The Lallantop
Advertisement

भोपाल के इंजीनियर ने बिना ड्राइवर की गाड़ी बना दी, वीडियो देख टेस्ला वाले Elon Musk दंग रह जाएं

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में IIT से पढ़ाई कर चुके इंजीनियर संजीव शर्मा ने एक ऐसी गाड़ी बनाई है, जो बिना ड्राइवर के चलती है. भोपाल में इन दिनों बिना ड्राइवर वाली इस कार का ट्रायल चल रहा है.

Advertisement
Bhopal engineer made  driverless vehicle
बिना ड्राइवर के चलने वाली इस गाड़ी का अब तक 50 हजार किमी का ट्रायल रन हो चुका है.
pic
रवीश पाल सिंह
font-size
Small
Medium
Large
3 अप्रैल 2024
Updated: 3 अप्रैल 2024 20:14 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

एलन मस्क की टेस्ला बिना ड्राइवर वाली कार बनाने का दावा ठोकती रही और अपने देश के एक इंजीनियर ने बोलेरो को ड्राइवरलेस कर दिया. मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के इस इंजीनियर ने बिना ड्राइवर के चलने वाली गाड़ी (driverless vehicle) बनाई है. शुरुआत में इस गाड़ी को सिर्फ चालू करके छोड़ना है. फिर गाड़ी बिना ड्राइवर के चलती जाएगी. दावा है कि इसके सामने कोई इंसान आए या कोई दूसरी गाड़ी, तो बिना ड्राइवर वाली ये गाड़ी अपना रास्ता खुद ही बना लेगी.

बोलेरो को बनाया ड्राइवरलेस

भोपाल के इंजीनियर संजीव शर्मा ने महिंद्रा बोलेरो को बिना ड्राइवर के चलने वाली गाड़ी में तब्दील किया है. और अब इस गाड़ी का सड़कों पर ट्रायल चल रहा है. आनंद महिंद्रा ने भी इस ड्राइवरलेस गाड़ी के ट्रायल का वीडियो शेयर किया है.

संजीव शर्मा IIT रुड़की से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बीटेक कर चुके हैं. इसके बाद उन्होंने इजरायल और कनाडा के कॉलेजों में भी पढ़ाई की. पढ़ाई पूरी होने के बाद संजीव ने अपनी खुद की कंपनी Swaayatt Robot शुरू की. आजतक के रवीश पाल सिंह से बातचीत में संजीव ने बताया कि उन्होंने साल 2015-16 से बिना ड्राइवर वाली गाड़ी के प्रोजेक्ट पर काम शुरू कर दिया था. 

ये भी पढ़ें- नदी साफ करने का एक कारगर आइडिया मोटी फंडिंग दिला सकता है, वो भी आनंद महिंद्रा से!

बिना ड्राइवर के कैसे चलती है ये गाड़ी?

बिना ड्राइवर के चलने वाली गाड़ी में 12 कैमरे और कई सेंसर हैं. इन कैमरों, सेंसर और GPS की मदद से गाड़ी में लगा सॉफ्टवेयर आसपास का मैप बना लेता है. इसके आधार पर सॉफ्टवेटर कार को कंट्रोल करता है. संजीव का कहना है कि गाड़ी के सेंसर इतने कारगर हैं कि किसी भी गाड़ी या शख्स के सामने आने से गाड़ी खुद ही रास्ते का अनुमान लगाकर किनारे से निकल जाती है.

(फोटो: आजतक)

संजीव ने बताया कि उनकी कंपनी को साल 2021 में इस प्रोजेक्ट के ट्रायल के लिए उन्हें 3 मिलियन डॉलर (लगभग 24 करोड़ रुपये) का ग्रांट मिला था. अब तक वो करीब 50 हजार किलोमीटर तक गाड़ी चलाकर ट्रायल कर चुके हैं. उन्हें प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाने के लिए और फंडिंग की जरूरत पड़ेगी.

आनंद महिंद्रा ने शेयर किया वीडियो

संजीव के इस स्टार्टअप में देश-विदेश की कई कंपनियां दिलचस्पी दिखा रही हैं. वहीं अब महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने भी संजीव की तारीफ की है. उन्होंने X पर इस बिना ड्राइवर वाली इस कार का वीडियो शेयर करते हुए लिखा,

"पूरे भारत में टेक इनोवेशन बढ़ने का प्रमाण. @sanjeevs_iitr (संजीव शर्मा) कॉम्प्लेक्स मैथ का इस्तेमाल कर लेवल 5 ऑटोनॉमी को टारगेट कर रहे हैं. मैं इसकी जोरदार सराहना करता हूं. और निश्चित रूप से उनकी कार की पसंद पर बहस नहीं करेंगे!"

शेयर किए गए वीडियो में बिना ड्राइवर वाली महिंद्रा बोलेरो सड़क पर चलती दिख रही है. गाड़ी का स्टीयरिंग व्हील अपने आप ही घूमता नज़र आ रहा है. गाड़ी सड़क पर सामने आ रही गाड़ियों और लोगों के हिसाब से अपना रास्ता बदलते भी दिख रही है. आनंद महिंद्रा के शेयर किए गए इस वीडियो पर अब तक 9 लाख से ज्यादा व्यूज आ चुके हैं. इसे 2 हजार से ज्यादा यूजर्स ने शेयर किया है.

वीडियो: ट्रेन का ड्राइवर नाश्ता करने उतरा जम्मू में, गाड़ी अपने आप पहुंच गई पंजाब

thumbnail

Advertisement