Submit your post

Follow Us

देश के वो चार फैसले, जिसके बारे में सिर्फ पीएम मोदी ही जानते थे

3.95 K
शेयर्स

नरेंद्र मोदी जबसे प्रधानमंत्री बने हैं, ऐसे-ऐसे फैसले करते हैं कि किसी को भी जानकारी नहीं होती. एक दिन आप टीवी खोलते हैं और आपको पता चलता है कि देश में अब कुछ बदल गया है. या कुछ नया हो गया है. और हमारी-आपकी ही तरह देश के अधिकांश सांसद और मंत्री भी हैं, जिन्हें ऐसी खबरें टीवी से ही पता चलती हैं. जानते हैं क्यों, क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी ऐसे फैसले खुद करते हैं और उसके बाद लोगों को पता चलता है.

पीएम मोदी को इस पद पर रहते हुए साढ़े चार साल से ज्यादा का वक्त हो गया है. वेबसाइट आजतक में छपी दिनेश अग्रहरि की रिपोर्ट के मुताबिक साढ़े चार सालों में प्रधानमंत्री मोदी ने अब तक चार ऐसे फैसले किए हैं, जिसकी जानकारी न तो बीजेपी के नेताओं को थी और न ही विपक्ष के नेताओं को.

1. सामान्य वर्ग के लिए 10 फीसदी का आरक्षण

सामान्य वर्ग के गरीब लोगों के लिए 10 फीसदी का आरक्षण दिया गया है, जिसे लोकसभा और राज्यसभा ने पास कर दिया है. ये फैसला अचानक से 7 जनवरी को हुआ और किसी को भनक भी नहीं लगी.

7 जनवरी, 2019. दोपहर का वक्त था. अचानक से टीवी पर खबर आई कि सामान्य वर्ग के गरीब लोगों के लिए भी 10 फीसदी का आरक्षण दिया जाएगा. इस फैसले से पहले इस तरह के आरक्षण की कोई सुगबुगाहट तक नहीं थी. बीजेपी का कोई भी सांसद या फिर केंद्र का कोई भी मंत्री इससे जुड़ा कोई बयान नहीं दे रहा था. लेकिन पीएम मोदी ने अचानक से फैसला किया और तब लोगों को पता चला कि कैबिनेट ने इसे मंजूरी दे दी है. इसके बाद बिल को पहले लोकसभा और फिर राज्यसभा में पास करवा दिया गया.

2. पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक

28 और 29 सितंबर, 2016 के बीच की रात भारतीय सेना ने PoK में आतंकियों के ठिकानों पर हमला किया था. सेना ने बताया कि लश्कर-ए-तैयबा के कई टेरर लॉन्चिंग पैड्स बर्बाद हुए. इस ऑपरेशन में शामिल रहे एक अफसर ने अब बताया है कि कैसे उन लोगों ने ऑपरेशन को कामयाब बनाने के लिए तेंदुए के पेशाब का इस्तेमाल किया. दाहिनी तरफ की फोटो उस फुटेज का हिस्सा है, जो सर्जिकल स्ट्राइक का एक विडियो बताकर मीडिया में लीक हुआ था.
28 और 29 सितंबर, 2016 के बीच की रात भारतीय सेना ने PoK में आतंकियों के ठिकानों पर हमला किया था. सेना ने बताया कि लश्कर-ए-तैयबा के कई टेरर लॉन्चिंग पैड्स बर्बाद हुए.

ये एक ऐसा फैसला था, जिसकी घोषणा सेना की ओर से की गई थी. लेकिन इस फैसले के पीछे भी अकेले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही थे. इस फैसले का पता 29 सितंबर, 2018 की दोपहर में तब चला, जब उस वक्त के डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने मीडिया को बुलाया और उनसे बातचीत की. उन्होंने मीडिया को ही बताया कि 28-29 सितंबर की रात को भारतीय सेना ने पाकिस्तान के आतंकी शिविरों पर सर्जिकल स्ट्राइक की है और कई आतंकवादियों को मार गिराया है.

3. नोटबंदी

500 और 1000 के पुराने नोट बंद होने का सबसे बुरा असर छोटे व्यापारियों पर पड़ा. (फोटोःरॉयटर्स)
500 और 1000 के पुराने नोट अचानक से बंद कर दिए गए और ये फैसला सिर्फ और सिर्फ प्रधानमंत्री मोदी को ही पता था. (फोटोःरॉयटर्स)

8 नवंबर, 2016. रात के 8 बज रहे थे. लोग टीवी देख रहे थे. अचानक से पीएम मोदी टीवी पर आए और कहा कि 8 नवंबर, 2016 की रात 12 बजे से 500 और 1000 के पुराने नोट बंद हो जाएंगे. अब पीएम मोदी ने टीवी पर घोषणा की तो हमको-आपको पता चला. लेकिन बीजेपी के बड़े नेताओं और मंत्रियों को भी इस बात का पता टीवी से ही चला कि पीएम मोदी ने नोट बंद कर दिए हैं. किसी भी नेता या अधिकारी को इस बात की भनक तक नहीं लगने पाई थी और सारे पुराने 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए गए थे.

4. रफाएल का सौदा

डासौ एविएशन का राफेल. ये एक मीडियम मल्टी रोल कॉम्बैट एयरक्राफ्ट है. फोटोः डिफेंस अपडेट)
डासौ एविएशन का राफेल. इस सौदे की जानकारी भी सिर्फ और सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ही थी.

हाल में देश में सबसे ज्यादा विवाद किसी पर हुआ है, तो वो है रफाएल सौदा. इस सौदे की शुरुआत तो यूपीए के वक्त ही हो गई थी, लेकिन समझौता नहीं हो पाया. नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने, तो फिर से बात शुरू हुई. 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ्रांस गए. इस यात्रा के दौरान अचानक से उन्होंने कहा कि रफाएल का सौदा हो गया है. और भारत अब 36 रफाएल विमान फ्रांस से खरीद रहा है. इस रक्षा सौदे की जानकारी भी किसी को नहीं हो पाई थी और फैसला हो गया था.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Narendra Modi : Top four decision of Modi government which were top secret including reservation, notebandi, surgical strike and rafale

पोस्टमॉर्टम हाउस

मेड इन हैवन: रईसों की शादियों के कौन से घिनौने सच दिखा रही है ये सीरीज़?

क्यों ये वेब सीरीज़ सबसे बेस्ट मानी जाने वाली सीरीज़ 'सेक्रेड गेम्स' से भी बेस्ट है.

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 4 - रिव्यू

सब कुछ तो पिछले एपिसोड में हो चुका, अब बचा क्या?

मूवी रिव्यू: सेटर्स

नकल माफिया कितना हाईटेक हो सकता है, ये बताने वाली थ्रिलर फिल्म.

फिल्म रिव्यू: ब्लैंक

आइडिया के लेवल पर ये फिल्म बहुत इंट्रेस्टिंग लगती है. कागज़ से परदे तक के सफर में कितनी दिलचस्प बन बाती है 'ब्लैंक'.

'जुरासिक पार्क' जैसी मूवी के डायरेक्टर ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

जानिए क्यों राय अपनी वो हॉलीवुड फिल्म न बना पाए, जिसकी कॉपी सुपरहिट रही थी, और जिसे फिर बॉलीवुड ने कॉपी किया.

ढिंचाक पूजा का नया गाना, वो मोदी विरोधी हो गईं हैं

फैंस के मन में सवाल है, क्या ढिंचाक पूजा समाजवादी हो गई हैं?

गेम ऑफ़ थ्रोन्स सीज़न 8 एपिसोड 3 - रिव्यू

एक लंबी रात, जो अंत में आपको संतुष्ट कर जाती है.

कन्हैया के समर्थन में गईं शेहला राशिद के साथ बहुत ग़लीज़ हरकत की गई है

पॉलिटिक्स अपनी जगह है लेकिन ऐसा घटिया काम नहीं होना था.

एवेंजर्स एंडगेम रिव्यू: 11 साल, 22 फिल्मों का ग्रैंड फिनाले, सुपरहीरोज़ का महाकुंभ और एक थैनोस

याचना नहीं, अब रण होगा!

क्या शीला दीक्षित ने कहा कि सरकारी स्कूल में बूथ न बनें, वरना लोग स्कूल देख AAP को वोट दे देंगे?

ज़ी रिबप्लिक के बाकी ट्वीट पढ़ेंगे तो पूरा मामला क्लियर हो जाएगा.