Submit your post

Follow Us

Dude बनने के 10 सिंपल तरीके

5
शेयर्स

क्या आप बोरिंग हैं? क्या डिपार्टमेंटल स्टोर्स में लड़कियां आपसे ये पूछ बैठती हैं कि भइया डव शैंपू किस तरफ मिलेगा? क्या आपके पिताजी आपको नालायक और मम्मी आपको बच्चा समझती हैं? क्या आपको लगता है कि आप अपनी आखिरी सांस तक सिंगल रह जायेंगे? अगर ऐसा है तो फेयर एंड लवली ‘मेन्स’ लगाना छोड़िए और अपनाइये ये दस तरीके ‘कूल डूड’ बनने के लिए.

1. अपने नाम का आखिरी अक्षर निकालकर वहां अंग्रेजी का 'Y ' लगा दें.

जैसे अगर आप जसप्रीत हैं तो आप ‘Jazzy’ हो जायेंगे, और फैजल हैं तो ‘fazzy’ हो जाएंगे.

2. पूरी टांगों वाली पतलून पहनना छोड़ दें.

आपकी पैंट्स का साइज ऐसा हो कि सिर्फ आधे से तीन-चौथाई टांगें ढंक पाएं.

3.  आप बिना चे गुएवारा वाली टीशर्ट के नहीं रह सकते.

याद रखें, आप ऑक्सीजन के बिना जी सकते हैं. बिना खाए-पिए भी रह सकते हैं. पर बिना चे गुएवारा वाली टीशर्ट के नहीं रह सकते. चे साहब क्यूबा के बाद अगली क्रांति आपके जीवन में ही लाएंगे.

4. आपकी कलाई-घड़ी के डायल का रेडियस आपकी दीवार घड़ी के रेडियस के बराबर होना चाहिए.

अपने हाथ में घंटाघर बांध कर आप वक्त को काबू में कर सकते हैं.

5. आप एक बहुत ही बिजी शख्सियत हैं.

आपके पास शब्दों को पूरा बोलने का समय नहीं रहना चाहिए. इसलिए ‘obviously’ को ‘ob’ कहें, ‘buddy’ को ‘bud’, छोले-कुल्चे को ‘C-Kooz’ और गुलाब जामुन को ‘G-Jams’.

6. पता होना चाहिए अपने  बिजी होने की वजह.

कारण है आपकी म्यूजिक क्लासेज. आप दिन में एक दर्जन बार ‘music is mah life’ कहते हैं. गिटार बजाना आजकल बहुत ‘मेनस्ट्रीम’ हो गया है इसलिए आप फ्लूट सीखते हैं. आपका एक म्यूजिक बैंड भी है जो हर साल हर कॉलेज फेस्ट के कॉम्पिटीशन  में आखिरी नंबर पर रहता है.

7. आप टुच्ची जगहों पर नहीं जाते.

आप अच्छे होटलों में पार्टी करते हैं. वहां आप ‘स्मोक्ड ब्रिंजल विद बेक्ड मल्टी ग्रेन केक्स’ के नाम पर लिट्टी चोखा खा कर आते हैं. होटल के अच्छे होने का प्रूफ यह है कि वहां टीवी म्यूट पर चलते हैं और बैकग्राउंड में ऐसा संगीत चलता है कि अगर आप टीवी देखते हुए वो संगीत सुनें तो फिफ्थ डायमेंशन में होने की ‘फील’ आती है. घर पर आप कुंदरू-टिंडे जैसी गरीब सब्जियां नहीं खाते हैं. आप बस नीले रंग का ब्रॉकली और काले रंग की शिमला मिर्च टाइप की सब्जियां खाते हैं.

8. आप जोर-जोर से हंसते हैं.

ऐसे जोक्स पर जिन पर सिर्फ आपको हंसी आती है. अमरीकी सिट-कॉम्स आपकी गीता है और आप बार बार उन्हें देखते हैं. अंग्रेजी का कौन सा शब्द बोलते हुए कितने डिग्री के कोण बनाकर कैसे होंठ घुमाने हैं, ये भी आपने उन्हीं के पात्रों से सीखा है.

9. आपके कान में हमेशा लाल या चटख नीले रंग के ईयरफोन्स होने चाहिए.

और सिर हमेशा हिलना चाहिए. इसका इस बात से कोई वास्ता नहीं है कि असल में आप अताउल्लाह खान के गीत सुन रहे हों.

10. राय ज़रूर दें.

उन चीजों पर भी जिनके बारे में आपको कुछ भी न मालूम हो.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू: मर्दानी 2

ये फिल्म आपके दिमाग में बहुत कुछ सोचने-समझने के लिए छोड़ती है और अपने हालातों पर रोती हुई खत्म हो जाती है.

क्या किया उस बच्ची ने, जिसकी मां की जान मछली में थी और बच्ची को उसे बचाना ही था?

अगर मछली मर जाती, तो मां भी नहीं बचती. #चला_चित्रपट_बघूया.

इनसाइड एज 2 रिव्यू: नेताओं की सत्ता, एक्टर्स की साख पे बट्टा और क्रिकेट का सट्टा

खेल की पॉलिटिक्स और पॉलिटिक्स का खेल. जानिए क्या होता है जब पार्टनर्स, राइवल्स हो जाते हैं?

अमिताभ के रहस्यमय लुक वाली फिल्म, जिसे रिलीज़ करने के लिए वो न जाने किस-किस से हाथ जोड़ रहे हैं

'पिंक', 'विकी डोनर' और 'पीकू' जैसी फिल्मों को बनाने वाले शूजीत सरकार की बतौर डायरेक्टर ये दूसरी फिल्म थी.

फिल्म रिव्यू- पानीपत

सवाल ये है कि आशुतोष गोवारिकर की मैग्नम ओपस 'पानीपत' अपना पानी बचा पाती है या इनकी भैंस भी पानी में चली जाती है?

पति पत्नी और वो: मूवी रिव्यू

ट्रेलर देखकर कितनों को लग रहा था कि ये एक बेहद फूहड़ मूवी है? उस सबके लिए एक सरप्राइज़ है.

फिल्म रिव्यू: कमांडो 3

इस फिल्म में विद्युत का एक्शन देखकर आप टाइगर श्रॉफ पर 'किड्स' वाला जोक मारने के लिए मजबूर हो जाएंगे.

होटल मुंबई: मूवी रिव्यू

‘होटल मुंबई’ एक बेहतरीन मूवी है. लेकिन इसे 'बेहतरीन' कहते हुए आप गिल्ट तले दब जाते हो.

रामगोपाल वर्मा की मूवी में पीएम मोदी, अमित शाह और चंद्रबाबू नायडू ही नहीं, और भी कई राजनेता हैं

पिक्चर तो रामू ने बना दी. अब रिलीज़ कैसे करेंगे?

पागलपंती: मूवी रिव्यू

फिल्म के ट्रेलर में ही अनिल कपूर कह देते है,'और हां तुम लोग दिमाग मत लगाना'.