Submit your post

Follow Us

मरकज में पहुंचे लोगों ने हर राज्य में कोरोना वायरस के मामले बढ़ा दिए हैं

दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में मार्च में तबलीगी जमात हुई थी. यानी इस्लाम का प्रचार करने वाले लोगों का एक कार्यक्रम. इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले कई लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. चूंकि कई लोग दिल्ली से अन्य राज्यों के लिए निकल गए थे तो ऐसे में उन्हें खोजा जा रहा है ताकि उन्हें क्वारंटीन किया जा सके. स्टेट-वाइज़ जानते हैं किन राज्यों में तबलीगी जमात से जुड़े कितने लोगों को खोजा गया है.

गुजरात

इंडियन एक्सप्रेस में छपी ख़बर के मुताबिक़, गुजरात पुलिस ने जमात में शामिल हुए 71 लोगों की पहचान कर उन्हें क्वारंटीन किया है.  भावनगर में 70 साल के वाले एक शख्स की मौत हो गई है. वो कोरोना वायरस संक्रमित पाए गए थे.

अहमदाबाद में जिन लोगों को पहचाना गया है उनमें से कुछ मूलतः उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं. इन्हें दरियापुर की मस्जिद में रखा गया है. गुजरात पुलिस के मुताबिक़, शुरुआती जांच से पता चला है कि अहमदाबाद से 34, मेहसाणा से 12, भावनगर से 20, बोटाद से चार और नवसारी से दो लोग मरकज में शामिल हुए थे.

इन लोगों के संपर्क में जो भी लोग आए हैं उन्हें भी खोजा जा रहा है.

बिहार

राज्य सरकार मरकज में गए 86 लोगों में से 30 लोगों को खोज चुकी है. सरकार के हेल्थ सेक्रेटरी संजय कुमार ने इंडिया एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए कहा-

हमने 17 लोगों को पटना और 13 लोगों को बक्सर से ट्रैक किया है. इन सभी का टेस्ट किया गया है और इन्हें आइसोलेशन में रखा गया है. मरकज में शामिल हुए लोगों को कटिहार, अररिया और किशनगंज में ट्रेस किया जा रहा है.

तमिलनाडु

तमिलनाडु ने 1 अप्रैल जो कोरोना वायरस से संक्रमित 110 लोगों की सूचना दी है. ये सभी निजामुद्दीन के जमात में शामिल थे. राज्य के हेल्थ सेक्रेटरी बीला राजेश ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में  कहा,

राज्य में अभी तक कोरोना के कुल 234 केस हैं. इसमें से 190 केस डायरेक्ट और इनडायरेक्ट रूप से तबलीगी जमात से जुड़े हुए हैं.

आंध्र प्रदेश

आंध्र प्रदेश में कोरोना के कुल 111 केस हैं. इसमें से 99 केस तबलीगी जमात से जुड़े हुए हैं. आंध्र में 1 अप्रैल को कुल 67 मामले सामने आए. ये सभी लोग जमात से जुड़े हुए हैं. गुंटूर से 20 कडप्पा से 15 से कृष्णा से 15 प्रकाशम से 15, पश्चिम गोदावरी से 14, विशाखापत्तनम से 11, पूर्वी गोदावरी से 9 और चितूर से 6 नए मामले सामने आए हैं.

आंध्र सरकार के मुताबिक़ उनका अनुमान है कि करीब 700 लोग मरकज में शामिल हुए थे. सीएम जगन मोहन रेड्डी ने लोगों से अपील की है कि वह खुद आगे आकर सेल्फ रिपोर्ट करें. अधिकारी अभी भी सैकड़ों लोगों को खोज रहे हैं.

उतराखंड

सरकार ने निज़ामुद्दीन के मरकज में शामिल हुए 172 लोगों को क्वारंटीन में भेज दिया है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट मुताबिक़, राज्य सरकार ने उन 713 लोगों की पहचान की है जो 1 जनवरी, 2020 से 1 अप्रैल के बीच  मरकज़ गए थे. हर जिले के लिए अलग से टीम बनाकर इनकी तलाश की जा रही है.

713 लोगों की इस लिस्ट में उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर, मिर्ज़ापुर, सहारनपुर, शाहजहांपुर के भी कई लोग उत्तरखंड आए हैं. ऐसे में उन्हें भी खोजा जा रहा है. राज्य के लॉ एंड ऑर्डर डीजी अशोक कुमार ने कहा है कि हम सभी 713 लोगों को खोज निकालेंगे.

उत्तर प्रदेश

पुलिस ने 31 मार्च को 157 ऐसे लोगों की पहचान की थी जो निज़ामुद्दीन ले मरकज में शामिल हुई थी. 1 अप्रैल को ऐसे 569 और ऐसे लोगों की पहचान की गई है जो मरकज में शामिल हुए थे. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट मुताबिक़ पुलिस ने कहा है कि इन सभी में कोरोना संक्रमण के लक्षण नहीं दिखे हैं. एहतियातन इन सभी लोगों को क्वारंटीन किया गया है.

पुलिस ने 218 विदेशी लोगों को भी ट्रेस किया है जो उत्तर प्रदेश में टूरिस्ट वीज़ा पर आए थे. पुलिस ने कहा है कि ये लोग मरकज में शामिल थे या नहीं, इसकी जांच की जा रही है.

झारखंड

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट मुताबिक़ झारखंड की स्पेशल ब्रांच ने जानकारी दी है कि 40 ऐसे लोगों की पहचान की गई है जो मार्च में मरकज में शामिल हुए थे. इसमें राज्य सरकार में मंत्री का बेटा भी शामिल है. इन सभी को क्वारंटीन में रखा गया है.

जिन 40 लोगों की पहचान की गई है उसमें से अधिकतर लोग कह रहे हैं कि वह हाल के दिनों में निज़ामुद्दीन गए ही नहीं. कुछ लोगों ने तो यह भी कहा है कि वह जीवनकाल में कभी भी निज़ामुद्दीन नहीं गए.

मंत्री जी ने अपने बेटे को लेकर कहा है कि वह हाल के महीनों में कभी भी निज़ामुद्दीन नहीं गया है. मुझे समझ नहीं आ रहा है कि लिस्ट में उसका नाम कैसे आया.

राजस्थान

राज्य के डायरेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस भूपेंद्र सिंह ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए कहा है कि अभी तक हमने जमात में शामिल हुए 183 लोगों की पहचान की है. इसके साथ ही पांच नेपाली नागरिकों को भी ट्रेस किया गया है. संबंधित डीएम को इन सभी लोगों को क्वारंटीन में रखने के निर्देश दिए गए हैं.

हरियाणा

राज्य सरकार ने 480 ऐसे लोगों की पहचान की है जो निज़ामुद्दीन में हुए धार्मिक सभा में पहुंचे थे. अधिकारी अभी 30 और लोगों को ट्रैक कर रहे हैं. ऐसे में यह संख्या 500 के पार पहुंच सकती है.

इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट मुताबिक़, जिन 480 लोगों की पहचान की गई है, इनमें से अधिकार हरियाणा के रहने वाले नहीं हैं. कई लोग असम, बिहार, तमिलनाडु, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों से आए हुए हैं. 89 विदेशी लोग भी शामिल हैं जो थाईलैंड, श्रीलंका, इंडोनेशिया, नेपाल, बांग्लादेश और साउथ अफ्रीका से हैं.

तेलंगाना

1 अप्रैल को राज्य में 30 नए लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए. तीन लोगों की मौत हो गई है. इसके साथ ही राज्य में कोरोना के अब 127 मरीज़ हैं. कुल नौ लोगों की मौत हो चुकी है. मरने वाले नौ लोग और 30 कोरोना संक्रमित लोग निज़ामुद्दीन के मरकज में शामिल थे.

सीएम के चंद्रशेखर राव ने कहा है कि राज्य में कोरोना निज़ामुद्दीन के मरकज में शामिल लोगों के कारण फ़ैल रहा है.

दिल्ली

दिल्ली में अभी तक 153 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं, इसमें से 53 लोग मरकज में शामिल थे. यह जानकारी दिल्ली सरकार ने 1 अप्रैल की शाम दी थी.
कुल 275 विदेशी लोगों की पहचान की गई है जो मरकज में शामिल थे. इन सभी को आइसोलेशन में रखा गया है.

असम

1 अप्रैल को असम में कोरोना के आठ पॉजिटिव केस मिले. राज्य सरकार के मंत्री हेमंत बिश्व शर्मा ने मीडिया से बात करते हुए जानकारी दी है कि ये सभी निजामुद्दीन के मरकज में शामिल हुए थे. राज्य में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 13 पहुंच गई है.

मणिपुर

मणिपुर से निजामुद्दीन के मरकज में दो लोग शामिल हुए थे. कोरोना वायरस टेस्ट में ये दोनों लोग संक्रमित पाए गए हैं. मणिपुर में कोरोना वायरस के दो एक्टिव केस हैं.

ओडिशा

ओडिशा सरकार ने 20 ऐसे लोगों की पहचान की है जो निजामुद्दीन के धार्मिक सभा में शामिल हुए थे. इसमें से 15 लोगों की टेस्ट रिपोर्ट आ चुकी है. इनमें से कोई कोरोना से संक्रमित नहीं है. पांच की रिपोर्ट का इंतज़ार है.


विडियो- निज़ामुद्दीन के तबलीगी जमात से लौटने के बाद किन राज्यों में कोरोना के मरीज़ पाए गए?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

'मरने के लिए मस्जिद से अच्छी जगह नहीं हो सकती', कहने वाले मौलाना साद ने अब क्या कहा है?

तबलीगी जमात के प्रमुख हैं मौलाना साद.

सिर्फ दिल्ली ही नहीं, मलेशिया में हुई तबलीगी जमात से कोरोना के लिंक भारत से जुड़े हैं!

30 देशों के करीब 16,000 लोग एक जगह इकट्ठा हुए थे.

दिल्ली के तबलीग़ी जमात में कब क्या हुआ? कैसे मरकज़ में कोरोना के मामले बढ़ते गए?

जानिए पूरी टाइमलाइन.

इस राज्य ने च्यूइंग गम खाने पर भी बैन लगा दिया है, कहा- इससे भी फैल सकता है कोरोना

तीन महीने तक च्यूइंग गम बेचने, खरीदने, खाने सब पर बैन.

युवराज ने आखिरकार बता ही दिया किस कप्तान ने उन्हें सबसे ज्यादा सपोर्ट किया

इस बार धोनी और विराट पर खुलकर बोले हैं युवी

रामायण की सीता बन घर-घर फेमस हुईं दीपिका अब इस बड़ी हस्ती का रोल निभाएंगी

वो महिला जो भारत की आजादी के लिए गांधीजी के साथ कदम से कदम मिलाकर चलीं.

कोरोना के लिए जोस बटलर ने अपनी ऐसी चीज़ नीलाम कर दी कि लोग बढ़-चढ़कर बोली लगा रहे हैं

पहले खेल से और अब इस शानदार पहल से जोस बटलर ने दिल जीत लिया.

इंडिया में जितने यूज़र हैं, उसकी चौगुनी मदद Tik Tok कोरोना से लड़ने के लिए कर रहा है

इस मदद से हजमैट सूट और मास्क की दिक्कत काफी कम हो जाएगी.

लॉकडाउन में घर से बाहर निकलने के लिए 'डॉक्टर' बन गया फिर जो हुआ हमेशा याद रहेगा

आप ऐसा न करें नहीं तो कानूनी पचड़े में फंस जाएंगे

पता है अजय देवगन ने कोरोना लॉकडाउन की मार झेल रहे वर्कर्स के लिए कितने पैसे दिए!

अजय ने दो-दो डोनेशन दिए हैं.