The Lallantop
Advertisement

सनातन धर्म विवाद में सुप्रीम कोर्ट ने स्टालिन और तमिलनाडु सरकार को क्या नोटिस भेजा?

सुप्रीम कोर्ट ने सनातन धर्म पर दिए बयान को लेकर DMK नेता Udhaynidhi Stalin और तमिलनाडु सरकार को नोटिस जारी किया है. स्टालिन ने सनातम धर्म की तुलना डेंगू, मलेरिया और कोरोना जैसी माहमारी से की थी. उन्होंने ये भी कहा था कि इसे खत्म करने की ज़रूरत है.

Advertisement
SC issued a notice to Tamil Nadu Government and Udhayanidhi Stalin over his remark on Sanatana Dharma.
DMK के नेता उदयनिधि स्टालिन अपने बयान पर कायम हैं और कई बार सनातन धर्म को खत्म करने बात कह चुके हैं. (फोटो क्रेडिट - X)
font-size
Small
Medium
Large
22 सितंबर 2023
Updated: 22 सितंबर 2023 13:55 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

भारतीय सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court of India) ने सनातन धर्म (Sanatana Dharma row) पर दिए बयान को लेकर DMK नेता उदयनिधि स्टालिन (Udhaynidhi Stalin) को नोटिस जारी किया है. उनके साथ ही तमिलनाडु सरकार (Government of Tamil Nadu) को भी नोटिस भेजा गया है.

न्यूज एजेंसी ANI ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर ये जानकारी दी.

तमिल नाडु सरकार में युवा कल्याण मंत्री और DMK नेता उदयनिधि स्टालिन ने सनातम धर्म की तुलना डेंगू, मलेरिया और कोरोना जैसी माहमारी से की थी. साथ ही उन्होंने कहा था कि इसे खत्म करने की ज़रूरत है. वे 2 सितंबर को 'सनातन उन्मूलन सम्मेलन' नाम के एक कार्यक्रम में पहुंचे थे. यहां उन्होंने तमिल भाषा में बयान देते हुए कहा था,

"सनातन धर्म सामाजिक न्याय और समानता के खिलाफ है. कुछ चीजों का विरोध नहीं किया जा सकता, उन्हें खत्म ही कर देना चाहिए. हम डेंगू, मच्छर, मलेरिया या कोरोना का विरोध नहीं कर सकते. हमें इसे मिटाना है. इसी तरह हमें सनातन को भी मिटाना है."

ये भी पढ़ें- स्टालिन के एक बयान से मचा सनातन धर्म पर बवाल 

अपने बयान पर कायम हैं स्टालिन

उदयनिधि स्टालिन अपने बयान पर कायम हैं. वे कई बार इसे दोहरा भी चुके हैं. हाल ही में 19 सितंबर को उन्होंने कहा था,

"हम कह रहे हैं कि हमें सनातन को खत्म करना है. हम जातिगत भेदभाव के बारे में बात कर रहे हैं. हम कह रहे हैं कि सभी लोग जन्म से बराबर होते हैं. जहां भी जातिगत भेदभाव हो रहा है, वो गलत है. हम उसके खिलाफ अपनी आवाज़ उठा रहे हैं."

वे तमिलनाडु के राज्यपाल आरएन रवि के दिए एक बयान पर अपनी बात रख रहे थे. राज्यपाल ने तंजावुर में एक कार्यक्रम में कहा था कि हमारे समाज में छुआछूत और सामाजिक भेदभाव है. समाज के एक बड़े हिस्से के भाई और बहनों के साथ बराबरी का व्यवहार नहीं किया जाता. ये दुखद है. इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता. हिंदू धर्म ऐसा नहीं कहता. हिंदू धर्म बराबरी की बात कहता है.

ये भी पढ़ें- 'सनातन को खत्म करो', स्टालिन ने कही फिर वही बात

सनातन धर्म खत्म करने का आरोप

इसके चलते मद्रास हाईकोर्ट में एक वकील ने जनहित याचिका भी दायर की है. वकील ने सनातन धर्म को लेकर दिए बयान के लिए उदयनिधि स्टालिन पर FIR दर्ज़ करने की मांग की है.

स्टालिन को अपने बयान के लिए भारी विरोध का सामना करना पड़ा है. BJP और खुद पीएम मोदी ने आरोप लगाए कि विपक्ष का INDIA गठबंधन सनातन धर्म को खत्म करना चाहता है. इस विवाद के चलते उदयनिधि स्टालिन के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दायर की गई. अब कोर्ट ने उन्हें नोटिस भेजा है. 

ये भी पढ़ें- स्टालिन के बेटे से बड़ा बवाल तो ए राजा ने कर दिया

वीडियो: 'डेंगू, मलेरिया, कोरोना...', तमिलनाडु CM स्टालिन के बेटे उदयनिधि का सनातन धर्म पर बयान वायरल

thumbnail

Advertisement

Advertisement