Submit your post

Follow Us

जानिए कौन थे भारत से अलग देश द्रविड़नाडु की मांग करने वाले सीएन अन्नादुरै?

यह 60 के दशक के शुरुआती सालों की बात है. प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू मद्रास के एक नेता को कांग्रेस में एक नई जान फूंकने के इरादे से दिल्ली लाते हैं. उसे कांग्रेस का अध्यक्ष बनाते हैं. वह नेता कांग्रेस को रिवाइव करने के लिए नई-नई प्लानिंग करता है. कुछ केंद्रीय मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को सरकार से हटाकर उन सबको पार्टी संगठन में भेजता है. लेकिन इसी दौर में मद्रास में उसकी जड़ों में मट्ठा डालने का काम शुरू होता है. और इस काम को अंजाम देता है उसी दौर में तमिलनाडु से दिल्ली आया एक नेता. वह नेता राज्यसभा एमपी बनकर दिल्ली आया था. लेकिन 5 साल बाद जब वापस लौटा तो मुख्यमंत्री का ताज उसका इंतजार कर रहा था. वहीं नेहरू जिस नेता को दिल्ली लाए थे, वह प्रधानमंत्री बनते-बनते तो चूका ही, मद्रास का निजाम भी गंवा बैठा और साथ ही नेहरू की बेटी जिसे उसने प्रधानमंत्री बनाया था, वह भी उसका साथ छोड़ने में जरा भी नहीं हिचकीं.

यह सब सुनकर आप सोच रहे होंगे कि आखिर मैं मद्रास के किन 2 नेताओं की बात कर रहा हूं, तो चलिए अब आपको उनके बारे में बता ही देते हैं. नेहरू जिस नेता को कांग्रेस अध्यक्ष बनाकर लाए थे, उनका नाम था के कामराज जो उस वक्त मद्रास के मुख्यमंत्री थे. वहीं 1962 में मद्रास से जो दूसरे नेता राज्यसभा पहुंचे थे, उनका नाम था कांजीवरम नटराजन अन्नादुरै. शार्ट में कहें तो सी एन अन्नादुरै. वही अन्नादुरै जिन्होंने 1967 के विधानसभा चुनाव में मद्रास में कामराज और उनकी कांग्रेस को ऐसी पटखनी दी कि आजतक वहां कांग्रेस पनप नहीं पाई. कांग्रेस ही नहीं बल्कि कोई दूसरी राष्ट्रीय पार्टी भी वहां पर अपने पांव नहीं जमा सकी.

पेरियार (दाएं) के साथ अन्नादुरै.
पेरियार (दाएं) के साथ अन्नादुरै.

आज हम उनकी चर्चा इसलिए कर रहे हैं क्योंकि आज से 52 साल पहले यानी 1969 में 60 बरस की उम्र में अन्नादुरै का निधन हो गया था. उसके बाद उनकी पार्टी और सरकार की कमान एम. करूणानिधि के पास आ गई थी.

अन्नादुरै थे कौन और कैसे उन्होंने डीएमके की शुरुआत की?

अन्नादुरै कांचीपुरम की एक मिडिल क्लास फैमिली से आते थे. शुरुआत उन्होंने एक काॅलेज लेक्चरर के तौर पर की थी. अंग्रेजी पढ़ाते थे. लेकिन जल्दी ही पत्रकारिता करने लगे. इसी दौरान पेरियार और उनकी पार्टी द्रविड़ कड़गम के संपर्क में आए. पेरियार पक्के नास्तिक थे और हिंदू देवी-देवताओं पर उनका रत्ती भर भी भरोसा नहीं था. अन्नादुरै पर भी उनका काफी प्रभाव था. लेकिन 1949 आते-आते दोनों के रास्ते ज़ुदा हो गए. दोनों के बीच एक ऐसा मुद्दा आ गए जहां दोनों की सोच एकदम विपरीत थी.

यह मुद्दा था पेरियार का 15 अगस्त 1947 को शोक दिवस के रूप में मनाने का फैसला. पेरियार मानते थे इस आजादी से समूचा मद्रास प्रेसीडेंसी उत्तर भारतीयों के वर्चस्व वाले केन्द्रीय शासन में चला जाएगा. लेकिन अन्नादुरै ने पेरियार की इस सोच का विरोध किया और उन्हें लोकतांत्रिक तरीके से होने वाले चुनावों में भाग लेने की अपील की. पेरियार नहीं माने जिससे अन्नादुरै उनसे अलग हो गए और द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (DMK) के नाम से अपनी नई पार्टी खड़ी कर ली.

एम करूणानिधि (बाएं) ने अन्नादुरै के निधन के बाद DMK की कमान संभाली.
एम करूणानिधि (बाएं) ने अन्नादुरै के निधन के बाद DMK की कमान संभाली.

द्रविड़ नाडु की मांग

अन्नादुरै 40 के दशक से ही एक अलग राष्ट्र ‘द्रविड़ नाडु’ की मांग का समर्थन कर रहे थे. तमिल भाषा में नाडु का मतलब होता है राष्ट्र. अपनी नई पार्टी में भी उन्होंने इस बात पर जोर दिया और ‘द्रविड़ नाडु’ की मांग पर कायम रहे. लेकिन पहले भाषा के आधार पर मद्रास प्रेसीडेंसी के विभाजन और बाद में भारत-चीन युद्ध से पैदा हुए राष्ट्रीयता के माहौल ने उनकी इस मांग को बेतुका बना दिया. अन्नादुरै ने भी चीन के मुद्दे पर सरकार का खुलकर साथ दिया.

हालांकि कई लोग यह भी कहते हैं कि 1962 में राज्यसभा में आने के बाद देश के बाकी हिस्सों से आनेवाले सांसदों से उनका लगातार साबका पड़ता रहा और दिल्ली की सियासत के कंपोजिट कल्चर के अनुभवों ने उन्हें समय के साथ लिबरल बना दिया. और तब उन्होंने द्रविड़ नाडु की अपनी मांग को ठंडे बस्ते में डाल दिया.

वाजपेयी और अन्नादुरै : तुम्हीं से मुहब्बत, तुम्हीं से लड़ाई.

1962 में मद्रास राज्य से राज्यसभा चुनाव जीतकर अन्नादुरै दिल्ली पहुंचे. इसी दौर में अटल बिहारी वाजपेयी भी राज्यसभा पहुंच गए. वाजपेयी को राज्यसभा इसलिए आना पड़ा क्योंकि वे बलरामपुर की अपनी लोकसभा सीट गंवा बैठे थे. फिल्म एक्टर बलराज साहनी की वजह से वाजपेयी ने यह सीट गंवा थी. बलराज साहनी ने तब कांग्रेस कैंडिडेट सुभद्रा जोशी के समर्थन में दिन-रात बलरामपुर में कैंपेन किया था.

राज्यसभा में अक्सर वाजपेयी और अन्नादुरै में तीखी नोक-झोंक होती. नोक-झोंक स्वाभाविक भी थी क्योंकि कहां हिंदी, हिंदू, हिंदुस्तान का नारा लगाने वाली जनसंघ के नेता वाजपेयी और कहां हिंदी और हिंदू धर्म की मूर्ति पूजा और वर्ण व्यवस्था के घोर विरोधी अन्नादुरै.

अन्नादुरै को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाते राज्यपाल सरदार उज्जल सिंह.
अन्नादुरै को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाते राज्यपाल सरदार उज्जल सिंह.

अन्नादुरै जब मद्रास और अन्य राज्यों के लिए अधिक स्वायत्तता की मांग करते तब भी वाजपेयी उनके विरोध में खड़े हो जाते. और जब वे हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने का विरोध करते तब भी वाजपेयी उनकी क्लास लगा देते.

लेकिन इन सबके बावजूद अन्नादुरै और वाजपेयी पक्के दोस्त बन चुके थे. अन्नादुरै तो राज्यसभा में भी वाजपेयी की हिंदी भाषा पर कमांड की खूब तारीफ करते जबकि वाजपेयी भी तमिल साहित्य के बारे में अपनी जानकारी बढ़ाने के मक़सद से अक्सर अन्नादुरै के फ्लैट पर पहुंच जाते. इतना ही नहीं, 1962 में चीन युद्ध के वक्त प्रधानमंत्री नेहरू ने ऑल पार्टी मीटिंग बुलाई तब वाजपेयी और अन्नादुरै साथ-साथ पहुंचे. उस मीटिंग में जब अन्नादुरै बोलने लगे तब सबको बहुत आश्चर्य हुआ. कल तक द्रविड़ नाडु की बात करने वाला नेता ऑल पार्टी मीटिंग में देश की एकता और अखंडता की बातें कर रहा था और सरकार के हर कदम का समर्थन भी कर रहा था.

हिंदी विरोधी आंदोलन और DMK का सत्ता में आना 

1965 में मद्रास राज्य में हिंदी विरोधी आंदोलन भड़क गया. और इसकी वजह थी संविधान सभा का संकल्प. दरअसल 1950 में जब संविधान लागू किया जा रहा था तब उसमें हिंदी को राजभाषा बनाए जाने की बात कही गई थी. लेकिन दक्षिण के राज्यों के विरोध को देखते हुए इसे 15 वर्ष के लिए टाल दिया गया. फिर 1963 में जब संसद में हिंदी को राजभाषा बनाने का बिल लाया गया तब दक्षिण के राज्यों में फिर इसका विरोध शुरू हो गया. भारी हंगामे के बीच संसद ने इस बिल को पारित किया. लेकिन इस दरम्यान जो सबसे आश्चर्यजनक बात नोट की गई, वह थी सांसद अन्नादुरै का अलग लाइन लेना. वे अब विरोध की बजाए एकत्रिभाषा फ़ार्मूला सुझा रहे थे. उनके फार्मूले के तरह हर राज्य के लोगों को अपनी मातृभाषा और अंग्रेजी के अलावा एक और देशी भाषा पढ़ाई जानी चाहिए.

लेकिन दिल्ली में उनके रूख के ठीक उलट मद्रास में उनकी पार्टी के सेकेंड इन कमांड माने जाने वाले एम करूणानिधि जबरदस्त तरीके से हिंदी विरोधी आंदोलन चला रहे थे. कई जगहों पर यह आंदोलन हिंसक भी हो गया था. 26 जनवरी 1965 को जब हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया तब उसके 2 दिन पहले यानी 24 जनवरी को DMK ने पूरे मद्रास राज्य में शोक दिवस मनाया.

अन्नादुरै को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाते राज्यपाल सरदार उज्जल सिंह.
अन्नादुरै को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाते राज्यपाल सरदार उज्जल सिंह.

इस हिंदी विरोधी आंदोलन ने मद्रास में कांग्रेस विरोधी माहौल पैदा कर दिया था. और इस माहौल को दोनों हाथों से कैश करने के लिए मद्रास में सिर्फ और सिर्फ एक पलिटिकल पार्टी मौजूद थी. और वह थी अन्नादुरै की DMK. 1967 में जब मद्रास राज्य में विधानसभा चुनाव हुआ तब वहां की 222 सीटों में से 137 सीटें अकेले DMK ने जीती और पूर्ण बहुमत हासिल कर लिया. अन्नादुरै मुख्यमंत्री बन गए जबकि उनके खास सिपहसालार एम करूणानिधि को ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर बनाया गया.

कामराज की हार से दुखी 

1967 के चुनाव के नतीजे ज्यों ज्यों आ रहे थे, DMK के नेता खुशी मना रहे थे. उनके लोग सड़कों पर निकल कर झूम रहे थे. लेकिन जिन्हें राज्य की सत्ता संभालनी थी वे चिंतित नजर आ रहे थे. चिंतित इसलिए कि कामराज और मुख्यमंत्री भक्तवत्सलम अब विधानसभा में नहीं होंगे. कामराज को DMK के ही एक स्टूडेंट लीडर ने हरा दिया था. अन्नादुरै की यह सोच उनके नेहरूवियन मानसिकता को दर्शा रही थी. 1948 में नेहरू भी बहुत दुखी हुए थे जब एक बाबा ने फैजाबाद की असेंबली सीट पर सोशलिस्ट नेता आचार्य नरेन्द्र देव को हरा दिया था.

के कामराज 60 के दशक में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष हुआ करते थे.
के कामराज 60 के दशक में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष हुआ करते थे.

बहरहाल सत्ता अन्नादुरै के हाथ में आ चुकी थी. वे मुख्यमंत्री बन चुके थे. हिंदी विरोधी आंदोलन ने उनकी पार्टी को मद्रास की कमान सौंप दी थी. उनके मंत्री और वे खुद अपने तमाम ड्रीम प्रोजेक्ट्स मसलन स्कूली शिक्षा में सुधार, सरकारी बसों में स्टूडेंट्स को टिकट लेने से छूट वगैरह लागू कर रहे थे. लेकिन वे खुद अपना एक ड्रीम प्रोजेक्ट लागू नहीं कर सके. वह प्रोजेक्ट था उनका त्रिभाषा फार्मूला, जिसके लिए उन्होंने संसद में काफ़ी पैरवी की थी. दरअसल उस दौर में मद्रास में हिंदी विरोध का आलम ऐसा था कि लोग उनके त्रिभाषा फार्मूला को हिंदी थोपने के चश्मे से देखने लगते. लिहाजा उन्होंने इस मधुमक्खी के छत्ते में हाथ डालना ही उचित नहीं समझा.

हालांकि 1968 में वे द्विभाषी फार्मूला लेकर जरूर आए और मद्रास राज्य में लोगों के लिए तमिल के अलावा अंग्रेजी पढ़ना अनिवार्य कर दिया गया. 1968 के अंत में उन्होंने एक और काम किया. मद्रास राज्य का नाम बदलकर तमिलनाडु करने का प्रस्ताव विधानसभा से पास करवाया और उसे केन्द्र के पास भेज दिया. केन्द्र से मंजूरी मिलने के बाद 14 जनवरी 1969 को तमिलनाडु नाम प्रचलन में आ गया. हालांकि अन्नादुरै ज्यादा दिनों तक तमिलनाडु के मुख्यमंत्री नहीं रह सके. उन्हें कैंसर जैसी लाइलाज बीमारी ने जकड़ लिया था. राज्य का नाम बदलने के 20वें दिन यानी 3 फरवरी 1969 को उनका निधन हो गया.

अन्नादुरै की शवयात्रा में उमड़ी भीड़.
अन्नादुरै की शवयात्रा में उमड़ी भीड़.

मृत्यु के बाद भी वे एक रिकार्ड बना गए. गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में जगह पा गए. और इसकी वजह थी उनकी शवयात्रा में उमड़ी भीड़. एक अनुमान के मुताबिक उनकी शवयात्रा में लगभग डेढ़ करोड़ लोगों ने हिस्सा लिया था. यह तब भी एक रिकार्ड था और अब भी एक रिकार्ड है. कहा जाता है कि भारी भीड़ के सामने उनकी सरकार के मंत्री एम करूणानिधि ने अकेले उनके शव को उठा लिया. यह देखकर भीड़ इमोशनल हो गई और इसी इमोशन के सहारे करूणानिधि ने नेतृत्व की होड़ में पार्टी के अन्य बड़े नेताओं जैसे नेदुनसेझियन और अंबाझगन वगैरह को पछाड़ दिया और खुद मुख्यमंत्री बन गए.


 

वीडियो : एन टी रामाराव ने आन्ध्र प्रदेश में कांग्रेस का सफाया कैसे किया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

50 साल पहले बारिश न होती तो शायद वनडे क्रिकेट का नामोनिशान न होता!

50 साल पहले बारिश न होती तो शायद वनडे क्रिकेट का नामोनिशान न होता!

वनडे क्रिकेट की कैसे शुरुआत हुई थी, जान लीजिए

गावस्कर ने क्या वाकई कोलकाता में कभी न खेलने की कसम खा ली थी?

गावस्कर ने क्या वाकई कोलकाता में कभी न खेलने की कसम खा ली थी?

क्या गावस्कर की वजह से कपिल देव रिकॉर्ड बनाने से चूक गए थे, सच जान लीजिए

तुम्हारा स्कोर अब भी ज़ीरो है, रिचर्ड्स के इस कमेंट पर गावस्कर ने बल्ले से सबकी बोलती बंद कर दी थी

तुम्हारा स्कोर अब भी ज़ीरो है, रिचर्ड्स के इस कमेंट पर गावस्कर ने बल्ले से सबकी बोलती बंद कर दी थी

ठीक 37 साल पहले गावस्कर ने तोड़ा था ब्रेडमैन का सबसे बड़ा रिकॉर्ड.

वो भारतीय क्रिकेटर, जिसने टूटे पांव पर बिजली के झटके सहकर ऑस्ट्रेलिया को मेलबर्न में हराया

वो भारतीय क्रिकेटर, जिसने टूटे पांव पर बिजली के झटके सहकर ऑस्ट्रेलिया को मेलबर्न में हराया

दिलीप दोषी, जो गावस्कर को 'कपटी' मानते थे.

जब हाथ में चोट लेकर अमरनाथ ने ऑस्ट्रेलिया को पहला ज़ख्म दिया!

जब हाथ में चोट लेकर अमरनाथ ने ऑस्ट्रेलिया को पहला ज़ख्म दिया!

अगर वो 47 रन बनते, तो भारत 40 साल लेट ना होता.

'क्रिकेट के भगवान' सचिन तेंदुलकर के साथ पहले वनडे में जो हुआ, उस पर आपको विश्वास नहीं होगा

'क्रिकेट के भगवान' सचिन तेंदुलकर के साथ पहले वनडे में जो हुआ, उस पर आपको विश्वास नहीं होगा

31 साल पहले आज ही के दिन सचिन पहला वनडे इंटरनैशनल खेलने उतरे थे

जब कंगारुओं को एडिलेड में दिखा ईडन का भूत और पूरी हो गई द्रविड़ की यात्रा

जब कंगारुओं को एडिलेड में दिखा ईडन का भूत और पूरी हो गई द्रविड़ की यात्रा

साल 2003 के एडिलेड टेस्ट का क़िस्सा.

कौन सा गाना लगातार पांच दिन सुनकर सचिन ने सिडनी में 241 कूट दिए थे?

कौन सा गाना लगातार पांच दिन सुनकर सचिन ने सिडनी में 241 कूट दिए थे?

सचिन की महानतम पारी का कमाल क़िस्सा.

वो मैच जिसमें बल्लेबाज़ को आउट देते ही अंपायर का करियर खत्म हो गया

वो मैच जिसमें बल्लेबाज़ को आउट देते ही अंपायर का करियर खत्म हो गया

कहानी टेस्ट क्रिकेट इतिहास में टाई हुए सिर्फ दो मैचों में से एक की.

जब सचिन के कंधे पर गेंद लगी और अंपायर ने उन्हें LBW आउट दे दिया

जब सचिन के कंधे पर गेंद लगी और अंपायर ने उन्हें LBW आउट दे दिया

अंपायर के इस फैसले पर भयंकर विवाद हुआ था.