Submit your post

Follow Us

जब चाय पी रहे प्रणब के कानों में गूंजा, 'दादा, आपको पार्टी से निकाल दिया गया है'

प्रणब मुखर्जी ने अपने संस्मरण The Turbulent Years: 1980-1996 में इस मामले पर विस्तार से लिखा है. उन्होंने लिखा है कि इंदिरा गांधी की हत्या के बाद जब फ्लाइट में राजीव गांधी ने जब जवाहर लाल नेहरू और लाल बहादुर शास्त्री की मौत के बाद की स्थिति के बारे में पूछा तो मैंने उन्हें 1964 और 1966 का वाकया बताया. तब  नेहरू और शास्त्री के निधन के बाद कैबिनेट के वरिष्ठ मंत्री गुलजारी लाल नंदा को कार्यवाहक प्रधानमंत्री के रूप में शपथ दिलाई गई थी. बाद में, कांग्रेस संसदीय दल की औपचारिक बैठक बुलाकर नेता का चुनाव किया गया था. फ्लाइट में मौजूद सभी नेताओं से बातचीत के बाद ये तय किया गया कि राजीव गांधी को प्रधानमंत्री बनना चाहिए. खुद प्रणब मुखर्जी ने जब राजीव से पीएम बनने को कहा तो उन्होंने पूछा, “क्या आपको लगता है कि मैं ये मैनेज कर पाऊंगा?’’ इस पर मैंने उनसे कहा, “हां, हम सब आपके साथ हैं.”

इसके बाद मैंने राजीव से कहा कि वो तत्काल दिल्ली एक सूचना भेजें कि इंदिरा गांधी के निधन की खबर की घोषणा न की जाए. हम सबने ये निर्णय लिया कि इंदिरा के निधन की खबर के साथ ही राजीव गांधी के प्रधानमंत्री बनने की खबर भी दी जाएगी.”

राजीव ने प्रणब के साथ ली शपथ

दिल्ली पहुंचने के बाद शाम को कांग्रेस संसदीय बोर्ड के 5 में से 2 सदस्य (जो दिल्ली में मौजूद थे) – नरसिंह राव और प्रणब मुखर्जी- ने राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह से सिफारिश की कि राजीव गांधी को प्रधानमंत्री पद की शपथ दिलाई जाए. इसके बाद शाम 6 बजे राजीव गांधी ने अपने चार कैबिनेट सहयोगियों (प्रणब मुखर्जी, नरसिंह राव, पी शिवशंकर और बूटा सिंह) के साथ शपथ ग्रहण की. शपथ ग्रहण के बाद राजीव गांधी ने दूरदर्शन और आकाशवाणी पर राष्ट्र को संबोधित किया. इसी संबोधन में इंदिरा गांधी की मौत की आधिकारिक सूचना लोगों को दी. हालांकि लोगों तक इससे पहले ही सूचना पहुंच चुकी थी. फैसलाबाद में भारत-पाकिस्तान का वनडे क्रिकेट मैच रोके जाने पर रेडियो पाकिस्तान की कमेंट्री टीम ने इन्दिरा गांधी की हत्या की बात बता दी थी. उसके कुछ देर बाद बीबीसी ने भी घोषणा कर दी थी.

इंदिरा गांधी की हत्या के बाद प्रणब मुखर्जी ने जब राजीव से पीएम बनने को कहा तो उन्होंने पूछा, "क्या आपको लगता है कि मैं ये मैनेज कर पाउंगा?’’
इंदिरा गांधी की हत्या के बाद प्रणब मुखर्जी ने जब राजीव से पीएम बनने को कहा तो उन्होंने पूछा, “क्या आपको लगता है कि मैं ये मैनेज कर पाऊंगा?’’

जिस वक्त इन्दिरा गांधी की हत्या हुई, उस वक्त सातवीं लोकसभा के चार साल नौ महीने पूरे हो चुके थे. लोकसभा चुनाव सिर पर था. इस चुनाव में कांग्रेस (इ) के पक्ष में जबरदस्त सहानुभूति लहर चली और उसे 400 से भी ज्यादा सीटें हासिल हुईं. लेकिन जनवरी 1985 में चुनाव नतीजे आने के बाद जब राजीव गांधी ने अपने मंत्रिमंडल का पुनर्गठन किया, तब उसमें आश्चर्यजनक रूप से प्रणब मुखर्जी को शामिल नहीं किया गया. कई राजनीतिक टिप्पणीकारों का मानना है कि राजीव के दोस्त और रिश्तेदार अरुण नेहरू (जो उस वक्त काफी प्रभावशाली थे) ने राजीव गांधी को प्रणब दा के खिलाफ काफी भड़काया था. अरुण नेहरू ने कथित तौर पर राजीव से कहा था कि प्रणब मुखर्जी एक अति महत्वाकांक्षी व्यक्ति हैं और इन्दिरा गांधी की हत्या के बाद प्रधानमंत्री बनना चाहते थे.

Pranab Mukherjee
जनवरी 1985 में चुनाव नतीजे आने के बाद जब राजीव गांधी ने फिर से अपनी कैबिनेट बनाई, तब उसमें आश्चर्यजनक रूप से प्रणब मुखर्जी को शामिल नहीं किया गया था. (फाइल फोटो)

कहते हैं कि इसके बाद राजीव गांधी और प्रणब मुखर्जी के बीच दूरियां बढ़ने लगीं. 27 अप्रैल 1986. प्रणब मुखर्जी कांग्रेस (इ) के कार्यकारी अध्यक्ष कमलापति त्रिपाठी के बंगले पर उनके साथ बैठकर चाय पी रहे थे. तभी त्रिपाठी की बहू चंदा बाहर आती हैं और उन्हें बताती हैं,

“प्रणब दा, अभी-अभी आपको पार्टी से निकाल दिया गया है.”

ये सुनकर प्रणब दा चौंक गए. लेकिन वह कुछ कर नहीं सकते थे. 1987 में उनका राज्यसभा का कार्यकाल भी समाप्त हो रहा था. लेकिन उससे पहले उन्होंने अपनी नई पार्टी बना ली, जिसका नाम रखा- राष्ट्रीय समाजवादी कांग्रेस (इन्दिरा). उनकी इस पार्टी ने बंगाल विधानसभा का चुनाव भी लड़ा लेकिन बुरी तरह हारी. उधर 1987 में प्रणब दा का राज्यसभा का कार्यकाल खत्म हो गया. तब वह लुटियंस दिल्ली का सरकारी बंगला छोड़कर ग्रेटर कैलाश-2 के अपने निजी घर में आकर रहने लगे.

राजीव गांधी बोफोर्स के मामले में बुरी तरह से घिर गए. इसी माहौल में कुछ करीबी लोगों ने राजीव और प्रणव मुखर्जी के रिश्तों पर जमी बर्फ को पिघलाने की कोशिशें शुरू की.
राजीव गांधी बोफोर्स के मामले में बुरी तरह से घिर गए थे. इसी माहौल में कुछ करीबी लोगों ने राजीव और प्रणब मुखर्जी के रिश्तों पर जमी बर्फ पिघलाने की कोशिशें शुरू की थीं.

करीब ढाई साल बाद जब राजीव गांधी बोफोर्स के मामले में बुरी तरह से घिर गए. उन्हें पुराने और अनुभवी कांग्रेसियों की आवश्यकता महसूस होने लगी. इसी माहौल में कुछ करीबी लोगों ने राजीव गांधी और प्रणब मुखर्जी के रिश्तों पर जमी बर्फ को पिघलाने की कोशिशें शुरू कीं. राजीव गांधी को भी तब तक अहसास हो चुका था कि ‘जिन अरुण नेहरू के उकसाने पर वह प्रणब दा को कैबिनेट और पार्टी से निकालने की हद तक चले गए थे, वह तो खुद ही वीपी सिंह के बगलगीर बनकर राजीव गांधी और उनके परिवार पर बोफोर्स को लेकर हमला कर रहे हैं.’


देखें: देश के 13वें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के किस्से

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

ब्रेंडन मैकुलम की वो पारी जिसे राहुल द्रविड़ ने 'टॉर्चर' का नाम दिया था!

उस बैटिंग का एक दर्शक बाद में टीम इंडिया का सबसे चहेता बल्लेबाज बन गया.

'बेला' हथिनी मैदान पर आई और पहली बार भारत ने इंग्लैंड को हरा दिया!

आज़ादी के 24 साल बाद जब टीम इंडिया ने गुलामी की बेड़िया तोड़ दीं.

जब अकेले माइकल होल्डिंग ने इंग्लैंड से बेइज्जती का बदला ले लिया था

आज ही के दिन लिए थे 14 विकेट.

इन तमाम यादों के लिए शुक्रिया, भारतीय क्रिकेट के 'लालबहादुर शास्त्री'

क्रिकेट के महानतम ब्रोमांस को सलाम.

ऑस्ट्रेलियन लिजेंड ने बाउंसर मारी, इस इंडियन ने जवाब में मूंछ खींच दी!

वो इंडियन क्रिकेटर, जिसे वेस्ट इंडियन 'मिस्टर बीन' बुलाते थे.

जब संसद में छिड़ा ग्रेग चैपल का ज़िक्र और गांगुली ने कमबैक कर लिया!

चैपल के सामने सौरव ने बतौर खिलाड़ी पूरी टीम को 15 मिनट का लेक्चर दिया.

वो क्रिकेटर, जो मैच में विकेट चटकाने के लिए अपने मुंह पर पेशाब मलता था!

किट बैग में गाय का गोबर लेकर घूमने और चूमने वाले क्रिकेटर की कहानी.

जब न्यूज़ीलैंड एयरपोर्ट पहुंची टीम इंडिया में अकेले हरभजन सिंह की एंट्री रोक दी गई!

हरभजन के बैग में वो क्या चीज़ थी कि एयरपोर्ट पर हंगामा मच गया?

उस टीम इंडिया की कहानी, जब टैलेंट नहीं, राजा होने की वजह से कप्तान बनाया जाता था!

जब मैच से चंद घंटों पहले कप्तान के खिलाफ पूरी टीम इंडिया ने कर दी बगावत!

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

जानें क्या थी वो भविष्यवाणी.