Submit your post

Follow Us

टाइगर पटौदी के कहने पर, इस लड़के ने डेब्यू में शतक ठोक दिया था!

गुंडप्पा विश्वनाथ. वो खिलाड़ी जिसके स्क्वेयर कट और लेट कट को रोकने के लिए विरोधी टीम स्लिप से लेकर गली और गली से प्वॉइंट तक पांच से छह फील्डर लगाती थी. लेकिन वो कट बुलेट की रफ्तार से भी तेज़ होता था और फील्डर्स के बीच से निकल जाता था.

साल 1969 में 20 नवंबर के दिन ही विशी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने डेब्यू टेस्ट में शतक जमाया. इस मैच की पहली पारी में विश्वनाथ एक रन भी नहीं बना सके थे. कॉनली की गेंद पर वो शून्य पर आउट होकर लौट गए थे. आउट होने के बाद वो वापस ड्रेसिंग रूम में गए और निराश होकर बैठ गए.

खेल के बाद कप्तान मंसूर अली खां पटौदी उनके पास आए. कप्तान टाइगर पटौदी ने निराश विशी के कंधे पर हाथ रखा और कहा,

”शांत हो जाओ, चिंता मत करो, तुम अगली पारी में शतक बनाओगे.”

दूसरी पारी में बदल गया गुंडप्पा का रंग:

कानपुर में खेले जा रहे इस मुकाबले में भारत ने पहली पारी में 320 रन बनाए. जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने 348 रन बना दिए. मामूली ही सही लेकिन ऑस्ट्रेलिया के पास बढ़त थी. फिर से भारत की बैटिंग आई. 94 के स्कोर तक फारूख इंजीनियर और अजीत वाडेकर लौट चुके थे. अब नंबर चार पर उतरे गुंडप्पा विश्वनाथ. बैटिंग के लिए उतरे 20 साल के गुंडप्पा ने आते ही अपने फेवरेट शॉट्स खेलने शुरू कर दिए. गुंडप्पा ने ऐसी कमाल की बैटिंग की सारा दबाव उलटा ऑस्ट्रेलिया पर डाल दिया.

इस लड़के ने पूरी ऑस्ट्रेलियाई टीम की नाक में दम कर दिया. इस पारी में गुंडप्पा ने एक-दो घंटे नहीं बल्कि 11 घंटे बल्लेबाज़ी की और 25 चौकों के साथ 137 रन बनाए. गुंडप्पा की इस पारी की बदौलत ऑस्ट्रेलिया इस मैच को नहीं जीत सका और भारत ने मैच ड्रॉ करवाया.

सीरीज़ में कुल चार मैच खेले गए. लेकिन कानपुर टेस्ट को छोड़ बाकी किसी भी मैच को भारत नहीं बचा सका.

इसके बाद भी कई मौकों पर गुंडप्पा ने शानदार पारियां खेलीं. साल 1974-75 में वेस्टइंडीज़ के खिलाफ खेली उनकी नाबाद 97 रनों की पारी को दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टेस्ट पारियों में से एक भी कहा जाता है.

पाकिस्तान के खिलाफ 1978 के दौरे पर साईवाल में खेले गए तीसरे वनडे में तो विश्वनाथ के खिलाफ पाकिस्तानी इस हद तक बेईमानी पर उतर आए कि वो सारी गेंदें उनकी हाईट से ऊपर ही फेंक रहे थे. उस समय एक ओवर में सीमित बाउंसर फेंकने का नियम भी नहीं था. जबकि अंपायर्स भी बेईमानी पर उतारू थे.

जब भारतीय बल्लेबाज़ अंशुमन गायकवाड़ ने इन बाउंसर्स की शिकायत अंपायर से की तो उन्होंने कहा कि किसी लंबे बल्लेबाज़ को भेज दो.

बाद में पाकिस्तान के इस व्यवहार को देखते हुए कप्तान बिशन सिंह बेदी ने टीम को मैच के बीच से ही वापस बुला लिया था.

1969 में 20 नवंबर की तारीख को अपना डेब्यू टेस्ट खेलने वाले गुंडप्पा ने 1983 तक भारत के लिए क्रिकेट खेला. उन्होंने टीम इंडिया के लिए 14 शतक और 35 अर्धशतकों के साथ 6000 से ज़्यादा रन बनाए.


India vs Australia 2020 सीरीज़ से पहले राहुल द्रविड़ ने टीम इंडिया को दी खुशखबरी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

जब चंद्रशेखर सिंह सत्ता गंवाने वाले बिहार के इकलौते मुख्यमंत्री बने थे

9 जुलाई 1986 को इनका निधन हो गया था.

बिहार का वो सीएम, जिसका एक लड़की के किडनैप होने के चलते करियर खत्म हो गया

वो नेता जिनसे नेहरू ने जीवन भर के लिए एक वादा ले लिया.

महात्मा गांधी का 'सरदार,' जो कभी मंत्री नहीं बना, सीधा मुख्यमंत्री बना

सरदार हरिहर सिंह के बिहार के मुख्यमंत्री बनने की कहानी

मजदूर नेता से सीएम बनने का सफर तय करने वाले बिंद्श्वरी दुबे का किस्सा सुनिए

बेंगलुरू की मशहूर नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी इन्हीं की देन है.

बिहार के उस सीएम की कहानी जिसने लालू को नेता बनाया

वो CM जिसे बस कंडक्टर के चक्कर में कुर्सी गंवानी पड़ी.

बिहार का वो सीएम जिसे तीन बार सत्ता मिली, लेकिन कुल मिलाकर एक साल भी कुर्सी पर बैठ न सका

बिहार के पहले दलित सीएम की कहानी.

मुख्यमंत्री: मंडल कमीशन वाले बिहार के मुख्यमंत्री बीपी मंडल की पूरी कहानी

बीपी मंडल, जो लाल बत्ती के लिए लोहिया से भिड़ गए थे.

बिहार का वो मुख्यमंत्री जिसकी मौत के बाद तिजोरी खुली तो सब चौंक गए

वो सीएम जो बाबाधाम की तरफ चला तो देवघर के पंडों में हड़कंप मच गया था.

श्रीकृष्ण सिंह: बिहार का वो मुख्यमंत्री जिसकी कभी डॉ. राजेंद्र प्रसाद तो कभी नेहरू से ठनी

बिहार के पहले मुख्यमंत्री की कहानी.

कहानी तीन दिन के लिए बिहार के सीएम बने सतीश प्रसाद सिंह की

वो सीएम जिसने 'जोगी और जवानी' नाम की फिल्म बनाई.