Submit your post

Follow Us

पाकिस्तान: गुरुद्वारे में ग्रंथी की बेटी का बंदूक की नोंक पर किया अपहरण, धर्म परिवर्तन और निकाह

जगजीत कौर. उम्र 19 साल. जगजीत का परिवार लाहौर के ननकाना साहिब इलाके में रहते थे. ननकाना साहिब, जहां गुरु नानक देव का जन्म हुआ था. सिखों के लिए ये जगह पवित्र मानी जाती है. जगजीत के पिता स्थानीय गुरुद्वारे में ग्रंथी हैं. जगजीत के भाई सुरिंदर सिंह का आरोप है कि एक रात कुछ गुंडे उसके घर में घुस आए और बंदूक की नोंक पर उनकी छोटी बहन को उठा ले गए. उन्होंने बताया,

मेरा नाम सुरिंदर सिंह है. मैं ननकाना साहिब में रहता हूं. कल रात को हमारे परिवार के साथ एक दर्दनाक वाकया हुआ. कुछ गुंडे हमारी छोटी को घसीट कर ले गए. उनको जबरदस्ती टॉर्चर कर इस्लाम क़ुबुल करवाया. हम थाने गए. एफआईआर करवाया. एसएचओ के पास गए. किसी ने हमें इंसाफ नहीं दिलाया. किसी ने हमारी बात नहीं सुनी. हम वापस घर तो आए वही लोग दोबारा वापस आए. उन्होंने हमें धमकी दी. कहा, अगर आप लोगों ने एफआईआर वापस नहीं लिया तो आपको भी मुसलमान होना पड़ेगा. अगर यहां रहना है तो. मेरी पीएम इमरान खान और चीफ जस्टिस से अपील है कि वो हमारे साथ इंसाफ करें. हमें लगातार धमकियां दी जा रही हैं. हमारी बहन हमको चाहिए. अगर ऐसा न हुआ तो हम अपने पूरे परिवार के साथ गवर्नर हाऊस के सामने खुद को जला दूंगा.

सुरिंदर का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. पाकिस्तान के सिख समुदाय ने ननकाना साहिब के गुरुद्वारे में इकट्ठा होकर इस घटना की निंदा की. भारत की तरफ से इस घटना पर कड़ी प्रतिक्रिया मिली. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इमरान खान से इस मामले पर तुरंत एक्शन लेने को कहा. साथ ही विदेश मंत्री एस. जयशंकर से इस मुद्दे को मजबूती से अपने समकक्ष के सामने रखने की अपील की. क्रिकेटर हरभजन सिंह ने भी मुख्यमंत्री कैप्टन के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की बात कही.

दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी के प्रेसिडेंट और अकाली दल नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने भी इस घटना की निंदा की. उन्होंने इस मुद्दे को यूएन में उठाने की बात भी कही.

जगजीत कौर के मामले में भी वही हुआ है. जो अक्सर पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदू सिख लड़कियों के साथ होता है. धर्म परिवर्तन कराकर जबरन शादी. आरोपियों ने एक वीडियो भी जारी किया. जिसमें जगजीत को निकाह क़ुबुल करते दिखाया गया है.

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने इस मामले पर जानकारी देते हुए कहा, ‘हमने पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के खिलाफ अत्याचर, अपहरण और जबरन धर्मांतरण किए जाने का मुद्दा एक बार फिर उठाया है. उन्होंने  अल्पसंख्यकों से जो वादे किए वे पूरे करने चाहिए. दूसरों के लिए कुछ कहने से पहले वे अपने आप को देखें, उनका घर जल रहा है. पहले उन्हें इस पर ध्यान देना चाहिए.’

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों यानी हिंदुओं, सिखों और ईसाईयों के साथ ज्यादतियां होती हैं. ये बात किसी से छिपी नहीं है, वक़्त बेवक्त ऐसी खबरें आती रहती हैं जब मुस्लिम बहुल इलाकों में अल्पसंख्यकों को परेशान किया गया हो. पाकिस्तान में हिंदुओं का धर्म परिवर्तन ऐसी समस्या है जिसके खिलाफ काफी लोग पहले भी आवाज़ उठा चुके हैं. पाकिस्तान के पीएम भी अपनी इलेक्शन रैलियों में सबको साथ लेकर चलने की बात कह चुके हैं. खासकर अल्पसंख्यकों को. अब देखना है कि इस मामले को वो अंजाम तक पहुंचाते हैं या नहीं.


वीडियो: पाकिस्तान में नाबालिग लड़की को जबरन मुस्लिम बनाया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

कौन हैं ये पुष्पम प्रिया चौधरी जो बिहार की अगली CM बनने का दम भर रही हैं?

अखबार में इनकी नई पार्टी के पूरे-पूरे पन्नों के ऐड भी छपे हैं.

महिला दिवस पर इन सात महिलाओं ने चलाए पीएम मोदी के सोशल मीडिया अकाउंट

कोई बम धमाकों में बचीं तो कोई भूखों को खिलाती हैं खाना.

जानिए उन 16 महिलाओं की कहानी जिन्हें सरकार ने नारी शक्ति पुरस्कार दिया है

किसी को 'लेडी टार्जन' तो किसी को 'चंडीगढ़ का चमत्कार' कहा जाता है.

'दुनिया की बेस्ट मम्मी' का खिताब पाने वाले ये पापा कौन हैं?

आदित्य तिवारी की कहानी, जिन्होंने डाउन सिंड्रोम वाले बच्चे को गोद लेकर इतिहास रच दिया.

वो राजकुमारी जिनकी वजह से AIIMS में हम और आप अपना इलाज करवा पाते हैं

राजकुमारी अमृत कौर को Time मैगज़ीन ने 1947 के लिए वुमन ऑफ द ईयर चुना है.

कौन हैं नवनीत कौर राणा, वो सांसद जो लोकसभा में मास्क पहने दिखाई दीं?

इनके पति भी विधायक हैं.

रेलवे स्टेशन पर सामान ढोती इन महिलाओं की तस्वीर में दिक्कत क्या है?

रेल मंत्रालय ने ट्वीट कर इन तस्वीरों की तारीफ़ की है.

सत्ता में आने के बाद से अब तक PM मोदी महिला दिवस पर ये पांच चीज़ें कर चुके हैं

इस बार तो सोशल मीडिया अकाउंट महिलाओं को दे रहे हैं.

इस गाने में आलिया भट्ट, अनुष्का शर्मा, कटरीना कैफ़ सब हैं, लेकिन सबसे ख़ास बात ये है

'कुड़ी नू नचन दे' गाने में एक ऐसी चीज़ है, जो ज्यादातर गानों में नहीं मिलती.

इस बड़ी टीवी एक्ट्रेस ने बताया, 16 साल की उम्र में कास्टिंग काउच का कैसे किया सामना

मां से इंडस्ट्री छोड़ने की बात कही थी.