Submit your post

Follow Us

कैसे एक कॉमेडियन रात भर अमिताभ बच्चन को हंसाता था अभिषेक ने वीडियो शेयर करके बताया

आजकल बहुत से फ़िल्म कलाकार सोशल मीडिया पर पुरानी यादें साझा कर रहे हैं. लता मंगेशकर ने किशोर कुमार के साथ पुराना फोटो शेयर किया. किशोर के बेटे गायक अमित कुमार ने उनका 1963 का पत्र शेयर किया, जो उन्होंने सत्यजीत राय को लिखा था. दीपिका पादुकोण ने अपने बचपन की फोटो पोस्ट की थी. अब एक रेयर वीडियो पोस्ट किया है अभिषेक बच्चन ने.


View this post on Instagram

#flashbackfriday In 1981, my father started the trend of film actors from India doing shows on stage and performing to their songs. Before that, only playback singers did so. I have so many memories of being on the road with him, his co-stars and the immense Kalyanji and Anandji and their 40 piece orchestra helmed by a young and upcoming Viju Shah ( Kalyan ji’s son and future Music Director of huge fame). The rehearsals, sound checks, post show dinners in my parents suite in the middle of the night where tiffin’s of Gujju food ( lovingly prepared by relatives and friends of the organisers or crew members locally in whichever city they were performing in) would be served to the entire cast and musicians and everyone would discuss the show and how it went whilst a very young, relatively unknown (then) and upcoming stand-up comic would enthrall everyone for hours on end with his mimicry and comedy till it was morning and time to leave for the airport to take the flight to the next city. His name was Johnny Lever! On the flight everybody would take over the economy class, fold forward all the seats to make a huge गद्दा like setting and the musicians, singers and dad would sing and jam and maybe create a new song to be performed later that night at the next venue. This routine went on 3 days straight. I doubt they must have slept for a collective 2 hours over those weekends. Functioning purely on adrenaline! Rest during the week and the routine would resume from Friday, again. What times! As a child standing in the wings looking at the show in awe and wonderment. Not realising at that time the legends that I was blessed to witness perform live. Secretly imagining myself on that stage once I grew up. As you can see from this video, my sister couldn’t wait to get off the stage and all I wanted to do was stick around. Thank you @mosessapir for sourcing out this video. It brought back such wonderful memories. @amitabhbachchan @shwetabachchan

A post shared by Abhishek Bachchan (@bachchan) on

अमिताभ ने शुरू किया था नया ट्रेंड

अभिषेक ने वीडियो के साथ इससे जुड़ा हुआ किस्सा भी शेयर किया है. बताया कि 1981 में उनके पिताजी यानि अमिताभ बच्चन ने एक नया ट्रेंड शुरू किया था. फिल्म एक्टर्स का स्टेज शो करना, और अपने गानों पर परफॉर्म करना. उससे पहले केवल प्लेबैक सिंगर्स ही ऐसा करते थे. अभिषेक अपनी यादें साझा करते हैं:

“मेरी इतनी सारी यादें हैं उनके साथ घूमने की. मेरे पिता, उनके साथ काम करने वाले एक्टर्स, कल्याण जी, आनंद जी और उनका 40 लोगों का ऑर्केस्ट्रा, जिसको एक जवान और अपना नाम बना रहे विजू शाह संभालते थे. विजू कल्याण जी के बेटे हैं, जिन्होंने बाद में म्यूज़िक डायरेक्टर के रूप में बहुत प्रसिद्धि कमाई. रिहर्सल, साउंड चैक और मेरे मां-बाप के बड़े कमरे में शो के बाद आधी रात के समय डिनर. जहां गुजराती खाने के टिफिन खुलते थे, और पूरी कास्ट और संगीत-वादकों को खाना खिलाया जाता था. जिस भी शहर में वे परफॉर्म कर रहे होते थे, वहां के ऑर्गनाइज़र्स और क्रू मेंबर्स के रिश्तेदारों और दोस्तों ने बहुत प्यार से वह खाना बनाया होता था. खाते हुए सब लोग शो की चर्चा करते कि शो कैसा गया. साथ में एक बहुत जवान, उस समय तक अनजान अपकमिंग कॉमेडियन घंटों तक लोगों का मन बहलाता. सुबह तक उनकी मिमिक्री और कॉमेडी चलती रहती, जब तक एयरपोर्ट के लिए निकलने का और अगले शहर के लिए फ्लाइट लेने का समय नहीं हो जाता. उनका नाम था जॉनी लीवर.”

दिन और रात का हिसाब नहीं रहता था  

फ्लाइट में सब लोग इकॉनमी क्लास को घेर लेते थे. अपनी सीट को आगे मोड़कर एक गद्दे जैसी सेटिंग कर लेते. फिर म्यूज़िशियंस, गायक और अमिताभ गाते-बजाते. प्रैक्टिस करते. और कभी कभी कोई नया गाना बना देते, जिसे उस रात अगले वेन्यू पर परफॉर्म किया जाता. यह रूटीन लगातार 3 दिन तक चलता. अभिषेक बताते हैं कि:

“मुझे लगता है कि वे उन वीकेंड पर कुल मिलाकर 2 घंटे भी नहीं सोते थे. केवल जोश के दम पर काम कर रहे होते थे. उस हफ़्ते आराम करते, और शुक्रवार  वही रूटीन शुरु हो जाता. क्या कमाल का टाइम था! उस समय मैं एक बच्चा था. इतनी हैरत से विंग्स में खड़ा हुआ शो देखता था. उस समय यह एहसास ही नहीं था कि ऐसे महान लोगों को लाइव परफॉर्म करते हुए देखना कितने नसीब की बात है. दिल के किसी कोने में इमेजिन करता था कि बड़ा होकर मैं उस स्टेज पर परफॉर्म करूंगा. जैसा कि आप वीडियो में देख सकते हैं, मेरी बहन स्टेज से उतरने के लिए मचल रही है, और मैं बस वहीं पर रुके रहना चाहता हूं.”

पोस्ट के अंत में अभिषेक ने मोज़ेज़ सापिर को यह वीडियो मुहैया करवाने के लिए शुक्रिया कहा.


वीडियो देखें: अमिताभ बच्चन ने ऋषि कपूर को याद करते हुए पहली मुलाकात का किस्सा सुनाया  

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

दुनिया के 10 सबसे कमज़ोर पासवर्ड कौन से हैं?

रिस्की पासवर्ड का पता कैसे चलता है?

'इक कुड़ी जिदा नां मुहब्बत' वाले शिव बटालवी ने बताया कि हम सब 'स्लो सुसाइड' के प्रोसेस में हैं

इन्होंने अपनी प्रेमिका के लिए जो 'इश्तेहार' लिखा, वो आज दुनिया गाती है

शराब पर बस ये पढ़ लीजिए, बिना लाइन में लगे झूम उठेंगे!

लिखने वालों ने भी क्या ख़ूब लिखा है.

वो चार वॉर मूवीज़ जो बताती हैं कि फौजी जैसे होते हैं, वैसे क्यूं होते हैं

फौजियों पर बनी ज़्यादातर फिल्मों में नायक फौजी होते ही नहीं. उनमें नायक युद्ध होता है. फौजियों को देखना है तो ये फिल्में देखिए.

गहने बेच नरगिस ने चुकाया था राज कपूर का कर्ज

जानिए कैसे शुरू और खत्म हुआ नरगिस और राज कपूर का प्यार का रिश्ता..

सत्यजीत राय के 32 किस्से: इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे

ये 50 साल पहले ऑस्कर जीत लाते, पर हमने इनकी फिल्में ही नहीं भेजीं. अंत में ऑस्कर वाले घर आकर देकर गए.

ऋषि कपूर की इन 3 हीरोइन्स ने उनके बारे में क्या कहा?

इनमें से एक अदाकारा को ऋषि ने आग से बचाया था.

ईश्वर भी मजदूर है? लेखक लोग तो ऐसा ही कह रहे हैं!

पहली मई को दुनियाभर में मजदूरों के हक़ की बात कही जाती है.

बलराज साहनी की 4 फेवरेट फिल्में : खुद उन्हीं के शब्दों में

शाहरुख, आमिर, अमिताभ बच्चन जैसे सुपरस्टार्स के फेवरेट एक्टर रहे बलराज साहनी.

जब भीमसेन जोशी के सामने गाने से डर गए थे मन्ना डे

मन्ना डे के जन्मदिन पर पढ़िए, उनसे जुड़ा ये किस्सा.