Submit your post

Follow Us

हाथरस केस: पुलिस का दावा पीड़ित परिवार को बरगला रहे उनके फर्जी रिश्तेदार

यूपी के हाथरस मामले में हो रही जांच के दौरान कई नई-नई बातें सामने आ रही हैं. अब जांच में पता चला है कि पीड़ित परिवार के साथ कुछ फर्ज़ी रिश्तेदार भी रह रहे हैं. पुलिस का दावा है कि एक महिला, पीड़ित परिवार के साथ कई दिनों से रह रही थी. खुद को उनका रिश्तेदार बता रही थी. और वो ही परिवार को भड़का भी रही थी. आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक, कथित रिश्तेदार का नाम डॉ. राजकुमारी है. उसने खुद को जबलपुर मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर बताया था. पुलिस के मुताबिक, पीड़ित परिवार को मीडिया में क्या बयान देना है, ये सब वो महिला ही गाइड कर रही थी. हालांकि जब ये सारी बातें पुलिस को पता चली, तो वो मौके से फरार हो गई.

खबर है कि महिला की तस्वीर और वीडियो मीडिया में आने के बाद जबलपुर मेडिकल कॉलेज प्रबंधन डॉक्टर राजकुमारी बंसल के खिलाफ सख्त हो गया है. ‘आजतक’ से बात करते हुए जबलपुर मेडिकल कॉलेज के डीन पी.के.कसार ने कहा है कि

‘एक शासकीय सेवक द्वारा इस तरह के आंदोलनों में शामिल होने को गंभीर गलत माना गया है. डॉक्टर राजकुमारी बंसल को नोटिस जारी कर उनसे स्पष्टीकरण मांगा जाएगा और शासन के नियमों के मुताबिक उन पर कार्रवाई भी की जाएगी’.

हाथरस में अपनी भूमिका पर उठ रहे सवाल पर खुद डॉक्टर राजकुमारी बंसल शनिवार को मीडिया के सामने आई हैं. जबलपुर में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने बताया कि वो इंसानियत के नाते हाथरस पहुंची थी और पीड़िता के परिवार की मदद करना ही उनका मकसद था. राजकुमारी बंसल ने दावा किया है कि एक फॉरेंसिक एक्सपर्ट होने के नाते वो पीड़िता के इलाज से संबंधित दस्तावेज देखना चाहती थी. लेकिन उन्हें दस्तावेज देखने नहीं मिले. खुद के नक्सलियों से संबंध होने के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए राजकुमारी बंसल का कहना है कि यदि उनके संबंध नक्सलियों से हैं तो जांच एजेंसियां इसे साबित करके दिखाएं. राजकुमारी बंसल ने खुद के फोन टैपिंग होने का भी आरोप लगााया. और कहा कि वो इसके खिलाफ जबलपुर के साइबर सेल में शिकायत दर्ज कराएंगी.

जबकि दैनिक भास्कर में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़ित की भाभी का कहना है कि महिला का नाम राजकुमारी है. वो जबलपुर की रहने वाली है.  दूर की रिश्तेदार है. भाभी के मुताबिक, घटना के बाद से ही दूर-दूर से रिश्तेदार आ रहे हैं. वो भी आई थी. पर बाद में चली गई.

मामले की जांच कर रही SIT की टीम आरोपियों के परिवार, पीड़ित परिवर के पड़ोसियों से पूछताछ कर रही है. 9 अक्टूबर को दो आरोपियों के परिवार को इसके लिए बुलाया भी था. खबर ये भी है कि टीम करीब 40 लोगों से पूछताछ कर सकती है, जिसमें वो लोग शामिल हैं, जो घटना वाले दिन खेत के आसपास देखे गए थे और अंतिम संस्कार के दौरान भी घटना स्थल मौजूद थे.

बता दें कि पूरे गांव में भारी भरकम पुलिस बल तैनात है. यहां तक कि घर के बाहर CCTV कैमरे और मेटल डिटेक्टर भी लगा दिए गए हैं. पीड़िता के परिवार से मिलने से पहले रजिस्टर में नाम-पता लिखवाना होता है. गांव में अनजान चार पहिया और दो पहिया वाहनों का आना-जाना पहले ही बंद कर दिया गया है. यूपी सरकार की ओर से परिवार के हर सदस्य की सुरक्षा के लिए दो पुलिसकर्मियों की व्यवस्था की गई है. परिवार के लोगों को कहीं जाना हो तो भी पुलिस को बताना होगा, और शैडो को साथ ले जाना होगा. टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़ित परिवार की महिलाएं शौच के लिए भी जाती हैं तो महिला कॉन्स्टेबल उनके साथ सुरक्षा के लिए रहती हैं.


वीडियो देखें : हाथरस केस: आरोपियों ने जेल से चिट्ठी लिखकर पीड़िता के परिवार पर आरोप लगाए हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

TRP स्कैम: FIR में इंडिया टुडे टीवी का नाम आने पर मुंबई पुलिस ने क्या कहा है?

TRP स्कैम: FIR में इंडिया टुडे टीवी का नाम आने पर मुंबई पुलिस ने क्या कहा है?

रिपब्लिक टीवी का आरोप है कि FIR में इंडिया टुडे टीवी का नाम आने पर एक्शन नहीं लिया गया.

IPL 2020: मयंक-राहुल के विकेट से नहीं, इन छह गेंदों से हार गया पंजाब

IPL 2020: मयंक-राहुल के विकेट से नहीं, इन छह गेंदों से हार गया पंजाब

सीजन बदला पर पंजाब की हालत नहीं.

मुंबई पुलिस का दावा, पैसे देकर TRP खरीदता है रिपब्लिक टीवी

मुंबई पुलिस का दावा, पैसे देकर TRP खरीदता है रिपब्लिक टीवी

रैकेट में दो और चैनलों के भी नाम हैं, उनके मालिक गिरफ्तार कर लिए गए है.

दो बार छह छ्क्के लगा चुका वह भारतीय, जिसे करोड़पति बनना रास ना आया

दो बार छह छ्क्के लगा चुका वह भारतीय, जिसे करोड़पति बनना रास ना आया

गणित के मास्टर भी हैं CSK को पीटने वाले राहुल त्रिपाठी.

आधी रात को क्यों जलाई थी हाथरस विक्टिम की बॉडी, यूपी सरकार ने अब बताया है

आधी रात को क्यों जलाई थी हाथरस विक्टिम की बॉडी, यूपी सरकार ने अब बताया है

साथ ही ये भी बताया कि 14 सितंबर से अब तक क्या-क्या किया.

कंफर्म हो गया, अकेले चुनाव लड़ेगी चिराग पासवान की पार्टी

कंफर्म हो गया, अकेले चुनाव लड़ेगी चिराग पासवान की पार्टी

क्या ये चिराग पासवान के लिए ज़मीन तैयार करने की रणनीति है?

शिक्षा मंत्रालय की गाइडलाइंस, बताया 15 अक्‍टूबर से किन शर्तों पर खुलेंगे स्कूल-कॉलेज

शिक्षा मंत्रालय की गाइडलाइंस, बताया 15 अक्‍टूबर से किन शर्तों पर खुलेंगे स्कूल-कॉलेज

स्टूडेंट्स, अभिभावकों की लिखित सहमति से ही स्कूल जा सकते हैं.

इस शर्त पर यूपी प्रशासन ने राहुल-प्रियंका को हाथरस जाने की अनुमति दी

इस शर्त पर यूपी प्रशासन ने राहुल-प्रियंका को हाथरस जाने की अनुमति दी

कथित गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे हैं राहुल-प्रियंका.

हाथरस केस: एसपी और सीओ सस्पेंड, जानिए डीएम का क्या हुआ?

हाथरस केस: एसपी और सीओ सस्पेंड, जानिए डीएम का क्या हुआ?

सभी पक्ष-विपक्ष वालों का पॉलीग्राफी टेस्ट भी होगा.

हाथरस केस: यूपी पुलिस को किसी को भी गांव में जाने से रोकने का बहाना मिल गया है!

हाथरस केस: यूपी पुलिस को किसी को भी गांव में जाने से रोकने का बहाना मिल गया है!

खबर है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पीड़ित परिवार से मिलने जाने वाले हैं.