Submit your post

Follow Us

दो साल पुरानी इस वेब सीरीज़ में कोरोना का ज़िक्र सुनकर लोगों की हवा क्यों खिसक गई?

कोरोना वायरस हम लोगों के लिए ये बड़ा ही नया शब्द है. इसका नाम शायद हमने पिछले 1-2 महीनों में ही सुना है. और अब तो ये रट चुका है. लेकिन सोचिए क्या हो, जब आपको पता चला कि ठीक इसी नाम का वायरस आज से दो साल पहले आई एक साउथ कोरियन वेब सीरीज़ में दिखाया जा चुका है. सीरीज़ का नाम है ‘माय सीक्रेट टेरियस’. ये शो नेटफ्लिक्स पर है लेकिन इंडिया में अवेलेबल नहीं है.

‘माय सीक्रेट टेरियस’ के आखिरी एपिसोड में इस वायरस का ज़िक्र आता है, जिसे कोरोना नाम से बुलाया जाता है. इसके लक्षण भी तकरीबन हमारे यहां फैले वायरस जैसा ही. शो में दिखाए गए इस वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड यानी लक्षणों के दिखने में लगने वाला समय 2 से 14 दिन का ही है. चेंज बस ये है कि इस वायरस को सीरीज़ में हथियार की तरह इस्तेमाल करते दिखाया गया है. इसे बायो-केमिकल हथियार की तरह इस्तेमाल करने के लिए वायरस के साथ लैबोरेटरी में कुछ छेड़छाड़ कर दी गई है, जिससे इसके लक्षण किसी के संपर्क में आने के पांच मिनट के भीतर दिखाई देने लगते हैं. और शायद इतने समय में ही इंसान की मौत भी हो जाती है. डॉक्टर्स इसका काट ढूंढने में लगे हैं लेकिन ऐसा होता दिखाई नहीं दे रहा.

इस सीरीज़ का एक क्लिप सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा, जिसे देखकर जनता की फूंक सरक गई है. वो क्लिप आप यहां देख सकते हैं, सबटाइटल के साथ-

हमने इस वायरस नाम पहली बार सुना, इसका मतलब ये तो बिलकुल नहीं है कि ये पहली बार ही दुनिया में फैला है. हमारे साथी आयुष ने एक रिपोर्ट तैयार की थी, जिसमें उन्होंने इस वायरस का नाम अता-पता सब बताया था, वो खबर आप यहां क्लिक करके पढ़ सकते हैं. जो ज़रूरी बातें हैं, वो यहीं जान लीजिए. कोरोना वायरस कोई एक वायरस नहीं है. ये वायरस की एक फैमिली का नाम है. ऐसे वायरस जिनका बाहरी हिस्सा एक जैसा दिखता है. इस वायरस के चारों तरफ प्रोटीन की स्पाइक्स होती हैं. इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप से देखने पर ये स्पाइक्स बादशाह के ताज जैसी दिखती हैं. ताज को अंग्रेज़ी में बोलते हैं क्राउन. क्राउन से आया कोरोना. और क्राउन जैसी बनावट से घिरे वायरस कहलाते हैं कोरोना वायरस.

जबकि इस वायरस का असली नाम SARS-CoV 2 है. Severe Acute Respiratory Syndrome Coronavirus 2. वायरस का ये नाम ICTV ने दिया है. ICTV मतलब International Committee on Taxonomy of Viruses. अगर ये SARS-CoV-2 है, तो 1 कहां है? SARS-CoV 1 नाम का वायरस 2002 में फैलना शुरू हुआ था. वो भी चीन से.


वीडियो देखें: Virus Outbreak Movies: महामारी पर बनी Contagion, Blindness समेत 6 films जिन्हें दुनिया देख रही है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इतना सैनेटाइजर लगा चुका हूं कि अल्कोहल की मात्रा देखते हुए मुझे ठेका घोषित कर देना चाहिए

लॉकडाउन में घर के (बहुत) काम करते हुए, घर के बारे में ऐसी चीजें पता लगीं कि भरोसा ही नहीं हो रहा.

वो 8 कॉमेडी फिल्में जो लॉकडाउन में देखकर खुद को थैंक यू बोलेंगे

हमारी मूवी रेकमेंडेशन लिस्ट. नोश फरमाएं. हंसते-गुदगुदाते खुशी मिलेगी.

वो 5 ताकतवर पोलिटिकल थ्रिलर्स जो आपको अभी घर बैठे ज़रूर देखनी चाहिए

कोरोना लॉकडाउन में अच्छी फिल्में देखना चाहते हैं तो पोलिटिकल थ्रिलर/ड्रामा श्रेणी में ये हैं हमारी रेकमेंडेशंस.

जिस तिहाड़ में निर्भया के दोषियों को फांसी हुई, उसी जेल में ये फांसियां भी हो चुकी हैं

वो हाई प्रोफाइल केस, जिन्होंने पूरे देश का ध्यान खींचा.

इन 6 ज़बरदस्त फिल्मों में कोरोना जैसी महामारी दिखाई गई है

महामारी पर बनी हुई इन फिल्मों को पूरी दुनिया में देखा जा रहा है

निर्भया के दोषियों को फांसी मिलने पर बॉलीवुड हस्तियों ने क्या कहा?

निर्भया के गुनहगारों को आज सुबह फांसी दे दी गई.

अलका याज्ञ्निक के 36 लुभावने गानेः जिन्हें गा-गाकर बरसों लड़के-लड़कियों ने प्यार किया

प्लेलिस्ट जो बार-बार सुनी जाने वाली है. अलका आज 53 की हो गई हैं.

शशि कपूर ने बताया था, दुनिया थर्ड क्लास का डिब्बा है

पढ़िए उनके दस यादगार डायलॉग्स.

जब तक ये 11 गाने रहेंगे, शशि कपूर याद आते रहेंगे

हर एज ग्रुप की प्ले लिस्ट में आराम से जगह बना सकते हैं ये गाने.

कोरोना वायरस का असर दिखाती ये 17 तस्वीरें देखीं आपने?

क्या से क्या हो गया, देखते-देखते.