Submit your post

Follow Us

अगर क्रिकेट पर बनी ये 10 फिल्में नहीं देखीं, तो खुद को क्रिकेट फैन न कहिए!

आज कल हर तरफ क्रिकेट का माहौल है. अभी-अभी इंडिया-इंग्लैंड की भिड़ंत खत्म हुई, तो दूसरी तरफ IPL शुरू हो गया. इन सबके साथ अगले कुछ दिनों में 1983 वर्ल्ड कप विक्ट्री पर बनी रणवीर सिंह की फिल्म ’83’ भी सिनेमाघरों में रिलीज़ होने वाली है. इस मुबारक मौके पर हम आपको उन फिल्मों के बारे में बताएंगे, जिनकी धुरी क्रिकेट रही है. मगर हमने इस लिस्ट से क्रिकेटर्स की लाइफ पर बनी बायोपिक्स को बाहर रखा है.

1) हमारी लिस्ट में पहला नाम है- ‘अव्वल नंबर

डायरेक्टर– देव आनंद
स्टारकास्ट– देव आनंद, आमिर खान, आदित्य पंचोली

बेसिक प्लॉट– ये फिल्म उभरते हुए क्रिकेटर सनी और स्टार क्रिकेटर रॉनी की आपसी रंजिश की कहानी है. रॉनी को टीम से बाहर करके उसकी जगह सनी को प्लेइंग इलेवन का हिस्सा बना लिया जाता है. इस बात से नाराज रॉनी, सनी से बदला लेना चाहता है. इन दोनों के चूहे-बिल्ली के खेल का फायदा उठाते हैं आतंकवादी. वो उस स्टेडियम में बम फिट कर देते हैं, जहां इंडिया-ऑस्ट्रेलिया के बीच मैच होना है. मगर ऐन मौके पर DIG विक्रम सिंह उर्फ विकी, जो कि इंडियन क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के चीफ भी हैं, उन्हें इस बारे में पता चल जाता है. और ज़ाहिर तौर पर वो अपनी सूझबूझ से इस ब्लास्ट को टाल स्टेडियम में मौजूद हज़ारों लोगों की जान बचा लेते हैं. पिछले कुछ समय से लल्लनटॉप के न्यूज़ रूम में इस फिल्म पर भारी चर्चा चल रही थी. क्योंकि ये बड़ी एंबैरेसिंग स्टोरीलाइन वाली फिल्म है. मगर इसे गिल्टी-प्लेज़र की तरह लिया जाए.

खास बात– कहा जाता है कि इस फिल्म में विलन यानी स्टार क्रिकेटर रॉनी वाला रोल देव साहब ने पाकिस्तानी क्रिकेटर इमरान खान को ऑफर किया था. मगर इमरान ने अपने दूसरी कमिटमेंट्स की वजह से ये नेगेटिव रोल करने से मना कर दिया.

कहां देख सकते हैं– इस फिल्म को आप यूट्यूब पर स्ट्रीम कर सकते हैं.

फिल्म 'अव्वल नंबर' के पोस्टर पर देव आनंद के साथ आमिर खान, आदित्य पंचोली और एकता सोहनी.
फिल्म ‘अव्वल नंबर’ के पोस्टर पर देव आनंद के साथ आमिर खान, आदित्य पंचोली और एकता सोहनी.

2) इस लिस्ट में शामिल दूसरी फिल्म है- ‘चमत्कार

डायरेक्टर– राजीव मेहरा
स्टारकास्ट– नसीरुद्दीन शाह, शाहरुख खान, उर्मिला मातोंडकर, टिनू आनंद

बेसिक प्लॉट– ये कहानी है सुंदर नाम के एक लड़के की, जो अपने पिता का सपना पूरा करने के लिए मुंबई आया है. मगर पैसे की कमी की वजह से उसे एक कब्रिस्तान में रात गुज़ारनी पड़ती है. यहां सुंदर की मुलाकात मार्को नाम के एक पूर्व-गैंगस्टर के भूत से होती है. सुंदर वो इकलौता व्यक्ति है, जो मार्को को देख और सुन सकता है. बड़ी जद्दोजहद के बाद ये दोनों एक अग्रीममेंट पर पहुंचते हैं कि वो एक दूसरे की मदद करेंगे. मार्को की मदद से सुंदर की क्रिकेट कोच के तौर पर एक स्कूल में नौकरी लग जाती है. फिल्म का क्लाइमैक्स एक क्रिकेट मैच पर बेस्ड है, जहां फिल्म के विलन और सुंदर की टीमें आपस में भिड़ रही हैं. शुरुआत से मैच हार रही सुंदर की टीम अचानक से कैसे जीतने लगती है, ये इस फिल्म की सबसे बड़ी हाइलाइट है. पैरा-नॉर्मल, सुपरनैचुरल, इल्लॉजिकल मगर देखने लायक मज़ेदार कॉमेडी फिल्म.

खास बात– 1992 में रिलीज़ हुई ‘चमत्कार’ लीड रोल में शाहरुख खान के करियर की पहली फिल्म थी. ‘चमत्कार’ वो इकलौती फिल्म रही, जिसमें शाहरुख और उर्मिला ने साथ काम किया.

कहां देख सकते हैं– ‘चमत्कार’ को आप नेटफ्लिक्स पर देख सकते हैं.

 लीड रोल में शाहरुख खान के करियर की पहली फिल्म 'चमत्कार' का पोस्टर.
लीड रोल में शाहरुख खान के करियर की पहली फिल्म ‘चमत्कार’ का पोस्टर.

3) हमारी लिस्ट की अगली फिल्म का नाम है- ‘लगान

डायरेक्टर– आशुतोष गोवारिकर
स्टारकास्ट– आमिर खान, ग्रेसी सिंह, रघुबीर यादव, दयाशंकर पांडे, यशपाल शर्मा, आदित्य लखिया

बेसिक प्लॉट– 1893 का ब्रिटिश इंडिया. चंपानेण नाम का एक गांव हैं, जहां इस साल बिल्कुल भी बारिश नहीं हुई. सूखा हो या बाढ़, गांववालों को लगान देना पड़ता है. बारिश की कमी को देखते हुए कुछ गांववाले अपने राजा से रिक्वेस्ट करने जाते हैं कि उनका इस साल का लगान माफ कर दिया जाए. मगर राजा जी अंग्रेज़ों को क्रिकेट खेलते देखने में मशगूल हैं. इस बात से नाराज़ भुवन नाम एक लड़का अंग्रेज़ों के उस खेल का मज़ाक उड़ाने लगता है. इस बात से कैप्टन रसेल नाम का टैक्स ऑफिसर चिढ़ जाता है. वो भुवन को चैलेंज करता है कि अगर गांववाले क्रिकेट के खेल में ब्रिटिश टीम को हरा देते हैं, तो उनका तीन साल का लगान माफ कर दिया जाएगा. गांववालों की मर्ज़ी के खिलाफ भुवन वो चैलेंज एक्सेप्ट कर लेता है. वो गांव के लोगों को क्रिकेट की ट्रेनिंग देता है. फाइनली गांववाली टीम अंग्रज़ों के खिलाफ मैदान पर उतरती है और धोनी स्टाइल में छक्का मारकर मैच जीत जाती है.

खास बात– पहले आमिर खान ने इस फिल्म को करने से मना कर दिया था. मगर बाद में उन्होंने इस फिल्म में एक्टिंग के साथ-साथ इसे प्रोड्यूस करने की भी ज़िम्मेदारी उठाई. इसके लिए बाकायदा उन्होंने अपने प्रोडक्शन हाउस शुरू किया. ‘लगान’ सुपरहिट तो रही ही, इसे इंडिया की ऑस्कर में ऑफिशियल एंट्री के तौर पर भी भेजा गया. हालांकि ये फिल्म शुरुआती दौर में ही बेस्ट फॉरन लैंग्वेंज फिल्म का अवॉर्ड जीतने की रेस से बाहर हो गई.

कहां देख सकते हैं– ‘लगान’ को भी यूट्यूब पर स्ट्रीम किया जा सकता है. मगर इस फिल्म से ज़्यादा दिलचस्प इसकी मेकिंग है. ‘मैडनेस इन डेज़र्ट’ नाम से ‘लगान’ की मेकिंग डॉक्यूमेंट्री आपको नेटफ्लिक्स पर मिल जाएगी.

आमिर खान स्टारर ये फिल्म कल्ट क्रिकेट फिल्म है. मगर इसका मीम कल्चर में इस फिल्म के योगदान को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता.
आमिर खान स्टारर ये ‘लगान’ कल्ट क्रिकेट फिल्म है. मगर मीम कल्चर में इस फिल्म के योगदान को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता.

4) इस लिस्ट की अगली फिल्म है- ‘इक़बाल

डायरेक्टर– नागेश कुकुनूर
स्टारकास्ट– नसीरुद्दीन शाह, श्रेयस तलपड़े, गिरिश कर्नाड, श्वेता बासु प्रसाद

बेसिक प्लॉट– ये फिल्म इक़बाल नाम के एक गूंगे-बहरे लड़के की कहानी दिखाती है, जिसका सपना क्रिकेटर बनने का है. मगर उसकी बहन के अलावा उसके सपने को कोई गंभीरता से नहीं लेता. वो अपने इलाके के क्रिकेट कोचिंग अकैडमी में जाता है. मगर उस अकैडमी से उनसे निकाल फेंका जाता है. फाइनली उसकी मुलाकात मोहित नाम के एक शराबी से होती है. मोहित एक दौर में चर्चित क्रिकेट हुआ करता था मगर अब बस शराब पीकर पड़ा रहता है. वो इक़बाल को ट्रेन करता है, जिसकी बदौलत उसे आंध्र प्रदेश की रणजी टीम में चुन लिया जाता है. इक़बाल अपनी फास्ट बोलिंग से तहलका मचा देता है. इस फील्ड में फैली तमाम पॉलिटिक्स को दरकिनार करते हुए इक़बाल नेशनल क्रिकेट टीम में खेलने के अपना सपना पूरा करता है. कतई मोटिवेशनल-इमोशनल और आला दर्जे के परफॉरमेंस से लबरेज सिनेमा.

खास बात– ‘इक़बाल’ को सोशल इशूज़ पर बनी बेस्ट फिल्म का नेशनल अवॉर्ड मिला था. मोहित के रोल के लिए नसीरुद्दीन शाह को बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का नेशनल अवॉर्ड से दिया गया. ये नसीर के करियर का तीसरा नेशनल अवॉर्ड था.

कहां देख सकते हैं– ‘इक़बाल’ को ज़ी5 पर देखा जा सकता है.

फिल्म 'इक़बाल' का पोस्टर. इस फिल्म में श्रेयस तलपड़े के साथ नसीरुद्दीन शाह और श्वेता बासु प्रसाद जैसे एक्टर्स नज़र आए थे.
फिल्म ‘इक़बाल’ का पोस्टर. इस फिल्म में श्रेयस तलपड़े के साथ नसीरुद्दीन शाह और श्वेता बासु प्रसाद जैसे एक्टर्स नज़र आए थे.

5) इस लिस्ट की पांचवीं फिल्म का नाम है- ‘विक्ट्री

डायरेक्टर– अजीत पाल मंगत
स्टारकास्ट– हरमन बावेजा, अमृता राव, अनुपम खेर

बेसिक प्लॉट– विजय शेखावत नाम के स्ट्रगलिंग क्रिकेटर की कहानी, जो इंडियन नेशनल टीम में जगह बनाना चाहता है. मगर एक बार टीम में चुन लिए जाने के बाद उसमें बहुत ऐटिट्यूड आ जाता है. इसका असर उसकी परफॉरमेंस पर पड़ता है और वो टीम से बाहर कर दिया जाता है. इसके बाद वो सफलता को हैंडल करना सीखता है और जी-जान से टीम में दोबारा चुने जाने की तैयारी में लग जाता है. खूब मेहनत से वो वापस टीम में आता है और अच्छा खेलकर सबका दिल जीत लेता है. बहुत बेसिक कहानी, जिसमें स्पार्क की भारी कमी थी.

खास बात– ‘विक्ट्री’ में रोहित शर्मा, सुरैश रैना, दिनेश कार्तिक, शोएब मलिक, माइक हसी और सनथ जयसूर्या जैसे कई रियल लाइफ क्रिकेटर्स भी नज़र आए थे.

कहां देख सकते हैं– ‘विक्ट्री’ को आप यूट्यूब पर स्ट्रीम कर सकते हैं.

हरमन बावेजा स्टारर फिल्म 'विक्ट्री' का पोस्टर.
हरमन बावेजा स्टारर फिल्म ‘विक्ट्री’ का पोस्टर.

6) इस लिस्ट में अगला नाम है फिल्म- ‘दिल बोले हड़िप्पा!’ का

डायरेक्टर– अनुराग सिंह
स्टारकास्ट– शाहिद कपूर, रानी मुखर्जी, अनुपम खेर, राखी सावंत

बेसिक प्लॉट– एक छोटे से गांव में वीरा नाम की लड़की रहती है. वैसे तो वो लोकल नौटंकी में परफॉर्म करती है मगर उसका सपना क्रिकेटर बनने का है. दूसरी तरफ है रोहन, जो इंग्लैंड की काउंटी टीम में क्रिकेट खेलता है. कट टु इंडिया, रोहन का पिता इंडिया में रहता है. वो भी पहले क्रिकेट खेलता था. उसका सपना है कि इंडिया की टीम ‘अमन कप’ नाम के एक टूर्नामेंट में पाकिस्तान को हराए. वो हार्ट अटैक के बहाने से रोहन को इंडिया बुलाता है और अमन कप के में खेलने के लिए कहता है. रोहन टूर्नामेंट के लिए टीम बनाना शुरू करता है. वीरा भी इस टीम में खेलना चाहती है. मगर ये मेन्स टीम है. इन सब झोल-झाल से बचने के लिए वीरा कॉस्ट्यूम और फर्जी दाढ़ी-मूछ लगाकर ‘वीर’ बन जाती है. अच्छा क्रिकेटर होने की वजह से उसे टीम में ले लिया जाता है. मगर फाइनल मैच के ठीक पहले रोहन को वीरा का ये राज़ पता चल जाता है. मगर वीरा की मदद से ही हारती हुई भारतीय टीम मैच जीत जाती है.

खास बात– पहले इस फिल्म का नाम ‘हड़िप्पा’ होना था. मगर इस टाइटल के राइट्स संजय लीला भंसाली के पास थे. प्रोडक्शन कंपनी यशराज ने भंसाली से ये टाइटल मांगा. मगर भंसाली ने देने से इन्कार कर दिया. इसके बाद फिल्म का नाम बदलकर ‘दिल बोले हड़िप्पा!’ कर दिया गया. ये फिल्म सलमान खान की ‘वॉन्टेड’ के साथ थिएटर्स में रिलीज़ हुई थी.

कहां देख सकते हैं– ‘दिल बोले हड़िप्पा’ को आप एमेज़ॉन प्राइम वीडियो पर देख सकते हैं.

'दिल बोले हड़िप्पा' अपने आप में वीयर्ड फिल्म थी, जिसे तमाम फेमिनिस्ट लोग भी समझने में नाकाम रहे.
‘दिल बोले हड़िप्पा’ अपने आप में वीयर्ड फिल्म थी, जिसे तमाम फेमिनिस्ट लोग भी समझने में नाकाम रहे.

7) हमारी लिस्ट में शामिल अगली फिल्म है- ‘पटियाला हाउस

डायरेक्टर– निखिल आडवानी
स्टारकास्ट– अक्षय कुमार, अनुष्का शर्मा, ऋषि कपूर, डिंपल कपाड़िया

बेसिक प्लॉट– अक्षय कुमार के बुरे दौर में आई एक ठीक-ठाक सी फिल्म. कहानी है इंग्लैंड में रहने वाले परगट सिंह काहलों उर्फ गट्टू नाम के एक लड़के की, जो अपने पिता के कहे अनुसार जी रहा है. गट्टू क्रिकेट खेलता है. उसका सपना है कि वो एक दिन इंग्लैंड की नेशनल टीम में खेले. मगर उसके पिता इसके सख्त खिलाफ हैं. गट्टू के दूसरे कज़िन उससे नाराज रहते हैं क्योंकि उन्हें हर बात पर गट्टू का उदाहरण दिया जाता है. सारे कज़िन मिलकर डिसाइड करते हैं कि गट्टू को उसका सपना पूरा करने में मदद करेंगे. अपनी शानदार बोलिंग की वजह से गट्टू को इंग्लैंड टीम में जगह मिल जाती है. पिता से अपना ये कृत्य छुपाने के लिए वो ‘काली’ नाम से खेलता है. मगर एक दिन गट्टू के पिताजी को ये सारा खेल पता चल जाता है. उन्हें आ जाता हार्ट अटैक. फाइनली अपने बच्चे को टीवी पर खेलता देखा पिता जी का ह्रदय परिवर्तन हो जाता है और फिल्म की हैप्पी एंडिंग.

खास बात– कई रिपोर्ट्स में ये बताया जाता रहा है कि ‘पटियाला हाउस’ भारतीय मूल के इंग्लिश स्पिन बॉलर मॉन्टी पनेसर की लाइफ से प्रेरित फिल्म थी.

कहां देख सकते हैं– ‘पटियाला हाउस’ को आप यूट्यूब पर स्ट्रीम कर सकते हैं.

अक्षय कुमार के बुरे दौर में आई एक ढंग की फिल्म. पारिवारिक बैकग्राउंड में परिवार से छुपकर बगावत करने की कहानी.
अक्षय कुमार के बुरे दौर में आई एक ढंग की फिल्म. पारिवारिक बैकग्राउंड में परिवार से छुपकर बगावत करने की कहानी.

8) इस लिस्ट में शामिल अगली फिल्म है- ‘फरारी की सवारी

डायरेक्टर– राजेश मापुस्कर
स्टारकास्ट– शरमन जोशी, रितविक साहोर, बोमन ईरानी

बेसिक प्लॉट– फिल्म की कहानी कायो नाम के एक स्कूल जाने वाले बच्चे की है, जिसे क्रिकेट के अलावा कुछ नहीं सूझता. कायो के स्कूल में एक क्रिकेट कैंप का आयोजन होता है, जिसमें सेलेक्ट हुए बच्चों को इंग्लैंड लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर ऑल टाइम ग्रेट सचिन तेंडुलकर के साथ क्रिकेट खेलने का मौका मिलेगा. मगर कायो के पिता रुस्तम के पास इतने पैसे नहीं हैं कि वो अपने बेटे का ये सपना पूरा कर सके. मगर वो अपने बच्चे का दिल नहीं तोड़ना चाहता. इसलिए भोला-भाला रुस्तम पैसे का इंतज़ाम करने के लिए एक रात सचिन तेंडुलकर की फरारी कार चुरा लेता है. इसके आगे फिल्म में एक के बाद एक बवाल होते हैं, जो इस कहानी को उसके मुकाम तक पहुंचाते हैं.

खास बात– ‘फरारी की सवारी’ के डायरेक्टर राजेश मापुस्कर इस फिल्म को बनाने से पहले ‘3 इडियट्स’ और ‘लगे रहो मुन्ना भाई’ जैसी फिल्मों से बतौर असोशिएट डायरेक्टर जुड़े हुए थे. ‘लगे रहो मुन्ना भाई’ से जुड़े एक इवेंट के लिए राजेश मुंबई में महंगी कारें ढूंढ रहे थे. उन्हें तमाम कारें मिली मगर उन्हें मुंबई की सड़कों पर फरारी नज़र नहीं आई. फाइनली उन्हें एक फरारी पाली हिल इलाके में पार्क्ड मिली. यहीं से उन्हें आइडिया आया कि अगर ये कार यहां से चोरी हो जाती है, तो क्या होगा! इसी आइडिया को एक्सपैंड करके फिल्म ‘फरारी की सवारी’ बनाई गई.

कहां देख सकते हैं– ‘फरारी की सवारी’ को आप डिज़्नी+हॉटस्टार पर देख सकते हैं.

क्रिकेट पर बेस्ड फिल्म, जिसमें सचिन तेंडुलकर की फरारी कार का इस्तेमाल किया गया.
क्रिकेट पर बेस्ड फिल्म, जिसमें सचिन तेंडुलकर की फरारी कार का इस्तेमाल किया गया.

9) हमारी लिस्ट की अगली फिल्म का नाम है- ‘काय पो छे

डायरेक्टर– अभिषेक कपूर
स्टारकास्ट– सुशांत सिंह राजपूत, राजकुमार राव, अमित साध, अमृता पुरी

बेसिक प्लॉट– ये गोविंद, ओमकार और इशान नाम के तीन लड़कों की कहानी है, जो गुज़रात में रहते हैं. इशान अच्छा क्रिकेटर है मगर इस फील्ड में वो अपना करियर नहीं बना पाया. पापा के तानों से परेशान होकर इशान अपने दोनों दोस्तों के साथ मिलकर एक स्पोर्ट्स शॉप खोलता है. साथ ही बच्चों को क्रिकेट की ट्रेनिंग देने का भी काम करता है. उसके पास अली नाम का एक बच्चा ट्रेनिंग लेने आता है. इशान की ट्रेनिंग की अली काफी अच्छा खेलने लगा है. मगर इसी दौरान गुजरात में दंगे शुरू हो जाते हैं. दंगाइयों के हाथों अली को बचाने के लिए ईशान अपनी जान जोखिम में डाल देता है. अली को तो बचा लेता है मगर इसमें उसकी जान चली जाती है. फाइनली अली को क्रिकेटर बनाने की ज़िम्मेदारी उसके दोनों दोस्त गोविंद और ओमकार उठाते हैं. ये फिल्म चेतन भगत के नॉवल ‘3 मिस्टेक्स ऑफ माय लाइफ’ पर बेस्ड है.

खास बात– दिवंगत एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने इसी फिल्म से अपना हिंदी फिल्म डेब्यू किया था. इससे पहले सुशांत टीवी पर ‘पवित्र रिश्ता’ नाम का हिट शो किया करते थे.

कहां देख सकते हैं– ‘काय पो छे’ को आप नेटफ्लिक्स पर स्ट्रीम कर सकते हैं.

सुशांत सिंह राजपूत के करियर की पहली फिल्म, जो कि चेतन भगत के नॉवल थ्री मिस्टेक्स ऑफ माय लाइफ पर बेस्ड थी.
सुशांत सिंह राजपूत के करियर की पहली फिल्म, जो कि चेतन भगत के नॉवल थ्री मिस्टेक्स ऑफ माय लाइफ पर बेस्ड थी.

10) इस लिस्ट की आखिरी फिल्म है- ‘द ज़ोया फैक्टर

डायरेक्टर– अभिषेक शर्मा
स्टारकास्ट– सोनम कपूर, दुलकर सलमान, संजय कपूर, अंगद बेदी

बेसिक प्लॉट– कहानी है ज़ोया सोलंकी नाम की एक लड़की की, जो 25 जून, 1983 के महान दिन पैदा हुई थी. वही दिन जब कपिल देव ने लॉर्ड्स पर वर्ल्ड कप उठाया था. तभी से ज़ोया के घरवाले उसे लकी चार्म मानते हैं. ज़ोया बड़ी होकर एक ऐड एजेंसी के लिए काम करती है. उसी सिलसिले में इंडियन क्रिकेट टीम से उसका वास्ता पड़ता है. एक दिन इत्तेफाक से वो टीम के साथ नाश्ता कर लेती है. उसी दिन लगातार हार रही इंडियन टीम एक करिश्मे के तहत जीत भी जाती है. लगभग सभी प्लेयर्स को यकीन हो जाता है कि ज़ोया अगर उनकी टीम के साथ नाश्ता कर ले तो टीम की जीत पक्की है. मगर इंडिया एक मैच हारती है और ज़ोया का तिलिस्म खत्म मान लिया जाता है. टोटका, आइडल वर्शिपिंग और क्रिकेट को मिलाकर बनी ये बड़ी औसत फिल्म है. ये फिल्म अनुजा चौहान की ‘द ज़ोया फैक्टर’ नाम की बेस्ट सेलिंग नॉवल से प्रेरित है.

खास बात– पहले अनुजा के नॉवल पर फिल्म बनाने के लिए शाहरुख खान की कंपनी रेड चिलीज़ ने राइट्स खरीद रखे थे. मगर दिए गए समय के भीतर फिल्म नहीं बनने की वजह से रेड चिलीज़ का अधिकार उस नॉवल से खत्म हो गया. शाहरुख इस कहानी पर फिल्म तो नहीं बना पाए मगर सोनम कपूर स्टारर इस फिल्म में उन्होंने सूत्रधार की भूमिका निभाई.

कहां देख सकते हैं– ‘द ज़ोया फैक्टर’ को आप नेटफ्लिक्स पर देख सकते हैं.

अनुजा चौहान के इसी नाम के नॉवल से प्रेरित फिल्म.
अनुजा चौहान के इसी नाम के नॉवल से प्रेरित फिल्म.

वीडियो देखें: बॉलीवुड के पांच सुपरस्टार्स, जिनकी फिल्में अब सिनेमाघरों की रौनक बनाए रखेंगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

Realme LED Smart Bulb रिव्यू: फ़ोन से कंट्रोल होने वाले इस बल्ब की आपको कितनी ज़रूरत है?

Realme LED Smart Bulb रिव्यू: फ़ोन से कंट्रोल होने वाले इस बल्ब की आपको कितनी ज़रूरत है?

12W का रियलमी LED स्मार्ट बल्ब 999 रुपए का है.

26/11 अटैक में शहीद मेजर संदीप पर बनी फिल्म के टीज़र की सबसे रोचक बात पता है आपको?

26/11 अटैक में शहीद मेजर संदीप पर बनी फिल्म के टीज़र की सबसे रोचक बात पता है आपको?

फिल्म का 'टीज़र' लॉन्च हुआ है.

फिल्म रिव्यू- कर्णनन

फिल्म रिव्यू- कर्णनन

सारी लड़ाई इसी ऊंच-नीचे अंतर को खत्म करने की है. जमीन पर नहीं, तो दिमाग में सही.

फिल्म रिव्यू- वकील साब

फिल्म रिव्यू- वकील साब

एक मजबूत कोर्ट रूम ड्रामा है, जिसमें किसी मसाला फिल्म जितना मज़ा है.

Realme C21 रिव्यू: फ़ोन की भीड़ में एक और बजट डिवाइस!

Realme C21 रिव्यू: फ़ोन की भीड़ में एक और बजट डिवाइस!

C-सीरीज़ का सर कंफ्यूजन दूर कर लीजिए

मूवी रिव्यू: द बिग बुल

मूवी रिव्यू: द बिग बुल

'स्कैम 1992' से जिस फिल्म की तुलना हो रही थी, वो आखिर है कैसी?

फिल्म रिव्यू: गॉडज़िला वर्सेज़ कॉन्ग

फिल्म रिव्यू: गॉडज़िला वर्सेज़ कॉन्ग

विशाल दैत्यों पर बनी ये फिल्म 'जुरासिक पार्क' जैसी फिल्म से कितनी अलग है?

Realme 8 review: रंगों से भरा ये फ़ोन किसके लिए है?

Realme 8 review: रंगों से भरा ये फ़ोन किसके लिए है?

रियलमी 8 की शुरुआत 14,999 रुपए से होती है!

Crash Bandicoot On the Run: बचपन में खेला मारियो की टक्कर वाला गेम अब मोबाइल पर

Crash Bandicoot On the Run: बचपन में खेला मारियो की टक्कर वाला गेम अब मोबाइल पर

नॉस्टैल्जिया, पधारो म्हारे फ़ोन में!

वेब सीरीज़ रिव्यू- ओके कम्प्यूटर

वेब सीरीज़ रिव्यू- ओके कम्प्यूटर

ये इंडिया में बना बिल्कुल ही नए तरह का कॉन्टेंट है.