Submit your post

Follow Us

चिन्मयानंद को ज़मानत, कोर्ट ने कहा: 'वर्जिनिटी दांव पर लगी, पर लड़की एक शब्द नहीं बोली'

पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद. इन्हें पिछले साल सितंबर में एक लॉ स्टूडेंट का यौन शोषण करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. 3 फरवरी को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने चिन्मयानंद को जमानत दे दी है. कोर्ट ने अपने ऑर्डर में कहा कि ये ‘क्विड प्रो क्यो’ का मामला है. यानी फेवर के बदले फेवर का मामला है. ये भी कहा कि ये समझ पाना मुश्किल है कि किसने किसका इस्तेमाल किया था.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, इलाहाबाद हाई कोर्ट के जस्टिस राहुल चतुर्वेदी ने कहा,

‘एक लड़की, जिसकी वर्जिनिटी दांव पर लगी है, वो इस मामले पर न तो अपने पैरेंट्स से कुछ कह रही है और न ही कोर्ट में. ये बहुत ही आश्चर्य वाली बात है.’

कोर्ट में चिन्मयानंद की तरफ से जमानत के लिए याचिका डाली गई थी. जमानत ऑर्डर में कोर्ट ने चिन्मयानंद के लिए आवेदनकर्ता और लड़की के लिए मिस ‘A’ शब्द का इस्तेमाल करते हुए कहा,

‘ये रिकॉर्ड किया गया है कि मिस ‘A’ के परिवार वालों को आवेदनकर्ता की तरफ से बहुत से फायदे मिल रहे थे. ये भी सामने आया है कि कथित तौर पर हुए यौन शोषण के वक्त एक बार भी मिस ‘A’ ने इस बात की शिकायत किसी से नहीं की. न ही अपने परिवार को कुछ बताया. इसलिए कोर्ट इस नतीजे पर पहुंचा है कि ये मामला पूरी तरह से ‘क्विड प्रो क्यो’ का है. ये भी रिकॉर्ड किया गया है कि लड़की आवेदनकर्ता को अश्लील वीडियो के जरिए ब्लैकमेल कर रही थी और फिरौती की मांग कर रही थी.’

Swami Chinmayanand
यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ चिन्मयानंद. ये तस्वीर अगस्त 2010 की है. फोटो- PTI.

कोर्ट ने अपने ऑर्डर में आगे कहा,

‘लड़की ने किसी से कुछ शेयर नहीं किया, वहीं दूसरी तरफ उसने खुद जासूसी कैमरे वाला एक चश्मा खरीदा. जिससे वो आरोपी की न्यूड तस्वीरें और वीडियो रिकॉर्ड करती थी. इन्हीं सबका इस्तेमाल करके आरोपी को ब्लैकमेल किया जाता था. पैसे मांगे जाते थे.’

कोर्ट ने लड़की और उसके पिता के बीच के रिश्ते पर भी सवाल खड़े किए. कहा कि लड़की के पिता द्वारा कराई गई FIR से पता चलता है कि दोनों के बीच काफी अजीब रिश्ते थे. दोनों के बीच डायरेक्ट कॉन्टैक्ट नहीं था. पिता को अपनी बेटी की हालत के बारे में भी उसके फेसबुक अकाउंट के जरिए ही पता चला.

Swami Chinmayanand Girl
वो लड़की जिसने चिन्मयानंद के ऊपर रेप के आरोप लगाए. तस्वीर पिछले साल सितंबर की है. फोटो- PTI.

चिन्मयानंद के ऊपर शाहजहांपुर स्थित उन्हीं के लॉ कॉलेज की एक लड़की ने रेप, यौन शोषण, अपहरण और धमकी देने के आरोप लगाए थे. लड़की ने एक वीडियो भी जारी किया था, जिसमें वो चिन्मयानंद की मालिश करती दिख रही थी. चिन्मयानंद ने मालिश वाली बात को स्वीकार किया था, लेकिन रेप के आरोपों को खारिज कर दिया था. इसके अलावा उन्होंने लड़की के ऊपर भी ब्लैकमेलिंग के आरोप लगाए थे. कहा था कि उनसे 5 करोड़ रुपए मांगे जा रहे हैं. दोनों की तरफ से लगाए गए आरोपों की जांच के लिए स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम बनाई गई थी. टीम ने दोनों ही मामलों में चार्जशीट दाखिल कर दी है.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

तीन साल पहले आदमी ने सेक्स चेंज कराया, रेलवे ने अब माना कि वो महिला हैं

2017 में राजेश सेक्स चेंज करवाकर सोनिया पांडे बन गए थे.

वरुण ग्रोवर ने नेल पॉलिश लगाई और परेशानी ज़माने को हो गई

सवालों के जवाब में वरुण ने पूछे कुछ जरूरी सवाल.

गोरा करने वाली क्रीम बेचने के ऐड बनाए, तो सरकार जेल भेज देगी

क्या है ड्रग्स एंड मैजिक रेमेडीज (ऑब्जेक्शनेबल एड्वर्टिजमेंट) एक्ट, जिसमें बदलाव होने वाले हैं?

कौन हैं नैंसी पेलोसी, जिन्होंने ट्रंप के सामने उनका भाषण फाड़ डाला!

इससे पहले भी एक बार वो ट्रंप का मज़ाक उड़ा चुकी हैं.

अब सिंगल औरतें भी किराए पर कोख ले पाएंगी!

सरोगेसी रेगुलेशन बिल: सेलेक्ट कमिटी ने कहा सिंगल औरतों को भी सरोगेसी का ऑप्शन मिलना चाहिए.

बीना दास: 21 साल की वो स्वतंत्रता सेनानी, जो डिग्री लेने पहुंचीं और चीफ गेस्ट पर गोलियां दाग दीं

आज के ही दिन कलकत्ता यूनिवर्सिटी को थर्राया था बीना दास ने.

कौन हैं शाहीन बाग़ में बुर्का पहने पकड़ी गईं गुंजा कपूर, जिन्हें PM मोदी फॉलो करते हैं

कभी राहुल गांधी को चिट्ठी लिखी थी गुंजा कपूर ने.

केंद्र ने कोर्ट से कहा- सेना में महिलाओं को कमांड पोस्ट कैसे दें, मैटरनिटी लीव देनी पड़ जाएगी

महिला ऑफिसर अभी सिर्फ शॉर्ट सर्विस कमीशन पर रखी जाती हैं आर्मी में.

ज़ायरा वसीम ने इंस्टाग्राम पर लिखा- कश्मीर की आवाज़ को दबा देना इतना आसान क्यों है?

ये भी लिखा कि मीडिया की दिखाई चीज़ों पर भरोसा मत कीजिए.

निर्भया के दोषियों को एक साथ फांसी देने के पीछे क्या मजबूरी है?

जिसकी याचिका खारिज हो गई, उसे अलग से फांसी क्यों नहीं दी जा सकती?