Submit your post

Follow Us

आतिफ़ असलम ने बेटा होने की खबर के साथ ऐसा शब्द लिख दिया कि लोग कन्फ्यूज़ हो गए

पाकिस्तानी सिंगर आतिफ़ असलम आजकल बहुत ख़ुश हैं. वजह? वो दूसरी बार पिता बने हैं. ये ख़ुशखबरी उन्होंने अपने फैन्स के साथ इंस्टाग्राम पर शेयर की. साथ ही अपने बच्चे की तस्वीर भी शेयर की.

आतिफ़ ने पोस्ट में लिखा-

‘देवियों और सज्जनों ये है हमारा दूसरा बच्चा. ‘अल्हम्दुलिल्लाह’. बच्चा और मां दोनों ठीक हैं. हमें अपनी दुआओं में याद रखिएगा. साथ ही ‘माशाल्लाह’ कहना मत भूलिएगा.’

अब यहां तक तो सब ठीक है. आते हैं एक मज़ेदार बात पर. आतिफ़ के घर नन्हा मेहमान आया है. ये ख़बर कई वेबसाइट्स ने भी छापी. मज़ेदार ये बात हुई कि आतिफ़ ने अपने पोस्ट में ‘अल्हम्दुलिल्लाह’ शब्द लिखा. अब एक वेबसाइट से हो गई एक गोची. उन्होंने ख़बर छापी और उसकी हेडलाइन दी-

‘आतिफ़ असलम और उनकी पत्नी को हुआ दूसरा बच्चा. नाम रखा ‘अल्हम्दुलिल्लाह’.

अब अगर आपने गलती नहीं पकड़ी तो बता दें. बच्चे का नाम ‘अल्हम्दुलिल्लाह’ नहीं है. ‘अल्हम्दुलिल्लाह’ एक शब्द है जिसका सबसे आसान अनुवाद है ‘थैंक गॉड’. अब ज़ाहिर सी बात है बच्चे का नाम ‘थैंक गॉड’ नहीं हो सकता.

तो क्या होता है ‘अल्हम्दुलिल्लाह’ का मतलब

जैसे कि हमने बताया. ‘अल्हम्दुलिल्लाह’ तब बोला जाता है जब आप उपरवाले को शुक्रिया बोल रहे होते हैं. ये एक आम अरबी शब्द है. दुनियाभर में मुसलमान इस शब्द का इस्तेमाल ‘थैंक गॉड’ बोलने के लिए करते हैं.

शायद लिखने वाले कनफूजिया गए. छाप दिया कि बच्चे का नाम ‘अल्हम्दुलिल्लाह’ रख दिया गया!

अब सोशल मीडिया पर तो लोग बैठे ही हैं गलती पकड़ने के लिए. इस गलती के ले लिए गए स्क्रीनशॉट्स. और ये स्क्रीनशॉट्स सोशल मीडिया पर हो गए वायरल. लोगों ने भी ख़ूब चुटकी ली.

जब लोगों ने ट्रोल करना शुरू किया तब वेबसाइट को अपनी गलती का पता चला. हेडलाइन ठीक कर दी गई. कोई नहीं. सोशल मीडिया पर लोगों को थोड़ा हंसने का मौका मिल गया.


वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

'इक कुड़ी जिदा नां मुहब्बत' वाले शिव बटालवी ने बताया कि हम सब 'स्लो सुसाइड' के प्रोसेस में हैं

इन्होंने अपनी प्रेमिका के लिए जो 'इश्तेहार' लिखा, वो आज दुनिया गाती है

शराब पर बस ये पढ़ लीजिए, बिना लाइन में लगे झूम उठेंगे!

लिखने वालों ने भी क्या ख़ूब लिखा है.

वो चार वॉर मूवीज़ जो बताती हैं कि फौजी जैसे होते हैं, वैसे क्यूं होते हैं

फौजियों पर बनी ज़्यादातर फिल्मों में नायक फौजी होते ही नहीं. उनमें नायक युद्ध होता है. फौजियों को देखना है तो ये फिल्में देखिए.

गहने बेच नरगिस ने चुकाया था राज कपूर का कर्ज

जानिए कैसे शुरू और खत्म हुआ नरगिस और राज कपूर का प्यार का रिश्ता..

सत्यजीत राय के 32 किस्से: इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे

ये 50 साल पहले ऑस्कर जीत लाते, पर हमने इनकी फिल्में ही नहीं भेजीं. अंत में ऑस्कर वाले घर आकर देकर गए.

ऋषि कपूर की इन 3 हीरोइन्स ने उनके बारे में क्या कहा?

इनमें से एक अदाकारा को ऋषि ने आग से बचाया था.

ईश्वर भी मजदूर है? लेखक लोग तो ऐसा ही कह रहे हैं!

पहली मई को दुनियाभर में मजदूरों के हक़ की बात कही जाती है.

बलराज साहनी की 4 फेवरेट फिल्में : खुद उन्हीं के शब्दों में

शाहरुख, आमिर, अमिताभ बच्चन जैसे सुपरस्टार्स के फेवरेट एक्टर रहे बलराज साहनी.

जब भीमसेन जोशी के सामने गाने से डर गए थे मन्ना डे

मन्ना डे के जन्मदिन पर पढ़िए, उनसे जुड़ा ये किस्सा.

ऋषि कपूर के ये 13 गीत सुनकर समझ आता है, ये लवर बॉय पर्दे पर कैसे मेच्योर हुआ

'हमको तो तुमसे है, प्यार.'