The Lallantop
Advertisement

मणिपुर में फिर से तनाव, पुलिस अधिकारी की किडनैपिंग के बाद सरकार ने बुलाई सेना

अरामबाई तेंगगोल संगठन के लोगों ने ASP अमित कुमार को उनके घर से उठा लिया था. हालांकि पुलिस औैर सुरक्षा बलों के कार्रवाई के बाद पुलिस अफसर को बचा लिया गया था.

Advertisement
manipur army and assam rifles called after senior cop abducted
पुलिस अधिकारी के अपहरण के बाद सेना बुलाई गई. (फोटो - आजतक)
font-size
Small
Medium
Large
28 फ़रवरी 2024 (Updated: 28 फ़रवरी 2024, 14:23 IST)
Updated: 28 फ़रवरी 2024 14:23 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

मणिपुर (Manipur Violence) में एक सीनियर पुलिस को उनके घर से अगवा करने की ख़बर के बाद से तनाव बढ़ गया है. इसके बाद सेना को बुलाया गया है. साथ ही असम राइफल्स की 4 टुकड़ियों को भी इम्फाल ईस्ट (Imphal East) में तैनात किया गया है. बता दें कि मैतेई समूह अरामबाई तेंगगोल संगठन के लोगों ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ASP) अमित कुमार को उनके घर से अपहरण कर लिया था. हालांकि, पुलिस औैर सुरक्षाबलों की त्वरित कार्रवाई के बाद पुलिस अफ़सर को बचा लिया गया था. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनकी हालत स्थिर है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक़, मामला मंगलवार 27 फ़रवरी की शाम का है. अरामबाई तेंगगोल के लोगों ने इम्फाल के वांग्खई में कुमार के घर में हमला कर दिया. हमलावरों ने अमित कुमार के घर में तोड़फोड़ की और वहां मौजूद 4 वाहनों को नुकसान पहुंचाया था. दरअसल, अमित ने कुछ दिन पहले वाहन चोरी के आरोप में मैतेई संगठन अरामबाई तेंगगोल के 6 लोगों को गिरफ़्तार किया था. इस गिरफ्तारी पर मीरा पैबी (मैतेई महिला समूह) ने प्रदर्शन किया था और आरोपियों की रिहाई को लेकर रोड ब्लॉक कर दी थी.

ये भी पढ़ें -  ये घटनाएं बीरेन सिंह सरकार की कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ने का खुला सबूत!

ASP के पिता एम. कुल्ला ने बताया कि उन्होंने हमलावरों को रोकने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने अचानक से गाड़ियों पर गोलीबारी शुरू कर दी. इससे उन्हें अंदर जाकर खुद को बंद करना पड़ा. लेकिन पुलिस अधिकारी को अगवा करके ले जाया गया. इस घटना के बाद पुलिस तुरंत एक्टिव हुई और कुछ ही घंटों में पुलिस अधिकारी को छुड़ा लिया गया. इसके बाद बिगड़ते हालात को देखते हुए राज्य सरकार ने सेना की मदद ली है.

बता दें कि मणिपुर में पिछले साल 3 मई को कुकी और मैतेई समुदाय के बीच हिंसा भड़की थी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस हिंसा में अब तक 180 लोगों की मौत हो चुकी है.

वीडियो: ‘मणिपुर से तुलना ना करें’, संदेशखाली केस में सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच से किया इंकार.

thumbnail

Advertisement

election-iconचुनाव यात्रा
और देखे

Advertisement

Advertisement