Submit your post

Follow Us

वाह! मकान मालिकों की दादागिरी ख़त्म करने के लिए मोदी सरकार बढ़िया क़ानून ला रही है

5
शेयर्स

मकान मालिक और किराएदार के झगड़े आपने भी सुने होंगे. अक्सर किच-किच होती ही रहती है. पर मोदी सरकार ने इस पर लगाम लगाने का फैसला किया है. इसके लिए सरकार ने कानून लाने का फैसला किया है. मॉडल किराएदारी कानून का ड्राफ्ट जारी कर दिया गया है. इसमें ऐसे इंतजाम किए गए हैं, जिससे मकान या दुकान मालिक और किराएदार दोनों के हित सुरक्षित रहेंगे. सरकार ने फिलहाल इस मसौदे पर आम लोगों के सुझाव मांगे हैं. इसके बाद इसे कानून बनाने की तैयारी है.

किराएदार को क्या फायदा होगा?
सरकार की ओर से जो ड्राफ्ट जारी किया गया है, उससे किराएदार को कई फायदे हैं. मसलन-

1- कोई मकान मालिक सिर्फ 2 महीने का एडवांस किराया ले सकेगा. (अभी कई शहरों में किराएदारों से मकान मालिक 11 महीने की एडवांस सिक्योरिटी मनी लेते हैं.)

2- रेंट एग्रीमेंट का टाइम खत्म होने से पहले किराएदार को नहीं निकाला जा सकेगा.

3- मकान मालिक घर का मुआयना या रिपेयर कराने से 24 घंटे पहले लिखित सूचना देगा.

4- किराएदार को निकालने की कार्रवाई तभी शुरू हो सकती है, जब उसने लगातार 2 महीने का किराया न दिया हो.

5- किराए की अवधि के दौरान बीच में किराया नहीं बढ़ाया जा सकेगा.

6- मकान मालिक को किराए में किसी तरह का बदलाव करने के लिए तीन महीने पहले नोटिस देना होगा.

7- कोई विवाद होने पर मकान मालिक किराएदार की बिजली और पानी जैसी जरूरी सुविधाएं बंद नहीं कर सकेंगे.

मकान मालिक को क्या फायदे होंगे?

1- रेंट एग्रीमेंट के बाद भी अगर किराएदार मकान खाली नहीं करता तो मकान मालिक चार गुना ज्यादा किराया मांग सकेंगे.

2- किराएदार अगर वक्त पर मकान या दुकान खाली नहीं करता तो मकान मालिक अगले दो महीने तक उससे दोगुना किराए की मांग कर सकेगा. दो महीने बाद चार गुना किराया वसूलने का हक होगा.

3- मकान मालिक अगर रेनोवेशन कराता है, तो वो किराएदार की सहमति से किराया बढ़ा सकेगा.

4- किराएदार अगर मकान खाली कर देता है तो मकान मालिक सिक्योरिटी मनी से अपनी लेनदारी काट सकेगा.

5- बिल्डिंग की देखभाल की जिम्मेदारी मकान मालिक के साथ किराएदार की भी होगी.

क्यों लाया जा रहा है ये कानून?

माना जा रहा है कि ये कानून मकान मालिकों का डर निकालने के लिए लाया जा रहा है. इस वक्त देश भर में एक करोड़ से ज्यादा मकान खाली पड़े हैं. इनके मकान मालिक सिर्फ इस वजह से प्रॉपर्टी किराए पर नहीं दे रहे कि कहीं उनकी प्रॉपर्टी हड़प न ली जाए. मोदी सरकार साल 2022 तक सभी को घर देने के लिए प्रतिबद्ध है. इस कानून के लागू हो जाने से मकान मालिक और किराएदार दोनों कानूनी पचड़े में फंसने से बचे रहेंगे.

फिर भी विवाद हुआ तो क्या होगा?

नए कानून के ड्राफ्ट के मुताबिक राज्यों में रेरा जैसी रेंट अथॉरिटी गठित की जाएंगी. रेंट अथॉरिटी के पास कुछ इस तरह के काम रहेंगे-

1- प्रॉपर्टी को किराए पर लेने-देने वाले कानून का पालन कराना.

2- किसी प्रॉपर्टी के किराए पर लेने-देने पर इनको सूचना देनी होगी.

3- रेंट अथॉरिटी को मासिक किराया और किराए की अवधि की जानकारी दी जाएगी.

4- विवाद के हालात में दोनों पार्टी इसी अथॉरिटी के पास जाएंगी.

5- मकान मालिक और किराएदार रिपेयरिंग वगैरह की सूचना भी अथॉरिटी को देंगे.

6- राज्य सरकारें रेंट कोर्ट और रेंट ट्रिब्यूनल भी बनेंगी. यहां गंभीर विवादों का निपटारा होगा.

कानून लागू कैसे होगा?

ड्राफ्ट के मुताबिक सूबे की सरकारें अपनी मर्जी से ये कानून लागू कर सकेंगे. ये कानून पीछे की तारीखों से लागू नहीं होगा. इसका मतलब ये है कि बड़े शहरों के उन लाखों प्रॉपर्टी मालिकों को कोई फायदा नहीं मिलेगा, जो अपनी प्रॉपर्टी बेहद कम किराए पर उठाए हुए हैं. उन पर जो केस वगैरह चल रहे हैं वे चलते रहेंगे. माना जा रहा है कि इस मसौदे को अगस्त तक कैबिनेट की मंजूरी मिल सकती है. इसके बाद इसे संसद में पेश किया जा सकता है.


वीडियोः मोदी सरकार सार्वजनिक कंपनियों में विनिवेश से कितना पैसा बना पाएगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Modi government working on new model tenancy act to define landlords and tenants rights, draft put up for public viewing

टॉप खबर

बच्चों के बलात्कार पर अब होगी फांसी, मोदी सरकार का फैसला

बहुत दिनों से बात चल रही थी, अब काम होगा!

भाजपा विधायक की बेटी ने दलित से शादी की तो बाप ने मरवाने के लिए गुंडे भेज दिए!

पति और पत्नी भागे-भागे वीडियो बना रहे हैं.

एक महीने से छात्र धरने पर हैं, किसी को परवाह नहीं

ये खबर हर स्टूडेंट को पढ़नी चाहिए.

बजट में सरकार ने अमीरों पर बंपर टैक्स लगाया

पेट्रोल-डीज़ल पर एक रुपया अतिरिक्त लेगी सरकार.

राहुल गांधी के पत्र की चार ख़ास बातें, तीसरी वाली में सारे देश की दिलचस्पी है

आज राहुल गांधी ने आखिरकार इस्तीफा दे ही दिया.

आकाश विजयवर्गीय पर मोदी बहुत नाराज़ हुए, उतना ही जितना साध्वी प्रज्ञा पर हुए थे!

"अफ़सोस! दिल से माफ़ नहीं कर पाएंगे."

नुसरत जहां के खिलाफ़ जिस फतवे पर बवाल मचा, वैसा फ़तवा जारी ही नहीं हुआ

निखिल से शादी के बाद सिन्दूर-साड़ी में संसद पहुंची थीं नुसरत

क्या ज़ायरा ने इस्लाम के लिए फ़िल्म लाइन छोड़ दी?

जिन चीज़ों से रील लाइफ में लड़कर सुपर स्टार बनीं, निजी ज़िंदगी में वो लड़ाई ही छोड़ दी है.

मायावती ने गठबंधन क्या तोड़ा, खुद की लुटिया ही डुबो ली है

गठबंधन तोड़कर अखिलेश और माया चवन्नी भर सीटें भी नहीं जीत रहे हैं.

खट्टर सरकार रेपिस्ट बाबा की जेल से छुट्टी का समर्थन कर रही, लेकिन जानिए ऐसा होना संभव क्यूं नहीं

जेल से छुट्टी क्यों चाह रहा है बलात्कारी बाबा राम रहीम?