Submit your post

Follow Us

स्कूलवालों ने सिर्फ एक काली टीशर्ट की वजह से लड़की को बुरी तरह डांटा, वापस घर भेज दिया

18 साल की एक लड़की. हाई स्कूल में पढ़ने वाली. जींस टीशर्ट पहनकर स्कूल गई. थोड़ी देर में उसकी स्कूल की काउंसलर ने उसे अपने रूम में बुलाया. जैसे वो उनके कमरे में गई, उन्होंने कहा,

ब्रा क्यों नहीं पहनती तुम? चलती हो तो ब्रेस्ट्स हिलते हुए दिखाई देते हैं. निप्पल्स भी दिख रहे हैं टीशर्ट के भीतर से. इस तरह से बिना ब्रा के चलती दिखाई दोगी तो लोग तुम्हें…

इसके बाद वो टीचर जैकेट्स लेकर आई और उसे पहनने को कहा. रोते हुए लड़की ने अपने पापा को फोन किया. उन्हें बुलाया कि वो आकर उसे स्कूल से ले जाएं. इसके बाद उस लड़की ने इस बारे में सब कुछ फेसबुक पर पोस्ट कर दिया. पोस्ट वायरल हो गई. लड़की का नाम? ज़ोई मैसी. जगह? अमेरिका का टेक्सस राज्य.

Zoe Massie 700
ज़ोई ने ये तस्वीर अपने फेसबुक अकाउंट पर डाली और बताया कि उनके साथ स्कूल में क्या हुआ. यही टीशर्ट पहनकर वो स्कूल गई थीं. उनका पोस्ट वायरल हो गया और 4200 से ज्यादा लोगों ने उसे शेयर किया. ये स्टोरी लिखे जाने तक इस पोस्ट को पांच हजार लोग लाइक भी कर चुके थे. (तस्वीर: फेसबुक/ज़ोई मैसी)

ये खबर पढ़ते ही मुझे अपने स्कूल के दिनों की याद आई, वहां भी लड़कियों के कपड़ों को लेकर नियम से परे रोका-टोकी होती थी. फिर कई और लड़कियों ने हमसे इसी तरह के अनुभव शेयर किये.

14 साल की एक लड़की. बिहार के एक छोटे से शहर में पढ़ने वाली. दसवीं क्लास में थी. एक दिन स्कूल की सफ़ेद सलवार गंदी पड़ी थी, तो सफ़ेद चूड़ीदार डाल कर चली गई. सोचा, टीचर को बता देगी. लेकिन प्रेयर के टाइम पर ही टीचर ने सबके सामने उसे ज़लील कर दिया. कहा टांगें दिखाने का इतना शौक है तो कहीं और दिखाना. स्कूल में ये सब करने आती हो?  लड़की का नाम? रितु. जगह? सिवान.

15 साल की एक मासूम लड़की. स्कूल में बैडमिंटन खेल रही थी. खेलते हुए उसकी समीज के कंधे पर उसकी ब्रा का स्ट्रैप दिख गया. वहीं बैठी टीचर ने दूसरी से फुसफुसा कर कहा, ‘शरीर भरा नहीं कि इनको दिखाने की चुल्ल मच जाती है’. ये बात उस लड़की तक पहुंच गई. उसके बाद उसने स्कूल में कभी बैडमिन्टन नहीं खेला.  लड़की का नाम? रावी. जगह? जयपुर.

18 साल की जोई मैसी के पास फेसबुक था. अपनी बात कहने का एक तरीका था. लेकिन इन लड़कियों के पास ये समझ सकने का जरिया भी नहीं था कि जो उनके साथ हो रहा है, वो गलत है.

Girl 447701 1920 700
बचपन में शुरुआत पढ़ले स्लिप पहनने से होती है. पहले उसको लेकर धीरे-धीरे कॉन्शस किया जाता है. ताकि आदत पड़ जाए. एक नज़र कन्धों पर रखने की. उस उम्र में, जिसमें चिंता करना ज़रूरी नहीं होता. शरीर को कामुक नहीं होना होता. (सांकेतिक तस्वीर: Pixabay)

वो लड़कियां जिनका दुपट्टा उनकी दूसरी चमड़ी बन गया.

टिकटॉक पर एक वीडियो बहुत चल रहा है. एक लड़की है. जो रास्ते से जा रही है. उसके हाथ से कुछ छूटकर गिर जाता है. उसे उठाने की कोशिश करती है वो. लेकिन सामने दो लड़के उसे घूर रहे हैं. ताकि वो झुके, और उन्हें उसका क्लीवेज दिख जाए. तभी दो लड़के आते हैं और लड़की के सामने पीठ करके खड़े हो जाते हैं. ताकि सामने वाले लड़कों को कुछ दिखाई न दे. इसी वीडियो के जवाब में एक वीडियो बना था जिसमें लड़की बड़े गर्व से दुपट्टा लेकर आती है. लपेटती है अपने गले में, और झुक जाती है. अपना सामान उठाने के लिए.

बैकग्राउंड में तालियां बज रही होती हैं. क्या सॉल्यूशन ढूंढा है.

वही दुपट्टा. जिसके चक्कर में लड़कियों ने घर से बाहर निकलना बंद कर दिया. एक उम्र के बाद पीठ सीधी करके चलना छोड़ दिया. जिसके चक्कर में कंधे झुके, और झुकते चले गए.

Girl 535251 1920 700
थोड़ी सी भी लंबी लड़की हो, या थोड़े बड़े स्तनों वाली हो, उसे फ़ौरन कह दिया जाता है, झुक कर चलो, नीचे देखकर चलो. सीना मत तानो. लोग समझेंगे कि तुम चीप हो. इस तरह की बातें फिल्मों में नहीं होतीं. आस पास सुनते हुए बड़े हुए हैं हम में से कई लोग. (सांकेतिक तस्वीर: पिक्साबे)

ऐसी खबर कोई नई नहीं है. कई बार पढ़ने को मिलती है. कि लड़की ने स्लीवलेस टॉप पहना था तो उसे घर भेज दिया. भारत में तो खैर स्कूलों में यूनिफॉर्म होती है. उसमें भी कॉन्वेंट स्कूलों में मोरल पुलिसिंग बहुत होती है. कई लड़कियों ने ऑडनारी को बताया. कि उन्हें स्कूलों में किस तरह ऐसा व्यवहार झेलना पड़ा.

दीक्षा एक रेजिडेंशियल स्कूल में थी. वहां पर लड़कियों को जींस पहनने की इजाज़त नहीं थी. हॉस्टल में भी नहीं. एक बार एक लड़की जींस पहन कर आ गई थी, तो उसे कपड़े बदलकर आने को कहा गया.

अमृता भी एक रेजिडेंशियल स्कूल में थी. जब वो आठवीं क्लास में पहुंची, तो स्कूल वालों ने लड़कियों से पैसे लिए. और सभी लड़कियों के लिए ब्रा मंगवाईं. आठवीं क्लास से लेकर बारहवीं क्लास की लड़कियों के लिए ब्रा कम्पलसरी कर दी गई. फीमेल पीटी टीचर पीठ पर हाथ मारकर चेक किया करती थीं कि किस-किसने पहन रखी है.

ये लड़कियां बड़ी हुई, बिना किसी से कुछ कहे. बिना शिकायत के. तो आज जब कोई लड़की हिम्मत करके इसके खिलाफ लिखती है, खड़ी होती है, तो अच्छा लगता है. लेकिन इससे साबित ये हो जाता है कि चाहे अपना देश हो या दुनिया में सबसे ज्यादा प्रोग्रेसिव होने का दावा करने वाला देश. औरतों के शरीर को कंट्रोल करने, उन्हें ढकने-छुपाने के तरीके भले लोकल हों, मानसिकता यूनिवर्सल है.

(पहचान छुपाने के लिए नाम और जगह बदल दिए गए हैं)


वीडियो: गोविंदा की भांजी आरती सिंह ने जो बताया, उसे सुनकर घर भावुक हो गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

62 साल की महिला ने ABVP के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर उत्पीड़न का आरोप लगाया

महिला ने कहा- दरवाज़े पर पेशाब की. ABVP ने वीडियो को फेक बताया.

छठवीं की छात्रा से रेप के आरोप में स्कूल के डायरेक्टर, मैनेजर समेत 10 टीचर्स पर केस

आरोप, तीन महिला टीचर्स को भी थी मामले की जानकारी, पर उन्होंने छिपाया.

लड़की की मौत, शरीर पर चोट के निशान, 8 दिन तक आरोपी को 'बचाती' रही पुलिस

असम पुलिस की नग्न सच्चाई: पोस्टमॉर्टम तक की खबर नहीं है.

10 हज़ार बिस्तर वाले कोविड सेंटर में नाबालिग का रेप, रेप का आरोपी भी कोरोना मरीज

आरोपी के साथी ने घटना को रिकॉर्ड भी किया.

'सेक्स रैकेट क्वीन' सोनू पंजाबन ने सोचा भी नहीं होगा कि कोर्ट इतनी ज़्यादा सज़ा सुना देगी

जिस मामले में सज़ा हुई, वो एक बच्ची के रेप, किडनैपिंग और उसे देह व्यापार में धकेलने का है.

बंगाल: जिस केस को रेप-मर्डर कहा जा रहा था, उसमें अब नई कहानी सामने आई है

19 जुलाई को लड़की का और 20 जुलाई को लड़के का शव मिला था.

बंगाल में लड़की की मौत को 'रेप के बाद हत्या' कहा जा रहा था, पर हकीकत क्या है?

शव मिलने के बाद लोगों ने भयंकर विरोध प्रदर्शन किया था.

पुलिसवाले पर आरोप, लड़की को कॉल कर कहा- 50 हज़ार ले लो, साले के लिए घर आ जाओ

बातचीत का ऑडियो वायरल, आरोपी पुलिसकर्मी सस्पेंड.

दहेज के लिए प्रताड़ित करते थे, महिला ने वीडियो बनाया, जी-मेल में सबूत रखकर फांसी लगा ली

मां से अपने पति और सास-ससुर को सजा दिलवाने की गुहार लगाई.

सेक्स रैकेट क्वीन सोनू पंजाबन, जिसे बच्ची से रेप केस में कोर्ट ने दोषी करार दिया है

2009 में हुआ था बच्ची का अपहरण, फिर वो कई बार कई लोगों को बेची गई.