Submit your post

Follow Us

अपने पिता के बड्डे पर रितेश देशमुख ने वीडियो पोस्ट किया और सबको इमोशनल कर दिया

रितेश देशमुख. एक्टर हैं. सोशल मीडिया के सारे प्लेटफॉर्म्स पर काफी एक्टिव रहते हैं. काफी मज़ेदार वीडियो डालते रहते हैं. अभी-अभी एक और वीडियो रितेश ने अपलोड किया है, लेकिन ये मज़ाकिया नहीं है, बल्कि भावुक करने वाला है. दरअसल, उनके पिता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख का 26 मई को जन्मदिन होता है. वो अब इस दुनिया में नहीं हैं. उन्हीं को बर्थडे विश करने के लिए रितेश ने बहुत इमोशनल वीडियो डाला है.

क्या है वीडियो में?

हैंगर पर विलासराव देशमुख का कुर्ता और सदरी टंगी है. पीछे ‘अग्निपथ’ फिल्म का गाना ‘अभी मुझ में कहीं बाकी थोड़ी सी है ज़िंदगी…’ बज रहा है. रितेश आते हैं. अपने पिता के कुर्ते में एक हाथ डालते हैं. और सिर कंधे पर टिका लेते हैं. देखकर ऐसा लगता है जैसे वो सच में अपने पिता के गले लग रहे हैं. जो हाथ रितेश का कुर्ते पर डला होता है, उसी हाथ को वो अपने सिर पर फेरते हैं. मानो बता रहे हों कि उनके पिता उन्हें आशीर्वाद दे रहे हैं. पीछे विलासराव की एक तस्वीर रखी है. आखिर में विलासराव और रितेश की पीछे से ली गई एक तस्वीर भी आती है, जिस पर ‘मिस यू’ लिखा होता है.

इसे पोस्ट करते हुए रितेश ने कैप्शन में लिखा, ‘हैप्पी बर्थडे पप्पा. हर रोज़ आपको याद करता हूं.’

ये वीडियो देखकर सोशल मीडिया पर लोग इमोशनल हो रहे हैं. किसी ने लिखा कि आंखों में आंसू आ गए. किसी ने कहा कि दिल छू लिया. किसी ने लिखा कि कुछ खो देना और कुछ रिश्ते शब्दों से परे होते हैं. तो कुछ ने विलासराव को जन्मदिन विश किया.

कौन थे विलासराव देशमुख?

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री थे. 29 की उम्र में एक्टिव पॉलिटिक्स में एंट्री की थी. लातुर के बाभलगांव में जन्म हुआ था. वहीं के रहने वाले थे. इसलिए राजनीति में भी यहीं से आए थे. सबसे पहले बाभलगांव की पंचायत के मेंबर बने, फिर सरपंच भी बने. कांग्रेस से जुड़े हुए थे. कांग्रेस की टिकट पर पहली बार 1980 में विधानसभा पहुंचे. लातुर सीट के विधायक बनकर. 1985 और 1990 के चुनाव में भी इस सीट से जीते. इन 15 साल में राज्य की कैबिनेट के मंत्री बने और कई विभाग संभाले. 1995 में चुनाव नहीं जीत पाए, लेकिन 1999 में जीत गए. फिर अक्टूबर 1999 से जनवरी 2003 तक राज्य के मुख्यमंत्री रहे.

अक्टूबर 2004 में फिर चुनाव हुए. विलासराव इस बार भी जीत गए. नवंबर 2004 से दिसंबर 2008 तक दोबारा राज्य के सीएम बने. 26 नवंबर, 2008 में मुंबई पर आतंकी हमला हुआ, जिसके बाद दिसंबर 2008 में विलासराव ने नैतिकता के आधार पर सीएम पद से इस्तीफा दे दिया.

राज्य की राजनीति के बाद केंद्र की सत्ता में एंट्री हुई. 2009 में राज्य सभा सांसद बने. इस दौरान भी केंद्रीय मंत्री के तौर पर कई विभागों की ज़िम्मेदारी मिली. वो केंद्रीय मंत्री के पद पर ही थे, जब उनकी मौत हुई.

विलासराव को लिवर कैंसर हो गया था. 2011 में उन्हें इस बात का पता चला था. इलाज हुआ, लेकिन थोड़े-बहुत सुधार के बाद हालत बिगड़ गई. अगस्त 2012 में लिवर ने काम करना बंद कर दिया. इलाज के लिए विलासराव को चेन्नई ले जाया गया. जहां उन्हें लाइफ सपोर्ट में रखा गया था. लिवर के साथ-साथ शरीर के कुछ अन्य अंगों ने भी काम करना बंद कर दिया था. NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक, विलासराव का लिवर ट्रांसप्लांट होना था, लेकिन वक्त पर ये ऑपरेशन नहीं हो सका और 14 अगस्त, 2012 को उनका निधन हो गया. तब वो 67 बरस के थे.


वीडियो देखें: पीयूष गोयल ने रितेश देशमुख के पिता पर इल्ज़ाम लगाए, रितेश बोले- मंत्री जी आप 7 साल लेट हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इबारत : शरद जोशी की वो 10 बातें जिनके बिना व्यंग्य अधूरा है

आज शरद जोशी का जन्मदिन है.

इबारत : सुमित्रानंदन पंत, वो कवि जिसे पैदा होते ही मरा समझ लिया था परिवार ने!

इनकी सबसे प्रभावी और मशहूर रचनाओं से ये हिस्से आप भी पढ़िए

गिरीश कर्नाड और विजय तेंडुलकर के लिखे वो 15 डायलॉग, जो ख़ज़ाने से कम नहीं!

आज गिरीश कर्नाड का जन्मदिन और विजय तेंडुलकर की बरसी है.

पाताल लोक की वो 12 बातें जिसके चलते इस सीरीज़ को देखे बिन नहीं रह पाएंगे

'जिसे मैंने मुसलमान तक नहीं बनने दिया, आप लोगों ने उसे जिहादी बना दिया.'

ऑनलाइन देखें वो 18 फ़िल्में जो अक्षय कुमार, अजय देवगन जैसे स्टार्स की फेवरेट हैं

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशन है अक्षय, अजय, रणवीर सिंह, आयुष्मान, ऋतिक रोशन, अर्जुन कपूर, काजोल जैसे एक्टर्स की.

कैरीमिनाटी का वीडियो हटने पर भुवन बाम, हर्ष बेनीवाल और आशीष चंचलानी क्या कह रहे?

कैरी के सपोर्ट में को 'शक्तिमान' मुकेश खन्ना भी उतर आए हैं.

वो देश, जहां मिलिट्री सर्विस अनिवार्य है

क्या भारत में ऐसा होने जा रहा है?

'हासिल' के ये 10 डायलॉग आपको इरफ़ान का वो ज़माना याद दिला देंगे

17 साल पहले रिलीज़ हुई इस फ़िल्म ने ज़लज़ला ला दिया था

4 फील गुड फ़िल्में जो ऑनलाइन देखने के बाद दूसरों को भी दिखाते फिरेंगे

'मेरी मूवी लिस्ट' में आज की रेकमेंडेशंस हमारी साथी स्वाति ने दी हैं.

आर. के. नारायण, जिनका लिखा 'मालगुडी डेज़' हम सबका नॉस्टैल्जिया बन गया

स्वामी और उसके दोस्तों को देखते ही बचपन याद आता है