Submit your post

Follow Us

सनी देओल के बेटे की पहली फ़िल्म के ट्रेलर में सिर्फ एक चीज़ देखने लायक है

219
शेयर्स

‘पल पल दिल के पास’ फ़िल्म का ट्रेलर आ गया है. और इसी ट्रेलर के साथ धर्मेंद्र के परिवार की तीसरी पीढ़ी बॉलीवुड में एंट्री कर चुकी है. धर्मेंद्र की पहली फिल्म 1958 में आई थी. नाम था ‘दिल भी तेरा हम भी तेरे’. सनी ने ‘बेताब’ (1983) से डेब्यू किया. ‘पल पल दिल के पास’ फिल्म से सनी के बेटे करण देओल फिल्मों में शुरुआत कर रहे हैं. हालांकि इससे पहले करण असिस्टेंट डायरेक्टर रह चुके हैं. वो ‘यमला पगला दीवाना 2’ में संगीत सिवन को असिस्ट कर चुके हैं.

करण देओल
करण देओल

# क्या ख़ास है ट्रेलर में

सनी देओल के बेटे के अलावा एडवेंचर ट्रेलर का ख़ास हिस्सा है. करण देओल ट्रैवल गाइड का रोल निभा रहे हैं. फिल्म में  उनका नाम है करण सहगल. ट्रेलर के शुरुआत में ही अपनी एक क्लाइंट से करण एडवेंचर के ख़तरे बताते दिखते हैं. सहर बता रही हैं करण को अनप्रोफेशनल गाइड.

कहानी है एक ट्रैवल ट्रिप की. और इसी ट्रिप पर निकले हैं करण और सहर. एडवेंचरस लव स्टोरी है ये फ़िल्म. यही कहकर इस फ़िल्म को प्रमोट भी किया गया था. ट्रेलर में एक जगह फ़िल्म को “The Biggest Love Story’ भी कहा गया है. करण और सहर की शुरुआती नोकझोंक और बाद में उनका पैच अप और प्यार. कुल मिलाकर यही है ट्रेलर.

ट्रेलर से ही एक यूट्यूब ग्रैब
ट्रेलर से ही एक यूट्यूब ग्रैब

# कास्ट

करण देओल और सहर बांबा लीड रोल में हैं. दोनों की ही ये डेब्यू फ़िल्म है. सहर हिमाचल प्रदेश की हैं और ओप्पो फ़्रेश फ़ेस अवॉर्ड जीत चुकी हैं. ट्रेलर में एक जगह दिखाई दे रही हैं तनुश्री दत्ता.

# डायरेक्टर कौन है?

सनी देओल ला रहे हैं ये फ़िल्म. बेटे करण को लेकर शायद किसी तरह का रिस्क लेना नहीं चाहते थे सनी. और डायरेक्शन के मामले में सनी देओल दो फ़िल्म पुराने भी हैं. ये तीसरी फिल्म है जिसे सनी डायरेक्ट कर रहे हैं. इससे पहले वो ‘दिल्लगी’ (1999) और ‘घायल वंस अगेन’ (2016) डायरेक्ट कर चुके हैं.

‘पल पल दिल के पास’ का स्क्रीनप्ले लिखा है शशांक खेतान ने. शशांक इससे पहले ‘हम्पटी शर्मा की दुल्हनिया’ सीरीज़ और ‘धड़क’ जैसी फिल्में डायरेक्ट कर चुके हैं.

बेटे करण देओल के साथ सनी देओल
बेटे करण देओल के साथ सनी देओल

# क्या देखने लायक़ है ट्रेलर में

बिना शक़ लोकेशन्स. यही वो फैक्टर भी होगा जिसकी वजह से यूथ ये फ़िल्म देखने जाएगा. ट्रेलर की शुरुआत से आखिर तक सिर्फ़ लोकेशन्स ही हैं जो आपको बांधे रखती हैं. हिमाचल और लद्दाख की शूट लोकेशन्स का बढ़िया इस्तेमाल दिखाई दे रहा है.

एडवेंचर गेम्स को कहानी में जिस तरह से क्राफ्ट किया गया है वो अच्छा है. और एक मज़बूत वजह है कि ‘9 से 5’ की जॉब से ऊब चुके एडवेंचर प्रेमी नौजवान सिनेमा के पर्दे पर ही सही लेकिन दिल की हसरतें पूरी होती देखेंगे.

लोकेशन वाक़ई धांसू है ट्रेलर में
लोकेशन वाक़ई धांसू है ट्रेलर में

# एक चीज़ और

ट्रेलर में करण देओल का नाम करण सहगल ही है. उनके अपोज़िट लीड में सहर बांबा का नाम भी सहर ही है. ये अच्छी प्रमोशनल ट्रिक है मेकर्स की. करण और सहर दोनों का ही डेब्यू है. और सनी देओल की जगह कोई भी होता तो यही चाहता कि डेब्यू कर रहे बेटे का नाम लोग अगली फ़िल्म तक याद रखें. शायद यही वजह है कि दोनों कैरेक्टर्स का नाम बदला नहीं गया है.


वीडियो देखें:

क्या होगा जब ऋतिक-टाइगर के फिल्म की टक्कर चिरंजीवी की 250 करोड़ी फिल्म से होगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: पल पल दिल के पास

सनी देओल ने तो जैसे-तैसे अपना काम कर दिया है लेकिन करण को काफी मेहनत करनी पड़ेगी.

फिल्म रिव्यू: प्रस्थानम

कैसी है संजय दत्त-मनीषा कोइराला स्टारर पॉलिटिकल ड्रामा?

फिल्म रिव्यू: दी ज़ोया फैक्टर

'किस्मत बड़ी या मेहनत' वाले सवाल का कन्फ्यूज़ कर देने वाला जवाब.

फिल्म रिव्यू: सेक्शन 375

ये फिल्म एक केस की मदद से ये आज के समय की सबसे प्रासंगिक और कम कही गई बात कहती है.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई. आज वॉर्न अपना पचासवां बड्डे मना रहे हैं.

फिल्म रिव्यू: ड्रीम गर्ल

जेंडर के फ्यूजन और तगड़े कन्फ्यूजन वाली मज़ेदार फिल्म.

गैंग्स ऑफ वासेपुर की मेकिंग से जुड़ी ये 24 बातें जानते हैं आप?

अनुराग कश्यप के बड्डे के मौके पर जानिए दो हिस्सों वाली इस फिल्म के प्रोडक्शन से जुड़ी बहुत सी बातें हैं. देखें, आप कितनी जानते हैं.

फिल्म रिव्यू: छिछोरे

उम्मीद से ज़्यादा उम्मीद पर खरी उतरने वाली फिल्म.

ट्रेलर रिव्यू झलकीः बाल मजदूरी पर बनी ये फिल्म समय निकालकर देखनी ही चाहिए

शहर लाकर मजदूरी में धकेले गए भाई को ढूंढ़ती बच्ची की कहानी.

जब अपना स्कूल बचाने के लिए बच्चों को पूरे गांव से लड़ना पड़ा

क्या उनका स्कूल बच सका?