Submit your post

Follow Us

चीन देश से आए ऐप TikTok के डिलीट होने से भारत को 5 भारी नुकसान होंगे!

4.32 K
शेयर्स

तो मेहरबान-कदरदान-साहिबान… सबसे पहले तो 2 मिनट का साइलेंस TikTok के लिए.


गूगल और एपल ने अपने प्लैटफॉर्म से TikTok को डिलीट कर दिया है. मतलब अब इन दोनों प्लैटफॉर्म से कोई भी TikTok डाउनलोड नहीं कर सकता. दोनों कंपनियों ने हाईकोर्ट और भारत सरकार के आदेशों को मानते हुए ये कदम उठाया है. मंगलवार देर रात तक तो दोनों प्लैटफॉर्म पर ये एप्लिकेशन मौजूद था लेकिन बुधवार सुबह हटा लिया गया. यानी कि फुल स्टॉप.

अब कंपनी ने पहले इस पर क्या कहा, भारत सरकार का क्या टेक था, मद्रास हाईकोर्ट ने इस पर क्या टिप्पणी की थी. ये सारी बातें तो हो गई.

अब आते हैं उन लोगों पर जो TikTok पर वीडियो बनाते थे. बताइये, सरकार ने तो उन बेचारों का करियर ही खत्म कर दिया. शुरू होने से पहले ही. तो दोस्तों आज हम बात करेंगे कि TikTok के बैन होने से भारत को 5 बड़े नुकसान क्या-क्या होने वाले हैं –

1# सरकार का बुर्जुआ कदम – 

ये सरकार का एक बुर्जुआ कदम ही तो ठहरा. क्यूंकि इस फैसले ने उन उभरते हुए सितारों का करियर समाप्त कर दिया, जो दिन भर टिक-टॉक पर वीडियो बनाते. पहले वहां पर लाइक्स पाते फिर वहां पर बने वीडियोज़ को व्हाट्स अप, फेसबुक और इंस्टाग्राम पर एक्सपोर्ट कर विदेशी मुद्रा लाइक्स भी अर्जित करते. यूं एक टिक-टॉक ही तो था सेलिब्रिटीज़ के पिरामिड में सर्वहाराओं वाली रैंक के लिए.

2# प्रतिभा पलायन – 

TikTok के भारत में 12 करोड़ यूज़र्स हैं. संभावना है कि वो चीन की तरफ चले जाए. मोदी जी के मेड इन इंडिया को एक बड़ा झटका.

3# जॉबलेस इकॉनमी – 

बेरोजगारों की संख्या में भारी इज़ाफा हो जाएगा. क्यूंकि जब पकौड़े तलना रोज़गार है तो टिक-टॉकियाना भी तो सेलिब्रिटी बनने की इंटर्नशिप है. भारत सरकार की अर्थव्यवस्था बिगड़ जाएगी, एक तो वित्त मंत्री अरुण जेटली पहले ही बेरोजगारी भत्ता नहीं दे पा रहे थे. अब बेरोजगारी और बढ़ने से सरकार पर और भत्ता देने का नैतिक दबाव बढ़ जाएगा.

4# डीमॉनेटाईज़ेशन 2.0 –

नोटबंदी से भी बड़ा नुकसान है ये. अब सोचिए नोटबंदी ने तो कभी 12 करोड़ लोगों को बेरोज़गार नहीं किया, लेकिन TikTok ने कर दिया. अब चुनाव का समय है तो सरकार को इसकी नैतिक ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए. बताइये, लेनी चइये कि नहीं!

5# धरना-प्रदर्शनों में बढ़ोतरी

देश में चुनाव चल रहे हैं, लोग पहले से ही रैली और भाषणों से परेशान है. वैसे में 12 करोड़ लोगों के एक झटके में बेरोज़गार होने की वजह से धरना प्रदर्शनों की भी संख्या में बढ़ोतरी की आशंका बढ़ गई है. ये पुलिस प्रशासन के लिए चिंता की बात है, क्योंकि दोनों चीजें उन्हें ही मैनेज करना होता है. इस नुकसान को भी बड़े नुकसान में रख सकते हैं.

ये तो हुई नुकसान की बात, अब TikTok यूज़र्स की भी बात कर लेते हैं, जो इस फैसले के बाद दीवार पर सिर मार रहे हैं. बुधवार की सुबह खबर मिलने के बाद एक भाई ने TikTok यूजर्स से पूछा कि कईसन हो भईया, तो जवाब कुछ ऐसा मिला:

देखिए कैसे भड़के हुए हैं टिकटॉक यूजर्स.
देखिए कैसे भड़के हुए हैं टिकटॉक यूजर्स.

अब इस फैसले के बाद एक बच्चा बड़ा चुप-चुप मासूम सा इधर-उधक भटक रहा था. बच्चे का उतरा हुआ चेहरा देखकर मां खुद को रोक नहीं पाई, फिर उन्होंने कुछ ऐसा पूछा लिया:

बच्चे क चुपचाप देखकर मां को कुछ ऐसी चिंता हुई.
बच्चे क चुपचाप देखकर मां को कुछ ऐसी चिंता हुई.

बुधवार सुबह-सुबह इतनी बड़ी घटना घटने के बाद TikTok यूज़र्स कुछ इस तरह हर चौक-चौराहे पर दिख रहे हैं.

हर चौक चौराहे पर यूजर्स कुछ ऐसे ही दिख रहे हैं.
हर चौक-चौराहे पर TikTok यूजर्स कुछ ऐसे ही दिख रहे हैं.

कई घरों के छत पर कुछ TikTok यूजर्स इस तरह भी दिख रहे हैं. उन लोगों में भारी नाराज़गी है.मतलब ठीक चुनाव के बीच में सरकार को ऐसा नहीं करना चाहिए था.

ज़िंदगी बरबाद हो गई.
ज़िंदगी बरबाद हो गिया.

TikTok यूजर्स में भारी गुस्सा है. अब कुछ खबरें ऐसी भी आ रही है कि कुछ यूजर्स धरना प्रदर्शन करने जा रहे हैं. बैन के फैसले पर सवाल भी उठाने जा रहे हैं.

बैन के फैसले पर सवाल भी उठा रहे हैं यूज़र्स
बैन के फैसले पर सवाल भी उठा रहे हैं यूज़र्स

अगर सीरियस होकर देखें तो कुछ टिकटॉक यूजर्स इस फैसले से वाकई बहुत नाराज़ है. उनका कहना है कि जब आप योग्य हों और लोग आपकी योग्यता ना पहचाने तो दुख पहुंचता है. अब क्या बताए इस फैसले से हमें भी भी दुख पहुंचा है. कैसे साबित करें समझ में नहीं आ रहा है, सीना चीर के दिखाए का?

बाकी ये तो आपको पता ही है कि मद्रास हाईकोर्ट की मदुरई बेंच ने 3 अप्रैल को TikTok पर रोक लगाने का आदेश दिया था. कोर्ट का कहना था कि इस एप से पोर्नोग्राफी को बढ़ावा मिल रहा है, इसीलिए इसे जल्द से जल्द बंद किया जाए. फिर TikTok वाले इस मामले को सुप्रीम कोर्ट लेकर गए. सुप्रीम कोर्ट ने भी ये कहते हुए मामला खारिज कर दिया कि अभी ये कोर्ट में सुनवाई चल ही रही है, इसलिए वो इस पर फैसला नहीं दे सकते. मामले की अगली सुनवाई 22 अप्रैल को होनी है. दूसरी तरफ भारत सरकार ने भी गूगल और एपल को लेटर भेजकर इसे प्लेस्टोर से हटाने के लिए कहा था. जिसके बाद बुधवार को दोनों प्लैटफॉर्म से इस एप को हटा लिया गया.

बाकी इतना तो आप समझदार हैं ही कि मजाक को समझते होंगे. कोर्ट की बातें हटाकर सारी बातें सिर्फ सटायर और मज़ाक के उद्देश्य से लिखी गई है, तस्वीरें भी सोशल मीडिया से ली गई हैं, ताकि आप भी मुस्कुरा सकें और इस खबर को शेयर करके दूसरों को भी मुस्कुराने का मौका दे सकें.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Satire: Google and Apple removed TikTok from their app stores after court order

पोस्टमॉर्टम हाउस

मूवी रिव्यू: गेम ओवर

थ्रिल, सस्पेंस, ड्रामा, मिस्ट्री, हॉरर का ज़बरदस्त कॉकटेल है ये फिल्म.

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स S8E6- नौ साल लंबे सफर की मंज़िल कितना सेटिस्फाई करती है?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स के चाहने वालों के लिए आगे ताउम्र की तन्हाई है!

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

जानिए ये बात आखिर शुरू कहां से हुई.

मूवी रिव्यू: दे दे प्यार दे

ट्रेलर देखा, फिल्म देखी, एक ही बात है.