Submit your post

Follow Us

आओ चीन का फोन हाथ में लेकर लिखें - चीन के सामान का बहिष्कार हो

6.54 K
शेयर्स

मसूद अज़हर को एक बार फिर से ग्लोबल आतंकवादी नहीं घोषित किया जा सका. इसके पीछे है चीन और उसकी वीटो पॉवर. चीन ने असल में कहा कि वो मसूद अज़हर को ग्लोबल आतंकवादी घोषित करने और उसपर प्रतिबन्ध लगवाने के इस मैटर पर अभी कुछ और विमर्श करना चाहता है और मसले को पूरी तरह से समझना चाहता है. मालूम नहीं है कि आतंकवाद जैसे साफ़ और ज़ाहिर मसले पर चीन अभी भी क्या समझना चाहता है. इसके जवाब में सरकार जो करेगी वो तो देखा ही जाएगा लेकिन आम जनता अलग ही लेवल पर पहुंच गई. पिछले कितने ही मौकों की तरह एक बार फिर चाइनीज़ सामान के बहिष्कार की बात की जाने लगी. मतलब, ऐसा लगता है जैसे चीन का सामान हम नहीं ख़रीदेंगे और शी ज़िनपिंग तुरंत ही फ़ोन कर के मोदी जी से माफ़ी मांगने लगेंगे.

पीएम मोदी ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ बेहतर रिशते बनाने की कोशिश की. लेकिन चीन ने चालबाज़ी बंद नहीं की.
पीएम मोदी ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ बेहतर रिशते बनाने की कोशिश की. लेकिन चीन ने चालबाज़ी बंद नहीं की.

इसी क्रम में एक बात और बताना चाहूंगा. एक और देश है जिसे इस देश का एक बहुत बड़ा कथित राष्ट्रवादी वर्ग मिट्टी में मिला हुआ देखना चाहता है. पाकिस्तान. इस मुल्क से हमारी रिश्तेदारी छिपी नहीं है. पहले हम एक थे फिर देश का विभाजन हुआ और एक अलग ही तरह की दुश्मनी की शुरुआत हुई. जब चीन ने मसूद अज़हर के मामले में इंडिया को झटका दिया तो भाजपा की एक प्रेस कांफ्रेंस हुई. इस में रवि शंकर प्रसाद सामने आये. उन्होंने एक-एक कर के राहुल गांधी से कई सवाल किये.

प्रेस कांफ्रेंस में रविशंकर प्रसाद लगातार हमलावर रहे. राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी की नीयत पर सवाल उठाने लगे.
प्रेस कांफ्रेंस में रविशंकर प्रसाद लगातार हमलावर रहे. राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी की नीयत पर सवाल उठाने लगे.

ये पाकिस्तान का अलग ही मसला है. हर कोई अपने दुश्मन का कनेक्शन पाकिस्तान से साबित करना चाहता है. अभी अगर भारतीय राजनीति देखी जाए तो मालूम पड़ेगा कि पाकिस्तान का अस्तित्व अगर बंद हो जाए तो न जाने कितने लोगों के मुंह से बोल नहीं फूटेंगे. क्यूंकि उनके पास बोलने को ही कुछ नहीं होगा. ऐसा लगने लगा है कि भारतीय राजनीति में पाकिस्तान उतना ही ज़रूरी इश्यू है जितना आलू के पराठें में आलू. और ऐसा कतई नहीं है कि एक ही पक्ष पाकिस्तान को लेकर ऐसा कहता है.

दोनों पार्टियां एक-दूसरे पर हमला करने का मौका नहीं छड़तीं. दोनों में एक बात कॉमन- पाकिस्तान का जिक्र.
दोनों पार्टियां एक-दूसरे पर हमला करने का मौका नहीं छड़तीं. दोनों में एक बात कॉमन- पाकिस्तान का जिक्र.

यहां राहुल गाँधी मोदी पर निशाना साध रहे हैं. उन्हें पाकिस्तान का पोस्टर बॉय बता रहे हैं. क्या किसी प्रधानमंत्री का पड़ोसी मुल्क के प्रधामनंत्री की नातिन की शादी में जाना कोई गुनाह है? क्या कोई प्रधानमंत्री अपने शपथ ग्रहण समारोह में पड़ोसी देश के पीएम को नहीं बुला सकता? अगर भाजपा पाकिस्तान-पाकिस्तान कह कर कांग्रेस पर लांछन लगाने पर तुली है तो क्या राहुल गांधी के लिए उसी भाषा में बात करना इतना ज़रूरी है?

इस सब कि शुरुआत कहां से और कब हुई, इसके बारे में मालूम करना तो मुश्किल है. लेकिन हां, ये यकीन से कहा जा सकता है कि चलता ही आ रहा है.

ये कमाल की बात है. मतलब आप अपने काम के लिए वोट नहीं मांग रहे हैं बल्कि सिर्फ़ इसलिए मांग रहे हैं जिससे पाकिस्तान में पटाखे न फूटें. ये किस तुक की बात है भाई?सरकार इसलिए चुनी जाती है जिससे हमारा विकास हो, देश आगे बढ़े. इसलिए नहीं कि पड़ोसी मुल्क में मायूसी छा जाए.

और रही बात चीन के सामान को बहिष्कार करने की तो कितना सामान बैन करवाएंगे या बॉयकॉट करेंगे आप. आपका फ़ोन चीन की वजह से ही आपके हाथ में हैं. आपके ब्रांडेड जूते, कपड़े, इलेक्ट्रॉनिक सामान चीन की वजह से आपके पास हैं. 2015 में दिल्ली में पहली बार राजपथ पर जब मोदी जी ने योग किया था तो 92 लाख रुपये योगा मैट्स पर ख़र्च किये गए थे. ये चटाइयां चीन से ही आई थीं. सवाल जवानों के लिए आईं बुलेट प्रूफ जैकेट पर भी उठ रहे हैं.

आप क्रिकेट देखते हैं? विराट कोहली जब देश की सेना के सम्मान में आर्मी कैप पहनकर मैदान पर उतरते हैं तो देश गर्व से भर जाता है. लेकिन उसी वक़्त उनकी छाती पर बड़ा-बड़ा लिखा था – OPPO.यानी ओप्पो. ये एक चाइनीज़ कंपनी है जो टीम इंडिया की ऑफिशियल किट की स्पांसर बनी है. इसके बदले में उसने बीसीसीआई को 1079 करोड़ रुपये दिए थे.

OPPO एक चाइनीज़ कंपनी है जो टीम इंडिया की ऑफिशियल किट की स्पांसर बनी है.
OPPO एक चाइनीज़ कंपनी है जो टीम इंडिया की ऑफिशियल किट की स्पांसर बनी है.

हमने पाकिस्तान और चीन को एक कीवर्ड बना दिया है और हमारी राष्ट्रभक्ति इसी कीवर्ड के इधर-उधर घूम रही है. जो भी विरोधी हो, उसे आप पाकिस्तान भेज दीजिये या पाकिस्तान से कनेक्शन जोड़ दीजिये. और चीन का सामान के बहिष्कार की बात चाइनीज़ फ़ोन का इस्तेमाल कर के करिए और अपनी नज़रों में सच्चे देशभक्त बने रहिये. देश की असली समस्याएं जैसे बेरोज़गारी, सफ़ाई, एजुकेशन, स्वास्थ्य और न जाने क्या-क्या हमेशा बैक सीट ही रहेगा.


वीडियो-  5 महीने में बोइंग 737 के 346 यात्री हो चुके हैं हादसे के शिकार, स्पाइसजेट और जेट एयरवेज ने उड़ानें बंद की

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
India is obsessed to Pakistan and China

टॉप खबर

किस वजह से मसूद अजहर को बार-बार बचाता है चीन?

दुनिया से बैर लेकर भी क्यों पाकिस्तान और आतंकियों का साथ देता है चीन...

आखिर क्यों क्रैश हो रहे हैं Boeing 737 MAX प्लेन, जिन्हें पूरी दुनिया में बैन किया जा रहा है

बोइंग के इस प्लेन के क्रैश होने से 5 महीनों में कुल 346 लोगों की मौत हो चुकी हैं.

पाकिस्तान से हुई लड़ाई में कैप्टन अमरिंदर का क्या रोल था?

कैप्टन हर जगह 65 की जंग की बात करते हैं. आज बड्डे है. जानते हैं उनसे जुड़े किस्से.

रॉयटर्स के मुताबिक भारत की बालाकोट स्ट्राइक फेल हुई! सैटेलाइट इमेज में क्या दिखा?

एक्सपर्ट के मुताबिक हाई रेजॉल्यूशन फोटो में जैश के मदरसे को कोई साफ नुकसान नहीं दिखता.

IND vs AUS : वो 5 फैक्टर, जिन्होंने भारत को दूसरा वनडे जिता दिया

कोहली तो हैं हीं...मगर असली काम तो बॉलरों ने किया.

किन तीन वजहों से दलित-आदिवासी संगठनों ने 5 मार्च को 'भारत बंद' बुलाया?

चुनाव के माहौल में इनकी नाराज़गी का क्या असर होगा? कोई असर होगा भी कि नहीं होगा...

वो पांच जवान, जो बड़गाम हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद हुए

ये वही क्रैश है जिसे पहले मिग विमान क्रैश समझ लिया गया था.

बडगाम में क्रैश हेलिकॉप्टर MI-17, जिसे बार-बार रूस से मंगाया जाता है

इसी हेलिकॉप्टर से एक और हादसा हो चुका है.

पाकिस्तान का लड़ाकू विमान F-16, जिसके दम पर वो इंडिया को धमकाता है

सुबह से ये खबरें चल रही हैं कि भारतीय वायुसेना ने एक F-16 गिरा दिया है.