Submit your post

Follow Us

कश्मीर की 'पत्थरबाज़' पीएम मोदी के साथ क्या कर रही हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 सितंबर को कुछ खिलाड़ियों से बात की. कुछ ऐसे लोगों से भी बात की, जो अपनी फिटनेस पर तगड़ा ध्यान देते हैं. ये वर्चुअल ‘फिट इंडिया डायलॉग’ ‘फिट इंडिया मूवमेंट’ के एक साल पूरे होने पर किया गया. इसमें इंडियन क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली, एक्टर-मॉडल मिलिंद सोमन, जम्मू-कश्मीर महिला फुटबॉल टीम की कैप्टन अफशां आशिक समेत और भी कुछ लोग शामिल थे. लेकिन सबसे ज्यादा जिसे लेकर इस वक्त बात हो रही है, वो हैं अफशां.

लेकिन ऐसा क्यों?

दरअसल, अप्रैल 2017 में अफशां की एक तस्वीर बेहद वायरल हुई थी, जिसमें वो कश्मीर में पुलिसवालों के ऊपर पत्थरबाज़ी करती दिख रही थीं. नीले रंग का सूट पहना हुआ था. ये है वो तस्वीर-

Afshan Ashiq (2)
अफशां की इसी तरह की कई तस्वीरें 2017 में वायरल हुई थीं, घटना 24 अप्रैल 2017 की है. (फोटो- PTI)

ये तस्वीर जहां कहीं भी छपी, अफशां के लिए ‘पत्थरबाज़’ शब्द का इस्तेमाल किया गया.

क्या हुआ था 2017 में

‘स्क्रोल डॉट इन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, 2017 के अप्रैल महीने में श्रीनगर के कई इलाकों में युवा प्रोटेस्ट कर रहे थे. 24 अप्रैल के दिन अफशां 10-15 लड़कियों के ग्रुप के साथ कोठी बाग के सरकारी बालिका विद्यालय से टूरिस्ट रिसेप्शन सेंटर जा रही थीं. फुटबॉल की प्रैक्टिस करने. 15 मिनट का रास्ता था. ग्रुप पैदल ही जा रहा था. उसी सड़क के पास प्रोटेस्ट शुरू हो गए. दोपहर का वक्त था. युवाओं के प्रोटेस्ट को कंट्रोल करने के लिए कश्मीर पुलिस ने टियर शेल्स छोड़ना शुरू कर दिया.

अफशां बताती हैं कि उस हो-हल्ले के बीच एक पुलिसवाले ने उनके ग्रुप की एक लड़की को अपशब्द कह दिए. फिर एक लड़की को झापड़ भी मारा. अफशां ने इसका विरोध किया, तो हालात और बिगड़ गए. अफशां कहती हैं-

“हम भले ही औरत हैं, लेकिन हम कमज़ोर नहीं हैं. हम भले ही आपको झापड़ नहीं मारेंगे, क्योंकि आप वर्दी में हो. लेकिन हम आपको दिखा देंगे कि क्या कर सकते हैं.”

उसके बाद अफशां ने पत्थर उठाया और पुलिसवाले की तरफ फेंका. यही पल कई सारे कैमरों में कैद हो गया. और वायरल हो गया.

अब थोड़ी प्रेरणा भी ले लीजिए

पत्थरबाज़ी वाली घटना के वक्त अफशां 23 बरस की थीं. तब वो जम्मू-कश्मीर की लड़कियों को फुटबॉल सिखाती थीं, यानी उनकी कोच थीं. आज वो राज्य की पहली महिला फुटबॉल टीम की कैप्टन हैं.

‘द हिंदू’ के एक आर्टिकल के मुताबिक, अफशां मूल रूप से श्रीनगर के बेमिना इलाके की हैं. जॉइंट फैमिली में पली-बढ़ीं. व्यापारी की बेटी हैं. घरवालों के खिलाफ जाकर उन्होंने खेलना शुरू किया था. नाक-मुंह बनाने वाले पड़ोसियों का भी सामना किया. अफशां ने 2017 में एक इंटरव्यू में कहा था-

“एक औरत के लिए कश्मीर में स्पोर्ट्सपर्सन बनना आसान नहीं है. मैं फुटबॉल खेलती हूं, इसलिए मेरे भाई को आज भी उसके दोस्त टॉन्ट करते हैं. शुरुआत में मेरे परिवार वालों ने मेरा सपोर्ट नहीं किया था, लेकिन अब करते हैं.”

अफशां का पहला प्यार क्रिकेट था, लेकिन जब वो बेमिना के स्कूल में थीं, तो उन्हें अपना भविष्य स्पोर्ट्स में बेरंग सा लगा. फिर जब वो कोठी बाग के स्कूल में आईं, तो स्पोर्ट्स के लिए प्यार दोबारा जागा. फुटबॉल के लिए लगाव महसूस किया. तब साल 2013 चल रहा था. तब लड़कियां फुटबॉल खेलने से कतराती थीं. इसलिए अफशां को लड़कियों को मनाने में बहुत मेहनत करनी पड़ी. फिर कहीं जाकर 2015 में महिला फुटबॉल ग्रुप को कोच करना शुरू किया.

Afshan Ashiq (3)
अफशां अब मुंबई के एक क्लब में गोलकीपर भी हैं. (अफशां का इंस्टाग्राम)

पत्थरबाज़ी की घटना के बाद क्या?

2017 की घटना ने अफशां को दुखी किया. ‘द हिंदू’ के मुताबिक, वो कहती हैं-

“मैं अब पीछे मुड़कर उस घटना के बारे में नहीं सोचना चाहती. ये मुझे खुश नहीं करता.”

हालांकि, पत्थरबाज़ी की घटना से एक फायदा भी हुआ. महिला फुटबॉल को फुटेज मिली. जिस अकेडमी में अफशां कोच थीं, वहां लड़कियों के दनादन एप्लीकेशन आने लगे. अफशां कहती हैं-

“मैंने उन लड़कियों से कहा कि कर्फ्यू हो या नहीं, हम ग्राउंड पर प्रैक्टिस के लिए वक्त पर पहुंचेंगे. और हर किसी ने ऐसा किया.”

आज अफशां जम्मू-कश्मीर महिला फुटबॉल टीम की कप्तान हैं, PIFA स्पोर्ट्स क्लब, मुंबई में गोलकीपर हैं. छोटी लड़कियों को ये खेल सिखाती भी हैं. कश्मीर की कई लड़कियों के लिए प्रेरणा बन चुकी हैं. जो फिटनेस डायलॉग हुआ, उसमें पीएम मोदी ने भी अफशां की तारीफ की.


वीडियो देखें: भारतीय एयरफ़ोर्स की ये महिला ऑफिसर उड़ाएंगी रफाल जेट

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

वेब सीरीज में काम दिलाने के बहाने तस्वीरें मंगवाता, फिर ब्लैकमेल करता था

आरोपी ने सोशल मीडिया पर कई फेक प्रोफाइल्स बना रखी थीं.

आरोप-लड़का है या लड़की, पता करने के लिए आठ महीने की गर्भवती का पेट चीर दिया

आरोपी की पांच बेटियां हैं.

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

उस समय मां ने ही शव की पहचान की थी.

कैब ड्राइवर कर रहा था गंदे इशारे, सांसद-एक्ट्रेस ने ऐसे सिखाया सबक

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है.

झारखंड: परिवार का आरोप- क्लीनिक में पहले बेटी का यौन शोषण हुआ, फिर मां को 40 लोगों ने पीटा

रसूखदार डॉक्टर और कम्पाउंडर पर लगे गंभीर आरोप.

पाकिस्तान में विदेशी महिला से गैंगरेप के बाद जनता सड़कों पर उतर आई है

इस गैंगरेप के बाद जांच अधिकारी के दिए बयान से लोग गुस्से में हैं.

उत्तराखंड: परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी की, तो घर के सामने ही गोलियों से भून डाला!

उधम सिंह नगर जिले से आया ऑनर किलिंग का खौफनाक मामला.

झारखंड : फेसबुक पर दोस्त बने लड़के से मिलने गई, घर जिंदा नहीं लौटी!

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में लड़की के साथ रेप की पुष्टि हुई है.

पार्क में एक्ट्रेस और उनकी दोस्तों से मारपीट के आरोप पर क्या बोलीं कांग्रेस नेता?

एक्ट्रेस सम्युक्ता हेगड़े ने लाइव वीडियो बनाया था. अब कविता रेड्डी ने भी अपना पक्ष रखा है.

मैट्रिमोनियल साइट पर दोस्ती की और फिर झूठ बोल-बोलकर 6.19 लाख रुपये ठग लिए

पैसे न देने पर प्राइवेट फोटो पब्लिक करने की धमकी देता था.