Submit your post

Follow Us

'विक्रमारकुडू' के विलन ने बताया साउथ की फ़िल्में इतनी धांसू क्यों होती हैं

कुछ दिनों पहले लल्लनटॉप के खास शो ‘बरगद’ में एडिटर सौरभ द्विवेदी के साथ ‘अक्स’, ‘शूल’ और ‘लापतागंज’ जैसी फिल्मों और टीवी शोज़ से फेम हासिल कर चुके एक्टर विनीत कुमार ने बैठक जमाई. जहां विनीत कुमार ने अपने बचपन से लेकर जवानी, राजनीति से लेकर अभिनय और हिंदी सिनेमा से लेकर तमिल सिनेमा तक सब पर खूब तफसील से बात की. बातों के दौरान उन्होंने कई रोचक किस्से साझा किए. उन्हीं किस्सों में एक आपके साथ साझा कर रहे हैं. 


विनीत जी ने साउथ की सिनेमा इंडस्ट्री पर बात की. कहा,

“बेसिकली वो(साउथ फ़िल्म इंडस्ट्री) अनुशासित हैं. दूसरा मेरा ऐसा विचार है कि हमारे देश में हिंदी नहीं बोली जाती है. हमारे यहां क्षेत्रीय भाषा में हिंदी बोली जाती है, तो हिंदी की अपनी कोई ज़मीन नहीं है. अब जब हिंदी की अपनी कोई ज़मीन नहीं है तो हिंदी सिनेमा की अपनी ज़मीन कैसे हो सकती है? इसीलिए चरित्र जो हैं, फेयरिटेल जैसे लगते हैं.

यही फर्क है साउथ में और हिंदी में. वो अपनी ज़मीन के लिए फ़िल्म बनाते हैं. हिंदी की समस्या ये ही है कि उसकी कोई ज़मीन नहीं है. सब फेयरिटेल हो जाता है. जैसे मैंने विशाल भारद्वाज जी की फ़िल्म देखी ‘ओमकारा’’. उसमें यूपी का बैकड्राप है. मेरठ के आसपास का. मेरठ में कौन बोलता होगा ऐसे. आप प्योर चरित्र दिखा रहे हो लेकिन वो चरित्र नहीं है, वो फेयरिटेल है.

आप ‘संघर्ष’ (1968) देखिए पुरानी. उसमें वो चरित्र दिखते हैं. क्यूंकि सामाजिक रूप से एक आधार पर लिखे गये हैं उसके चरित्र. पहले उतना कॉम्प्लिकेशन भी नहीं था. अब समाज में इतने कॉम्प्लिकेशन्स‌ आ गए हैं, तो चरित्र में भी आ गए हैं. वो कॉम्प्लिकेशन्स‌ हम दिखा नहीं पाते हैं क्यूंकि सेंसर है. सेंसर कहता है भई ये किसी को हर्ट कर देगा. तो कहीं ना कहीं हम अपने से ही लाचार हैं. और हर जगह मोरैलिटी के नाम पर रसीदें फाड़े जाते हैं”

#खूब किया है साउथ का सिनेमा

'विक्रमारकुडू' में विनीत
‘विक्रमारकुडू’ में विनीत

विनीत ने एक लंबे अरसे तक हिंदी फिल्मों से दूरी बना सिर्फ साउथ की फिल्मों में काम किया. इन्होने साउथ में अपने करियर की शुरुआत 2006 में राजामौली की ब्लॉकबस्टर ‘विक्रमारकुडू’ से की. ये फ़िल्म मिलने का किस्सा भी उतना ही रोचक है जितनी की फ़िल्म. एक्टर नरेंद्र झा (रईस,हैदर) राजामौली की फ़िल्म ‘छत्रपथी’ में काम कर रहे थे. एक दिन वो विनीत के पास आए और बोले कि डायरेक्टर आपको अपनी अगली फ़िल्म में लेने की बात कर रहे थे. विनीत को लगा कि नरेंद्र सिर्फ मस्ती के लिए ऐसा बोल रहे हैं. बात आई-गई हो गई. कुछ महीनों बाद विनीत को राजामौली के ऑफिस से कॉल आया और मिलने हैदराबाद बुलाया गया. वहां पहुंचे मीटिंग हुई और बाउजी के किरदार के लिए विनीत फाइनल हो गए. ‘विक्रमारकुडू’ के अलावा ‘सरदार गब्बर सिंह’,’सुप्रीम’,’नायक’,’ऑपरेशन 2019’ जैसी कई साउथ की फिल्मों में विनीत ने शानदार काम किया है.


ये स्टोरी दी लल्लनटॉप में इंटर्नशिप कर रहे शुभम ने लिखी है.


विडियो: विक्रमारकुडू के विलन ने बताई साउथ की फिल्मों की ताकत

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

दर्शकों पर ईंट फेंकने वाला पेसर, जिससे विवियन रिचर्ड्स भी डरते थे!

दर्शकों पर ईंट फेंकने वाला पेसर, जिससे विवियन रिचर्ड्स भी डरते थे!

कहानी हेलमेट फाड़ने वाले सिल्वेस्टर क्लार्क की.

कहानी डेब्यू पर ही सेंचुरी मारने वाले उस दिग्गज की, जिसे पहले सेलेक्टर और फिर फ़ैन्स भूल गए

कहानी डेब्यू पर ही सेंचुरी मारने वाले उस दिग्गज की, जिसे पहले सेलेक्टर और फिर फ़ैन्स भूल गए

वो गुस्ताख़ लबड़हत्था, जो अपने ही भाई से हार गया!

ग्लव्स की जगह ईंट लेकर विकेटकीपिंग करने वाला बच्चा कैसे बना दुनिया का बेस्ट विकेटकीपर?

ग्लव्स की जगह ईंट लेकर विकेटकीपिंग करने वाला बच्चा कैसे बना दुनिया का बेस्ट विकेटकीपर?

कहानी सैयद किरमानी की.

कहानी उस महाराजा की जिसने पैसे के दम पर ले ली इंडियन क्रिकेट टीम की कप्तानी

कहानी उस महाराजा की जिसने पैसे के दम पर ले ली इंडियन क्रिकेट टीम की कप्तानी

और ये उसकी सबसे बड़ी ग़लती साबित हुई.

वो भारतीय क्रिकेटर, जिसने टूटे पांव पर बिजली के झटके सहकर ऑस्ट्रेलिया को मेलबर्न में हराया

वो भारतीय क्रिकेटर, जिसने टूटे पांव पर बिजली के झटके सहकर ऑस्ट्रेलिया को मेलबर्न में हराया

दिलीप दोषी, जो गावस्कर को 'कपटी' मानते थे.

जब लिटिल मास्टर की बैटिंग देखते-देखते एक फैन ने तुड़वा ली अपनी टांग

जब लिटिल मास्टर की बैटिंग देखते-देखते एक फैन ने तुड़वा ली अपनी टांग

क़िस्सा टेस्ट की सबसे स्लो पारी का.

'क्रिकेट के भगवान' सचिन तेंडुलकर के साथ पहले वनडे में जो हुआ, उस पर आपको विश्वास नहीं होगा

'क्रिकेट के भगवान' सचिन तेंडुलकर के साथ पहले वनडे में जो हुआ, उस पर आपको विश्वास नहीं होगा

31 साल पहले आज ही के दिन सचिन पहला वनडे इंटरनेशनल खेलने उतरे थे

जब पुलिसवालों को दौड़ाते-दौड़ाते इंग्लैंड के ड्रेसिंग रूम तक पहुंच गए पाकिस्तानी फ़ैन्स!

जब पुलिसवालों को दौड़ाते-दौड़ाते इंग्लैंड के ड्रेसिंग रूम तक पहुंच गए पाकिस्तानी फ़ैन्स!

गद्दाफी स्टेडियम में मचे बवाल की कथा.

जब 146 रन कूटने के बाद सहवाग ने मांगी टीम इंडिया की हार की दुआ!

जब 146 रन कूटने के बाद सहवाग ने मांगी टीम इंडिया की हार की दुआ!

दोनों तरफ से बने 800 से ज्यादा रन.

जब गुस्साए बल्लेबाज़ ने कपिल की जांघ पर बल्ला दे मारा!

जब गुस्साए बल्लेबाज़ ने कपिल की जांघ पर बल्ला दे मारा!

उस घटना का वीडियो मांगा तो क्या हुआ?