Submit your post

Follow Us

अजय-काजोल ने बेडरूम से निकलकर शादी की और फिर वापस बेडरूम में चले गए

16 अक्टूबर को शाहरुख, काजोल और रानी मुखर्जी स्टारर फिल्म ‘कुछ कुछ होता है’ को 20 बीस साल पूरे हुए हैं. लेकिन ये खबर उस बारे में नहीं है. ये खबर है उस फिल्म की लीडिंग लेडी रहीं काजोल के बारे में. पिछले ही हफ्ते काजोल की फिल्म ‘हेलिकॉप्टर ईला’ रिलीज़ हुई थी. उसके प्रमोशन के सिलसिले में लगातार उनका मीडिया इंटरैक्शन हो रहा था. इसी दौरान वो नेहा धूपिया के शो ‘नो फिल्टर नेहा’ में पहुंचीं. अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर हमेशा चुप रहने वाली काजोल ने यहा दिल खोलकर बात की. उन्होंने बताया कि अजय देवगन के साथ उनकी शादी कैसे हुई. पिछले दिनों सिनेमाजगत की कई नई-पुरानी जोड़ियां टूट रही हैं, ऐसे में उनकी शादी के वैसे ही मजबूत रहने के पीछे की क्या वजह है. वगैरह-वगैरह.

काजोल के पापा ने उनसे एक हफ्ते बात ही नहीं की

काजोल ने बताया कि उनकी और अजय की शादी में भी वो समस्याएं थीं, जो आम लोगों की शादियों में होती हैं. दो परिवारों के बीच होने वाली खींचतान, तनाव, अनिश्चितता, ये सब उनकी शादी में भी था. जब काजोल ने अपने पापा को बताया कि वो शादी करने वाली हैं, इस बात से उनके पापा नाराज़ हो गए. उन्हें दिक्कत इस बात से नहीं थी कि वो किससे शादी कर रही हैं, बल्कि उन्हें काजोल के उस समय शादी करने से ही दिक्कत थी. वो नहीं चाहते थे कि अपने करियर के पीक पर उनकी बेटी शादी करके अपना काम-धाम छोड़ दे. इस चक्कर में उन्होंने काजोल से एक हफ्ते बात नहीं की.

अपने पिता शोमू मुखर्जी और बहन तनिषा के साथ काजोल.
अपने पिता शोमू मुखर्जी और बहन तनिषा के साथ काजोल. काजोल के पिता बंगाली फिल्मों में लेखक और फिल्म डायरेक्टर थे.

जब काजोल की शादी की खबर मीडिया को लगी, तब एक इंटरव्यू के दौरान काजोल से पूछा गया कि वो अभी शादी क्यों करना चाहती हैं? इसका उन्होंने ये जवाब दिया कि वो तकरीबन आठ-नौ साल से काम कर रही हैं. हर साल वो चार-पांच फिल्मों में काम करती हैं. अब वो स्लो डाउन होना चाहती हैं. एक-दो फिल्म प्रतिसाल की दर से काम करना चाहती हैं. थोड़ा रिलैक्स करना चाहती हैं.

दूसरी ओर अजय और काजोल दोनों के परिवारों में एक हिचक थी. क्या होगा, कैसे होगा, कितना लंबा चल पाएगा, जैसी चीज़ें लोगों के दिमाग में अपनी जगह बना रही थीं. काजोल के दोस्तों को भी लगता था कि अजय और काजोल साथ में कैसे लगेंगे, इनका रिश्ता कैसा होगा. ऐसा इसलिए था क्योंकि अजय और काजोल को फिल्मों के अलावा उन्होंने साथ देखा नहीं था. लेकिन अजय और काजोल श्योर थे कि वो क्या और क्यों करने जा रहे हैं.

अजय और काजोल ने 'गुंडाराज', 'हलचल','प्यार तो होना ही था' और 'राजू चाचा' जैसी फिल्मों में साथ काम कर चुके हैं.
अजय और काजोल ने ‘गुंडाराज’, ‘हलचल’,’प्यार तो होना ही था’ और ‘राजू चाचा’ जैसी फिल्मों में साथ काम कर चुके हैं.

बेडरूम से निकलकर शादी की और फिर बेडरूम में चले गए

वहीं अजय ने अपने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनकी शादी भी कुछ कम फिल्मी नहीं था. बिलकुल साधारण तरीके से प्यार हुआ और शादी हो गई. न किसी को घुटनों पर बैठकर अपने प्रेम का इज़हार करना पड़ा, न आई लव यू जैसी बातें बोलने की जरूरत पड़ी. दोनों पहली बार एक फिल्म ‘हलचल’ के सेट पर मिले थे. तब अजय बहुत रिजर्व रहते थे, इसलिए लोग उन्हें घमंडी समझ लेते थे. लेकिन बीतते समय के साथ काजोल ने अजय से अपनी लव लाइफ के लिए टिप्स लेने शुरू किए. तब अजय भी किसी और को डेट कर रहे थे. मगर फिल्म ‘गुंडाराज’ की शूटिंग खत्म होते-होते अजय और काजोल करीब आ चुके थे. वो आगे भी ‘इश्क’ जैसी फिल्म साथ में कर रहे थे. इसलिए बातें-मुलाकातें बढ़ने लगीं. साथ में ज़्यादा समय गुज़रने लगा. इसके बाद दोनों ने तय किया कि उन्हें शादी कर लेनी चाहिए. अजय ने ये भी बताया कि उनकी शादी उनके घर के छत पर हुई थी. वो बेडरूम से निकलकर छत पर गए, शादी की और फिर से बेडरूम में आ गए. चीज़ें इतनी सिंपल तरीके से हुईं.

काजोल और अजय देवगन की शादी 1999 में हुई थी.
काजोल और अजय देवगन की शादी 1999 में हुई थी.

किस चीज़ ने उन दोनों को अब तक साथ बांध रखा है?

इस सवाल के जवाब में काजोल ने बताया कि वो और अजय दो बहुत अलग लोग हैं. लेकिन कभी अलग जैसा उन्हें महसूस नहीं होता. दो जिस्म एक जान टाइप थिअरी को उन्होंने सिरे से खारिज़ कर दिया. उनकी अपनी थिअरी है कि वो और अजय मिलकर एक इंसान बनते हैं, जिसके दोनों हाथ उनके बच्चे युग और न्यासा हैं. काजोल जहां काफी चर्पी हैं, वहीं अजय चुप रहना ज़्यादा पसंद करते हैं. काजोल की कई बातें उनके बच्चों को भी पसंद नहीं आती. उनकी बेटी उनकी फिल्में भी ज़्यादा पसंद नहीं करती. जब वो साथ में फिल्में देखते हैं, तो काजोल का हंसना, रोना और ताली-सिटी बजाना चालू रहता है, वहीं न्यासा बिलकुल शांति से फिल्में देखती हैं. शायद यही वजह है, जिसने दोनों को हर स्थिति में साथ बांधे रखा है.

अजय और काजोल के दो बच्चे हैं. साल 2003 में बेटी न्यासा के पैदा होने से पहले 2001 में काजोल का मिसकैरेज हो गया था.
अजय और काजोल के दो बच्चे हैं. साल 2003 में बेटी न्यासा के पैदा होने से पहले 2001 में काजोल का मिसकैरेज हो गया था.

वीडियो देखें: ABCD 3 में वरुण धवन और कटरीना कैफ के अलावा और क्या-क्या होगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब रवि शास्त्री ने जावेद मियांदाद को जूता लेकर दौड़ा लिया

जब रवि शास्त्री ने जावेद मियांदाद को जूता लेकर दौड़ा लिया

इमरान बीच में ना आते तो...

क़िस्से उस दिग्गज के, जिसकी एक लाइन ने 16 साल के सचिन को पाकिस्तान टूर करा दिया!

क़िस्से उस दिग्गज के, जिसकी एक लाइन ने 16 साल के सचिन को पाकिस्तान टूर करा दिया!

वासू परांजपे, जिन्होंने कहा था- ये लगने वाला प्लेयर नहीं, लगाने वाला प्लेयर है.

इंग्लिश कप्तान ने कहा, इनसे तो नाक रगड़वाउंगा, और फिर इतिहास लिखा गया

इंग्लिश कप्तान ने कहा, इनसे तो नाक रगड़वाउंगा, और फिर इतिहास लिखा गया

विवियन ने डिक्शनरी में 'ग्रॉवल' का मतलब खोजा और 829 रन ठोक दिए.

अंग्रेज़ों ने पास देने से इन्कार क्या किया राजीव गांधी का मंत्री वर्ल्डकप टूर्नामेंट छीन लाया!

अंग्रेज़ों ने पास देने से इन्कार क्या किया राजीव गांधी का मंत्री वर्ल्डकप टूर्नामेंट छीन लाया!

इसमें धीरूभाई अंबानी ने भी मदद की थी.

जब क्रिकेट मैदान के बाद पोस्टर्स में भी जयसूर्या से पिछड़े सचिन-गांगुली!

जब क्रिकेट मैदान के बाद पोस्टर्स में भी जयसूर्या से पिछड़े सचिन-गांगुली!

अमिताभ को भी था जयसूर्या पर ज्यादा भरोसा.

ब्रिटिश अखबारों से खौराकर कैसे वर्ल्ड कप जीत गई टीम इंडिया?

ब्रिटिश अखबारों से खौराकर कैसे वर्ल्ड कप जीत गई टीम इंडिया?

क़िस्सा 1983 वर्ल्ड कप का.

धक्के, गाली और डंडे खाकर किसे खेलते देखने जाते थे कपिल देव?

धक्के, गाली और डंडे खाकर किसे खेलते देखने जाते थे कपिल देव?

कौन थे 1983 वर्ल्ड कप विनर के हीरो?

जब किरमानी ने कपिल से कहा- कप्तान, हमको मार के मरना है!

जब किरमानी ने कपिल से कहा- कप्तान, हमको मार के मरना है!

क़िस्सा वर्ल्ड कप की सबसे 'महान' पारी का.

83 वर्ल्ड कप में किसी टीम से ज्यादा कपिल की अंग्रेजी से डरती थी टीम इंडिया!

83 वर्ल्ड कप में किसी टीम से ज्यादा कपिल की अंग्रेजी से डरती थी टीम इंडिया!

सोचो कुछ, कहो कुछ, समझो कुछ.

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

जानें क्या थी वो भविष्यवाणी.