Submit your post

Follow Us

अजय देवगन को स्टार बनाने के लिए उनके पिता ने क्या-क्या किया?

514
शेयर्स

ये 1957 की बात है जब 14 साल के वीरू देवगन बॉलीवुड में घुसने की हसरत लिए अमृतसर में अपने घर से भाग गए थे. बिना टिकट लिए फ्रंटियर मेल पकड़ ली. बंबई जाने के लिए. लेकिन टिकट ली नहीं थी, तो दोस्तों के साथ हफ्ते भर जेल में रहना पड़ा.

बाहर निकले तो बंबई शहर और भूख ने उनको तोड़ दिया. जहां उनके साथ आए कुछ दोस्त टूटकर अमृतसर लौट गए. वीरू नहीं गए. वे टैक्सियां साफ करने लगे. कारपेंटर का काम करने लगे. कुछ हौसला लौटा तो फिल्म स्टूडियोज़ के चक्कर निकालने लगे. उन्हें एक्टर बनना था. लेकिन उन्हें जल्द ही समझ आ गया कि हिंदी फिल्मों में जो चॉकलेटी चेहरे एक्टर और स्टार बने हुए हैं, उनके सामने उनका कोई चांस नहीं है.

1999 में वीरु ने 'हिन्दुस्तान की कसम' नाम की एक फिल्म भी डायरेक्ट की थी.
1999 में वीरु ने ‘हिन्दुस्तान की कसम’ नाम की एक फिल्म भी डायरेक्ट की थी.

वीरू ख़ुद बताते हैं –

”जब मैंने आइने में अपना चेहरा देखा तो दूसरे स्ट्रगलर्स के मुकाबले खुद को बहुत कमतर महसूस किया. इसलिए मैंने हार मान ली. लेकिन मैंने प्रण लिया कि मेरा पहला बेटा एक हीरो बनेगा.”

वीरू ने अपने बेटे अजय को हीरो बनाने के लिए बहुत मेहनत की. उन्हें कम उम्र से ही फिल्ममेकिंग, एक्शन वगैरह से जोड़ा. तब से ही ये सब अजय के हाथों से करवाते थे. कॉलेज गए तो उनके लिए डांस क्लासेज शुरू करवाईं. घर में जिम बनावाया. उर्दू की क्लास लगवाई. हॉर्स राइडिंग वगैरह सब करवाया. फिर उन्हें अपनी फिल्मों की एक्शन टीम का हिस्सा बनाने लगे. उन्हें सिखाने लगे कि सेट का माहौल कैसा होता है. अजय फिल्ममेकिंग को लेकर इस वजह से बहुत सक्षम हो गए.

वीरु देवगन बॉलीवुड की 80 से ज़्यादा फिल्मों में एक्शन कोरियोग्रफर रह चुके हैं.
वीरु देवगन बॉलीवुड की 80 से ज़्यादा फिल्मों में एक्शन कोरियोग्रफर रह चुके हैं.

अजय तब कॉलेज की पढ़ाई कर रहे थे और पार्ट-टाइम शेखर कपूर को उनकी फिल्म ‘दुश्मनी’ में असिस्ट कर रहे थे. तब तक अजय ने फिल्मों में आने को लेकर कोई निर्णय नहीं लिया था. एक शाम वे घर लौटे तो डायरेक्टर संदेश/कूकू कोहली उनके पिता वीरू देवगन के साथ बैठे थे. वीरू ने कहा कि संदेश ‘फूल और कांटे’ नाम से एक फिल्म बना रहे हैं और तुम्हे इसमें लेना चाहते हैं. इस पर अजय की पहली प्रतिक्रिया थी, ”आप पागल हो क्या? अभी मैं सिर्फ 18 साल का हूं और अपनी लाइफ एंजॉय कर रहा हूं.” अजय ने बिलकुल मना कर दिया और चले गए. ये अक्टूबर 1990 की बात थी. और अगले महीने नवंबर में वो उस फिल्म की शूटिंग कर रहे थे. उन्हें ये फिल्म मिली इसमें भी वीरू द्वारा करवाई इस तैयारी और उनका बेटा होने का रुतबा था, जो काम कर रहा था.


ये भी पढ़ें:

अमिताभ-जया-रेखा के लव ट्रायंगल वाली फिल्म, जिसके बाद अमिताभ के यश चोपड़ा से रिश्ते बिगड़ गए
वो बॉलीवुड एक्टर, जो लगातार 25 फ्लॉप फ़िल्में देने के बावजूद सुपरस्टार बना
‘देना है तो सपोर्टिंग नहीं, बेस्ट एक्ट्रेस अवॉर्ड दो,’ कहकर इस एक्ट्रेस ने फिल्मफेयर ठुकराया था
वो एक्टर जिसने अपनी पहली फिल्म रिलीज़ होने से पहले ही 30 फ़िल्में साइन कर ली थीं


 वीडियो देखें: वो एक्टर जिसने सनी देओल का जीजा बनकर उन्हें धोखा दे दिया था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.