Submit your post

Follow Us

बीबीसी एंकर ने 'भूख' को लेकर भारत पर तंज किया, शेफ विकास खन्ना के जवाब से लोग खुश हैं

भारत के सेलिब्रिटी शेफ विकास खन्ना. अमेरिका में हैं. वहां से भारत में गरीबों के लिए खाने का अभियान चला रहे हैं. लॉकडाउन के दौरान उन्होंने ‘फीड इंडिया’ अभियान के तहत बहुत से मजदूरों की मदद की. उन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर फूड इंडस्ट्री का सबसे सम्मानित अवॉर्ड मिशेलिन स्टार मिला हुआ है.

बीबीसी के साथ एक इंटरव्यू में वो अपने इस अभियान के बारे में बात कर रहे थे. अब उसका एक हिस्सा सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इसमें ‘भूख’ को लेकर विकास खन्ना एक जवाब दे रहे हैं. बीबीसी एंकर के एक सवाल को लोग भारत को लेकर कोलोनियल मानसिकता से जोड़ रहे हैं और विकास खन्ना के जवाब की तारीफ कर रहे हैं. बीबीसी एंकर ने कहा कि उनकी भूख को लेकर समझ भारत से आई होगी.

एंकर ने पूछा,

अब आप फेमस हैं. आपने ओबामा के लिए कुक किया. आप गॉर्डन रामसे के साथ शो में रहे. लेकिन हमेशा ऐसा नहीं था. आप अमीर परिवार से नहीं थे. तो मैं ऐसा कहने की हिमाकत करूंगा कि आप समझते हैं कि भारत में ये (भूख) कितनी अनिश्चित चीज है. 

विकास खन्ना का जवाब

इस सवाल पर विकास खन्ना जवाब देते हैं कि उनकी भूख की समझ भारत से नहीं न्यू यॉर्क से आई है. उन्होंने कहा,

नहीं, मेरी भूख की समझ भारत से नहीं आई क्योंकि मैं अमृतसर में पैदा हुआ और पला-बढ़ा. वहां बड़े कम्युनिटी किचन (लंगर) में सबको खाना मिलता है. जहां पूरा शहर खा सकता है. लेकिन मेरी भूख की समझ न्यू यॉर्क से आई. 

एक ब्राउन किड के लिए अमेरिका में ऊंचे सपनों के साथ आना आसान नहीं है. 9/11 के बाद हमें जॉब मिलना और भी कठिन था. जब मैं न्यू यॉर्क आया तो संघर्ष के दिनों में यहां मैंने भूख का सही मतलब जाना. 

यहां देखें क्लिप:

अब ये क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल है. लोग विकास खन्ना के शांत तरीके से दिए गए जवाब की तारीफ कर रहे हैं. कोई इसे ‘क्लासिक रिप्लाई’ कह रहा है, कोई ‘सैवेज’ टाइप का रिस्पॉन्स. अपने अभियान ‘उत्सव’ के जरिए विकास खन्ना ने 14 लाख लोगों को खाने के पैकेट बांटने का लक्ष्य रखा था. साथ ही उन्होंने मुंबई के डब्बावालों को मदद की है.


तस्वीर: चर्चिल और क्लाइव की टूटती मूर्तियां असल में भारत पर सदियों पहले हुए अत्याचार की याद दिलाती हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

फादर्स डे बेशक बीत गया लेकिन सेलेब्स के मैसेज अब भी आंखें भिगो देंगे

'आपका हाथ पकड़ना मिस करता हूं. आपको गले लगाना मिस करता हूं. स्कूटर पर आपके पीछे बैठना मिस करता हूं. आपके बारे में सब कुछ मिस करता हूं पापा.'

वो एक्टर जो लोगों को अंग्रेज़ लगता था, लेकिन था पक्का हिंदुस्तानी

जिसकी हिंदी, उर्दू और अंग्रेज़ी पर गज़ब की पकड़ थी.

भारत-चीन तनाव: PM मोदी के बयान पर भड़के पूर्व फौजी, कहा- वे मारते मारते कहां मरे?

पीएम ने कहा था न कोई हमारी सीमा में घुसा है न ही हमारी कोई पोस्ट किसी दूसरे के कब्जे में है.

'बुलबुल' ट्रेलर: देखकर लग रहा है ये बिल्कुल वैसी फिल्म है, जैसी एक हॉरर फिल्म होनी चाहिए

डर भी, रहस्य भी, रोमांच भी और सेंस भी. ऐसा लग रहा है कि फिल्म 'परी' से भी ज्यादा डरावनी होगी.

इस आदमी पर से भरोसा उसी दिन उठ गया था, जब इसने सनी देओल का जीजा बनकर उन्हें धोखा दिया था

परदे पर अब तक 182 बार मर चुका है ये एक्टर.

'गो कोरोना गो' वाले रामदास आठवले की कही आठ बातें, जिन्हें सुनकर दिमाग चकरा जाए

अब आठवले ने चायनीज फूड के बहिष्कार की बात कही है.

विदेशी मीडिया को क्यों लगता है कि भारत-चीन सीमा पर हालात बेकाबू हो सकते हैं?

सब जगह लद्दाख झड़प की चर्चा है.

वो 7 इंडियन एक्टर्स/सेलेब्रिटीज़, जिन्होंने आत्महत्या कर ली थी

इस लिस्ट में लीजेंड्स से लेकर स्टार्स सब शामिल हैं.

सुशांत सिंह राजपूत के 50 ख्वाब, जो उन्होंने पर्चियों में लिख रखे थे

उनके ख्वाबों की लिस्ट में उनके व्यक्तित्व का सार छुपा हुआ है.

डेथ से पहले इन 5 प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे थे सुशांत सिंह राजपूत

इनमें से एक फिल्म अगले कुछ दिनों में रिलीज़ होने वाली है, जो सुशांत के करियर की आखिरी फिल्म होगी.