The Lallantop
Advertisement

माउंट एवरेस्ट के पास फुटवा खिंचाने के लिए हुआ 'हम फर्स्ट हम फर्स्ट', थप्पड़-लात-मुक्के सब चले

घटना का वीडियो वायरल है. इसमें Mount Everest के फोटो खिंचाने वाले पॉइंट पर दो कपल्स को बुरी तरह लड़ते देखा जा सकता है.

Advertisement
Mount Everest tourists throw punches
वीडियो में दिख रहे दोनों कपल चीन के बताए जा रहे हैं.
10 जुलाई 2024 (Updated: 10 जुलाई 2024, 23:15 IST)
Updated: 10 जुलाई 2024 23:15 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

समुद्र तल से ऊपर पृथ्वी के सबसे ऊंचे पर्वत माउंट एवरेस्ट पर झगड़ा हो गया. दो टूरिस्ट कपल्स के बीच लात-घूंसे तक चल गए. ये सब तिब्बत के ‘8848 व्यूइंग प्लेटफॉर्म’ पर हुआ. बताया जा रहा है कि ये लड़ाई बेस्ट फोटो स्पॉट पर तस्वीर खिंचाने को लेकर हुई. इस हाथापाई को रोकने के लिए एवरेस्ट बॉर्डर पुलिस को आना पड़ा.

ब्रिटिश ऑनलाइन न्यूज पेपर 'द इंडिपेंडेंट' की रिपोर्ट के मुताबिक ये घटना 25 जून को हुई. तब जब एक टूर गाइड ने साथ आए ग्रुप को ‘एवरेस्ट एलिवेशन मेजरमेंट मॉन्यूमेंट’ की बगल में एकसाथ फोटो खिंचवाने के लिए कहा. एवरेस्ट पर हुई इस हाथापाई का वीडियो भी सामने आया है. 

Mount Everest tourists fight
(फोटो: वीडियो स्क्रीनशॉट /nypost)

ये भी पढ़ें- एवरेस्ट चढ़ने गए भारतीय की मौत, दो और पर्वतारोहियों को मृत माना गया

वीडियो में दो आदमी जमीन पर लोटते हुए एक-दूसरे को मुक्का मारते हुए दिखाई दे रहे हैं. वहीं एक महिला लड़ रहे दोनों आदमियों में से एक आदमी को हटाने की कोशिश करती नजर आ रही है. वहीं दूसरी महिला लड़ रहे उसी में एक आदमी को लात मारती दिख रही है. वीडियो में दिख रहे दोनों कपल चीन के बताए जा रहे हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक घटना के दौरान मौजूद रहे लोगों ने स्थानीय मीडिया को बताया कि दोनों कपल्स के बीच फोटो के लिए सबसे अच्छी जगह को लेकर झगड़ा हो गया था. वो लोग इस पर बहस कर रहे थे कि कौन कहां खड़ा होगा. बाद में उनकी बहसबाजी हाथापाई में बदल गई.

कुछ ही देर बाद एवरेस्ट बॉर्डर पुलिस मौके पर पहुंची और इस झगड़े को रोका. हाथापाई में शामिल चारों लोगों को हिरासत में ले लिया गया. ये साफ नहीं हो पाया कि लड़ाई में शामिल कोई भी व्यक्ति घायल हुआ या नहीं. बता दें कि चीन ने तिब्बती हिस्से से माउंट एवरेस्ट पहुंचने का रास्ता विदेशी पर्वतारोहियों के लिए इस साल अप्रैल में फिर से खोला है. हर साल, गैर-चीनी पर्वतारोहियों के लिए 300 परमिट तक उपलब्ध होते हैं. 

ये भी पढ़ें- धरती से लगभग आधा है मंगल ग्रह लेकिन इसका पहाड़ एवरेस्ट से दोगुना ऊंचा? ऐसा क्यों?

वीडियो: तारीख: माउंट एवरेस्ट के नाम पर अंग्रेजों ने क्या झूठ बोला?

thumbnail

Advertisement

Advertisement