां जब उन्हें मालूम चला कि दिल्ली पुलिस ने अनु के साथ थाने में मारपीट की है. तो उन्होंने दिल्ली पुलिस के डिप्टी कमिश्नर को लेटर लिखा और पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की मांग की.

वहीं आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने भी ट्वीट किया. इसमें वो अनु के साथ दिल्ली पुलिस के बर्ताव की आलोचना कर रहे हैं.

अनु का कहना है कि जिनके साथ यौन शोषण, रेप जैसी घटनाएं हुईं हैं, वो अपना घटनाक्रम उन्हें बताएं. वो उनके लिए प्रोटेस्ट करेंगी. ये प्रोटेस्ट सिर्फ तेलंगाना की घटना के बारे में ही नहीं है, बल्कि 2012 के बाद से हर उस घटना के लिए है, जो महिलाओं के साथ हो रही हैं.

हालांकि अनु के अपने बारे में मीडिया को कुछ भी बताने से इनकार कर दिया. इसलिए अनु के बारे ज्यादा जानकारी नहीं है.


वीडियो देखें : वेटनरी डॉक्टर फोन पर बहन से बोली डर लग रहा है, 9 घंटे बाद हाईवे पर मिली जली हुई लाश

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

तीन साल पहले आदमी ने सेक्स चेंज कराया, रेलवे ने अब माना कि वो महिला हैं

2017 में राजेश सेक्स चेंज करवाकर सोनिया पांडे बन गए थे.

वरुण ग्रोवर ने नेल पॉलिश लगाई और परेशानी ज़माने को हो गई

सवालों के जवाब में वरुण ने पूछे कुछ जरूरी सवाल.

गोरा करने वाली क्रीम बेचने के ऐड बनाए, तो सरकार जेल भेज देगी

क्या है ड्रग्स एंड मैजिक रेमेडीज (ऑब्जेक्शनेबल एड्वर्टिजमेंट) एक्ट, जिसमें बदलाव होने वाले हैं?

कौन हैं नैंसी पेलोसी, जिन्होंने ट्रंप के सामने उनका भाषण फाड़ डाला!

इससे पहले भी एक बार वो ट्रंप का मज़ाक उड़ा चुकी हैं.

अब सिंगल औरतें भी किराए पर कोख ले पाएंगी!

सरोगेसी रेगुलेशन बिल: सेलेक्ट कमिटी ने कहा सिंगल औरतों को भी सरोगेसी का ऑप्शन मिलना चाहिए.

बीना दास: 21 साल की वो स्वतंत्रता सेनानी, जो डिग्री लेने पहुंचीं और चीफ गेस्ट पर गोलियां दाग दीं

आज के ही दिन कलकत्ता यूनिवर्सिटी को थर्राया था बीना दास ने.

कौन हैं शाहीन बाग़ में बुर्का पहने पकड़ी गईं गुंजा कपूर, जिन्हें PM मोदी फॉलो करते हैं

कभी राहुल गांधी को चिट्ठी लिखी थी गुंजा कपूर ने.

केंद्र ने कोर्ट से कहा- सेना में महिलाओं को कमांड पोस्ट कैसे दें, मैटरनिटी लीव देनी पड़ जाएगी

महिला ऑफिसर अभी सिर्फ शॉर्ट सर्विस कमीशन पर रखी जाती हैं आर्मी में.

ज़ायरा वसीम ने इंस्टाग्राम पर लिखा- कश्मीर की आवाज़ को दबा देना इतना आसान क्यों है?

ये भी लिखा कि मीडिया की दिखाई चीज़ों पर भरोसा मत कीजिए.

निर्भया के दोषियों को एक साथ फांसी देने के पीछे क्या मजबूरी है?

जिसकी याचिका खारिज हो गई, उसे अलग से फांसी क्यों नहीं दी जा सकती?