Submit your post

Follow Us

वो 8 बॉलीवुड सेलेब्रिटीज़, जो आर्यन खान से पहले ड्रग्स के पचड़े में फंस चुके हैं

2 अक्टूबर की शाम शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग्स रिलेटेड केस में डिटेन किया गया. फिर अगले दिन उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. 4 अक्टूबर को आर्यन को कोर्ट में पेश किया गया. वहां से जज ने उन्हें 7 अक्टूबर तक के लिए NCB कस्टडी में भेज दिया है. आर्यन के ऊपर जो भी इल्ज़ाम लगाए गए हैं, उनमें से कुछ साबित नहीं हुआ है. हो सकता है उन्होंने ड्रग्स न किया हो. 

आज हम जानेंगे, उन बॉलीवुड सेलेब्रिटीज़ के बारे में जो ड्रग्स कंज़प्शन की वजह से चर्चा में रहे. कई मामलों में वो पुलिस के हत्थे चढ़े, तो कई बार उन्होंने मीडिया के सामने खुद अपनी गलती स्वीकारी.

1) संजय दत्त

संजय दत्त ने अपने कई इंटरव्यूज़ में ये कबूला कि वो ड्रग्स करते थे. संजय खुद बताते हैं कि जब उन्हें अपनी मां यानी नर्गिस की बीमारी का पता चला, तब उन्होंने ड्रग्स लेना शुरू किया था. इसके बाद वो इसके आदी होते चले गए. एक बार को सुबह सोकर उठे. उनका हाउसहेल्प उन्हें देखकर रोने लगा. संजय ने इसकी वजह पूछी, तो उसने कहा कि वो पूरे दो दिन के बाद सोकर उठे हैं. जब उन्हें लगा कि वो प्रॉपर ड्रग एडिक्ट हो चुके हैं, तो उन्होंने अपने पापा सुनील दत्त को ये बात बताई. सुनील दत्त ने उन्हें अमेरिका के एक रिहैबिलिटेशन सेंटर में भर्ती करवाया, ताकि उनकी ड्रग की आदत छूट जाए. जब संजय उस हॉस्पिटल पहुंचे, तो उन्हें ड्रग्स की एक लिस्ट दी गई. संजय को उसमें उन ड्रग्स के नाम मार्क करने थे, जिसका उन्होंने इस्तेमाल किया है. संजय बताते हैं कि उन्होंने उस लिस्ट पर दर्ज हर ड्रग्स ले रखा था. कुछ रिलैप्सेज़ हुए. मगर संजय ने फाइनली ड्रग्स लेना छोड़ दिया. हालांकि ड्रग्स मामले में उनका पुलिस से कभी वास्ता नहीं पड़ा.

मां नर्गिस के साथ संजय दत्त.
मां नर्गिस के साथ संजय दत्त.

2) फरदीन खान

फिल्म ‘प्यार तूने क्या किया’ की सक्सेस पार्टी चल रही थी. फैमिली के साथ डिनर वगैरह करने के बाद देर रात फरदीन अपनी कार लेकर निकल गए. वो एक पेडलर से ड्रग्स खरीदने गए हुए थे. मुलाकात से पहले वो पास के एटीएम पहुंचे. पैसे निकालने की कोशिश में कार्ड मशीन में फंस गया. 5 मई, 2001 की सुबह 3 बजे नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने फरदीन और उनके पेडलर को ड्रग्स का लेनदेन करते रंगे हाथों पकड़ लिया. बताया जाता है कि फरदीन उस पेडलर से 1 ग्राम कोकीन लेने गए थे, जिसकी कीमत 2500 रुपए थी. उसी के लिए कैश निकालने फरदीन एटीएम गए और वहीं ये सारा कांड हो गया. NCB उन्हें उठाकर पूछताछ के लिए ले गई. पूछताछ के दौरान फरदीन ने ये बात कबूली कि वो नियमित रूप से ड्रग्स लेते थे. फरदीन के खिलाफ कार्रवाई इसलिए नहीं की जा सकी क्योंकि उनके पास से कोई ड्रग्स बरामद नहीं हुआ था. उन्हें अस्पताल में डि-एडिक्शन कोर्स करवा के छोड़ दिया गया.

ड्रग्स मामले में पकड़े जाने के बाद नार्कोटिक्स सेल के ऑफिसरों के साथ फरदीन खान.
ड्रग्स मामले में पकड़े जाने के बाद नार्कोटिक्स सेल के ऑफिसरों के साथ फरदीन खान.

3) विजय राज

फरवरी 2005 में एक्टर विजय राज अपनी फिल्म ‘दीवाने हुए पागल’ की शूटिंग के लिए अबू धाबी गए हुए थे. वहां एयरपोर्ट पर उनके हैंड बैग से ड्रग्स बरामद हुए. इसके बाद उन्हें डिटेन कर अल-वथबा जेल में डाल दिया गया. विजय के पास 6 ग्राम मैरियुआना मिला था. जब उनसे इस बारे में पूछताछ की गई, तो उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं पता कि ये ड्रग्स कहां से आया. क्योंकि वो किसी तरह का ड्रग्स नहीं करते. इसके बाद अबू धाबी पुलिस ने विजय का ब्लड और यूरीन टेस्ट किया, जिसमें वो ड्रग फ्री पाए गए. बेगुनाही साबित होने के बाद इंडियन एंबैसी की मदद से उन्हें जेल से रिहा करवा दिया गया.

मशहूर फिल्म एक्टर विजय राज. इन्हें रन, वेलकम और डेढ़ इश्किया समेत कई पॉपुलर फिल्मों के लिए जाना जाता है.
मशहूर फिल्म एक्टर विजय राज. इन्हें  ‘रन’, ‘वेलकम’ और ‘डेढ़ इश्किया’ समेत कई पॉपुलर फिल्मों के लिए जाना जाता है.

4) सिद्धांत कपूर

सिद्धांत, शक्ति कपूर के बेटे और श्रद्धा कपूर के बड़े भाई हैं. 2008 में मुंबई में हो रही एक रेव पार्टी से 240 लोगों के साथ मुंबई पुलिस ने उन्हें ड्रग्स मामले में गिरफ्तार किया था. एंटी-नार्कोटिक्स सेल ने मुंबई 72 डिग्रीज़ ईस्ट नाम के क्लब में चल रही रेव पार्टी पर छापा मारा. वहां से भारी मात्रा में ड्रग्स बरामद किए गए. रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस ने वहां से 8 ड्रग पेडलर्स को भी गिरफ्तार किया. पुलिस को उस रेड से 104 एक्स्टेसी टैबलेट, कोकीन और चरस जैसे तमाम किस्म के ड्रग्स में मिले थे, जिनकी कीमत 10 लाख रुपए के आसपास थी. उसी क्लब से सिद्धांत को भी गिरफ्तार किया गया था. मगर अगले दिन हुए मेडिकल टेस्ट में वो नेगेटिव आए, इसलिए उन्हें अगले दिन रिहा कर दिया गया.

बहन श्रद्धा के साथ सिद्धांत कपूर.
बहन श्रद्धा के साथ सिद्धांत कपूर. ये ‘शूटआउट एट वडाला’ और ‘हसीना पारकर’ जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं. 

5) कंगना रनौत

सुशांत सिंह राजपूत की डेथ के बाद NCB एक के बाद एक बॉलीवुड स्टार्स को ड्रग्स से जुड़े मसलों पर पूछताछ के लिए बुला रही थी. इस दौरान कंगना रनौत ने अपने सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से कहा था कि 99 परसेंट बॉलीवुड ड्रग्स करता है. उसी दौरान सोशल मीडिया पर उनका एक वीडियो वायरल होना शुरू हो गया. इस वीडियो में कंगना ये कबूल करती नज़र आ रही हैं कि वो अपने करियर के शुरुआती दिनों में ड्रग एडिक्ट थीं. इस वीडियो में वो कहती हैं-

”जैसे ही मैं घर से भागी, डेढ़-दो साल में मैं फिल्मस्टार थी. एक ड्रग एडिक्ट थी. मेरी ज़िंदगी में इतने सारे कांड चल रहे थे. इतना सब डेंजर हो चुका था मेरी लाइफ में, जब मैं टीनएजर ही थी.”

फिर एक इंटरव्यू में कंगना के को-स्टार और एक्स-बॉयफ्रेंड रहे अध्ययन सुमन ने भी उनके ड्रग एडिक्ट होने की बात कही. अध्ययन ने कहा कि 2008 में कंगना ने दी लीला होटल में एक पार्टी दी. इस पार्टी में उन्होंने उन तमाम लोगों को बुलाया था, जिनके साथ उन्होंने काम किया था. इस पार्टी में वो भी पहुंचे थे. कंगना ने कहा कि आज रात सब लोग कोकेन करेंगे. मगर जब अध्ययन ने इस बात से इन्कार किया, तो कंगना के साथ उनकी बड़ी लड़ाई हो गई. कंगना का वो वायरल वीडियो आप नीचे देख सकते हैं-

6) प्रतीक बब्बर

प्रतीक, राज बब्बर और स्मिता पाटिल के बेटे हैं. उनके पैदा के कुछ समय बाद स्मिता पाटिल की मौत हो गई. उनका बचपन बड़ा डिस्टर्ब्ड रहा. 2017 में उन्होंने मिड-डे में एक कॉलम लिखा था. इसमें उन्होंने ड्रग्स एडिक्शन वाले दिनों के बारे में बात की थी. प्रतीक ने बताया कि उन्होंने पहली बार ड्रग्स तब किया, जब वो 13 साल के थे. उन्होंने मैरियुआना और हशिश से शुरुआत की, जो आगे चलकर एसिड और कोकेन तक पहुंच गई. ये सब लंबे समय तक चलता रहा. एक समय ऐसा आया, जब प्रतीक ने ये भी देखना बंद कर दिया वो कौन सा ड्रग्स ले रहे हैं. जो हाथ लगा, वही कंज़्यूम कर लिया. फिर उन्हें धीरे-धीरे रियलाइज़ होना शुरू हुआ कि वो ड्रग्स के चंगुल में फंस गए हैं. उन्होंने अपनी फैमिली से कहा वो प्रोफेशनल हेल्प लेना चाहते हैं. उनकी फैमिली ने उन्हें रिहैबिलिटेशन सेंटर में भर्ती करवाया, जहां से उनकी ड्रग्स की लत छूटी.

पिता राज बब्बर के साथ प्रतीक बब्बर.
पिता राज बब्बर के साथ प्रतीक बब्बर.

7) महेश भट्ट

मशहूर फिल्ममेकर महेश भट्ट भी ड्रग्स के शिकार रह चुके हैं. महेश 2013 में इंडियन लैंग्वेजेज़ फेस्टिवल में हिस्सा लेने के लिए इंडिया हैबिटैट सेंटर आए हुए थे. यहां उन्होंने बताया उनके करियर में भी एक ऐसा दौर आया था, जब वो बहुत लो महसूस कर रहे थे. उनकी फिल्में चलनी बंद हो गई थीं. ऐसे में उन्होंने LSD और अन्य ड्रग्स का सहारा लिया. इसके बाद उनकी मुलाकात यू.जी. कृष्णमूर्ति से हुई. यू.जी. ने महेश को समझाया हर समाज के कुछ पैरामीटर्स होते हैं, लोगों को उन सीमाओं का ख्याल रखना होता है. और उसके हिसाब से खुद को ढालना होता है. इसके बाद महेश भट्ट ने ‘सारांश’ बनाई, जिसे बहुत सराहा गया.

अपनी जवानी के दिनों में महेश भट्ट.
अपनी जवानी के दिनों में महेश भट्ट.

8) ममता कुलकर्णी

अप्रैल 2016 में पुलिस ने एवॉन लाइफ साइंसेज़ लिमिटेड नाम की एक फार्मास्यूटिकल कंपनी की सोलापुर स्थित फैक्ट्री पर छापा मारा. वहां से 20 टन इफेन्ड्रीन बरामद हुआ. ड्रग रैकेट केस में सोलापुर फैक्ट्री से कुल 14 लोगों को गिरफ्तार किया. साथ ही पांच लोगों को वॉन्टेड घोषित कर दिया, जिसमें ममता कुलकर्णी और विकी गोस्वामी का नाम भी शामिल था. पुलिस ने बताया कि ममता और विकी ने केन्या के होटल ब्लिस में एक मीटिंग की. इस मीटिंग का एजेंडा ये था कि सोलापुर में रखे इफेन्ड्रीन नाम के ड्रग्स को यूएस में कैसे बेचा जाए. इस ड्रग्स की कीमत तकरीबन 2000 करोड़ रुपए बताई जा रही थी. इफेन्ड्रीन पाउडर को नाक से स्निफ किया जाता है. साथ ही इसी पाउडर से पॉपुलर पार्टी ड्रग मेथमफेटामाइन बनाया जाता है, जिसे शॉर्ट में मेथ कहते हैं. इस घटना के बाद ममता और विकी दोनों फरार हो गए. जिसके बाद ममता के तमाम बैंक अकाउंट्स फ्रीज़ कर दिए गए और उनके मुंबई में दोनों फ्लैट्स को भी सील कर दिया. पिछले दिनों ममता ने कोर्ट से गुज़ारिश की थी, उनके बैंक अकाउंट्स और फ्लैट्स को डि-सील कर दिया जाए. मगर स्पेशल NDPS कोर्ट ने उनकी इस मांग को ठुकरा दिया.

ममता कुलकर्णी फिल्मों से दूर होने के बाद मीडिया की नज़रों से भी गायब हो गई थीं.
ममता कुलकर्णी फिल्मों से दूर होने के बाद मीडिया की नज़रों से भी गायब हो गई थीं.

वीडियो देखें: ये झामफाड़ फिल्में और वेब सीरीज़ आपका अक्टूबर शानदार बना देंगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- शिद्दत

'शिद्दत' एक ऐसी फिल्म है, जो कहती कुछ है और करती कुछ.

फिल्म रिव्यू- नो टाइम टु डाय

ये फिल्म इसलिए खास है क्योंकि डेनियल क्रेग इसमें आखिरी बार जेम्स बॉन्ड के तौर पर नज़र आएंगे.

ट्रेलर रिव्यू: हौसला रख, शहनाज़ गिल का पहला लीड रोल कितना दमदार है?

दिलजीत दोसांझ और शहनाज़ गिल की फ़िल्म का ट्रेलर कैसा लग रहा है?

नेटफ्लिक्स पर आ रही हैं ये आठ धांसू फ़िल्में और सीरीज़, अपना कैलेंडर मार्क कर लीजिए

सस्पेंस, थ्रिल, एक्शन, लव सब मिलेगा इनमें.

वेब सीरीज़ रिव्यू: कोटा फैक्ट्री

कैसा है TVF की कोटा फैक्ट्री का सेकंड सीज़न? क्या इसकी कोचिंग ठीक से हुई है?

फिल्म रिव्यू- सनी

इट्स नॉट ऑलवेज़ सनी इन फिलाडेल्फिया!

तापसी की 'रश्मि रॉकेट' का ट्रेलर आया, ये कहानी अद्भुत लग रही है

हमें ट्रेलर कैसा लगा जान लीजिए.

मूवी रिव्यू: एनाबेल सेतुपति

रात को फिल्म देखकर सोने पर सुबह सिरदर्द के साथ उठ सकते हैं.

वेब सीरीज़ रिव्यू- नकाब

'नकाब' ये दिखाने का दावा करती है कि मुंबई फिल्म इंडस्ट्री कैसे काम करती है

ट्रेलर रिव्यू: हॉकआई

कैसा है मार्वल की इस नई सीरीज़ का ट्रेलर?