The Lallantop
Advertisement

NIA के निशाने पर कैसे आ गया सोशल मीडिया इंफ्लूएंसर बॉबी कटारिया? आरोप बहुत गंभीर लगा है!

Bobby Kataria को Human Trafficking के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. उन्हें 28 मई को कोर्ट में पेश किया जाएगा.

Advertisement
 Bobby Kataria, Influencer, Youtuber
बॉबी कटारिया को पुलिस ने किया गिरफ्तार (फोटो: Bobby Kataria/Instagram)
28 मई 2024
Updated: 28 मई 2024 11:15 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

सोशल मी़डिया इंफ्लूएंसर और यूट्यूबर बॉबी कटारिया (Bobby Kataria) को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.  कटारिया को कबूतरबाजी (Human Trafficking) के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. उत्तर प्रदेश के फतेहपुर के रहने वाले अरुण कुमार ने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी. जिसके बाद कटारिया को गिरफ्तार किया गया. 

इंडिया टुडे से जुड़े नीरज वशिष्ठ की रिपोर्ट के मुताबिक शिकायत में बताया कि कटारिया अपने इंस्टाग्राम पेज पर विदेश में नौकरी दिलवाने का विज्ञापन दिया था. अरुण के मुताबिक वो और हापुड़ के धौलाना निवासी मनीष तोमर बेरोज़गार थे, इसलिए आसानी से उस विज्ञापन के झांसे में आ गए. दोनों ने बॉबी की टीम से संपर्क किया. थोड़ी बहुत बातचीत होने के बाद दोनों को गुरुग्राम के सेक्टर 109 स्थित ऑफिस में बुलाया गया. ऑफिस में उनसे 2 हज़ार रुपये की रजिस्ट्रेशन फीस वसूली गई. उन्हें बताया गया कि UAE में नौकरी दिलाई जाएगी.

बस, इसी सपने को साकार करने के चक्कर में अरुण और मनीष फंसते गए और तीन किस्तों में 3 लाख 50 हजार रुपए बॉबी के अकाउंट्स में जमा करवा दिए. पैसे जमा होने के बाद बॉबी ने उनकी टिकट लाओस के लिए करवा दी. लाओस के एयरपोर्ट पर अरुण और मनीष को बॉबी कटारिया का एक दोस्त मिला, जिसने खुद को पाकिस्तानी एजेंट बताया. उस शख्स ने दोनों को वियनतियाने के एक होटल में रुकवाया. अगले दिन उन्हें अभि नाम का एक और शख्स मिला, जिसने नवतुई के लिए ट्रेन टिकट दिए.

ये भी पढ़ें: उबासी लेने को मुंह खोला फिर बंद ही नहीं हुआ, सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर की तस्वीरें वायरल

नवतुई पहुंचने पर उनका संपर्क अंकित शौकीन और नितीश शर्मा नाम के दो लोगों से हुआ. अंकित और नितीश दोनों को एक बेनामी चीनी कंपनी में ले गए, जहां उनके पासपोर्ट जब्त कर लिए गए. इसके बाद उन्हें बंदी बना लिया गया और मारपीट की गई.पीड़ितों ने बताया कि उन्हें अमेरिकन साइबर फ्रॉड के गैरकानूनी धंधे में लगा दिया गया था. वहां उनसे जबरदस्ती काम करवाया जाता था. और काम नहीं करने पर मारा जाता था. एक दिन दोनों को मौका मिला और वो भागकर भारतीय एम्बेसी पहुंचे. जहां उन्होंने बॉबी कटारिया की शिकायत दर्ज की. इसी शिकायत पर National Investigation Agency यानी NIA तफ़्तीश करने में जुट गई. 

NIA के छापे

NIA ने मामले में उत्तर प्रदेश, बिहार, गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और चंडीगढ़ की 15 अलग-अलग लोकेशन पर छापा मारा. जिसके बाद वडोदरा के मनीष हिंगू, गोपालगंज के प्रहलाद सिंह, साउथ वेस्ट दिल्ली के नाबियालम, गुरुग्राम के बलवंत कटारिया उर्फ बॉबी कटारिया और चंडीगढ़ के सरताज सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया. 

अरुण और मनीष ने NIA को बताया कि ह्यूमन ट्रैफिकिंग में 150 से ज्यादा भारतीयों को फंसाया गया है. जांच के दौरान बॉबी कटारिया के फ्लैट और आफिस से कई संदिग्ध कागज़ और नकदी भी बरामद हुए हैं. हालांकि ये पहली बार नहीं है जब बॉबी कटारिया को गिरफ्तार किया गया है. इससे पहले उन्हें जबरन वसूली और सोशल मीडिया पर एक महिला को गाली देने के मामले में गिरफ्तार किया गया था. अगस्त 2022 में भी बीच सड़क पर शराब पीने का वीडियो बनाने पर बॉबी को गिरफ्तार किया गया था. इसके अलावा प्लेन में सिगरेट पीने के लिए भी इन्हें गिरफ्तार किया जा चुका है.

वीडियो: सलमान खान के भाई अरबाज़ को IPL केस में पुलिस ने बुलाया, और उन्हें फिल्म के इवेंट में जाना पड़ा

thumbnail

Advertisement

Advertisement