Submit your post

Follow Us

गांधी जी की हत्या पर लिखी ये किताब आप इंडिया क्यों नहीं ला सकते?

2.17 K
शेयर्स

आज महात्मा गांधी की हत्या हुए 71 साल हो जाएंगे. 15 नवंबर, 1949 को नाथूराम विनायक गोडसे और नारायण आप्टे को गांधी जी की हत्या के लिए फांसी पर लटका दिया गया था. सात दशक बीतने के बाद भी गांधी की हत्या के कई राज अनसुलझे हुए हैं.

गांधी जी हत्या की नए सिरे से जांच करवाने के सिलसिले में ‘अभिनव भारत’ नाम के संगठन के ट्रस्टी पंकज फड़णीस ने अक्टूबर 2017 में जनहित याचिका लगाई थी. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले के दस्तावेजों की जांच के लिए अमरेंद्र शरण को एमिकस क्यूरी नियुक्त किया था.

8 जनवरी, 2018 को सौंपी अपनी रिपोर्ट में अमरेंद्र शरण ने कहा था कि गांधी जी की हत्या में नाथूराम के अलावा किसी और शख्स का हाथ होने के कयासों में कोई दम नहीं है. ऐसे में इस मामले को फिर से नहीं खोला जाना चाहिए.

याचिकाकर्ता पंकज फड़णीस
याचिकाकर्ता पंकज फड़णीस

गांधी की हत्या की ‘बुलेट थ्योरी’

अक्टूबर, 2017 में दायर की गई अपनी याचिका में अभिनव भारत के ट्रस्टी पंकज फड़णीस ने बहुचर्चित ‘बुलेट थ्योरी’ का जिक्र किया था. इस थ्योरी के मुताबिक गांधी जी की हत्या के वक़्त उन्हें कुल चार गोलियां लगी थीं. इनमें से तीन गोलियां गोडसे की बैरेटा पिस्टल से निकली थी. गांधी जी के शरीर में लगी चौथी और जानलेवा गोली किसी रहस्यमयी आदमी ने मारी थी. आज तक उस रहस्यमयी आदमी के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पाई है. अमेंद्र शरण ने अपनी जांच रिपोर्ट में इस थ्योरी को ख़ारिज कर दिया है.

विनायक दामोदर सावरकर ने 1904 के साल में अभिनव भारत नाम के संगठन की स्थापना की थी. नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे इसी संगठन से जुड़े हुए थे. आजादी के बाद 1952 में इस संगठन का अंत हो गया था. विनायक दामोदर सावरकर भी गांधी जी हत्या के मामले में आरोपी थे. बाद में उन्हें इस मामले में सरकारी गवाह बनने के वजह से बरी कर दिया गया था.

गांधी जी हत्या के मुकदमें की सुनवाई के दौरान नाथूराम गोडसे
गांधी जी हत्या के मुकदमें की सुनवाई के दौरान नाथूराम गोडसे

2008 में इस संगठन को फिर से खड़ा किया गया. हिमानी सावरकर इस संगठन की अध्यक्ष हैं. वो नाथूराम गोडसे की भतीजी हैं और विनायक सावरकर के भतीजे से उनकी शादी हुई है. इस संगठन पर समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट, मालेगांव बम धमाके और मक्का मस्जिद ब्लास्ट के आरोप लगे थे. मालेगांव बम धमाके के आरोपी कर्नल पुरोहित, साध्वी प्रज्ञा और असीमानंद भी इसी संगठन से जुड़े हुए थे.

अभिनव भारत गांधी जी की हत्या के मामले को फिर से सार्वजानिक बहस का हिस्सा बनाने की कोशिश में लगा हुआ है. सुप्रीम कोर्ट में मामले की फिर से जांच की अपील के अलावा इस संगठन के ट्रस्टी पंकज फड़णीस ने 5 जनवरी, 2018 के रोज बॉम्बे हाईकोर्ट में नई जनहित याचिका लगाई थी. इस याचिका में उन्होंने 39 साल पहले छपी एक किताब पर लगा प्रतिबंध हटाने की मांग की है. इस किताब का नाम है ‘Who killed Gandhi’.

लौरेस डि सडवांडोर गोवा मूल के पुर्तगाली लेखक थे. वो जिंदगी भर गांधी जी के भक्त रहे. 1963 में उन्होंने ‘Who killed Gandhi’ लिखी. दिसंबर 1979 में भारत सरकार ने एक नोटिफिकेशन जारी करके इस किताब पर रोक लगा दी. उस समय इस किताब को ‘लेस रीसर्च्ड’ (कम शोध वाली) और भड़काऊ कहा गया था. इस किताबी में गांधी जी की हत्या के पीछे अंतर्राष्ट्रीय साजिश होने का अंदेशा जताया गया था. पंकज फड़णीस ने अपनी जनहित याचिका में इस प्रतिबंध को ‘अभिव्यक्ति की आजादी’ पर खतरा बताया था.


यह भी पढ़ें 

कांग्रेस के बर्थडे पर जानिए उसके बनने और बदलने के बारे में

लैजेंडरी एक्टर ओम प्रकाश का इंटरव्यू: ऐसी कहानी सुपरस्टार लोगों की भी नहीं होती!

परमवीर जोगिंदर सिंह की कहानीः जिन्हें युद्धबंदी बनाने वाली चीनी फौज भी सम्मान से भर गई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

मीका सिंह ने इधर देश से मांगी माफ़ी, उधर उन्हें इसका फायदा भी मिलना होना शुरू हो गया

पाकिस्तान में परफॉर्म करने पर ट्रोल हो चुकने के बाद अब मीका कह रहे होंगे कि अंत भला, सो भला.

BJP सांसद सुब्रमण्यम स्वामी की मांग सरकार ने मान ली तो चिदंबरम की सारी संपत्ति चली जाएगी

कांग्रेस नेता पी चिदंबरम की तुलना नीरव मोदी और विजय माल्या से क्यों होने लगी है?

एक और बाबा ने लड़कियों का यौन शोषण किया, उनमें से एक ने वीडियो वायरल कर दिया

बाबा हो गए हैं फरार. लड़की कह रही 600 घंटों की वीडियो फुटेज है.

फंस गए पी. चिदंबरम तो राहुल गांधी ने वही कहा, जो हमेशा कहते हैं

और प्रियंका ने बताया चिदंबरम ने देश के लिए क्या किया?

सैफई यूनिवर्सिटी में भयानक रैगिंग, डेढ़ सौ छात्रों के सिर मुंडवा दिए

वीसी ने एक्शन लेने की जगह कहा ये तो हमारे जमाने का दस फीसदी भी नहीं है.

इधर इंडिया-पाकिस्तान में तनाव है, उधर पाक क्रिकेटर ने इंडियन लड़की से शादी कर ली

अब दोनों मुल्कों के लोग बधाइयां दे रहे हैं.

योगी ने 23 नए मंत्री बनाए, मगर ये 4 मंत्री हुए पैदल और विदाई की वजह जानने लायक है

योगी, मोदी का डंडा चला है.

क्या गिरफ़्तारी के डर से गायब हो गए हैं चिदंबरम?

INX मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री को खोज रही हैं CBI और ED.

पिता ने मोबाइल इस्तेमाल करने पर पाबंदी लगाई, बेटी ने प्रेमी के साथ मिलकर मार डाला

लड़की की उम्र सिर्फ 15 साल है.

अब बिना एटीएम कार्ड के भी निकलेंगे एटीएम से पैसे

बस नोटबंदी न हुई हो.