Submit your post

Follow Us

Dude बनने के 10 सिंपल तरीके

क्या आप बोरिंग हैं? क्या डिपार्टमेंटल स्टोर्स में लड़कियां आपसे ये पूछ बैठती हैं कि भइया डव शैंपू किस तरफ मिलेगा? क्या आपके पिताजी आपको नालायक और मम्मी आपको बच्चा समझती हैं? क्या आपको लगता है कि आप अपनी आखिरी सांस तक सिंगल रह जायेंगे? अगर ऐसा है तो फेयर एंड लवली ‘मेन्स’ लगाना छोड़िए और अपनाइये ये दस तरीके ‘कूल डूड’ बनने के लिए.

1. अपने नाम का आखिरी अक्षर निकालकर वहां अंग्रेजी का 'Y ' लगा दें.

जैसे अगर आप जसप्रीत हैं तो आप ‘Jazzy’ हो जायेंगे, और फैजल हैं तो ‘fazzy’ हो जाएंगे.

2. पूरी टांगों वाली पतलून पहनना छोड़ दें.

आपकी पैंट्स का साइज ऐसा हो कि सिर्फ आधे से तीन-चौथाई टांगें ढंक पाएं.

3.  आप बिना चे गुएवारा वाली टीशर्ट के नहीं रह सकते.

याद रखें, आप ऑक्सीजन के बिना जी सकते हैं. बिना खाए-पिए भी रह सकते हैं. पर बिना चे गुएवारा वाली टीशर्ट के नहीं रह सकते. चे साहब क्यूबा के बाद अगली क्रांति आपके जीवन में ही लाएंगे.

4. आपकी कलाई-घड़ी के डायल का रेडियस आपकी दीवार घड़ी के रेडियस के बराबर होना चाहिए.

अपने हाथ में घंटाघर बांध कर आप वक्त को काबू में कर सकते हैं.

5. आप एक बहुत ही बिजी शख्सियत हैं.

आपके पास शब्दों को पूरा बोलने का समय नहीं रहना चाहिए. इसलिए ‘obviously’ को ‘ob’ कहें, ‘buddy’ को ‘bud’, छोले-कुल्चे को ‘C-Kooz’ और गुलाब जामुन को ‘G-Jams’.

6. पता होना चाहिए अपने  बिजी होने की वजह.

कारण है आपकी म्यूजिक क्लासेज. आप दिन में एक दर्जन बार ‘music is mah life’ कहते हैं. गिटार बजाना आजकल बहुत ‘मेनस्ट्रीम’ हो गया है इसलिए आप फ्लूट सीखते हैं. आपका एक म्यूजिक बैंड भी है जो हर साल हर कॉलेज फेस्ट के कॉम्पिटीशन  में आखिरी नंबर पर रहता है.

7. आप टुच्ची जगहों पर नहीं जाते.

आप अच्छे होटलों में पार्टी करते हैं. वहां आप ‘स्मोक्ड ब्रिंजल विद बेक्ड मल्टी ग्रेन केक्स’ के नाम पर लिट्टी चोखा खा कर आते हैं. होटल के अच्छे होने का प्रूफ यह है कि वहां टीवी म्यूट पर चलते हैं और बैकग्राउंड में ऐसा संगीत चलता है कि अगर आप टीवी देखते हुए वो संगीत सुनें तो फिफ्थ डायमेंशन में होने की ‘फील’ आती है. घर पर आप कुंदरू-टिंडे जैसी गरीब सब्जियां नहीं खाते हैं. आप बस नीले रंग का ब्रॉकली और काले रंग की शिमला मिर्च टाइप की सब्जियां खाते हैं.

8. आप जोर-जोर से हंसते हैं.

ऐसे जोक्स पर जिन पर सिर्फ आपको हंसी आती है. अमरीकी सिट-कॉम्स आपकी गीता है और आप बार बार उन्हें देखते हैं. अंग्रेजी का कौन सा शब्द बोलते हुए कितने डिग्री के कोण बनाकर कैसे होंठ घुमाने हैं, ये भी आपने उन्हीं के पात्रों से सीखा है.

9. आपके कान में हमेशा लाल या चटख नीले रंग के ईयरफोन्स होने चाहिए.

और सिर हमेशा हिलना चाहिए. इसका इस बात से कोई वास्ता नहीं है कि असल में आप अताउल्लाह खान के गीत सुन रहे हों.

10. राय ज़रूर दें.

उन चीजों पर भी जिनके बारे में आपको कुछ भी न मालूम हो.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- दिल बेचारा

सुशांत के लिए सबसे बड़ा ट्रिब्यूट ये होगा कि 'दिल बेचारा' को उनकी आखिरी फिल्म की तरह नहीं, एक आम फिल्म की तरह देखा जाए.

सैमसंग के नए-नवेले गैलेक्सी M01s और रियलमी नार्ज़ो 10A की टक्कर में कौन जीतेगा?

सैमसंग गैलेक्सी M01s 9,999 रुपए में लॉन्च हुआ है.

अनदेखी: वेब सीरीज़ रिव्यू

लंबे समय बाद आई कुछ उम्दा क्राइम थ्रिलर्स में से एक.

शॉर्ट फिल्म रिव्यू: पंडित उस्मान

एक चलते-फिरते 'पैराडोक्स' की कहानी.

फ़िल्म रिव्यूः भोंसले

मनोज बाजपेयी की ये अवॉर्ड विनिंग फिल्म कैसी है? और कहां देख सकते हैं?

जॉर्ज ऑरवेल का लिखा क्लासिक 'एनिमल फार्म', जिसने कुछ साल पहले शिल्पा शेट्‌टी की दुर्गति कर दी थी

यहां देखें इस पर बनी दो मजेदार फिल्में. हिंदी वालों के लिए ये कहानी हिंदी में.

फिल्म रिव्यू: बुलबुल

'परी' जैसी हटके हॉरर फिल्म देने वाली अनुष्का शर्मा का नया प्रॉडक्ट कैसा निकला?

फ़िल्म रिव्यूः गुलाबो सिताबो

विकी डोनर, अक्टूबर और पीकू की राइटर-डायरेक्टर टीम ये कॉमेडी फ़िल्म लेकर आई है.

फिल्म रिव्यू: चिंटू का बर्थडे

जैसे हम कई बार बातचीत में कह देते हैं कि 'ये दुनिया प्यार से ही जीती जा सकती है', उस बात को 'चिंटू का बर्थडे' काफी सीरियसली ले लेती है.

फ़िल्म रिव्यूः चोक्ड - पैसा बोलता है

आज, 5 जून को रिलीज़ हुई ये हिंदी फ़िल्म अनुराग कश्यप ने डायरेक्ट की है.